COVID19 के संदिग्ध प्रकरणों के लिये होम क्वारेंटाईन की मार्गदर्शिका एवं दिशा निर्देश जारी


राज्य शासन ने होम क्वारेंटाईन में रह रहे व्यक्ति के लिये मार्ग दर्शिका एवं दिशा निर्देश जारी किये हैं। कहा गया है कि इन व्यक्तियों को :-

  1. साफ हवादार कमरे में रखें जिसमें अटेच्ड शौचालय उपलब्ध हो। व्यक्ति को किसी भी अन्य कमरे में ना जाने दिया जाये।
  2. अगर परिस्थतिवश किसी अन्य स्वस्थ व्यक्ति के साथ उसी कमरे में रहना पड़े, तो कम से कम 1 मीटर की दूरी रखें।
  3. पृथक कमरा नहीं होने एवं अधिक सदस्य होने की स्थिति में चिन्हांकित अस्पतालों में बनाये गये क्वारेंटाईन वार्ड में रखा जाये।
  4. वृद्धजन, गर्भवती महिलाएँ, छोटे बच्चों एवं ऐसे बीमार व्यक्ति, जिन्हें उच्च रक्तचाप, डायबिटीज, अस्थमा एवं कैंसर आदि बीमारियाँ हो, से दूर रखा जाये।
  5. घर से बाहर ना निकलने दिया जाये। किसी भी स्थिति में सामाजिक अथवा धार्मिक आयोजन जैसे शादी अथवा प्रार्थना सभा में सम्मलित ना होने दिया जाये।

होम क्वारेंटाईन में रह रहे व्यक्ति द्वारा निम्नलिखित सावधानियाँ बरती जायें:-

  1. बार-बार साबुन एवं पानी से हाथ धोये जायें अथवा एल्कोहल युक्त सेनेटाईजर से हाथ साफ किये जायें।
  2. घरेलू समान जैसे खाने के बर्तन, उपयोग किये कपड़े एवं चादरें परिवार के अन्य सदस्यों के साथ साझा ना किया जाये तथा स्वयं धोये जायें।
  3. हमेशा सर्जिकल मास्क लगाया जाये तथा हर 6 से 8 घण्टे बाद मास्क बदल कर बन्द ढक्कन वाले कूडेदान में निष्पादन किया जाये। डिस्पोजेबल मास्क का पुन: उपयोग ना करें।
  4. कपडे़ के मास्क को उपयोग करने के बाद स्वयं अच्छी तरह से साबुन से धोकर धूप में सुखाकर एवं प्रेस करने के बाद ही पुन: उपयोग में लायें।
  5. स्वयं के शरीर का तापमान नियमित अन्तराल पर जांचा जाये।
  6. अगर खांसी, बुखार तथा सांस लेने में तकलीफ हो, तो तुरन्त अपने जिले में कोविद-19 कंट्रोल रूम के टेलीफोन नम्बर 104, 181 पर सम्पर्क करें।
  7. होम क्वारेंटाईन के दौरान खुद को रचनात्मक गतिविधियों जैसे व्यायाम तथा योग आदि में व्यस्त रखें। नियमित रूप से पौष्टिक आहार एवं पानी का सेवन किया जाये।

होम क्वारेंटाईन में रह रहे व्यक्ति के परिवारजनों द्वारा निम्नलिखित सावधानियाँ बरती जायें:-

  1. होम क्वारेटाईन में रह रहे व्यक्ति की देखभाल परिवार के किसी एक निश्चित व्यक्ति द्वारा ही की जाये।
  2. होम क्वारेंटाईन में रह रहे व्यक्ति द्वारा उपयोग किये कपडे़ ना झटके जायें तथा शारीरिक सम्पर्क में ना आया जाये।
  3. संक्रमित सतह तथा कपड़ों को छूते समय डिस्पोजेबल दस्तानों का उपयोग किया जाये।
  4. मेहमानों अथवा बाहरी व्यक्तियों को आने-जाने ना दिया जाये।
  5. होम क्वारेंटाईन में रह रहे व्यक्ति में कोविद-19 के लक्षण पाये जाने पर उसके सम्पर्क में आये सभी व्यक्तियों को 14 दिन के लिये होम क्वारेंटाईन किया जाये तथा पुन: अतिरिक्त 14 दिन के लिये होम क्वारेंटाईन किया जाये अथवा जब तक कि ऐसे व्यक्तियों की लैब रिपोर्ट नेगेटिव ना जा जाये।
  6. वातावरण की स्वाच्छता सुनिश्चित करने हेतु होम क्वारेटाईन में रह रहे व्यक्ति द्वारा छूई गई सतहों को 1 प्रतिशत सोडियम हाईपोक्लोराईट या साबुन के घोल से बार-बार साफ किया जाये।

