Corona covid 19 जानिए इसका असर हवा में कितने समय तक रहता है यह वायरस, शोध में हुए हैरान करने वाले खुलासे


मुलतापी समाचार


कोविड-19 फैल रहा है और इसके साथ ही किसी भी सतह को छूने का हमारा डर भी बढ़ रहा है। अब पूरी दुनिया में सार्वजनिक जगहों पर एक जैसी तस्वीरें दिखाई दे रही हैं। लोग अपनी कोहनी से दरवाजे खोलने की कोशिश कर रहे हैं। ट्रेनों के जरिए आवाजाही करने वाले लोग इसके हैंडल पकड़ने से बच रहे हैं। ऑफिस कर्मचारी हर सुबह अपनी डेस्क साफ करते दिखाई दे रहे हैं।

साफ-सफाई पर बढ़ा जोर

कोरोना वायरस से सबसे बुरी तरह प्रभावित हुए इलाक़ों में वर्कर्स को प्रोटेक्टिव कपड़े भेजे जा रहे हैं।

ये टीमें प्लाजा, पार्कों और सड़कों पर डिसइन्फेक्टेंट्स (इनफेक्शन को रोकने वाली दवाइयों) का छिड़काव करती हैं। दफ़्तरों, हॉस्पिटलों, दुकानों और रेस्टोरेंट्स में साफ-सफाई के इंतजाम पहले के मुकाबले कहीं ज़्यादा मुस्तैदी से किए जा रहे हैं फ़्लू जैसे दूसरे रेस्पिरेटरी वायरस की तरह से ही कोविड-19 भी इससे संक्रमित शख़्स के छींकने या खांसने के जरिए मुंह और नाक से निकलने वाली पानी की बूंदों से भी फैल सकता है इस बात के भी कुछ प्रमाण हैं कि यह वायरस ज़्यादा लंबे वक़्त तक मल पर टिक सकता है, ऐसे में टॉयलेट होकर आने वाला कोई शख़्स अगर अच्छी तरह से अपने हाथ नहीं धोता है तो इससे वो अपनी छुई जाने वाली दूसरी किसी भी चीज़ को संक्रमित कर सकता है।

हाथ से चेहरा छूना मुख्य वजह नहीं

सेंटर फ़ॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन (सीडीसी) के मुताबिक, वायरस वाली किसी सतह या वस्तु को छूने के बाद अपने चेहरे को छूना ‘वायरस के फैलने की मुख्य वजह नहीं मानी गई है।’ इसके बावजूद सीडीसी, वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइज़ेशन (डब्ल्यूएचओ) और दूसरे अन्य स्वास्थ्य संस्थानों ने इस बात पर जोर दिया है कि हाथ धोना और बार-बार छुई जाने वाली सतहों को रोज साफ करना इस वायरस को फैलने से रोकने का एक अहम उपाय है। हालांकि, हमें यह नहीं पता कि संक्रमित सतहों को छूने से इस वायरस के फैलने के कितने मामले आए हैं, लेकिन एक्सपर्ट फिर भी इस मामले में सतर्कता बरतने की बात करते हैं। एक पहलू जिस पर अभी भी तस्वीर साफ नहीं है वह यह है कि आखिर कितने वक़्त तक Sars-CoV-2 (कोविड-19 बीमारी को फैलाने की वाले वायरस का नाम) मानव शरीर के बाहर जीवित रह सकता है।

28 दिन तक टिक सकता है वायरस

सार्स और मर्स जैसे दूसरे कोरोना वायरस पर हुए कुछ अध्ययनों में पता चला था कि ये मेटल, ग्लास और प्लास्टिक पर नौ दिन तक जीवित रह सकते हैं। कम तापमान में कुछ वायरस 28 दिन तक टिके रह सकते हैं। कोरोना वायरस को खासतौर पर इस बात के लिए जाना जाता है कि यह अपने अनुकूल माहौल में मजबूती से टिका रहता है।

शोध में हुए नए खुलासे

शोधकर्ताओं को अब इस बारे में और ज़्यादा जानकारियां मिल रही हैं कि यह नए कोरोना वायरस के फैलाव को कैसे प्रभावित करता है। यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट्स ऑफ हेल्थ (एनआईएच) की वायरोलॉजिस्ट नील्तजे वान डोरमालेन और मोंटाना के हैमिल्टन में मौजूद रॉकी माउंटेन लैबोरेटरीज के उनके सहयोगियों ने Sars-CoV-2 के बारे में कुछ शुरुआती टेस्ट किए हैं कि यह अलग-अलग सतहों पर कब तक टिक सकता है। इनकी स्टडी को न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छापा गया है। इस स्टडी से पता चलता है कि यह वायरस छींक या खांसी के दौरान बाहर निकलने पर बूंदों में तीन घंटे तक जीवित रह सकता है।
1 से 5 माइक्रोमीटर के आकार वाली बड़ी बूंदें मानव बाल की मोटाई से करीब 30 गुना छोटी होती हैं. ये बूंदें कई घंटों तक हवा में बनी रह सकती हैं। इसका मतलब यह है कि वायरस बिना फिल्टर वाले एयर कंडीशनिंग सिस्टम्स में आने वाले वायरस केवल कुछ घंटों तक ही जीवित रह सकते हैं, खासतौर पर एयरोसोल बूंदें जल्द ही सतह पर टिक जाती हैं।

कहां ज़्यादा जीवित नहीं रह पाता वायरस

लेकिन, एनआईएच की स्टडी में पता चला है कि Sars-CoV-2 वायरस कार्डबोर्ड पर 24 घंटे तक और प्लास्टिक और स्टेनलेस स्टील की सतहों पर 2-3 दिन तक टिका रह सकता है। इन जानकारियों से पता चल रहा है कि वायरस दरवाजों के हैंडल्स, प्लास्टिक कोटेड और लैमिनेटेड वर्कटॉप्स और दूसरी सख़्त सतहों पर ज़्यादा वक़्त के लिए जीवित बना रह सकता है शोधकर्ताओं को पता चला है कि कॉपर की सतह पर यह वायरस करीब चार घंटे में ही मर जाता है। लेकिन, इसे तत्काल रोकने का एक विकल्प है। रिसर्च से पता चला है कि 62-71 फीसदी एल्कोहल या 0.5 फीसदी हाइड्रोजन परऑक्साइड ब्लीच या 0.1 फीसदी सोडियम हाइपोक्लोराइट वाली घरेलू ब्लीच से सतह को साफ करने से कोरोना वायरस को एक मिनट के भीतर निष्क्रिय किया जा सकता है।

ज़्यादा तापमान और ह्यूमिडिटी में भी असरदार

ज़्यादा टेंपरेचर और ह्यूमिडिटी में भी दूसरे कोरोना वायरस तेज़ी से खत्म हो जाते हैं। हालांकि, रिसर्च से पता चलता है कि सार्स बीमारी की वजह बनने वाले संबंधित कोरोना वायरस 56 डिग्री सेल्सियस या 132 डिग्री फॉरेनहाइट से ऊपर के तापमान पर मर सकते हैं। यूएस एनवायरनमेंटल प्रोटेक्शन एजेंसी (ईपीए) ने अब डिसइनफेक्टेंट्स और एक्टिव इनग्रेडिएंट्स की एक लिस्ट जारी की है जिनके जरिए Sars-CoV-2 वायरस को खत्म किया जा सकता है। हालांकि, इस बात का कोई डेटा नहीं है कि किसी संक्रमित शख्स के छींकने से निकलने वाली एक बूंद में कितने वायरस पार्टिकल हो सकते हैं, लेकिन फ़्लू वायरस पर की गई रिसर्च से पता चलता है कि छोटी बूंदों में इंफ्लूएंजा वायरस की दसियों हज़ार कॉपी हो सकती हैं। हालांकि, यह चीज़ वायरस पर भी निर्भर करती है कि वह किस श्वसन तंत्र में पाया गया है और शख्स में संक्रमण किस स्टेज पर है। कपड़ों और ऐसी दूसरी सतह जिन्हें डिसइनफेक्ट करना मुश्किल होता है, यह अभी साफ़ नहीं है कि इनमें वायरस कितनी देर तक टिक सकता है।

छिद्रदार सतह पर सूख जाता है वायरस

रॉकी माउंटेन लैबोरेटरीज में वायरस ईकोलॉजी के हेड और एनआईएच की स्टडी की अगुवाई करने वाले विंसेंट मन्सटर के मुताबिक, कार्डबोर्ड में मौजूद एब्जॉर्बेंट नैचुरल फ़ाइबर में वायरस प्लास्टिक और मेटल के मुकाबले जल्द मर जाता है। उन्होंने कहा, “हमारा अंदाज़ा है कि छिद्रपूर्ण (पोरस) मैटेरियल की वजह से यह वायरस जल्द ही सूख जाता है और फ़ाइबर में फंस जाता है।” तापमान में बदलाव और ह्यूमिडिटी से भी वायरस को ज़्यादा देर टिकने में मुश्किल होती है। इससे यह भी पता चलता है कि क्यों यह हवा में मौजूद बूंदों में कम देर टिकता है। उन्होंने कहा, “हम फिलहाल आगे के प्रयोग कर रहे हैं ताकि तापमान और ह्यूमिडिटी के असर को और ज़्यादा बारीकी से समझ सकें।” मन्सटर के मुताबिक, वायरस के ज़्यादा लंबे वक़्त तक टिके रहने से पता चलता है कि क्यों हमें हाथों की सफ़ाई और सतहों को साफ रखने पर ज़्यादा जोर देना चाहिए। उन्होंने कहा, “इस वायरस में कई जरियों से एक जगह से दूसरी जगह पर फैलने की संभावना होती है।”

इंदौर में प्लास्टिक दाना फैक्ट्री में लगी आग 2 घंटे में पाया काबू


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

इंदौर: सांवेर रोड स्थित एक प्लास्टिक दाना फैक्ट्री में बुधवार दोपहर को अचानक आग लगने से हड़कंप मच गया! करीबन 3 घंटे बाद आग पर काबू पाया गया?

आग की घटना इंडो जर्मन फैक्ट्री के पास स्थित लासानी प्लास्टिक दाना फैक्ट्री में आग लग गई! फैक्ट्री संचालक मोहम्मद अजहर अंसारी ने बताया कि घटना के वक्त वहां पर कोई नहीं था! आग संभवत शार्ट सर्किट से लगी है! इसमें प्लास्टिक के सामान जलकर राख हो गए हैं!

मुलतापी समाचार

जबलपुर में मिला कोरोना वायरस से संक्रमित छठा मरीज


मुलतापी समाचार

Coronavirus Patient in Jabalpur 

Coronavirus Patient in Jabalpur

जबलपुर । कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आए आभूषण विके्रता के संपर्क में आने वालों पर संक्रमित होने का खतरा बढ़ता जा रहा है। दरअसल, उसकी दुकान का एक और कर्मचारी (45) कोरोना संक्रमित पाया गया है। जिसके चलते जिले में वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 5 से बढ़कर 6 पहुंच गई है। प्रदेश में अब कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या सात हो गई है। मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती आभूषण कारोबारी को ऑक्सीजन पर रखा गया है। इधर, संजीवनी नगर निवासी एक संदिग्ध सोमवार रात विक्टोरिया से भाग गया था लेकिन फिर वापस लौट आया। रविवार को आभूषण विक्रेता की दुकान के सेल्समैन की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। सोमवार को विक्टोरिया अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती 3 संदिग्धों के थ्रोट स्वाब के नमूने जांच के लिए एनआईआरटीएच भेजे गए थे। शाम को जारी की गई रिपोर्ट में आभूषण दुकान का कर्मचारी पॉजिटिव पाया गया, जिसके बाद उसे मेडिकल कॉलेज अस्पताल के क्वारंटाइन वार्ड के लिए रेफर किया गया।

तीनों संदिग्ध आभूषण विक्रेता के संपर्क में थे। इधर, विक्टोरिया व सुखसागर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 13 संदिग्धों को आइसोलेट किया गया है। तो वहीं रविवार को रिपोर्ट निगेटिव मिलने के बाद सुखसागर में आइसोलेट 17 संदिग्धों को इस हिदायत के साथ घर भेजा दिया गया कि वे आगामी दिनों तक बाहर नहीं निकलेंगे।

सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही अफवाह

कोरोना पॉजीटिव पाए गए 6 मरीज को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हो रही हैं। सोशल मीडिया में अफवाह फैलाई जा रही है कि कोरोना पॉजिटिव वाला छठवां व्यक्ति बरेला देवरी पटपरा गांव का निवासी है। उसने गांव में जाकर बहुत से लोगों से मुलाकात की। यहां तक कि कुछ घरों में जाकर बैठकें की। लेकिन मरीज के परिचितों का कहना है कि वह पिछले 10 साल से जबलपुर के तुलाराम क्षेत्र में किराये के मकान में रहता है, गांव में सिर्फ उसके माता-पिता रहते हैं। मरीज की मझौली में शादी हुई है, वह मझौली गया है कि नहीं इस बारे में जानकारी नहीं है।

परिचितों ने बताया कि मरीज होली के समय गांव आया था परंतु माता-पिता से मिलकर वह लौट गया था। बताया जा रहा है देवरी पटपरा निवासी एक युवक पर कोरोना पॉजीटिव पाए जाने के बाद आसपास के ग्रामीण इलाकों में दहशत का माहौल है। ग्रामीण क्षेत्रों में यह भी अफवाह फैलाई गई थी कि और भी लोग कोरोना पॉजीटिव है परंतु वह डर से यह बात छिपा रहे हैं।

21 दिन का लॉक डाउन के चलते घर पहुंचेगा किराना, SDM ने दुकानों की सुची तैयार की


कोराना ब‍िमारी केचलते देश में कर्फ्यु लगने कारने काेेेेई घर से ना निकले इसके लिए मुलताई में किराना दुकानों की सुची तैयार की है किराना घर पहुुंच सुविधा

मुलतापी समाचार

मुलताई में लगा कर्फ्यु के दौरान जनता घर से बाहर ना निकले जिसके लिए SDM जी ने जारी की सुची और साथ ही समाजिक संस्‍थाओं ने जनता सेे अनुरोध किया।

मुलताई । कोरोना वायरस के चलते पूरे देश मे 21 दिन का लॉक डाउन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषित किया है जिसके तारतम्य में मुलताई में आम जनता को किराना सामग्री घर पहुच सुविधा प्रदान की जा रही है जिसकी सूची एवं मो SDM श्री चनाप ने जारी की आम जनता मुलताई में इन नम्बरो से सम्पर्क कर घर पहुच किराना सामग्री प्राप्त कर सकते है यह व्यापारी प्रातः 6 बजे से 9 बजे के बीच आम जनता को उनके वाहनों से घर पहुच किराना सामग्री उपलब्ध कराएंगे

सभी नगर वाशी इन नम्बरो पर सपर्क कर के किराना सामान बुला सकते हैं। निवेदन:- अनुसया सेवा संगठन मुलताई एवं अनुरोध कर्ता :- शारदा राम मनमोहन शैक्षणिक एवं समाज सेवा समिति मुलताई

ताकि कोई भी घर से बाहार ना निकले जनहित में जारी

मुलतापी समाचार आपके साथ है कोई भी खबर हो बात हो हमें बतायें

Manmohan Pawar 9753903839

कलेक्टरों को कोरोना की रोकथाम के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने की पूरी छूट होगी- मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ मंत्रालय से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी आयुक्तों,से कोरोना वायरस की रोकथाम और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के 21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन के आह्वान के संबंध में चर्चा की।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने की प्रभावित होने वालों के लिये सहायता पैकेज की घोषणा

सभी प्रकार की सामाजिक सुरक्षा पेंशन का दो माह का एडवांस भुगतान

मजदूरों को प्रति मजदूर 1000 रुपए की सहायता

जनजातियों परिवारों के खातों में दो माह की एडवांस राशि

मध्यान्ह भोजन के लिये 65 लाख 91 हजार विद्यार्थियों के खाते में 156 करोड़ की राशि

वीडियो कान्फ्रेंसिग के माध्यम से आयुक्तों, आई.जी. कलेक्टरों, एस.पी. अन्य अधिकारियों को दिए निर्देश

भोपाल: मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ मंत्रालय से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी आयुक्तों, आई.जी., जिला कलेक्टरों, एस.पी., सीएमएचओ, नगर निगम आयुक्तों, नगर पालिका, सीएमओ से कोरोना वायरस की रोकथाम और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के 21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन के आह्वान के संबंध में चर्चा की।

मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन के कारण उत्पन्न होने वाली स्थिति और इससे प्रभावित वर्गों के लिये सहायता पैकेज की देने की बात की । उन्होने कहा कि प्रदेश के 46 लाख पेंशनर्स को 600 रु. प्रतिमाह सामाजिक सुरक्षा योजना अंतर्गत रुपए 275 करोड़ प्रतिमाह भुगतान किया जा रहा है। सभी प्रकार के सामाजिक सुरक्षा पेंशन, विधवा पेंशन, वृद्धा अवस्था पेंशन निराश्रित पेंशन इत्यादि का दो माह का एडवांस भुगतान किया जायेगा।

संनिर्माण कर्मकार मंडल के अंतर्गत मजदूरों को लगभग 8.25 लाख रूपये की सहायता प्रति मजदूर 1000 रुपए के हिसाब से उपलब्ध करायी जायेगी। इसी प्रकार 2.20 लाख राशि सहरिया, बैगा, भारिया जनजातियों के परिवारों के खातों में दो माह की एडवांस राशि दो हजार रुपए भेजी जाएगी।

कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर शासकीय हॉस्पिटल/मेडिकल कॉलेज में नि:शुल्क इलाज किया ही जायेगा साथ-साथ चिन्हित प्राइवेट मेडिकल कॉलेज/प्राइवेट हॉस्पिटल में भी‍ नि:शुल्क इलाज सभी वर्गों के लिए उपलब्ध रहेगा। प्राइवेट अस्पतालों को आयुष्मान भारत में निर्धारित दरों के हिसाब से भुगतान किया जावेगा।

ग्राम पंचायतों में पंच-परमेश्वर योजना की प्रशासनिक मद में राशि उपलब्ध है। इसे कोरोना के नियंत्रण तथा लॉकडाउन के कारण जहाँ भी लोगों को भोजन/आश्रय की व्यवस्था करना हो खर्च की अनुमति प्रदान की जा रही है।

स्कूल बंद होने से मध्यान्ह भोजन योजना का लाभ बच्चों को नहीं मिल पा रहा है। अप्रैल 2020 तक का खाद्यान्न रिलीज किया जा चुका है। इसे अब पी.डी.एस. अन्तर्गत राशन दुकानों को उपलब्ध कराया जायेगा।

इसके फलस्वरूप कुल 65 लाख 91 हजार विद्यार्थियों के खाते में मध्यान्ह भोजन की 156 करोड़ 15 लाख रूपए की राशि का वितरण किया जायेगा – प्राथमिक शालाओं के 60.81 लाख विद्यार्थियों को 155 रु. प्रति विद्यार्थी की दर से 94.25 करोड़ रुपये और माध्यमिक शाला के 26.68 लाख विद्यार्थियों को 232 रु. प्रति विद्यार्थी की दर से 61.90 करोड़ दिये जायेगे।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी संबंधित अधिकारियों को महत्वपूर्ण निर्देश दिये। उन्होने कहा कि जरूरी है कि लोग अपने घरों में रहें। भीड़-भाड़ न हो। सभी धार्मिक सामाजिक कार्यक्रम पूरी तरह बंद रहेंगे। सभी धार्मिक स्थानों को भी आम जनता के लिये बंद रखा जायेगा। जिला कलेक्टरों को निर्देश दिये ककि वे स्थानीय धर्म गुरूओं से चर्चा करें।

मुख्यमंत्री के निर्देश

• मेले आदि का आयोजन भी अगले 21 दिनों तक पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। सोशल डिस्टेंसिंग के मापदण्डों का सभी जगह गम्भीरता से पालन कराने के निर्देश दिये हैं।

• सामुदायिक निगरानी को बढ़ाया जाये जिससे बुखार सर्दी खांसी के मरीजों के बारे में जिला प्रशासन को तत्काल सूचना मिल सके।

• जिन मरीजों को सामान्य सर्दी खांसी और बुखार हो उन्हें जांच के बाद समाधान होने पर घर में ही दवा पहुंचाने के प्रयास करें। कलेक्टर इस कार्य के लिये मोहल्ले या वार्ड की स्वयंसेवी और सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों को भी आगे मदद के लिये प्रेरित करें।

• कॉल सेंटर को 24 घंटे सक्रिय रखा जाये। कॉल सेंटर से सूचना प्राप्त होने पर घर पर दवाई पहुँचाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

• शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में ऐसे लोग हो सकते है, जिन्हें लॉकडाउन के कारण भोजन की व्यवस्था करने में कठिनाई आ रही हो ऐसी स्थिति में स्वयं सेवी संस्थाओं आदि को प्रेरित कर भोजन के पैकेट बनवाये जाये एवं वितरण की व्यवस्था की जाये ताकि प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे।
• सभी आवश्यक सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करें।

दवाई की दुकान, किराने की दुकान एवं फल सब्जियों की दुकानों के सामने नगर निगम एवं नगर पालिका एवं ग्राम पंचायत के माध्यम से पेंट तथा चूने से निशान लगाये जाए, जिससे खरीदी करने वाले व्यक्ति आपस में सोशल डिस्टेंसिंग रख सके।

• ऐसी दुकान एवं संस्थाओं के खुले रहने का समय अधिक से अधिक हो ताकि किसी एक समय पर भीड़ लगने की संभावना कम हो।

• सुनिश्चित करें कि प्रदेश में माल परिवहन बिना बाधित हुए चलता रहें ताकि वस्तुओं की आपूर्ति में किसी प्रकार की कमी नहीं आवे। पैकेजिंग मटेरियल के परिवहन में भी बाधा नहीं आए। माल परिवहन से संबंधित वाहनों को चेक पांईट पर भी नहीं रोका जाये।

• सभी कलेक्टर यह सुनिश्चित करें कि अत्यावश्यक वस्तु एवं दैनिक उपयोगी एवं मार्केट में दवाई की सामान्य कीमत पर मिल सके। अधिक कीमतें वसूल करने की शिकायत प्राप्त होने पर कड़ी कार्यवाही की जावे।

• डॉक्टर, नर्स तथा आवश्यक कार्य करने वाले अमले को पर्याप्त सुरक्षा एवं आवश्यक सुविधा मिल सके, यह सुनिश्चित करें।

• समस्त संभागीय आयुक्तों का यह दायित्व है कि वे अपने सभी जिलों में समन्वय रखें। यदि आपूर्ति तथा लॉजिस्टिक्स की कोई समस्या है तो तत्काल अवगत करायें।

• उपभोक्ताओं के लिए आवश्यक सामग्री जैसे सब्जियाँ, किराना, दूध, फल आदि सामग्री निर्बाध रूप से उपलब्ध करायी जाये।

• सब्जी मंडियों में अनावश्यक भीड़-भाड़ ना हो। वहाँ से केवल रिटेल व्यापारी ही सब्जियाँ खरीदें उपभोक्ता नहीं। अगर संभव हो तो उन्हें फैला दें।

वरिष्ठ अधिकारियों को जिम्मेदारी
कोरोना नियंत्रण हेतु राज्य पर अपर मुख्य सचिव एवं प्रमुख सचिव स्तर के अधिकारियों के चार वर्टिकल बनाए गए है : –

  1. दवाओं, उपकरणों एवं चिकित्सा सामग्री की सप्लाई – श्री फैज अहमद किदवई, प्रमुख सचिव
  2. इलाज एवं अस्पताल प्रबंधन – श्री संजय शुक्ला, प्रमुख सचिव
  3. कॉल सेंटर एवं एम्बुलेंस सेवायें – श्री बी. चन्द्रशेखर एवं श्री नन्दकुमारम
  4. अत्यावश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं की पूर्ति तथा समन्वय – श्री आई.सी.पी. केशरी, अपर मुख्य सचिव
    स्वास्थ्य विभाग की ओर से संपूर्ण समन्वय डॉ. पल्लवी जैन गोविल द्वारा किया जा रहा है। इन सभी वर्टिकल से संबंधित कोई भी समस्या आने पर कलेक्टर संबंधित अधिकारी से चर्चा कर समाधान कर सकते है।

होम डिलेवरी, टेक होम एवं कोरियर सुविधाएँ चालू रहेगी, जिससे कम से कम लोग अपने घरों से बाहर आये और उन्हें घर पहुँच सेवा उपलब्ध हो सके।

किसानों को सुविधाएं
फसल कटाई में लगे मजदूरों एवं हार्वेस्टर्स को आवश्यक सुविधा प्रदान की जाये ताकि फसल कटाई प्रभावित ना हों। हार्वेस्टर्स कभी भी न रोके जाये।
किसानों को मंडी में एस.एम.एस. से बुलाने एवं उपार्जन केंद्रों की स्थापना तथा मंडियों की व्यवस्था ऐसी हो जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग मापदंडों का कड़ाई से पालन हो। इस संबंध में आपसे पृथक से चर्चा की जावेगी।

वे जिले, जहां रेल्वे के रेक पाईट है, वहाँ कार्य कर रहे हम्मालों एवं मजदूरों की भी मेडिकल स्क्रीनिंग करा ली जाये। यह सुनिश्चित करें कि रैक समय पर खाली हो ताकि प्रदेश में खाद, बीज, यूरिया आदि की कमी ना हो।

प्रदेश के प्राइवेट अस्पतालों एवं नर्सिंग होम्स को भी कोरोना के विरूद्ध लड़ाई के अभियान में जोड़ा जाये।
विदेश से आने वाले एवं अन्य राज्यों से यात्रा कर आये नागरिकों/यात्रियों की शत प्रतिशत पहचान एवं स्क्रीनिंग की जाये।
मेडिकल मोबाइल यूनिट, रैपिड रिस्पाँस टीम को पूरी तरह तैयार एवं सक्रिया रखा जाये।

पेयजल एवं बिजली की आपूर्ति अबाधित रखी जावे।
आइसोलेशन वार्ड एवं आइसोलेशन सेंटर की पर्याप्त व्यवस्था की जावे।

जिला कलेक्टरों को कोरोना की रोकथाम के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने की पूरी छूट होगी। वे स्थानीय आवश्यकताओं के अनुसार तत्काल उचित निर्णय लें। राज्य सरकार उन्हें हर प्रकार की सहायता उपलब्ध करायेगी।

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल

उत्तर प्रदेश सरकार ने पान मसाला के उत्पादन, वितरण और बिक्री पर लगाई रोक


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में पान मसाला पर पूरी तरह से रोक लगा दी है! उन्होंने अगले आदेश तक इसके उत्पादन ,वितरण और बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है! इस बीच अयोध्या जिला मजिस्ट्रेट ने किराना दुकानदारों को रोजमर्रा की जरूरत के 11 सामान की पैकेजिंग कर होम डिलीवरी करने को कहा है! इन 11 सामानों की कीमत 475 रुपए तय की गई है! यह आदेश 2 अप्रैल तक लागू रहेगा!

मुलतापी समाचार

21 दिन में जीतेंगे कोरोना से जंग, संसदीय क्षेत्र वाराणसी के लोगों से पीएम का संवाद


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

अभी तक कोरोना के खिलाफ कोई भी दवाई, कोई भी वैक्सीन पूरी दुनिया में नहीं बनी है! अस्पतालों में सफेद कपड़ों में दिख रहे डॉ ईश्वर है ! डॉक्टर, नर्स या मेडिकल स्टाफ के साथ कोई बुरा बर्ताव हो तो आप उन लोगों को समझाएं! कोरोना हमारी संस्कृति और संस्कार को नहीं मिटा सकता है, इसे करुणा से जवाब देंगे! अगले 21दिनों तक रोज 9 गरीब परिवारों की मदद करें ! आसपास जो पशु है, उनकी भी चिंता करें, भोजन कराएं! काबुल में गुरुद्वारे में हुए आतंकी हमले से मन काफी दुखी है! महाभारत का युद्ध 18 दिनों में जीता गया था, कोरोना के खिलाफ युद्ध 21 दिन में जीतेंगे! महाभारत के युद्ध में भगवान श्री कृष्ण महारथी थे, सारथी थे, आज 130 करोड़ महारथी हैं! कोरोना से जुड़ी सही और सटीक जानकारी के लिए 9013151515 पर आप व्हाट्सएप करें! इस नंबर पर “नमस्ते “लिखें, आपको तुरंत जवाब मिलेगा!

मुलतापी समाचार

राज्य में पहली मौत, उज्जैन में 65 वर्षीय महिला ने दम तोड़ा


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

भोपाल: कोरोना वायरस का संक्रमण मध्य प्रदेश के 6 जिलों में पहुंच चुका है! बुधवार को इंदौर में चार, उज्जैन और भोपाल में 1-1 संक्रमित मरीज मिले हैं! उज्जैन मैं महिला की इलाज के दौरान मौत हो गई! यह कोरोना से प्रदेश में पहली और देश में 12वीं मौत है!

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आला अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जहां से विदेशी मेहमान लौटे हैं, ऐसी सभी राष्ट्रीय उद्यानों, पर्यटन क्षेत्रों की सघन जांच की जाए! दूसरी ओर प्रशासन ने भोपाल के हमीदिया अस्पताल को खाली कराने के आदेश दिए हैं! इसमें 600 बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व हैं! इसके अलावा इंदौर ग्वालियर जबलपुर सागर और रीवा मेडिकल कॉलेज से जुड़े अस्पतालों को महामारी के इलाज का सेंटर बनाया जाएगा!

मुलतापी समाचार

MP Bhopal पत्रकार की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद बड़ी पत्रकारों की टेंशन


मुलतापी समाचार

Hirdesh dharwar

भोपाल में प्रेस वार्ता के दौरान पत्रकार बंधु बैठे हुए

भोपाल। कोरोना वायरस का कहर धीरे धीरे बढ़ता ही जा रहा है । भोपाल में कोरोना वायरस का पहला केस सामने आने के बाद दूसरा केस भी सामने आ गया है। जिसमें भोपाल के वरिष्ठ पत्रकार का नाम भी सामने आया है । बता दें कि वरिष्ठ पत्रकार 20 मार्च को तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में गए थे । जहां उन्होंने मुख्यमंत्री सहित प्रशासन के अधिकारियों से मुलाकात की। उस पत्रकार वार्ता में राजधानी के करीब 500 पत्रकार भी मौजूद थे। किसी पत्रकार वार्ता में कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था और 22 तारीख को पत्रकार की बेटी कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी। उसके बाद जिला प्रशासन ने युवती को भोपाल के एम्स हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया, जहां उनका उपचार जारी है। 24 तारीख की सुबह 8:00 बजे जब पत्रकार का सैंपल लिया गया जिसकी आज रिपोर्ट आई तो वह भी पॉजिटिव मिले। पत्रकार की पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद राजधानी के पत्रकारों में मानसिक तनाव बढ़ गया है । जिला प्रशासन ने राजधानी के पत्रकारों को होम आइसोलेट रहने की हिदायत दी है साथ ही कहा गया है यदि उन्हें 5 से 14 दिन के भीतर उन्हें सर्दी खांसी बुखार बदन दर्द सांस लेने में तकलीफ आदि कोई भी प्रॉब्लम हो तो वह हेल्पलाइन नंबर 104 और 108 पर संपर्क करें इसके बाद ही उनकी जांच की जा सकेगी साथ ही पत्रकारों को यह भी समझाइश दी गई है कि वे सामान्य लक्षण दिखाई देने पर किसी प्रकार की दवा का सेवन ना करें । इससे उनको खतरा और बढ़ सकता है। जिला चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर सुधीर डेहरिया का कहना है कि हम यह मानकर चलते हैं कि जो भी व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आया होगा उसे क्वॉरेंटाइन माना जाएगा और उन्हें सलाह दी जाती है कि वह घर के अंदर रहे और सेल्फ आइसोलेशन को अपनाएं और किसी भी प्रकार की दिक्कत होने पर हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करें।

गौरतलब है कि पत्रकार वार्ता के बाद करोना पॉजिटिव पाए पत्रकार विधानसभा पहुंचे थे यहां भी उन्होंने कई पत्रकारों से और प्रशासनिक अधिकारियों से संपर्क किया इतना ही नहीं पत्रकार ने कुछ टीवी चैनल्स के डिबेट कार्यक्रम में भी हिस्सा लिया इसके बाद से पत्रकारों में भी इस बात की चिंता बढ़ गई है कि कहीं वे भी कोरोना पॉजिटिव ना हो जाए। पत्रकार से मुलाकात के बाद कमलनाथ ने शिवराज सिंह चौहान से भी मुलाकात की और शिवराज के मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण समारोह में भी निवेश शामिल हुए थे जहां बीजेपी के शीर्ष नेता व विधायक मौजूद रहे यदि इस चैन सिस्टम में कोरोना वायरस फैला तो भोपाल के लिए भी स्थिति ठीक नहीं होगी।

बैतूल जिले में हुई जमकर बारिश, किसानों की खड़ी फसल बर्बाद


मुलतापी समाचार

बैतूल जिले में भी घनघोर बारिश  जिससे किसानों की खड़ी फसल का हुआ भारी नुकसान

शाहपुर। कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में ki चुकी फसल काटने को लेकर प्रशासन ने कोई साफ़ निर्देश नही दिए थे। इसी बीच आज दोपहर में शाहपुर ब्लॉक मे तेज आंधी तूफान के बीच जोरदार बारिश हुई। जिससे खेतों में खड़ी फसल गिर गई और खेत मे पानी भर जाने से खराब भी हो गई। कई किसान अपनी फ़सल काट रहे थे जो कि खेत मे ही रखी हुई थी जो पूरी तरह से खराब हो गई है। जिससे किसानों की खड़ी फसल को काफी नुकसान हुआ भौरा, कुंडी ,बाकाखोदरी, कामठी, भयावाड़ी ,देशावाडी सिलपटी सहित अन्य ग्रामों में बारिश हुई।