अंकल ने किया गलत काम, जज के सामने बोली 6 साल की मासूम- सुनाई 20 साल की सजा


मुलतापी समाचार

अम्बाला (Ambala) के एडिशनल सेशन जज रजनीश बंसल की अदालत ने बच्‍ची के बयान को आधार बनाते हुए दोषी सतीश को 20 की सजा सुनाई. आरोपी अगस्त 2018 से जेल में है.

अंबाला. कोर्ट ने छह साल की बच्ची से छेड़छाड़ करने के डेढ़ साल पुराने मामले में फैसला सुना दिया है. कोर्ट ने आरोपी स्कूल वैन चालक (School Van Driver) को 20 साल की सजा सुनाई है. दोषी के खिलाफ जब सारे गवाह मुकरते दिखे तो जज ने बच्ची को पास में बिठाकर पुचकारा और उसके बयान लिए. बच्ची ने बताया कि अंकल ने वैन में गंदी हरकत की. सरकारी वकील जंगबहादुर के मुताबिक, बच्ची के बयान को ही कोर्ट ने फैसले का आधार बनाया और आरोपी को दोषी करार देते हुए 20 साल कैद की सजा सुनाई.

अम्बाला के एडिशनल सेशन जज रजनीश बंसल की अदालत ने 20 जनवरी को दोषी सतीश को 20 साल कैद की सजा सुनाई. आरोपी अगस्त 2018 से जेल में है. उसने आंख में कैंसर होने और परिवार में कोई कमाने वाला न होने का हवाला देकर रहम की अपील की थी, लेकिन कोर्ट ने उसकी दलीलों को खारिज कर दिया.

स्कूल प्रिंसिपल ने दिए थे आरोपी के पक्ष में बयान
बता दें कि स्कूल की प्रिंसिपल और स्कूल वैन की इंचार्ज टीचर ने भी आरोपी के पक्ष में बयान दिए थे, लेकिन कोर्ट ने उनके बयान को नहीं माना. मामला 16 अगस्त 2018 का है. जब बच्ची की मां ने महिला थाने में शिकायत दी थी. मासूम की मां ने बताया था कि 14 अगस्त को वैन चालक ने स्कूल से घर छोड़ते समय अकेली बच्ची के साथ गंदी हरकत की थी.

वैन चालक को है कैंसर
वैन चालक को जेल भेजा गया उस समय पता चला कि उसकी आंख में कैंसर है. फिलहाल उसका इलाज चल रहा है. उसकी कैंसर ग्रस्त आंख पीजीआई चंडीगढ़ में निकाली जा चुकी है. दूसरी आंख की रोशनी भी कम हो गई है. दोषी ने घर में बुजुर्ग मां, पत्नी और 7 साल के बेटे की जिम्मेदारी का हवाला देकर रहम की गुहार लगाई थी, लेकिन कोर्ट ने उसके साथ रियायत नहीं बरती. बचाव पक्ष अब हाईकोर्ट जाने की तैयारी में है.

मस्तिष्क काम ना करे तो योग का सहारा ले


मनोज अग्रवाल मुल्तापी समाचार हटा

जीने की राह

प्रकृति के चमत्कार भी बड़े गजब के हैं जैसे विज्ञान मानता है कि समझदार से समझदार घोर प्रतिभाशाली व्यक्ति भी जीवन में अपने मस्तिष्क का आधा हिस्सा ही उपयोग में ले पाता है बाकी आधा भाग जीवन भर अनुपयोगी ही रह जाता है जब तक आधे हिस्से से काम करेंगे कितने ही योग्य हो हम जिंदगी की कुछ घटनाएं पकड़ नहीं पाएंगे श्री राम रावण युद्ध में मेघनाथ माया फैला रहा था ऐसा दृश्य उपस्थित कर दिया था कि दसों दिशाओं में बाढ़ छा गए जहां तुलसीदासजी ने लिखा धरु धरु मारु सुनिए गाना जो मारे दही को न जाना चारों ओर हमारी जिंदगी में भी कई बार ऐसे बन जाते हैं आज जिस प्रकार का पुणे में तो बहुत है अत्याचार दुराचार हो गए हैं लेकिन फिर भी हम पढ़ नहीं पाते कि यह कौन कर रहा है आज पूरी तरह से तो योग का सहारा लीजिए कहते हैं कि जब मनुष्य अपने दोनों के बीच अपना काम करता है तो उसका आधा मस्तिष्क विज्ञान में है उसे मिटा देता है और जैसे ही यह आसपास की वह सारे देखने लग जाएंगे जो हमें की ओर धकेल देते हैं फिर आप सजग होकर स्वयं को भी बचा पाएंगे और दूसरों को भी

KCC नाम पर किसानों से हुई लाखों की धोखाधड़ी, पीडि़त किसानों ने कलेक्टर से की शिकायत


Multapi Samachar News network

बैतूल। किसान क्रेडिट कार्ड के नाम पर भैंसदेही विकासखंड के 8 आदिवासियों को ठगे जाने का मामला सामने आया है। इन आदिवासियों ने मंगलवार को जनसुनवाई में पहुंच कर कलेक्टर से शिकायत की है। शिकायतकर्ता बाकू गोनाय, बलिराम, गंगाराम, छोटेलाल, भिलाजी, जुगना, सोमा ने बताया कि अनावेदक पुरुषोत्तम ( पिंकी ) तिवारी ने उनसे खेत का पटटा, परिचय पत्र, राशन कार्ड विगत कुछ वर्ष पूर्व लिया था। बैंक ले जाकर कुछ दस्तावेजों पर अंगुठा भी लगवाया था। जब उन्होंने कर्ज माफी के समय बैंक जाकर देखा तो पता चला कि उन पर लाखो रुपये का कर्ज हैं। किसानों का कहना है उनके द्वारा कर्ज नहीं लिया गया था। इस संबंध में जब उन्होंने होना पुरुषोत्तम (पिंकी) तिवारी से पूछा तो उन्हें डरा धमकाकर जान से मारने की धमकी दी।  किसानों का कहना है पुरुषोत्तम (पिंकी) तिवारी ने उनके साथ धोखा किया है। किसानों ने अनावेदक के खिलाफ आदिवासी एक्ट के तहत कार्रवाई करने की मांग की है। अनावेदक पुरूषोत्तम ने कृषक भाकू निवासी माजरी की केसीसी पर 2 लाख 99 हजार, बानूर निवासी गोनाय की केसीसी पर 1 लाख 53 हजार, ग्राम पंचायत माजरी निवासी बलिराम 3 लाख 42 हजार, बानूर निवासी गंगाराम 5 लाख 10 हजार, बानूर निवासी छोटेलाल भूसूमकर 7 लाख, बानूर निवासी भिलाजी की केसीसी पर 8 लाख 49 हजार, बानूर निवासी जुगना की केसीसी पर 2 लाख 24 हजार, बानूर निवासी सोमा की केसीसी पर 1 लाख 24 हजार की ठगी की है।

नेपाल में संदिग्ध गैस रिसाव के कारण आठ भारतीय पर्यटकों की मौत.


मुलतापी समाचार

नेपाल में एक रिसोर्ट क कमरे में संदिग्ध गैस रिसाव के कारण मंगलवार को चार बच्चों समेत आठ भारतीय पर्यटकों की मौत हो गई एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है पुलिस अधीक्षक सुशील सिंह राठौर ने बताया कि रिसॉर्ट के कमरे में बेहोश मिले इन भारतीय नागरिकों को एचएमएस अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया .. हिमालय टाइम्स की खबर के अनुसार दो दंपत्ति और चार बच्चे 15 लोगों के उस समूह का हिस्सा थे जो केरल से पोखरा गया था वह अपने घर वापस लौट रहे थे और सोमवार की रात मकवानपुर जिले के दमन में एवरेस्ट पैनोरमा रिसाइट में रुके थे रिसाइट के प्रबंधक के अनुसार यह लोग एक कमरे में रुके थे और उन्होंने खुद को गर्म रखने के लिए गैस शीतल चालू किया प्रबंधक ने बताया कि पर्यटकों ने कुल 4 कमरे बुक किए थे और उनमें से 8 लोग एक कमरे में रुके हुए थे और शेष अन्य कमरे में ठहरे थे प्रबंधक ने बताया कि कमरे की सभी खिड़कियां और दरवाजे अंदर से बंद थे.

मनोज कुमार अग्रवाल हटा

सरकार ने स्वयं सुनिश्चित की सामाजिक सरोकारों में भागीदारी


प्रदेश की नई सरकार ने आम आदमी की समस्याओं को प्राथमिकता देकर राजनीति में सामाजिक सोच के महत्व को स्थापित किया है। अब प्रदेश में सामाजिक सरोकरों के प्रति संवेदनशीलता का वातावरण निर्मित हुआ है। नई सरकार ने समाज के गरीब, कमजोर, निर्धन, निराश्रित, वरिष्ठजन और दिव्यांगों की आवश्यकताओं को समझते हुए सामाजिक सुरक्षा के दायरे को व्यापक आकार दिया है।

सहायता राशि में बढ़ोत्तरी

प्रदेश के बुर्जुगों, कल्याणियों और दिव्यांगों की आर्थिक आवश्यकताओं को समझते हुए सरकार ने सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि को दो गुना बढ़ाकर 300 से 600 रूपये प्रतिमाह कर दिया है। इसी प्रकार, बेटियों के विवाह के खर्च की चिंता में सहभागी होते हुए सरकार ने मुख्यमंत्री कन्या विवाह/निकाह योजना में सरकारी सहायता को 28 हजार से बढ़ाकर 51 हजार रूपये कर दिया है। इस आर्थिक सहायता के लिए आय-सीमा के बधंन को भी समाप्त कर दिया गया है।

प्रदेश की नई सरकार ने मुख्यमंत्री कन्या विवाह/निकाह योजना को कन्या हितैषी आकार भी दिया है। अब बेटियों की शादी में कुल सहायता राशि में से गृहस्थी की स्थापना के लिए 48 हजार रूपये उसके खाते में जमा कराकर दिये जाते हैं और सामूहिक विवाह आयोजित करने के लिए अधिकृत निकाय को 3 हजार रूपये प्रति बेटी के मान से धनराशि उपलब्ध कराई जाती है। आदिवासी अचंलों में जन-जातियों में प्रचलित विविध प्रथाओं के तहत होने वाले विवाह, चाहे वह सामूहिक हो अथवा एकल हो, के लिये भी विवाह सहायता राशि उपलब्ध करायी जा रही है। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में वर्ष 2019 में 37 हजार 286 हितग्राहियों को 190 करोड़ 15 लाख 84 हजार रुपये उपलब्ध कराये गये। इसी प्रकार मुख्यमंत्री निकाह योजना में 1605 हितग्राही लाभान्वित हुए।

पेंशन योजना

सरकार ने विभिन्न पेंशन योजनाओं में प्रदेश के 44 लाख 26 हजार 720 हितग्राहियों को सीधे उनके खाते में राशि उपलब्ध कराने की व्यवस्था लागू की है। एक साल में साढ़े चार लाख से अधिक जरूरतमंदों तक सामाजिक सुरक्षा के इस दायरे का विस्तार किया गया। इन्दिरा गाँधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना में पिछले एक वर्ष में 15 लाख 69 हजार 627 हितग्राहियों को बढ़ी हुई राशि उपलब्ध करायी गई। इन्दिरा गाँधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना में 5 लाख 36 हजार 412 और इन्दिरा गाँधी राष्ट्रीय नि:शक्तजन पेंशन योजना में 99 हजार 924 हितग्राहियों को पेंशन जारी की गई। प्रदेश में 20 लाख 91 हजार 573 हितग्राहियों को समग्र सामाजिक सुरक्षा पेंशन उपलब्ध करायी जा रही है। इसी प्रकार, 55 हजार 260 हितग्राहियों को मुख्यमंत्री कन्या अभिभावक पेंशन और मंदबुद्धि/बहुविकंलागजन आर्थिक सहायता योजना में 73 हजार 977 जरूरतमंदों को पेंशन उपलब्ध करायी गई।

मुख्यमंत्री कन्यादान सामूहिक विवाह/निकाह कार्यक्रम 2020 का कैलेण्डर जारी


Kanya Dan file photo

मुलतापी समाचार

उप संचालक सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण से प्राप्त जानकारी के अनुसार शासन द्वारा सामूहिक विवाह/निकाह कार्यक्रम का वर्ष 2020 का कैलेण्डर घोषित किया गया है।

मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के वर्ष 2020 के कैलेण्डर के अनुसार जिले में 30 जनवरी 2020 गुरूवार बसंत पंचमी, 01 फरवरी 2020 शनिवार नर्मदा सप्तमी, 26 अप्रैल 2020 रविवार अक्षय तृतीया, 07 मई 2020 गुरूवार बैखाखी पूर्णिमा, 01 जून 2020 सोमवार गंगा दशहरा, 29 जून 2020 सोमवार भडली नवमी, 25 नवंबर 2020 बुधवार तुलसी विवाह देव उठनी एकादशी, 11 दिसंबर 2020 शुक्रवार उत्पन्न एकादशी एवं 19 दिसंबर 2020 शनिवार विवाह पंचमी पर मुख्यमंत्री कन्या विवाह कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

इसी प्रकार मुख्यमंत्री कन्या निकाह योजना के वर्ष 2020 के कैलेण्डर के अनुसार जिले में 05 जनवरी 2020 रविवार, 09 फरवरी 2020 रविवार, 11 अप्रैल 2020 शनिवार, 30 मई 2020 शनिवार, 29 जून 2020 सोमवार, 14 जुलाई 2020 मंगलवार, 12 अक्टूबर 2020 सोमवार, 09 नवंबर 2020 सोमवार एवं 21 दिसंबर 2020 सोमवार को मुख्यमंत्री कन्या निकाह कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

मनमोहन पवार

संपादक

मुलतापी समाचार वेब पोर्टल

भारतीय टीम की बुजुर्ग फैन चारुलता का निधन, वर्ल्ड कप में कोहली-रोहित को किया था दुलार


Multapi samachar

87 साल की चारुलता पटेल (Charulata Patel) वर्ल्ड कप (ICC Cricket World Cup) के दौरान व्हील चेयर पर बैठकर टीम इंडिया (Team India) को चीयर करने स्टेडियम पहुंची थीं, मैच के बाद कप्तान कोहली उनसे मिलने पहुंचे थे.

Surat बच्चों की शादी से पहले दुलहन की मां के साथ भागा दूल्हे का पिता


मुलतापी समाचार न्‍यूज नेटवर्क

सूरत में एक युवक-युवती की शादी से पहले ही दूल्हे के पिता, दुलहन की मां के साथ फरार हो गए। परिवार के मुताबिक, दूल्हे के पिता और दुलहन की मां एक दूसरे को काफी पहले से जानते थे और यह आशंका है कि एक दूसरे के प्यार में पड़कर उन्होंने शादी कर ली।

हाइलाइट्स

  • सूरत में पारिवारिक विवाद के कारण टूटी युवक और युवती की शादी
  • शादी से पहले दुलहन की मां के साथ लापता हुआ दूल्हे का पिता, तलाश जारी
  • दूल्हे के पिता और दुलहन की मां एक दूसरे को काफी पहले से जानते थे
  • फरवरी में होनी थी युवक और युवती की शादी, एक साल पहले तय हुआ था रिश्ता

सूरत
गुजरात के सूरत जिले में दो परिवारों के बीच हुए विवाद के बाद एक युवक-युवती की शादी टूट गई। बताया जा रहा है कि दोनों की शादी फरवरी में होनी थी, लेकिन शादी से पहले ही दूल्हे का पिता और दुलहन की मां लापता हो गए। परिवार के मुताबिक, दूल्हे के पिता और दुलहन की मां एक दूसरे को काफी पहले से जानते थे और यह आशंका है कि एक दूसरे के प्यार में पड़कर उन्होंने शादी कर ली।
सूरत के काटरगाम इलाके के रहने वाले दूल्हे की शादी नवसारी की एक युवती से होनी थी। शादी के एक महीने पहले ही जब दुलहन की मां घर से लापता हो गई तो परिवार ने इसकी शिकायत पुलिस से की। इसी बीच दूल्हे के पिता ने भी घर छोड़ दिया और कोई खबर ना मिलने पर उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई गई।

‘पहले से ही एक-दूसरे को जानते थे दोनों’
पारिवारिक सूत्रों के अनुसार, लापता होने से पहले ही दोनों एक दूसरे को जानते थे और जवानी के दिनों में एक दूसरे से शादी करना चाहते थे। 10 दिन पहले हुई शिकायत के बाद भी जब पुलिस दोनों का पता नहीं लगा सकी, तो दोनों परिवारों ने शादी का रिश्ता तोड़ दिया। परिवार के लोगों के मुताबिक, फरवरी में होने वाली शादी के लिए दोनों ही परिवार तैयारियों में जुटे हुए थे। एक साल पहले ही रिश्ता तय किया गया था और इसके लिए युवक और युवती दोनों की सहमति भी थी। हालांकि बाद में माता-पिता की गुमशुदगी का मामला सामने आने पर परिवार ने उन दोनों की शादी से इनकार कर दिया।

सारनी मेले में श्रद्धालु को मारी टक्कर, शराब के नसें में, तीन घायल


मुलतापी समाचार

सारणी। कार की टक्कर से घायल का उपचार कराया अस्पताल में।

सारणी।श्री श्री 1008 बाबा मठारदेव मेले में आने वाले एक परिवार के श्रद्धालुओं को उस समय महंगा पड़ गया जब सारणी के जय स्तंभ चौक के समीप तेज एवं लापरवाही पूर्वक कार क्रमांक एमपी 04 सीएस 5575 के चालक ने एक आदिवासी परिवार को सामने की टक्कर मार दी। यह परिवार खाकरा ढाना का निवासी बताया जा रहा है जिसमें राम बाई, रवि,आकाश गंभीर रूप से घायल हो गए। जिन्हें प्राथमिक उपचार के लिए मध्य प्रदेश पावर जेनरेटिंग कंपनी के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। भर्ती कराने के बाद एक की स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। घटना की जानकारी लगते ही मौके पर सारणी पुलिस पहुंच गई थी और वाहन को अपने हैंडोवर ने सारणी पुलिस ने ले ली है।

कार में घुसी मोटरसाइकिल

सारणी। शिव मंदिर के समीप सोमवार दोपहर को शराब के नशे में धुत एक युवक के द्वारा खड़ी कार में अपनी मोटरसाइकिल से टक्कर मार दी। घटना की जानकारी सारणी पुलिस को लगते ही मौके पर पहुंची और उन्होंने सोनू उईके नामक युवक को मौके से दबोचा जब उसका मेडिकल परीक्षण कराया तो पता चला कि सोनू नशे की हालत में था। पुलिस ने सोनू उईके का मेडिकल जांच करवाने के बाद उसके खिलाफ धारा 185 के तहत मामला पंजीबद्ध कर उसे मुचलके पर छोड़ दिया है।

हनी ट्रैप / MP हाईकोर्ट का आदेश; एसआईटी 10 दिन में आयकर विभाग को सौंपे सभी दस्तावेज, सरकार 6 हफ्ते में बताए- सीबीआई जांच क्यों न हो


  • सबूत, सीबीआई जांच और मीडिया रिपोर्टिंग से जुड़ीं तीन विचाराधीन याचिकाओं पर सुनवाई
  • आरोपी महिलाओं ने करोड़ों रुपए के लेन-देन, कॉन्ट्रैक्ट लिए जाने का खुलासा किया था

Multapi samachar

इंदौर.प्रदेश के बहुचर्चित हनी ट्रैप मामले में अब आयकर विभाग का दखल बढ़ने जा रहा है। हाईकोर्ट ने मामले की जांच कर रही विशेष जांच दल (एसआईटी) को आदेश दिए हैं कि वह 10 दिन में केस से जुड़े दस्तावेज आयकर विभाग को सौंपे। कोर्ट ने सरकार को भी आदेश दिए हैं कि वह छह सप्ताह में जवाब दे कि इस मामले की जांच सीबीआई से क्यों न कराई जाए।


उल्लेखनीय है कि एसआईटी की पूछताछ में आरोपी महिलाओं ने करोड़ों रुपए के लेन-देन, कॉन्ट्रैक्ट लिए जाने का खुलासा किया था, जिसकी जांच आयकर विभाग ने भी शुरू कर दी थी। हाईकोर्ट की जस्टिस सतीशचंद्र शर्मा, जस्टिस शैलेंद्र शुक्ल की डिवीजन बेंच के समक्ष विचाराधीन तीन याचिकाओं की सोमवार को सुनवाई हुई। आयकर विभाग ने भी अर्जी लगाई थी कि हनी ट्रैप से जुड़े मामले की वे भी जांच कर रहे हैं, इसलिए एसआईटी ने अब तक जितने भी दस्तावेज जब्त किए हैं, वह उपलब्ध कराए जाएं।


वहीं एसआईटी की ओर से कहा गया कि जो दस्तावेज जब्त किए हैं, उनके आधार पर हमारी जांच चल रही है। इलेक्ट्रॉनिक्स गैजेट्स कोर्ट के आदेश पर जांच के लिए गए हैं। अभी दस्तावेज नहीं दिए जा सकते। एसआईटी की ओर से महाधिवक्ता शशांक शेखर, अतिरिक्त महाधिवक्ता रवींद्रसिंह छाबड़ा ने पैरवी की। दो अंतरिम आवेदन भी पिछली सुनवाई पर दायर किए थे।

याचिका : सरकार जैसी जांच चाहेगी, एसआईटी वैसी करेगी

अधिवक्ता धर्मेंद्र चेलावत ने केस सीबीआई को सौंपने, हाईकोर्ट की माॅनिटरिंग में कमेटी गठित करने मांग जनहित याचिका में की थी। कोर्ट को बताया कि एसआईटी का गठन सरकार ने अपने हिसाब से किया है। शासन जैसी जांच चाहेगा,

सरकार : एसआईटी डीजीपी ने गठित की, हमारा दखल नहीं

वैसी एसआईटी करके देगी। एेसे में निष्पक्षता का अभाव रहेगा। सरकार की ओर से कहा गया कि एसआईटी डीजीपी ने गठित की है। जांच में सरकार का दखल नहीं है। हाईकोर्ट ने सरकार को छह सप्ताह में जवाब देने के लिए कहा है।

कोर्ट ने 6 सप्ताह में सरकार से जवाब मांगा है, हम समय सीमा में उत्तर दे देंगे। इस केस में जो एजेंसियां शामिल हैं, सरकार उनका पूरा सहयोग कर रही है और आगे भी करेगी। -शशांक शेखर, महाधिवक्ता

हरभजन की मीडिया रिपोर्टिंग पर रोक की याचिका खारिज
हरभजन सिंह ने इस मामले की मीडिया रिपोर्टिंग पर रोक लगाने की मांग की थी। इस पर महाधिवक्ता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट एेसे मामलों में आदेश दे चुका है कि मीडिया की स्वतंत्रता को इस तरह रोका नहीं जा सकता। आवेदक को वैसे भी प्रेस का‌उंसिल आॅफ इंडिया का रुख करना चाहिए था। कोर्ट ने हरभजन सिंह की अर्जी खारिज कर दी।