CoronavirusOutbreak

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल

मुलताई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए हिदायत बरती गई


मुलताई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों को एक 1 मीटर की दूरी पर खड़ा कर श्रंखला में ओपीडी की पर्ची बनाएगी
मुलताई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कोरोना वायरस कोविद 19 के लक्षणों की जांच के लिए एक अलग से विभाग गठित किया गया जिसमें आज समुदाय स्वास्थ्य केंद्र में आए मरीजों को जागरूक करते हुए थर्मल स्क्रीनिंग जांच की गई

Multapi Samachr

मुलताई। आज मुलताई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अस्पताल में हिदायत भर्ती गई जिसमें अस्पताल आए मरीजों को एक 1 मीटर की दूरी पर खड़ा रखवाया गया जिससे कोई मरीज एक दूसरे के संपर्क में न आ सके और ओपीडी की पर्ची बनाई गई जिसके बाद एक-एक कर कोर्ण आपको भी की थर्मल मशीन द्वारा प्रत्येक मरीज की जांच की गई नगर ग्राम में आए शहरों से मजदूरी दिहाड़ी पर काम करने वाले कंपनी में काम करने वाले मजदूरों की जांच की गई वहीं अस्पताल प्रबंधन द्वारा हिदायत दी गई कि कोरोना को भी नहीं का लक्षण बहुत ही घातक है हमें बार बार हाथ धोना चाहिए सर्दी खासी जुखाम हो तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए कोरोना के संक्रमण से ग्रसित होने से बचना है अपने घरों में ही रहना है और धोनी दूरी बनाए कर रहना है साथ ही जांच करने आए मरीजों को अपना टेंपरेचर लिखा हुआ पर्चा दिया गया और कोरोना वायरस लक्षण एवं बचाव से संबंधित पंपलेट पर्चा भी बांटा गया जिसमें कोरो वायरस के लक्षण बुखार आना सिर दर्द नाक बहना जुकाम सांस लेने में तकलीफ फांसी जले खराश सीने में जकड़न आदि लक्षण बताए गए हैं और उससे बचाव करने के लिए कोर्णाक से बचाव के लिए क्या करें कैसे करें बचाव के बारे में बताया गया संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आने से बच्चे नियमित रूप से दिन में कई बार हाथों को साबुन एवं साफ पानी से धोएं बिना हाथ धोए अपना आंख मुंह एवं नाक को न छुएं संक्रमित सामग्रियों के संपर्क में आने से बचे बाद आंख या नाक छूने से बचें, जिससे संक्रमण की चैन से बच सकें बताया गया

थर्मल स्क्रीन कर कोरोना वायरस की जांच करते हुए मुलताई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कोरोना वायरस के लिए अलग से विभाग सेंटर गठित किया गया

कोरोना वायरस कैसे फैलता है संक्रांति व्यक्ति के खुली जगह में चिकने वह खास ने से संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिलाने गले आदि लगने से संक्रमित जगह के संपर्क में आने से बाद में बिना हाथ धोए अपनी आंखों एवं नाक को छूने से कोरोना वायरस तीव्र गति से फैलता है जिसका हवा में मौजूद रहना भी बताया गया है अधिक जानकारी के लिए टोल फ्री नंबर 104 पर संपर्क करके जानकारी हासिल कर सकते हैं यह जानकारी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुलताई द्वारा प्रदत की गई

वही मुलताई अस्पताल में करुणा को वेद वायरस के लक्षण से बचने के लिए सैनिटाइज का छिड़काव किया गया अस्पताल को सैनिटाइज किया गया जिससे अस्पताल में भर्ती मरीजों को वायरस लक्षणों से बचाया जा सके ओपीडी में आए मरीजों को संक्रमण से बचाया जा सके

बेसहारा लोगों को कराया भोजन देश में लॉकडाउन के समय


मुलताई के पुलिस विभाग के अधिकारियों द्वारा और मुलतापी समाचार द्वारा बे सहारा लोगों को भोजन कराते हुए

मुलतापी समाचार

मुलताई के पुलिस विभाग के अधिकारियों द्वारा और मुलतापी समाचार द्वारा बे सहारा लोगों को भोजन कराते हुए,। शारदा राम मनमोहन शैक्षणिक एवं समाज सेवा समिति द्वारा सेवा प्रदान की गई।

पूरा देश कोरोना वायरस जैसी बीमारी से जूझ रहा है इसके बावजूद भी मुलताई के पुलिस विभाग के अधिकारियों द्वारा और मुलतापी समाचार के संपादक द्वारा बे सहारा लोगों को भोजन कराने का कराया किया और अपनी इन्सानियत का फर्ज अदा किया।

वहीं पाथाखेड़ा सारणी बगडोना शोभापुर में कोरोना कर्फ्यू के चलते बेचारे गरीब लोग भूखे रह रहे हैं ऐसे में मैंने अपने घर से खाना बनवा कर उन गरीब तक पहुंचाने का काम किया और हमेशा करते रहूंगा मैं !! मुझे आज एक गरीब का फोन आया बोलते हैं भैया हमने सुबह से कुछ खाया नहीं है तो मैं तुरंत अपने घर से खाना बनवा कर पैकेट बनाकर देकर आया वह बहुत खुश हुए और कहे भैया आप हमेशा मदद करते हो मैंने कहा मेरे से जितना बनेगा मैं करूंगा!!
मैंने उनसे कहा अपने हाथ धोते रहना गंदगी से दूर रहना और घर से बाहर न निकलना उन्होंने कहा ठीक है भैया हम 21 दिन तक प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने जैसा कहा है वैसा करेंगे और पुलिस प्रशासन सफाई कर्मी का साथ भी देंगे!!

!! इस पोस्ट से मैं जनता को और नेताओं को कहना चाहता हूं कि इस समय में गरीबों की मदद करिए यह नेतागिरी का टाइम अभी नहीं है जो व्यक्ति रोज ठेला मेहनत मजदूरी कर अपना पेट भरता था आज वह अपना पेट नहीं भर पा रहा है तो आप अपने तरफ से जो भी सहयोग हो आप हर तरह का सहयोग उस गरीब तक करिए जिस गरीब के पास एक वक्त का दाना नहीं हो !!

गाँव मे नही ले रहे है कोरोनो को गंभीरता से


रात में बहार से गाँवो में आ रहे है लोग
अंकित यादव
बगडोना
ब्लॉक में जहाँ हर जगह प्रशासन द्वारा कोरोनो वायरस को रोकने के प्रयास किये जा रहे है लोंगो को समझाया जा रहा है मगर लोग इस बीमारी की गंभीरता को नहीं समझ रहे है क्षेत्र के गाँवो में हालात एक दम उलट है घोड़ाडोंगरी ब्लॉक के कई गाँवो में राज्यों के बाहर से लोग आ रहे है प्रतिदिन लोगों का आना चालू है अधिकतम लोग पुर्नवास क्षेत्र चोपना के गाँवो में आ रहे है यहाँ के अधिकतम लोग बड़े महानगरो में कार्यरत है । सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार ब्लॉक छतरपुर , केरिया , शोभपुर गाँवो , में कई युवा जो बाहर काम कर रहे थे वो सभी लौटे रहे है दिन में कर्फ्यू और सख्ती के कारण रात में लोग गाँवो में आ रहे है गाँवो में आने के बाद भी ये लोग एहतियात नहीं भरत रहे है । इनका लोंगो से मिलना कई न कई नुकसानदायक हो सकता है अगर इसी तरह से लोगों को आना जाना गाँवो में लगा रहा तो स्थिति भयावह हो सकती है

कोरोना से इंदौर में 35 साल के युवक ने इलाज के दौरान दम तोड़ा


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

इंदौर: मध्यप्रदेश में गुरुवार को कोरोना संक्रमित दूसरे मरीज की मौत हो गई! बुधवार को उज्जैन की 65 वर्षीय महिला की मौत के बाद इंदौर के एक 35 वर्षीय युवक ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया! यह इंदौर में कोरोना से पहली मौत है! मंगलवार रात जिन 5 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी उनमें से रानीपुरा निवासी इस युवक की रिपोर्ट भी शामिल थी! मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ प्रवीण जड़िया ने युवक की मौत की पुष्टि की है! युवक को सर्दी ,खांसी और सांस लेने में दिक्कत हो रही थी, जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था! अभी तक इंदौर ,जबलपुर ,ग्वालियर, भोपाल और शिवपुरी में कोरोना संक्रमित सामने आए हैं जिनमें से दो की मौत हो चुकी है!

मुलतापी समाचार

उज्जैन #covid_19 से महिला की मौत, परिवार के 5 लोग कोरोना पॉजिटिव


मध्यप्रदेश प्रदेश में  कुल 20

इंदौर : शहर में मंगलवार रात कोरोनावायरस का एक भी पॉजिटिव मरीज नहीं था, वहां सिर्फ 24 घंटे के भीतर बुधवार को 10 मरीज सामने आने से हड़कंप मच गया। इनमें से उज्जैन निवासी एक महिला की उपचार के दौरान एमवाय अस्पताल में मौत हो गई। ये न सिर्फ इंदौर, बल्कि मप्र में भी कोरोना से पहली मौत है।कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस से फैली महामारी कोविड-19 से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 20 हो गई है। 

दिन में महिला समेत 5 मरीज उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती हुए थे, जो देर रात बढ़कर 10 हो गए। चौंकाने वाली बात ये है कि नए 5 नए मरीज उसी महिला के परिवार के हैं और रिश्तेदार हैं, जिनकी मौत हो गई है। बुधवार शाम को ही कोरोना संदिग्ध 47 वर्षीय एक शख्स ने भी दम तोड़ दिया। उन्हें शाम को ही इलाज के लिए उज्जैन से इंदौर लाया गया था। हालांकि अब तक उनका सैंपल जांच के लिए नहीं भेजा गया था।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि कोरोनावायरस संक्रमण की चपेट में आए मरीजों में शामिल 65 वर्षीय महिला उज्जैन की निवासी थी। दोपहर करीब 3 बजे उन्हाेंने दम तोड़ा। कोरोनावायरस पॉजिटिव पाए गए 4 अन्य मरीज इंदौर के ही अलग-अलग इलाकों में रहते हैं। इनमें 50 वर्षीय महिला, 48 वर्षीय पुरुष, 68 वर्षीय पुरुष और 65 वर्षीय पुरुष शामिल हैं।

ये मरीज शहर के 2 निजी अस्पतालों में भर्ती हैं। खास बात यह है कि इन पांचों मरीजों में से किसी की भी विदेश यात्रा की हिस्ट्री नहीं है। यहां तक कि 2 मरीज ऐसे थे ज्यादा बाहर निकलते भी नहीं थे और ना ही बीते 14 दिनों में किसी आयोजन में शामिल हुए। मरीजों में 2 पुरुष मित्र हैं। वे वैष्णोदेवी की तीर्थ यात्रा पर गए थे। हाल ही में लौटे हैं। उधर, उज्जैन की मृत महिला के बारे में पता चला है कि वे कुछ दिनों पहले बेगमबाग में सीएए के विरोध में चल रहे धरने में शामिल हुईं थीं। उनके बेटे ने इस बात की पुष्टि की है।

उज्जैन की महिला के जनाजे में शामिल होने वाले रिश्तेदारों की तबीयत बिगड़ी

उज्जैन की जिस महिला की मौत इस बीमारी से हुई थी, उसके जनाजे में दो सगे भाई भी शरीक हुए थे। बुधवार सुबह इन दोनों की हालत खराब हुई तो कोई इन्हें मल्हारगंज स्थित लाल अस्पताल छोड़ गया। यहां से इन्हें गोकुलदास अस्पताल के सामने बने आईसोलेशन सेंटर एमआरटीबी भेजा तो दोनों वहां से भाग निकले और फिर लाल अस्पताल पहुंच गए। यहां बहुत देर तक कोने में बैठे रहे।

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल