एक अप्रैल से रेडियो पर शैक्षिक प्रसारण


विद्यार्थियों को घर पर अध्ययन जारी रखने की सलाह

बैतूल भोपाल मध्यप्रदेश – प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरुण शमी ने विद्यार्थियों के पालकों से अपेक्षा की है कि अध्ययन की निरंतरता की दृष्टि से वे लॉक डाउन अवधि में विद्यार्थियों को घर पर नियमित अध्ययन करने के लिये प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि पालक सुनिश्चित करें कि कक्षा 1 से 8 तक के विद्यार्थी अपनी हिंदी और अंग्रेजी की पुस्तक से प्रतिदिन कम से कम 1 पेज पढ़ें और 1 पेज लिखें। कक्षा 1 से 3 तक के विद्यार्थी स्लेट पर और 4 से 12 तक के विद्यार्थी पुरानी कॉपियों में लेखन कार्य कर सकते हैं। इस दौरान कक्षा 3 से 5 तक के विद्यार्थी 15 तक के पहाड़े दुहरायें और याद करें। इसी प्रकार कक्षा 6 से 12 तक के विद्यार्थी न्यूनतम 20 तक के पहाड़े कंठस्थ करें।

प्रमुख सचिव श्रीमती रश्मि अरूण शमी ने बताया है कि लॉक डाउन और शाला अवकाश के दिनों में अध्ययन की निरंतरता के लिए राज्य शिक्षा केन्द्र द्वारा 1 अप्रैल से आकाशवाणी से शैक्षिक प्रसारण प्रारंभ किया जा रहा है। यह कार्यक्रम सोमवार से शनिवार तक रोजाना सुबह 11 बजे से दोपहर 12 बजे तक प्रसारित होगा। इससे विद्यार्थी रेडियो के माध्यम से घर पर भी नियमित अध्ययन कर सकेंगे।

यह शैक्षिक रेडियो कार्यक्रम आकाशवाणी के प्रदेश स्थित सभी प्राथमिक प्रसारण केन्द्रों और विविध भारती केन्द्रों से एक साथ प्रसारित होगा। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा इस रेडियो कार्यक्रम के अलावा शिक्षकों के माध्यम से कक्षावार और विषयवार रोचक शैक्षिक सामग्री भी विद्यार्थियों को समय समय पर उपलब्ध कराई जाएगी।

मुलतापी समाचार बैतूल

भोपाल में सामने आए कोरोना के आठ नए मामले, जेल से 60 दिनों के लिए रिहा किए जाएंगे कैदी


मुलतापी समाचार

भोपाल। देश में लगातार कोरोना वायरस के मामलों में इजाफा हो रहा है। इसी बीच भोपाल में कोरोना वायरस के 8 मामले सामने आ गए हैं। 8 नए कोरोनावायरस पॉजिटिव मामलों में 7 इंदौर में और 1 उज्जैन में है। इसी के साथ राज्य में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या 32 हो गई है। साथ ही मध्य प्रदेश सरकार किसी भी प्राकृतिक आपदा या महामारी के मद्देनजर छुट्टी के नियम, 1989 के तहत  जेलों में बंद लोगों को  60 दिनों के लिए पैरोल पर रिहा कर दिया है।   स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में कोरोना वायरस मरीजों की संख्या 1000 के पार पहुंच गई है। हालांकि इनमें से 99 लोग ठीक भी हो गए है। 

बता दें कि देश में बढ़ते संक्रमित मामलों को देखते हुए सरकार ने पूरे देश में लॉकडाउन लागू कर दिया है। लॉकडाउन का उद्देश्य कोरोना वायरस के प्रसार को रोकना है। लॉकडाउन के तहत आजेश दिया गया है कि सभी लोग अपने-अपने घरों में ही रहें ताकि एक दूसरे के संपर्क में ना आए। 

Corona virus in MP: तब्‍लीगी जमात में शामिल म.प्र. के नागरिकों को पहचान कर क्वारेंटाइन में रखने के आदेश


तब्‍लीगी जमात में लॉगडॉउन के समय सामिल हुए लोगों जत्‍था

Multapi Samachar

भोपाल। Corona virus मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मंत्रालय में आयोजित उच्च स्तरीय बैठक में निर्देश दिए हैं कि तब्‍लीगी जमात में हिस्सा लेने वाले प्रदेश के नागरिकों को क्वारेंटाइन में रखने की व्यवस्था की जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जैसा कि समाचार मिले हैं, कुछ दिन पूर्व तब्‍लीगी जमात का एक बड़ा धार्मिक आयोजन हुआ था। इसमें पूरे देश के श्रद्धालु भाग लेने गए थे। इस समूह में से 200 लोगों के कोविड-19 से संक्रमित होने तथा इनमें से 6 लोगों की तेलंगाना में मृत होने की सूचना प्राप्त हुई है।

मध्य प्रदेश से भी 100 से अधिक व्यक्ति इस धार्मिक कार्यक्रम में शामिल थे

मुख्‍यमंत्री के अनुसार मध्य प्रदेश से भी 100 से अधिक व्यक्ति इस धार्मिक कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। ऐसी जानकारी प्राप्त हुई है। इस संदर्भ में पूर्ण सजग रहने की जरूरत है।

मुख्यमंत्री चौहान ने इस संबंध में अधिकारियों को निर्देशित किया है कि इस आयोजन में सम्मिलित मध्यप्रदेश के व्यक्तियों को चिन्हित करें तथा उन्हें क्वारेंटाइन में रखकर उनका आवश्यक स्वास्थ्य परीक्षण किया जाए। यह कार्यवाही सभी के हित में है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यदि किसी भी प्रकार की बीमारी के लक्षण उन व्यक्तियों में दिखाई देते हैं तो उनके टेस्ट और इलाज की समुचित व्यवस्था भी की जाए। सभी पुलिस अधीक्षकों को यह कार्रवाई अति शीघ्र करने के लिए निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा धार्मिक कार्यक्रम के सिलसिले में जो भी व्यक्ति घूम रहे हैं, उनकी यात्रा का विवरण भी प्राप्त कर आवश्यक कार्रवाई किए जाने के निर्देश भी दिए गए हैं।

मुलतापी समाचार

नवरात्रि के सातवें दिन की जाती है मां कालरात्रि की पूजा


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

नवरात्रि के सातवें दिन मां दुर्गा की शक्ति रूप कालरात्रि की पूजा की जाती है! मां कालरात्रि के पूजन से ब्रह्मांड की समस्त सिद्धियों का द्वार खुलता है! देवी कालरात्रि में मां भद्रकाली ,मां महाकाली ,मां भैरवी, मां रुद्राणी ,मां चामुंडा, मां चंडी और दुर्गा के कई रूप समाए हैं! कालरात्रि की उपासना में लाल और काले रंग की वस्तुओं का उपयोग किया जाता है! मां अपने भक्तों की पूजा से प्रसन्न होकर उनकी शत्रुओं से रक्षा करती हैं!

मुलतापी समाचार

बैतूल जिले की जनता को आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता में कोई दिक्कत तो नहीं है


मुलतापी समाचार

स्वास्थ्य सुविधाओं के माकूल प्रबंध रहें

लॉक-डाउन व्यवस्था का प्रभावी पालन हो- कलेक्टर



कोरोना संक्रमण से बचाव के दृष्टिगत जिले में प्रभावशील लॉक-डाउन व्यवस्था के दौरान आमजन को बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने एवं स्वास्थ्य सुविधाओं के उचित प्रबंध बनाए रखने के दृष्टिगत कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने सोमवार को जिले के विभिन्न विभागों के अधिकारियों की बैठक ली। इस दौरान उन्होंने कहा कि जिले में लॉक-डाउन व्यवस्था में कोई ढिलाई न हो, परन्तु इस बात का भी ध्यान रखा जाए कि आमजन को आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता सुचारू बनी रहे। बैठक में सीईओ जिला पंचायत श्री एमएल त्यागी एवं अपर कलेक्टर श्री जेपी सचान भी मौजूद थे।

बैठक में कलेक्टर ने सब्जी एवं दूध की डोर-टू-डोर सप्लाई व्यवस्था की जानकारी लेते हुए कहा कि इस बात का भी ध्यान रखा जाए कि उक्त सामग्री लोगों को उचित दरों पर ही मिले। साथ ही सामग्री की गुणवत्ता भी अच्छी हो। कृषि विभाग की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने कहा कि रबी फसल की कटाई में किसानों को किसी तरह की कोई दिक्कत न आए, इस बात के लिए कृषि विभाग पूरी तरह सजग रहे। हार्वेस्टर एवं थ्रेसर की नियमानुसार उपलब्धता रहे। किसानों को कीटनाशक एवं अन्य कृषि आदानों की डोर-टू-डोर उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए भी कृषि विभाग कार्य योजना बनाए। इस दौरान उन्होंने कहा कि दवाइयों की दुकानें खुली रहे एवं आमजन को सुगमता से उपलब्ध हो। जरूरी खाद्य वस्तुओं की भी डोर-टू-डोर सप्लाई सुनिश्चित की जाए।

पशु चिकित्सा विभाग की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने पशुओं चारा एवं अन्य खाद्य सामग्री की उपलब्धता सुनिश्चित करने के संबंध में उपसंचालक पशु चिकित्सा से चर्चा की। इसके अलावा मेडिकल स्टोर्स से पशुओं की आवश्यक दवाइयों की उपलब्धता बनाए रखने के लिए भी निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि पशुपालकों द्वारा उत्पादित दुग्ध, अण्डा एवं अन्य सामग्री खराब न हो तथा समय पर उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराई जा सके, इसके लिए विभाग समुचित कार्ययोजना तैयार करे।

बैठक में कलेक्टर ने कहा कि जिला स्तर पर स्थापित कॉल सेंटर में प्राप्त हो रही समस्याओं/शिकायतों के उचित संधारण कर निराकरण की व्यवस्था की जाए। कलेक्टर ने मुख्य नगरपालिका अधिकारी से दीनदयाल रसोई से उपलब्ध कराई जा रही भोजन व्यवस्था की भी समीक्षा की। साथ ही कहा कि लॉक डाउन एवं प्रशासन द्वारा समय-समय पर जारी किए जाने वाले अन्य निर्देशों का निरंतर एनाउंसमेंट कराया जाए। इस दौरान उन्होंने जिले में वैकल्पिक क्वारेंटाइन सेंटर तैयार रखने की व्यवस्था की भी समीक्षा की।

दमोह वासियों के लिए जानलेवा साबित हो सकते हैं आने वाले दिन


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

दमोह: आने वाले दिन दमोह वासियों के लिए जानलेवा साबित हो सकते हैं! ऐसा इसलिए क्योंकि जहां लाकडाउन को लेकर पुलिस.और प्रशासनिक अमला लोगों को घरों में रहने की सलाह दे रहा है, वहीं दूसरी तरफ बाहर से आने वाले मजदूरों को शहर के भीतर लाकर उनकी जांच की जा रही है! ऐसे में बाहर से आए इन मजदूरों में यदि एक भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित निकल आएगा, तो दमोह शहर व पूरे जिले पर संकट आ सकता है!

स्थानीय अस्पताल चौराहे के समीप बने मानस भवन कांप्लेक्स परिसर में स्वास्थ विभाग के कर्मचारी मौजूद थे! जिनके हाथ में टेंपरेचर मशीन और कुछ दस्तावेज थे, जिसमें संबंधित व्यक्तियों की जानकारी दर्ज की जा रही थी, और उनकी स्क्रीनिंग कर उनका टेंपरेचर चेक किया जा रहा था! यहां पर पहुंचे मजदूरों में बड़ी संख्या में जिले के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में मजदूरी करके लौट रहे मजदूर थे! इसके अलावा महाराष्ट्र से अपने वाहन से यूपी जा रहे एक परिवार को अस्पताल चौराहे के समीप लाया गया! जिसमें महिलाएं, बच्चे, युवा सभी शामिल थे और उनकी भी जांच की गई! इन लोगों ने बताया कि वह 5 दिन पहले महाराष्ट्र से यूपी के लिए रवाना हुए थे!महत्वपूर्ण बात यह है कि वर्तमान में सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मरीज मुंबई में ही मिल रहे हैं! ऐसे में एक दर्जन से ज्यादा लोगों को शहर के बीच में लाकर उनकी जांच कराना सबसे बड़ा जोखिम भरा हो सकता है! यदि इन सदस्यों में से किसी एक में भी पॉजिटिव संक्रमण पाया जाता है और दो-चार दिन में उसका प्रभाव स्थानीय व्यक्ति पर हो जाता है तो स्थिति भयावह हो सकती है!

मुलतापी समाचार

युवक ने पुलिस से मंगवाए समोसे, नाली साफ करने की मिली सजा


मुलतापी समाचार. मनोज कुमार अग्रवाल

लाकडाउन के दौरान किसी को भी कोई परेशानी न हो इसके लिए देश भर में पुलिस प्रशासन जरूरी सामान को लोगों तक पहुंचाने की कोशिश कर रहा है! इसी का फायदा उठाते हुए यूपी के रामपुर में एक शरारती शख्स ने मजाक में जिला प्रशासन के कंट्रोल रूम में फोन कर समोसे और पान की मांग की! गंभीर हालत में ऐसी मजाक से नाराज पुलिस ने इस शख्स के पास जाकर कड़ी चेतावनी दी! साथ ही सामाजिक रूप से शर्मिंदा करने के लिए उससे नाली भी साफ करवाई!

मुलतापी समाचार

अस्पताल प्रशासन कर रहा नजरअंदाज कोरोना के प्रति बड़ी लापरवाही, हो सकती हैं बडी घटना


मुलतापी समचार

मुलताई समुदायिक स्वास्थ केन्द्र की फ़ोटो है जहाँ बाहर गांव शहर से लोग कोरोना चेक करने भीड लगाकर धूप में घंटे खड़े रहते है

यह मुलताई का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र है जहां मरीजों और कोरोना की जांच के लिए बाहर से आगे लोग घंटे लम्बी लाइन में खड़े रहते हैं टाइमिंग 8:00 बजे 10:30 बजे तक उसके बाद भी मुख्य डॉक्टर का पता नहीं यहां कोरोना वायरस के प्रति न हीं हॉस्पिटल मैनेजमेंट डॉक्टर सजग हैं और ना ही पबल्कि, कोई सोशल डिस्टेंस नहीं, कोई सेनेटाइजर की व्यवस्था नहीं, लोग भीड़ लगाकर खड़े रहते हैं यह सब देख कर बड़ा आश्चर्य हो रहा है यहां सारे विश्व के देश कोरोना के लिए लड़ रहा है वही यहाँ बहुत लापरवाही की जा रही है।

कोई सुविधा नही मुलताई सामूदायिक हॉस्पिटल मुलताई में पर्ची काटने के लिए घण्टों लाईन में भीड लगाकर खड़े रहते मरीज


यह खबर अगर कोई मुलताई के सीनियर अधिकारी देख रहा हो तो यहां पुलिस प्रशासन की मदद से लोगों में कम से कम सोशल डिस्टेंस का ख्याल रखा जाए और हॉस्पिटल में डैली सेनेटाइजर की व्यवस्‍था की जाए एवंं पर्ची बनाने वालाेें की संख्‍या बडाई जाए और इस विषय को गंभीरता सेे लेवे यहां अभी भी लोग बिल्कुल भी सजग नहीं है रोना के प्रति ज्यादा से ज्यादा शेयर करें जनता मेें जागरुक होंंवेे।

भारत अगर नहीं संभला तो हर गांव होगा कोरोना का गढ़


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

भारत में कोरोना के चलते 32 लोगों की मौत हो चुकी है! जबकि 1190 लोग इससे संक्रमित हैं! डब्ल्यूएचओ की चीफ डॉ सौम्या स्वामीनाथन ने कहा है कि अगर लोग social distancing का ख्याल नहीं रखेंगे तो यह भारत के लिए बड़ा खतरा बन सकता है!जो लोग प्रवासी व मजदूर हैं,वह लॉक डाउन में अपने घरों के लिए पैदल निकल चुके हैं! इनसे इसका खतरा और भी बढ़ सकता है!देश के ग्रामीण इलाकों में बड़े पैमाने में इसकी जांच होनी चाहिए!

मुलतापी समाचार

बैतूल में दोनों कोरोना संदिग्धों की रिपोर्ट निगेटिव


बैतूल जिले वासियों के लिए राहत की खबर है कि जिला अस्पताल बैतूल में कोरोना संदिग्ध दोनों मरीजों की रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है। जिसके बाद जिले में किसी भी व्यक्ति को कोरोना के लक्षण नहीं पाए गए हैं। हालांकि कोरोना संदिग्ध दोनों मरीजों को लेकर जिले वासियों में जहां ओर दहशत का माहौल उत्पन्न हो गया था और रिपोर्ट को लेकर काफी चिंता सता रही थी, वहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन में अब साफ हो गया है, कि जिले में कोई भी व्यक्ति कोरोना से संक्रमित नहीं है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग अधिकारी डॉ. जी.सी. चौरसिया ने ताजा हेल्थ बुलेटिन मैं बताया है कि जिले में विदेश यात्रा करके आए लोगों की संख्या 90 है। जिसमें से विभाग द्वारा 72 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा चुका है। 58 लोगों को होम आइसोलेशन में जबकि 14 लोगों होम आइसोलेशन की अवधि पूर्ण कर चुके हैं। 90 में से शेष 18 लोगों ने विदेश यात्रा की जानकारी दी है जो बैतूल जिलें के निवासी है किंतु अन्य स्थानों पर निवासरत है और जिले में नहीं आए हैं। जिनका सतत परीक्षण किया जा रहा है, एवं कोरोना वायरस से बचाव एवं नियंत्रण संबंधी सलाह भी दी जा रही है।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल