मप्र – गवर्नर ने स्पीकर को लिखा पत्र- आपके खिलाफ आने वाले अविश्वास प्रस्ताव पर प्राथमिकता से कार्रवाई हो


MP News मध्यप्रदेश में अल्पमत में होने पर कमल नाथ सरकार गिरने के बाद अब विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति व उपाध्यक्ष हिना कांवरे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव भी लाया जाएगा। राज्यपाल लालजी टंडन ने विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति को पत्र लिखकर निर्देश दिए हैं कि सदन आहूत होने पर अविश्वास प्रस्ताव पर प्राथमिकता से कार्रवाई करवाई जाए। आपसे अपेक्षा है कि तब तक संविधान और नैतिकता के आधार पर प्रत्येक विषय की वैधानिक स्थिति का परीक्षण कर कार्य करेंगे।

राज्यपाल ने अपने पत्र के साथ नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव से उन्हें मिले ज्ञापन को भी संलग्न किया है। साथ ही संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप का अभिमत भी अवलोकनार्थ भेजा है। जिसमें कहा गया है कि परंपरानुसार सत्ता से बेदखल होने पर उस पार्टी से चुने गए स्पीकर तथा उपाध्यक्ष को त्यागपत्र दे देना चाहिए।

राज्यपाल ने कहा कि चूंकि आपके विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव पर कार्रवाई विधायिका का कार्य है। अत: सदन की बैठक आहूत होने पर इस प्रस्ताव पर प्राथमिकता से आवश्यक कार्रवाई होनी चाहिए, तब तक प्रमुख सचिव विधानसभा आपके निर्देशानुसार सामान्य दैनंदिनी कार्य संपादित करेंगे।

उल्लेखनीय है कि राज्यपाल को सौंपे ज्ञापन में नेता प्रतिपक्ष ने कहा था कि मप्र में अभी न तो सदन में नेता है और न ही सदन कार्यशील है। ऐसी स्थिति में जब सदन प्रसुप्त अवस्था में हो तो अध्यक्ष द्वारा नीतिगत निर्णय नहीं लिए जाना चाहिए, जिनसे किसी का हित-अहित हो रहा हो, लेकिन प्रतिदिन राजनीतिक भावना से ग्रसित निर्णय लिए जा रहे हैं, जो सामान्यजन के हितों को प्रभावित कर रहे है। पत्र में यह भी कहा गया है कि विस सचिवालय में विधानसभा अध्यक्ष के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया है, जिस पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

पत्र में शरद कोल का जिक्र

राज्यपाल ने अपने पत्र में विधायक शरद कोल के संबंध में प्राप्त पत्र का भी जिक्र किया है, जिसमें कहा गया है कि कोल के त्यागपत्र को स्वीकारने में अवैधानिक प्रक्रिया अपनाई जा रही है। यह भी आग्रह किया गया है कि संविधान के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति की जाए, जिससे संवैधानिक मूल्यों एवं प्रजातांत्रिक मान्यताओं का पालन सुनिश्चित हो।

134 मरीजो को बचाया लेकिन खुद 8 वे दिन कोरोना covid 19 वायरस से बीमार हो गए


इटली : इटली के यह दोनों मियां बीवी डाक्टर है और दोनों दिन रात लग कर 134 मरोजो को बचाया
लेकिन खुद 8 वे दिन क्रोना वायरस से बीमार हो गए और अलग अलग कमरे में शिफ्ट कर दिए गए
जब दोनों मिया बीवी डाक्टर को लगा कि हम बच नहीं पाएंगे
दोनों हॉस्पिटल के लांज में , खड़े होकर मुहब्बत भरी नज़रों से एक दूसरे को देखा , kiss किया
और आधे घंटे के बाद दोनों मर गए

क्रोना तूने ऐसे डाक्टर की ज़िन्दगी लेली जो तुम्हे मात देने के लिए हर एक मिनट मरिजो को बचाने में लगे थे
आखिर
अपने वतन के लिए खुद को किया कुर्बान
सलाम तुम्हे
सलाम तुम्हारे जज्बे को

अब हम को लड़ना है
थोड़ा सा ध्यान
थोड़ी सी जागरूकता ।।

अपने हाथों की कोहनी में खसना और छिकना है।

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल

नक्सलियों के एंबुश में फंसकर शहीद हो गए 17 जवान, मुठभेड़ में हो गए थे लापता


Naxal Encounter in Sukma : मुलतापी समाचार

सुकमा। धुर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले के चिंतागुफा थाना क्षेत्र के मिनपा-कसालपाड़ इलाके में शनिवार को हुई मुठभेड़ में लापता 17 जवानों के शव रविवार को बरामद किए गए। रविवार को इनकी तलाश के लिए 500 जवानों की टीम को भेजा गया था। मौके से जवानों के शव बरामद हुए। सभी जवानों के पार्थिव देह को जंगल से बाहर निकाल लिया गया है। समाचार लिखे जाने तक जवानों के शव बुरकापाल कैंप में ही रखे हुए हैं। उन्हें जिला मुख्यालय नहीं लाया जा सका है।

मिनपा इलाके में नक्सलियों के बड़े जमावड़े की सूचना पर शुक्रवार शाम को अलग-अलग कैंपों से करीब 550 जवान जंगल में गए थे। वापसी के दौरान नक्सलियों ने कसालपाड़ व मिनपा के बीच कोटपाड़राज रेंगापारा के पास एंबुश लगाया। फोर्स अलग-अलग चल रही थी। हर टीम में सौ से डेढ़ सौ जवान थे। इन्हीं में से एक टीम नक्सली एंबुश में फंसी। मौके पर चार तालाब हैं। इन तालाबों की मेड़ के पीछे नक्सलियों ने एंबुश लगा रखा था जबकि जवान खुले में फंस गए। शनिवार दोपहर करीब 12.30 बजे फायरिंग शुरू हुई जो चार घंटे तक जारी रही।

नक्सली चारों ओर थे। चौतरफा भारी फायरिंग से जवान बिखर गए। मौके पर करीब तीन सौ नक्सली थे। जवानों ने बताया कि नक्सली गैर छत्तीसगढ़ी लग रहे थे। घटनास्थल चिंतागुफा कैंप से करीब सात किमी दूर दक्षिण में है। चिंंतागुफा के ग्रामीणों ने बताया कि उनके गांव तक हर दस मिनट में विस्फोट की आवाज आती रही।

नक्सली गोले दाग रहे थे। उन्होंने देसी बम का भी इस्तेमाल किया। मौके पर पेड़ों में गोलियां धंसी हुई हैं। एंबुश में जो टीम फंसी थी उसमें एसटीएफ और डीआरजी के जवान ही थे। लगातार फायरिंग के चलते जवानों की गोलियां खत्म हो गईं। रात नौ बजे बुरकापाल से कोबरा बटालियन की टीम गई और एलओपी (लाइन ऑफ पाइंट) लगाया तब जाकर घायलों को निकाला जा सका। मौके पर जगह जगह जवानों के जूते, टोपी और अन्य सामान बिखरे हैं।

24 घंटे लग गए शव निकालने में

शहीदों के शव रातभर वहीं पड़े रहे। सुबह नौ बजे बुरकापाल और चिंतागुफा से रेस्क्यू टीम रवाना की गई। पहले ड्रोन उड़ा फिर जवान रवाना हुए। जगह-जगह शव पड़े मिले। जवान अपने साथियों का शव सात किमी कंधे पर लादकर बाहर लाए। कोबरा बटालियन के डीआइजी बुरकापाल तक गए थे। बस्तर आइजी सुंदरराज पी ने बताया कि शहीदों में 12 जवान डीआरजी (डिस्ट्रिक रिजर्व गार्ड) के हैं व पांच एसटीएफ के। बुरकापाल में पदस्थ डीआरजी के पांच व चिंतागुफा के तीन जवान शहीद हुए हैं। अन्य डीआरजी जवान दूसरी जगहों के हैं।

15 हथियार लूटे, एक यूबीजीएल भी

नक्सली, जवानों के 15 हथियार लूटकर ले गए हैं। इनमें 12 एके 47 रायफल व एक अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर(यूबीजीएल) शामिल है। डीआरजी के सबसे ज्यादा हथियार लूटे गए हैं। जो यूजीबीएल लूटा गया है वह बुरकापाल डीआरजी का था।

शहीद जवानों के नाम

एसटीएफ

1. पीसी गीतराम राठिया पुत्र परमानंद राठिया, ग्राम सिंघनपुर, थाना भूपदेवपुर, जिला रायगढ़

2. एपीसी नारद निषाद पुत्र फगुआ राम निषाद, ग्राम सिवनी, थाना बालोद, जिला बालोद

3. आरक्षक 3541 हेमंत पोया, पुत्र गुलाब राम पोया, ग्राम डबराखार, पोस्ट सरोना, थाना नरहरपुर, जिला कांकेर

4. आरक्षक 1639 अमरजीत खलको, पुत्र अमृत खलको, ग्राम औराजोर, पोस्ट हर्राडांड, थाना कुनकुरी, जिला जशपुर

5. सहायक आरक्षक 234 मड़कम बुच्चा, पुत्र मड़कम देवा, ग्राम टटरई, पोस्ट आरगट्टा, थाना एर्राबोर, जिला सुकमा

डीआरजी

6. आरक्षक 1193 हेमंत दास मानिकपुरी, पुत्र सुखदास मानिकपुरी, ग्राम छिंदगढ़, जिला सुकमा

7. सहायक आरक्षक 194 गंधम रमेश, पुत्र गंधम मदना, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

8. आरक्षक 594 लिबरूराम बघेल, पुत्र सुकालू राम, ग्राम लेदा, थाना तोंगपाल, जिला सुकमा

9. आरक्षक 418 सोयम रमेश, पुत्र सोयम लच्छा, ग्राम एर्राबोर, जिला सुकमा

10. सहायक आरक्षक 368 उइका कमलेश, पुत्र उइका भीमा, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

11. सहायक आरक्षक 804 पोड़ियम मुत्ता, पुत्र पोड़ियम सुब्बा, ग्राम मुरलीगुड़ा, जिला सुकमा

12. सहायक आरक्षक उइका धुरवा, पुत्र उइका सुकलू, ग्राम जगरगुंडा, जिला सुकमा

13. आरक्षक 1202 वंजाम नागेश, पुत्र बंजाम बुच्चा, ग्राम सुन्न्मगुड़ा, जिला सुकमा

14. प्रधान आरक्षक 463 मड़कम मासा, पुत्र मड़कम माड़ा, ग्राम चिचोरगुड़ा, जिला सुकमा

15. आरक्षक 1268 पोड़ियम लखमा, पुत्र पोड़ियम हिड़मा, ग्राम जिडपल्ली, जिला बीजापुर

16. आरक्षक 1244 मड़कम हिड़मा, पुत्र मड़कम दुला, ग्राम करीगुंडम, जिला सुकमा

17. गोपनीय सैनिक नितेंद्र बंजामी, पुत्र देवा, ग्राम कन्हाईपाड़, जिला सुकमा

इनका कहना है

यह वक्त बहुत ही नाजुक है, हम पर हमले-दर-हमले हैं। दुश्मन का दर्द यही तो है, हम हर हमले पर संभले हैं। वीर जवानों की शहादत को नमन।

– भूपेश बघेल, मुख्यमंत्री।

शहीद जवानों को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि, परिजनों के प्रति गहरी संवेदना। ईश्वर से प्रार्थना है कि उनकी आत्मा को मोक्ष/शांति प्रदान करें। परिजनों को दुखद घड़ी को सहन करने की क्षमता प्रदान करें। घायल जवानों को ईश्वर शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।

– अनुसुइया उईके राज्यपाल।

मुलताई में दिखा जनता कर्फ्यू का असर पसरा रहा सन्‍नाटा


मुलताई में हर चौक चाैराहों पर पसरा रहा सन्‍नाटा दिखा कोरोना वायरस का डर

जनता कर्फ्यु का सभी जनता ने किया सम्‍मान दिया घरों से धन्‍यवााद

मुलताई बस्‍टेड की फाेटो जंहा हजारों की संख्‍या में जनता आना जाना करती है वहीं आज सन्‍नाटेे का माहोल देखने काेे मिला

मुलताई । आज बस्‍टेंड पर जनता कर्फ्यू कारण सन्‍नाटा पसरा रहा कोई भी बस न आई है और न ही यहां से कोई बस चली है जिससें जनता अपने ही स्‍थान पर रूक गई है । वही 5 बजे बस्‍टेंड परिसर मेें स्‍थ‍ित मांता केे मंदीर में पुजारी जी और चैले द्वारा घंटी बजाकर आज उन सभी कर्मचारी याेें का धन्‍यवाद दिया जिन्‍होंने कर्फ्यु के और महामारी के प्रकोप के डर के बायजुद भी अपना कर्तव्‍य निष्‍ठा से हटे नहीं जनता की सेवा करते है

आज जनता कर्फ्यू के समर्थन में कॉरोना वायरस के प्रकोप से बचने के लिए मुल्ताई की जनता अपने अपने घरों में रही स्वयं के द्वारा स्वयं के बचाव लिए देश की जनता ने अपना महत्व पूर्ण योगदान दिया । आज हम सब अपने लिए ताली जरूर बजाए और वह सभी कर्मचारी जिन्होंने इस विस्म परिस्थिति में भी अपना कार्य निस्पादित करते रहे उनका धन्यवाद करते है सभी जनता ने 5 बजे उनके लिए शंख नाद, ताली, घंटी, थाली आदि बजाकर धन्यवाद अर्पित किया

बैतूल रोड मुलताई खाली पडा जहां रोजाना आवा जावी चालु रहती हे वही एक व्‍यक्तिी भी नही दिखाा

मां ताप्‍ती उदगम स्‍थल मुलताई में कोई नहीं दिखा मंदीर में प्रवेश निषेध आगामी ओदश तक

जनता कर्फ्यू का असर मुलताई की सुर्यपूत्री मांं ताप्‍ती उदगम स्‍थल में भी देखने को मिला यहां भी ताप्‍ती उदगम स्‍थल ट्रस्‍ट समिति द्वारा आगामी आदेश तक ताप्‍ती मंदीर के प्रमुख द्वार बंद रहेंगे श्रृद्धालुओं बाहर से ही दर्शन करने होंगे

आज मुलताई में जनता कर्फ्यू के कारण लोकल की जनता भी बाहर नहीं कली जब्‍की आज मुलताई मेें हाट बजार का दिन रहता है जिसे भी नगरपालिका द्वारा स्‍थगित कर दिया था। आज बजार के दिन में आस पास के पचास गांव अपने व्‍यापार सब्‍जी भाजी मनीहारी आदि सामानों खरीदी बिक्री करने आते है । जिसें मोदी जी के निवेदन पर सरकार के प्रयास द्वारा सफल बनाया गया

धारा 144 का पालन आगामी आदेश तक इसी तरह पालन किया जायेगा । आज कलेक्‍टर महोदय द्वारा जारी सुचना में 31 मार्च तक कर्फ्यूू के दिन बढाया है क्‍योंकी यह बिमारी है वह एक दिन के प्रयास से संभव नहीं है इस महामारी से बचने के लिए सरकार का आज रविवार का दिन ट्रायल था जिससे पूर्व ही ि‍निर्धारित कर ि‍लिया गया था परन्‍तु जनता परेशान हो जाए इसलिए आज शाम को इसकी अवधि समय ि‍सिमा बढाई गई

रेलवे स्‍टैशन मुलताई में एक भी यात्री नहीं दिखा और जो वहां गलती से पहंचा उसे भगा दिया गया

रेल यात्रीयों से निवेदन है कि वे यात्रा करने न निकले 31 मार्च तक

रेल याता भी इसी तरह 31 मार्च तक बंद कर गई है स्‍टेशनाेे पर भी आवाजावी बंद कर दी गई है एक यात्री दूसरी यात्री के पास बैठ नही सकता स्‍टेशनों पर भी

मुलतापी समाचार

जनता कर्फ्यू के समर्थन में बस बन्द आव्हान


सूचना, बड़ी खबर

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी के जनता कर्फ्यू के समर्थन में

Multai, Betul । बस संघठन मुलताई द्वारा रविवार को बसे बन्द करने का आव्हान किया गया जिसके तारतम्य में मुल्ताई बस स्टैंड पर विजय बस पर और सभी बसो पर स्टिगर पर्चे चस्पा किए गए। जिसमे 22 मार्च रविवार को जनता कर्फ्यू के समर्थन में बस बन्द रहेगी का संदेश दिया गया है । जिससे सभी यात्रियों तक यह संदेश पहुंच जयत की रविवार बस बन्द रहगी । कोई अपने घर से ना निकले कोई भी यात्रा ना करे।

मुलतापी समाचार की ओर से विनम्र अपिल

देशवासियों से विनम्र निवेदन देश को संदेश 22 मार्च 2020 दिन रविवार को सुबह 7:00 बजे से रात 9:00 बजे तक 14 घंटे के जनता कर्फ्यू का करें पालन जनता कर्फ्यू, जनता का, जनता द्वारा, जनता के लिए लगाया गया कर्फ्यू।

14 घण्टे के जनता कर्फ्यू का होगा परिणाम। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को महामारी घोषित कर दिया है और विश्वस्तरीय भंयकर परिणाम होने की संभावना है। इस विषम परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए कोरोना को है डराना और देश को सुरक्षित बनाना। जैसा कि ज्ञात हो चुका है कि कारोना वायरस का जीवनकाल 12 घंटे है और जनता कर्फ्यू 14 घंटे के लिए लगाया गया है, इसलिए भीड़-भाड़ वाले सार्वजनिक क्षेत्रों में जहां कारोना फैल सकता है, उन स्थानों पर कोई नही होगा, जिससे कोरोना वायरस की श्रृंखला टूट जाएगी। और 14 घंटे के बाद हमें जो मिलेगा वह एक सुरक्षित देश होगा।
तो इस जनता कर्फ्यू के पीछे के रहस्य को समझने का प्रयास करें और एक सुरक्षित, स्वस्थ देश बनाने में सहयोगी बने।
मुलतापी समाचार

राजाभोज एयरपोर्ट पर कोरोना वायरस युवती संदिग्ध मिलने का मामला


भोपाल: युवती को जेपी अस्पताल में उपचार के लिए भेजा

आइसोलेशन में रखा जाएगा युवती को

19 साल की है कोरोना संदिग्ध

एयर इंडिया की फ्लाइट पुणे हुई रवाना

एयर इंडिया की दिल्ली फ्लाइट सुबह 10 दिल्ली बजे आई थी भोपाल

दिल्ली से भोपाल सफर करके आई थी यात्री

राजाभोज टर्मिनल पर चेकअप के दौरान महिला में मिले कोरोना वायरस के लक्षण

फ्लाइट को राजाभोज एयरपोर्ट पर किया गया था होल्ड

फ्लाइट को किया गया सेनिटाइज

पायलट और एयरपोर्ट ऑथोरिटी के अधिकारियों की चर्चा के बाद फ्लाइट ने भरी पुणे के लिए उड़ान

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल

5 बजते ही बज उठी हटा में थालियां


मुलतापी समाचार .मनोज कुमार अग्रवाल

हटा (दमोह): हटा शहर में 22 मार्च दिन रविवार को जनता कर्फ्यू के दौरान कोरोना महामारी के बचाव हेतु पूरा बाजार प्रतिष्ठान बंद रहे! व्यस्त रहने वाली सड़कों पर जानवर ही आजादी से घूम रहे थे! लोगों में एक अजीब शांति व उत्सुकता थी! बंद करने से क्या होगा?

शाम के 5:00 बजते ही पूरे शहर में थालियां, घंटियां, घंटा, झांझ -मजीरा बजाए जा रहे थे! लग रहा था जैसे देवताओं का विमान आ रहा हो और लोग अपने अपने घरों में स्वागत कर रहे हो! एक आशा एक उम्मीद और बच्चों में उत्साह था ! लोगों ने जी भर कर थाली, घंटी घंटा बजाए! इतने तो शायद किसी को बजाने नियुक्त करते तो वह इतनी रुचि व उत्साह से ना बजा पाता! थाली बजाने का शोर और उत्साह हटा के इतिहास में लंबे समय तक याद किया जाएगा!

मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

जनता कर्फ्यु के दौरान अम्‍बेडकर वार्ड मुलताई के जनप्रत‍िनिधी श्री मनीष शर्मा जी से सीधा संवाद


मुलतापी समाचार

मुलताई । हमारे डॉक्टर, नर्स, सुरक्षाबल और पुलिस के जवान, पत्रकार बंधु, नगरपालिका सफाई कर्मचारी समेत उन सभी लोगों को धन्यवाद देता हूँ, उनका अभिनंदन करता हूँ जो अपनी जान की परवाह न करते हुए दूसरों की रक्षा कर रहे हैं!

जनता कर्फ्यु के दौरान अम्‍बेडकर वार्ड मुलताई के जनप्रत‍िनिधी श्री मनीष शर्मा जी से सीधा संवाद मुलताई मंगलवार बजार सांंई मंदीर प्रांगण एवं बैतूल रोड मुलताई में जनता द्वारा स्‍वयंं के लिए लगाये गये कर्फ्यू का हाल लेते हुए अंबडकर वार्ड के पार्षद द्वारा सरकारी कर्मचारी और अन्‍य कर्मचारीयों द्वारा सेवा प्रदान की गई सभी को नगर की जनता द्वारा धंटी, थाली, ताली, शंख, मंजीरा एवं अन्‍य वाध्‍य यंत्रो को बजाकर धन्‍यवाद व्‍यक्‍त करते हुए

छोटे-छोटे बच्चों द्वारा थाली बजाकर आभार वयक्त किया


आज सारा देश #COVID19 संक्रमण से निपटने में लगा हुआ है।

हमारे डॉक्टर, नर्स, सुरक्षाबल और पुलिस के जवान, पत्रकार बंधु, नगरपालिका सफाई कर्मचारी समेत उन सभी लोगों को धन्यवाद देता हूँ, उनका अभिनंदन करता हूँ जो अपनी जान की परवाह न करते हुए दूसरों की रक्षा कर रहे हैं!

JantaCurfew #IndiaFightsCorona

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल

मध्यप्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 के प्रावधानों का उल्लंघन करने पर सजा एवं जुर्माना


बैतूल:मध्यप्रदेश शासन लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा 07 मार्च 2020 को दिए गए आदेश अनुसार मध्य प्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 की धारा 71 (2 ) में प्रावधानित समस्त अधिकार मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक को प्रदत्त किए गए हैं। अत: जन स्वास्थ्य एवं लोकहित में आवश्यकता अनुसार मध्य प्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 में निहित शक्तियों का उपयोग कर कोरोना संक्रमण वायरस से बचाव हेतु मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक द्वारा हरसंभव कार्यवाही की जाएगी।

यहां यह भी उल्लेख करना आवश्यक है कि इन अधिकारियों द्वारा मध्य प्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 के प्रावधानों का उल्लंघन होने पर 3 माह की सजा एवं जुर्माना भी किया जा सकता है। विशेषकर कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम हेतु क्वॉरेंटाइन आइसोलेट किए गए व्यक्ति अथवा चिकित्सकीय जांच परामर्श के उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों पर अविलंब कार्यवाही की जाएगी।

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल