सारनी पावर हाउस ने लगातार 100 दिन विद्युत उत्पादन का रिकार्ड बनाया


बैतूल – मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग कम्पनी की सतपुड़ा ताप विद्युत ग्रह सारनी के पावर हाउस क्रमांक – 4 की इकाई 10 एवं 11 द्वारा विगत 6 नवम्बर से 14 फरवरी तक लगातार 100 दिन रिकार्ड विद्युत उत्पादन कर नया कीर्तिमान बनाया है। प्रत्येक इकाई 250 मेगावाट की है।

मध्यप्रदेश सरकार के ऊर्जा मंत्री श्री प्रियव्रत सिंह ने इस उपलब्धि पर सारनी पावर हाउस के समस्त स्टाफ सदस्यों को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि आगे भी इसी तरह कार्य करते हुये उत्पादन के नये आयाम स्थापित करें। उल्लेखनीय है कि दोनों इकाइयों से विद्युत उत्पादन लगातार जारी है। इस अवधि में सारनी पावर हाउस क्रमांक-4 का प्लांट लोड फेक्टर (पीएलएफ) 90.16 और प्लांट एवेलेविलटी फेक्टर (पीएएफ) 101.17 प्रतिशत रहा।

मुलतापी समाचार

भडूस के युवाओं ने किया पुलवामा के शहीदों को याद-


मुलतापी समाचार बैतूल – पिछले साल हुए पुलवामा आतंकवादी हमले में अपनी जान गंवाने वाले भारत के वीर सपुतों को भडूस के युवाओं ने श्रध्दांजलि देकर याद किया। युवाओं ने भारत के नक्शे के आकार में कैडल जलाकर और मौन रखकर शहीदों को याद किया।

इस अवसर पर भडूस के सैकड़ों युवाओं ने भाग लिया जिसमें गांव के निखिल ओमकार, राहुल पवार, विशाल पवार, यश पवार, बंटी पवार, निखिल राजपूत, अनिकेत सोनी, चेतन मालवी, राज कुम्भारे, मनीष कुम्भारे, लोकेश अड़लक, जय थोटे, विजय विश्वकर्मा और अन्य युवा शामिल थे।

मुलतापी समाचार

कमलनाथ सरकार करेगी 4 हजार पटवारियों की भर्ती-


भोपाल- मध्य प्रदेश सरकार ने हर ग्राम पंचायत में पटवारी की नियुक्ति करने की कवायद शुरू कर दी है। अब प्रदेश के हर ग्राम पंचायत में पटवारी नियुक्त किया जा सकता है। इस नयुक्ति के लिए करीब 4 हजार नए पद स्वीकृत किए जा सकते है। जिसका प्रस्ताव अगली कैबिनेट की बैठक में आने की संभावना है।

मध्यप्रदेश में 22795 ग्राम पंचायतें हैं, जिनमें 19 हजार पटवारियों के पद पहले से ही स्वीकृत है, और करीब 4 हजार से अधिक पटवारियों की आवश्यकता है।

राजस्व मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत ने कहा कि जल्द ही पटवारीयों की कमियों को पूरा किया जाएगा, फिलहाल इस प्रस्ताव को कैबिनेट तक ले जाने की कोशिश चल रही है। मंत्री राजपूत की मानें तो 2-3 हल्के में केवल एक ही पटवारी कार्यभार संभालता है, जिसके कारण काम समय पर पूरा नहीं हो पाता। यदि हर हल्के के लिए 1-1 पटवारी नियुक्त कर लिया जाए तो काम समय पर हो पाएगा। इसी समस्या को देखते हुए सरकार ने यह कदम उठाया है।

मुलतापी समाचार

पीएचई मंत्री सुखदेव पांसे ने बाँटे किसानों को ऋण माफी के प्रमाण पत्र


प्रदेश सरकार ने किसानों के हित में खोला खजाना- पीएचई मंत्री श्री सुखदेव पांसे

चिखलीकलां में ऋण माफी शिविर आयोजित

प्रदेश के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री सुखदेव पांसे ने कहा कि प्रदेश सरकार ने किसानों की फसल ऋण माफी का निर्णय लेकर किसानों के हित में खजाना खोला है। कोई भी पात्र किसान फसल ऋण माफी से वंचित नहीं होगा। अभी किसानों 50 हजार से एक लाख रूपए तक की ऋण माफी के प्रमाण पत्र प्रदान किए जा रहे हैं। आगामी चरण में एक लाख से दो लाख रूपए तक की ऋण माफी की जाएगी। श्री पांसे शुक्रवार को मुलताई विकासखण्ड के ग्राम चिखली में आयोजित ऋण माफी शिविर को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने क्षेत्र के किसानों को फसल ऋण माफी एवं किसान सम्मान पत्र प्रदान किए। कार्यक्रम में जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के प्रशासक श्री अरूण गोठी, जिला योजना समिति सदस्य एवं जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष श्री सुनील शर्मा, कलेक्टर श्री तेजस्वी एस. नायक सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में किसान मौजूद थे।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मंत्री श्री पांसे ने कहा कि सरकार द्वारा किसानों को न सिर्फ ऋण माफी की सहूलियत दी गई है, अपितु बिजली की दरों में कमी कर उनको राहत प्रदान की गई है। अब घरेलू बिजली 100 रूपए प्रति 100 यूनिट प्रदान की जा रही है। इसके अलावा 10 हॉर्स पावर तक क्षमता की सिंचाईं की बिजली की दरें भी आधी की गई है। उन्होंने कहा कि सांची दुग्ध संघ को किसानों द्वारा बेचे जाने वाले दूध की दरों में भी बढ़ोत्तरी की गई है, ताकि किसान अपना दूध घाटे में न बेचें। श्री पांसे ने बताया कि 371 करोड़ की राशि से स्वीकृत समूह नल-जल योजना से अब समूचे मुलताई क्षेत्र में घर-घर तक स्वच्छ पेयजल उपलब्ध हो सकेगा। यह पेयजल सभी की आस्था का प्रतीक ताप्ती नदी के घोघरी डेम से उपलब्ध कराया जाएगा।

दस-दस स्कूलों में लगेंगे प्रोजेक्टर

अपने संबोधन में मंत्री श्री पांसे ने कहा कि मुलताई एवं प्रभातपट्टन क्षेत्र में अब विद्यार्थियों को अच्छी शिक्षा उपलब्ध कराने के भी उनके द्वारा सतत् प्रयास किए जा रहे हैं। इसी बात के दृष्टिगत मुलताई एवं प्रभातपट्टन विकासखण्ड में चिन्हित दस-दस स्कूलों में उनके द्वारा प्रोजेक्टर लगवाए जा रहे हैं, ताकि विद्यार्थियों को शिक्षा की हाईटेक सुविधा उपलब्ध हो सके। उन्होंने कहा कि स्कूलों में फर्नीचर की कमी भी दूर की जा रही है।


इस अवसर पर श्री पांसे एवं अतिथियों ने कृषक श्री गजानंद पिता जोगनसिंह चिखलीकलां को 95645 रूपए, श्री मटुरसिंह पिता घसीटा सावरी को 88996 रूपए, श्री उत्तम पिता खुशरया कपास्या को 99031 रूपए, श्री गंगाराम पिता बाबू रिधोरा को 96430 रूपए, श्रीमती शशिबाई पति झनक रिधोरा को 91690 रूपए, श्री नन्दू पिता देवराव बारंगे डहुआ को 99445 रूपए, श्री संतोष पिता हीरालाल पंवार बरखेड़ को 94414 रूपए, श्री उदेराम पिता चैत्या साहू बरखेड़ को 82959 रूपए, श्री वरूणसिंह पिता रामरंजन सिंह सोनेगांव को 98783 रूपए, श्री दिनेश पिता बाबूलाल दुनावा को 59312 रूपए एवं श्रीमती जयश्री पति रामनारायण बरखेड़ को 92205 रूपए राशि फसल ऋण माफी के प्रमाण पत्र एवं किसान सम्मान पत्र प्रदान किए।

कार्यक्रम में जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के प्रशासक श्री अरूण गोठी ने कहा कि प्रदेश सरकार के ऋण माफी के निर्णय से किसान राहत महसूस कर रहे हैं। जिले में यूरिया के वितरण के भी सुचारू प्रबंध किए गए हैं। इसके अलावा समर्थन मूल्य पर रबी फसल उपार्जन की भी जिला प्रशासन द्वारा बेहतर व्यवस्था की जा रही है। कार्यक्रम में जिला योजना समिति सदस्य एवं जिला कांग्रेस अध्यक्ष श्री सुनील शर्मा ने कहा कि मौजूदा सरकार किसानों के हर हित को ध्यान में रखकर कार्य कर रही है एवं समय-समय पर किसानों के हित में निर्णय लिए जा रहे हैं।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उप संचालक कृषि श्री केपी भगत ने बताया कि बैतूल जिले में प्रथम चरण में 09 मार्च 2019 तक 65947 किसानों की 183.066 करोड़ रूपए ऋण माफी स्वीकृत की गई। द्वितीय चरण में 10 मार्च 2019 से 08 जनवरी 2020 तक 12212 किसानों की 81.107 करोड़ रूपए ऋण माफी स्वीकृत की गई है। इस तरह जिले में प्रथम एवं द्वितीय चरण में 78159 किसानों की 264.173 करोड़ रूपए ऋण माफी स्वीकृत की गई है।

उन्होंनेे बताया कि तहसील मुलताई के विकासखण्ड मुलताई एवं प्रभातपट्टन में प्रथम चरण में 09 मार्च 2019 तक 17600 किसानों की 43.296 करोड़ रूपए ऋण माफी स्वीकृत की गई है। द्वितीय चरण में 10 मार्च 2019 से 08 जनवरी 2020 तक तहसील मुलताई के विकासखण्ड मुलताई एवं प्रभातपट्टन के 3361 किसानों की 22.507 करोड़ रूपए ऋण माफी स्वीकृत की गई है। इस प्रकार तहसील मुलताई में प्रथम एवं द्वितीय चरण में 20961 किसानों की 65.803 करोड़ रूपए ऋण माफी स्वीकृत की गई है। जिले के किसी भी पात्र किसान को फसल ऋण माफी से वंचित नहीं किया जाएगा।

मुलतापी समाचार

अब कांच का पुल देखने नहीं जाना पड़ेगा चीन ऋषिकेश में बनेगा देश का पहला ग्लास फ्लोर ब्रिज


उत्तराखंड का  ऋषिकेश फेमस डेस्टिनेशन में एक माना जाता है। दिल्ली के नजदीक होने के कारण वीकेंड में आप आसानी से यहां की वादियों की सैर करने के लिए निकल जाते हैं। अगर आपको भी ऋषिकेश काफी पसंद है तो आपके लिए एक गुड न्यूज है। ऋषिकेश में बन रहा है देश का पहला ग्लास फ्लोर ब्रिज। जी हां इस बात की मंजूरी भी मिल चुकी हैं। लक्ष्मण झूला के बराबर बनने वाले इस ब्रिज में ट्रांसपैरेंट कांच का इस्तेमाल किया जाएगा। आपको बता दें कि लक्ष्मण झूला को पिछले साल जुलाई में सुरक्षा कारणों के कारण बंद कर दिया गया था। वह 94 सालों से ऋषिकेश को अलग पहचान दे रहा है। इस झुला के बंद हो जाने के बाद उत्तराखंड सरकार ने ग्लास ब्रिज की डिजाइन बनाने की मंजूरी दे दी है।