कोरोना का “कहर”


भोपाल — कोरोना वायरस के कहर को देखते हुए मध्यप्रदेश के सभी स्कूलों, कॉलेज में अस्थायी रूप से अगले आदेश तक छुट्टी की घोषणा कर दी गई है।

राज्य शासन ने नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) एवं उससे जनित बीमारी से बचाव के लिये प्रदेश के सभी शासकीय एवं निजी स्कूलों में अस्थायी रूप से आगामी आदेश तक अवकाश घोषित किया है।

प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा विभाग श्रीमती रश्मि अरूण शमी ने सभी स्कूलों को इस बारे में निर्देश जारी किये हैं। निर्देश में कहा गया है कि कक्षा पाँचवी और आठवीं की परीक्षाएँ पूर्व निर्धारित कार्यक्रम अनुसार आयोजित की जायेंगी। कक्षा 10वीं और 12वीं की वार्षिक परीक्षाओं (चाहे वे किसी भी सक्षम बोर्ड/प्रबंधन के तत्वावधान में आयोजित की जा रही हों) का आयोजन पूर्व निर्धारित कार्यक्रम अनुसार किया जायेगा।

अवकाश अवधि में समस्त शासकीय विद्यालयों में समस्त शिक्षकीय एवं गैर-शिक्षकीय स्टाफ विद्यालय में उपस्थित रहकर शासकीय और अकादमिक कार्य संपादित करेंगे। निजी विद्यालय शिक्षकीय एवं गैर-शिक्षकीय स्टाफ की विद्यालय में उपस्थिति के संबंध में अपने स्तर पर स्वविवेक से निर्णय ले सकेंगे।

जनसम्पर्क विभाग स्कूल शिक्षा विभाग भोपाल

मुख्यमंत्री कमलनाथ पहुंचे राजभवन, राज्यपाल से की मुलाकात


भोपाल — मुख्यमंत्री कमलनाथ राज्यपाल लालजी टंडन से मिलने के लिए राजभवन पहुंचे। राजभवन की ओर जाते हुए मुख्यमंत्री ने विक्टरी का साइन दिखाया, मुस्कान से भरे चेहरे से ऐसा लग रहा था कि अभी कांग्रेस की सरकार को कोई खतरा नहीं है।

मुख्यमंत्री ने राज्यपाल से मुलाकात में सबसे पहले होली की शुभकामनाएं और बधाई दी। और राज्य में चल रहे सियासी संग्राम की जानकारी दी और विधायकों को वापस बुलाया जाए की बात कही।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने एक बड़ा बयान देते हुए कहा कि मैं अभी 10 साल तक मुख्यमंत्री रहूँगा और हमारी सरकार को कोई खतरा नही है।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बीजेपी पर खरीद फरोख्त कर सरकार को अस्थिर करने का आरोप लगाया।

शेयर बाजार पर कोरोना का “कहर”, लोअर सर्किट लगा


शेयर बाजार भारी गिरावट के साथ शुरू

कोरोना वायरस के चलते शेयर बाजार पर भारी संकट खड़ा हो गया है जिससे शेयर बाजार में भारी गिरावट दर्ज की गई है जिसमें सेंसेक्स 2500 अंकों और निफ्टी 750 अंकों की भारी गिरावट के साथ खुला। शेयर बाजार को एक घंटे के लिए बंद कर दिया गया है क्योंकि शेयर बाजार में गिरावट अधिक होने से सेंसेक्स 3000 अकों और निफ्टी 950 अंकों से अधिक की गिरावट के साथ बंद कर दिया गया है। जिससे निवेशकों को ग्यारह हजार