5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट लाइट बंद की खबर का विशलेेेेेेषण


भारत देश 5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट लाइट बंद की खबर का विशलेेेेेेषण ि‍चित्र के माध्‍यम सेे समझाने का प्रयास

पूरे देश में 9 मिनट मोदी की अपील परजनता द्वारा लाइट बंद करने पर विश्लेषण

भारत देश के मध्‍यप्रदेश और महाराष्‍ट्र 5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट लाइट बंद की खबर का विशलेेेेेेषण ि‍चित्र के माध्‍यम सेे समझाने का प्रयास

5 अप्रैल को शाम 9बजे , 9मिनट के लिए सभी घर के लाइट बंद करे साथ ही अन्य उपकरण चालू रखें , तकनीकी कारण पढ़े

मुलतापी समाचार

मध्‍यप्रदेश। महाराष्‍ट्र । मोदी जी के आपिल पर 5 अप्रैल को शाम 9 बजे, 9 मिनट के संदर्भ में प्रकाशित खबर का विश्लेषण किया गया है जिसका आज आप लोगो को उस जानकारी से रूबरू करााते है। ये फोटो है जिसमे माँग ग्राफ में दिखाया गया है कि 08:55 शाम को (डिमांंड) 114,455 MW है तथा 9:10 शाम को 85829 MW (डिमांंड) (लगभग 26800 MW (डिमांंड) का कम होने का अनुमान था ) और 28626 MW की (डिमांंड) कम हुई थी जिसके कारण परिस्थिति विकट होने की सम्भावना की गई थी परन्तु अनेक तरह के प्रयास से विधुत अभियन्ताओं की लगन और मेहनत और आम जन की जागरूकता से यह कठिन समय का सामना किया गया।

इसी तरह मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र की माँग ग्राफ है जिसमे दिखाया गया है कि तरह से माँग की कमी आयी थी।

बैतूल में कोरोना की दस्तक


भैंसदेही में इलाका सील

बैतूल : स्वास्थय विभाग बैतूल द्वारा भोपाल भेजी गई 34 रिपोर्ट में से एक मरीज की रिपोर्ट पाजिटिव आने से हड़कम्प मच गया। स्वास्थय विभाग बैतूल अधिकारीयो द्वारा बताया गया

थाना भैंसदेही निवासी आरिफ पिता हमीद अंसारी निवासी वार्ड क्रमांक 15 जाम मोहल्ला भैंसदेही की मेडिकल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है जो नागपुर से अपने मामा के घर से आया था।

भैंसदेही के जाम मोहल्ला निवासी आरिफ अंसारी की रिपोर्ट पॉजिटिव आइ है जो नागपुर से अपने मामा के घर से आया था।आने के बाद भैंसदेही प्रशासन अलर्ट पर,भैंसदेही कें आसपास बैरिकेट्स लगाकर के रास्तों को सील किया गया, प्रशासन के आला अधिकारी आरिफ के निवास पहुंचे थोड़ी देर में कलेक्टर और एसपी भी भैसदेही पहुंचने वाले हैं।

  • कुल  संदिग्ध भर्ती मरीज- 08
  • अब तक सैम्पल लिए मरीजो की संख्या – 34
  • रिपोर्ट- 06
  • रिपोर्ट परिणाम – 05 निगेटिव,28 अप्राप्त
  • रिपोर्ट परिणाम पाजिटिव – 01
  • जिले मे विदेश से यात्रा करके आए यात्रियों की संख्या – 245
  • विभाग द्वारा स्वास्थय परीक्षण किए गये नागरिकों की संख्या -200
  • इन्ही  मे से होम आइसोलेशन में रखें गये नागरिकों की संख्या -97
  • होम आइसोलेशन के 14 दिन पूर्ण किए नागरिकों की संख्या -103
  • ट्रेसिंग किये जा रहे यात्रियों की संख्या -05

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल

कोरोना से बचना है तो, फेफड़ों को रखें साफ


मुलतापी समाचार. मनोज कुमार अग्रवाल

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के खतरे ने सभी को परेशान कर रखा है! विश्व के 145 से ज्यादा देशों में कहर बरपा रहा है! ऐसे में दुनिया भर के डॉक्टर कोरोना का इलाज खोजने में लगे हैं!

एक रिपोर्ट की माने तो हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम मजबूत करने के लिए विटामिन सी का सेवन किया जाता है! जो हम रोज ही अपने भोजन में शामिल करते हैं! यह विटामिन शरीर को बीमारियों से लड़ने में सहायक बनाता है! इसी विटामिन को डॉक्टरों ने अब कोरोना मरीजों पर इस्तेमाल किया है, जिसके परिणाम भी बेहतर मिल रहे है!

एक रिपोर्ट के मुताबिक काली चाय को इम्यूनिटी बूस्ट करने का सबसे अच्छा तरीका बताया है! उनका मानना है कि गलत खानपान और आदतों के कारण हम अपनी इम्यूनिटी खराब कर लेते हैं, जिससे जब वायरस और बैक्टीरिया हम पर अटैक करते हैं तो शरीर अपनी रक्षा नहीं कर पाता है!

इतना ही नहीं कोरोना के दौरान और अगर कोरोना से बचना है तो हमें अपने फेफड़े साफ रखना होंगे! अगर आपको जुकाम या कफ है तो फेफड़ों का ख्याल रखना ज्यादा जरूरी है! अगर हम अपने फेफड़ों को ठीक रख सकें और अपनी इम्यून पावर को बढ़ा सकें तो हम कोरोना से लड़ सकते हैं!

अपनाएं ये आसान टिप्स-

फेफड़ों को साफ रखने के लिए मेथी दाने का प्रयोग करें! इसके लिए मेथी दानों को रात भर पानी में डाल दे और सुबह इसे उबाल लें! 5 मिनट के बाद इसे छानकर पीएं, ऐसा आपको रोज एक या दो बार करना होगा! इसके अलावा योग करें! योग में खासकर प्राणायाम करें! यह आपके अंदर ऑक्सीजन का संचार बढ़ाएगा! इससे आपके फेफड़े भी स्वस्थ रहेंगे! इसके अलावा रोज नमक के पानी के गरारे करें! आप पानी में कोई भी नमक जैसे सेंधा या काला नमक भी प्रयोग कर सकते हैं! इसके बाद आप भाप ले सकते हैं ! इसके लिए आपको गर्म पानी में विक्स डालकर तौलिए से सर ढक कर भाप लेनी होगी! यह आपको कफ,बंद नाक और खांसी से राहत दिलाएगा!

मुलतापी समाचार

मुलताई के मिला नवजात शिशु का शव, वीडियों देखे


मुलतापी समाचार

मुलताई। आज ताप्‍ती वार्ड के छोटे तालाब के पास भार्गव जी के निर्माणधीन अस्‍पताल के पास एक नवजात शिशु का शव बरामद हुआ, जो की पूर्ण विकसित था। स्‍थानीय लोगाेें से चर्चा करने पर पता चला कि यह शिशु का शव बसस्‍टेंड कि ओर से कुत्‍तों द्वारा घसीट कर लाया गया था।तथा स्‍थानीय लोगो द्वारा ही पुलिस को सुचना दी गई । जिस बाद पुलिस मौकाये वार्दद पर पहुंचे और पंचनामा बनाया गया ।

नेगेटिव खबर है पर विचारणीय योग्य हैं…

हरसिद्धि माता का बेहद सुंदर चलचित्र वीडियों देखे


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

उज्जैन: श्री राजराजेश्वरी हरसिद्धि माता उज्जैन का कल रात 9:00 बजे का अति विहंगम एवं बेहद सुंदर चलचित्र! जय माता दी

मुलतापी समाचार

MP : तवा नदी में नहाने गए 3 बच्चे डूबे, दो की मौत


तवा नदी डुबे बच्‍चे के परिवारगंण नदी किनारे पुलिस दल के साथ ढूढते हुए नदी से बच्‍चों को निकालने पहुंची टीम

मुलतापी समाचार

तवा डैम में नहाने गए 3 बच्चे डूबे, दो की मौत

सोहागपुर (होशंगाबाद)। तवा डैम के वैक वॉटर में नहाने गए दो बच्चों की डूबने से मौत हो गई। एक बालिका को गंभीर हालत में जिला अस्पताल रेफर किया गया है। एक ही परिवार के तीनों बच्चे रविवार दोपहर नहाने गए थे। नहाते समय दो बच्चों की पानी में डूबने से मौत हो गई। एक बच्ची की हालत गंभीर है।

टीआई अजय तिवारी ने बताया कि सोहागपुर तहसील के ग्राम खरपाबड़ निवासी राम सिंह काजले के तीन बच्चे सलोनी (9), दीपिका (6) और श्रीकांत (5) वर्ष अपने घर के पास तवा डैम के बैक वाटर में नहाने गए थे। डूबने से दीपिका और श्रीकांत की मौके पर ही मौत हो गई। सलोनी की हालत गंभीर है। सोहागपुर में उसे प्राथमिक उपचार के बाद डॉ. रेखा सिंह गौर ने जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया है। बताया जा रहा है कि यह परिवार तवा डैम के करीब ही टपरिया में रहता है।

जिसे पुलिस ने सोहागपुर अस्पताल पहुंचाया। डाक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया है।

उसे प्राथमिक उपचार के बाद डॉ रेखा सिंह गौर ने जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया है। बताया जा रहा है कि यह आदिवासी परिवार तवा डैम के करीब ही टपरिया में रहता है। एसपी संतोष गौर ने बताया कि दोनों बच्चों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए हैं, तीसरी बच्ची को जिला अस्पताल में भर्ती किया है, उसकी हालत गम्भीर है। मामले में मार्ग कायम के विवेचना की जाएगी।

Multapi Samachar

दमोह की बेटी ने अमेरिका में लिया बहुत बड़ा फैसला


मुलतापी समाचार

दमोह: कोरोना वायरस के संक्रमण से जूझ रहे अमेरिका में दमोह की बेटी डॉक्टर ऐश्वर्या वर्मा वहां के लोगों की जान बचाने के लिए 14-14 घंटे कड़ी मशक्कत कर रही है! खास बात यह है कि यह काम वह कोई मजबूरी में नहीं कर रही है, बल्कि उसने स्वयं ही यह फैसला लिया है! बेटी जरूर दुनिया में सबसे तेजी से फैल रही बीमारी से लोगों को बचाने के लिए मेहनत कर रही है, मगर माता-पिता को चिंता होना भी स्वाभाविक है, लेकिन बेटी ने संक्रमण की स्थिति को देखते हुए वापस आने से इनकार कर दिया और अब जीवन मरण के बीच जूझ रहे मरीजों को बचाने में जुटी है!

26 वर्षीय डॉ ऐश्वर्या वर्मा असाटी वार्ड नंबर 2 में रहने वाले प्रसिद्ध साहित्यकार डॉक्टर सत्य मोहन वर्मा की भतीजी हैं! उनके पिता डॉ आलोक वर्मा मशहूर ऑर्थोपेडिक्स सर्जन और मां डॉ अर्चना वर्मा फिजियोथैरेपिस्ट है और इंदौर में रहते हैं! ऐश्वर्या ने जबलपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस किया है! वर्ष 2017 में वह एमडी का कोर्स करने के लिए अमेरिका के मिशिगन राज्य के कैंटन शहर में संचालित सेंट मेरी मिर्सि लिवोनिया हॉस्पिटल गई थी! जहां पर 2 साल का कोर्स करने के बाद उसकी उसी हॉस्पिटल में नौकरी लग गई! इसके बाद से निरंतर ऐश्वर्या वही सेवाएं दे रही हैं!

मुलतापी समाचार

जबलपुर में कोरोना वायरस के तीन मरीज स्वस्थ होकर कर लौटे


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

जबलपुर: मध्य प्रदेश में सबसे पहले मिले कोरोना वायरस के 4 पॉजिटिव मरीजों में से 3 को मेडिकल कॉलेज अस्पताल से छुट्टी दे दी गई! आइसोलेशन वार्ड से 17 वे दिन रवाना होने से पूर्व कोरोना को हराने वाले गोल बाजार कछियाना निवासी मुकेश अग्रवाल (59) व उनकी पत्नी सुनीता अग्रवाल (45) तथा प्रोफेसर कॉलोनी सिविल लाइन निवासी उपनिषद शर्मा (24) ने कहा कि कोरोना साधारण बीमारी है, इससे भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है! सरकार के निर्देशों का पालन कर बीमारी से बचा जा सकता है! यदि वायरस ने चपेट में ले लिया है तब भी भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है! चिकित्सकों के निर्देश का पालन कर उपचार में सहयोग करने वाले मरीज जल्द स्वस्थ होकर घर जा सकते हैं!

कलेक्टर भरत यादव ने बताया कि एंबुलेंस से तीनों को घर पहुंचाया गया है, जहां 14 दिन होम क्वॉरेंटाइन मैं रखने के निर्देश दिए गए हैं! स्वास्थ्य विभाग व कंट्रोल रूम द्वारा लगातार निगरानी की जाएगी! इधर मेडिकल के आइसोलेशन वार्ड में अब कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 5 बची है, जिनकी सेहत में सुधार है! दोबारा जांच में रिपोर्ट नेगेटिव पाए जाने पर उन्हें भी घर भेज दिया जाएगा!

मुलतापी समाचार

छिंदवाड़ा में कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीज की मौत, इनके पिता भी संक्रमित पहली मौत के बाद कोरोना पी‍डित मरीज के संपर्क में आने वाले 31 लोगों के ब्लड सैंपल लिए गए हैैं ।


छिंदवाड़ा में कोरोना वायरस से पहली मौत के बाद कोरोना पी‍डित मरीज के संपर्क में आने वाले 31 लोगों के ब्लड सैंपल लिए गए हैैं ।

कोरोना वायरस छिंदवाड़ा में। मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में कोरोना वायरस से पहली मौत का मामला सामने आया है, इसी के साथ प्रदेश में मौतों का आंकड़ा बढ़कर 9 हो गया है। जानकारी के मुताबिक ये इंदौर में वाणिज्यकर विभाग में पदस्थ थे, मौत की पुष्टि सिविल सर्जन ने की है। मरीज के पिता भी कोरोना पॉजिटिव हैं, जिनका अस्पताल में इलाज जारी है। इन दोनों के संपर्क में आने वाले 31 लोगों के ब्लड सैंपल लिए जा चुके हैं, वहीं 84 लोगों की सूची तैयार की जा चुकी है। इंदौर से 20 मार्च को छिंदवाड़ा के गुलाबरा आए युवक के आइसोलेट किए जाने के बाद उसके सैंपल जांच के लिए जबलपुर भेजा गया था। जबलपुर से आई रिपोर्ट में युवक कोरोना पॉजीटिव पाया गया और शनिवार सुबह उसने दम तोड़ दिया। हरकत में आए प्रशासनिक अधिकारियों ने तत्काल ही युवक की मुलाकात किन-किन लोगों से हुई और कहां-कहां वह रूका जिसको लेकर सभी परिचित और रिश्तेदारों के ब्लड़ सैंपल लिए गए।

इन सैंपल को जांच के लिए जबलपुर भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी। साथ ही एहतियात के तौर पर दो निजी अस्पताल फिलहाल बंद हैं। शहर को कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लगातार प्रशासनिक अधिकारी प्रयास कर रहे हैं। इस प्रयास के चलते रोजाना हर आने और जाने वालों से पुलिस कर्मी पूछताछ कर रहे हैं। साथ ही प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा जिले के अलग-अलग स्थान से शहर में आने वालों की स्केनिंग भी करवाई जा रही है।

गुरुवार को केवलारी निवासी एक युवक संदिग्ध अवस्था में जिला अस्पताल में आईसोलेट होने के बाद उसका सैंपल जबलपुर मेडिकल कॉलेज भेजे गए थे। जहां से देर रात में आई पॉजीटिव रिपोर्ट के बाद हरकत में आए प्रशासनिक अधिकारियों ने शुक्रवार को शहर की सारी दुकानें बंद करवा दी तो वहीं आवाजाही पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी।

मुुुलताई समाचार

Satish Pawar News Reporter Multai

भगवान महावीर स्वामी ने 12 वर्षों तक की थी कठोर तपस्या


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

महावीर जयंती 2020; राज परिवार में जन्म लेकर राजकुमार से सन्यासी बने महावीर स्वामी को छोटी सी उम्र में ही भोग विलास से विरक्ति हो गई थी! उनके पिता महाराज सिद्धार्थ ने उनको राजसी जीवन जीने के लिए सभी तरह की सुख सुविधाएं और ऐश्वर्य उनको प्रदान किए, लेकिन इसके बावजूद उनका मन सांसारिक सुखों में नहीं लगा, और विवाह के पश्चात उन्होंने सब कुछ त्याग कर संन्यास ले लिया! कठोर तपस्या के बाद जब उनको ज्ञान की प्राप्ति हुई तो उनके अनमोल वचनों से दुनिया बड़ी प्रभावित हुई और बड़ी संख्या में लोगों ने जैन धर्म को अंगीकार किया! भगवान महावीर स्वामी के अनमोल वचन

महावीर स्वामी ने संसार को अहिंसा, त्याग और संयम का संदेश दिया! उन्होंने यज्ञ में दी जाने वाली बली का विरोध किया और जाति के भेद को मिटाने की दशा में बड़ा काम किया! जैन धर्म को मानने वालों के लिए उन्होंने पांच व्रत दिए, जो अहिंसा, सत्य, अस्तेय ,ब्रह्मचर्य और अपरिग्रह है! महावीर स्वामी ने हर तरह की हिंसा का विरोध करते हुए’ जियो और जीने दो’का सिद्धांत दिया! उन्होंने अपने तप से सभी इंद्रियों पर विजय प्राप्त कर ली थी इसलिए उनको “जितेंद्रय ‘कहा गया!

जैन धर्म के गुरुओं ने भगवान महावीर के कुल 11 गणधर बताए थे! जिनमें गौतम स्वामी पहले गणधर थे! महावीर जी की मृत्यु के 200 वर्षों के पश्चात जैन धर्म श्वेतांबर और दिगंबर दो संप्रदायों में विभक्त हो गया! दिगंबर संप्रदाय को मानने वाले अनुयाई या संत अपने वस्त्रों का त्याग कर देते हैं, जबकि श्वेतांबर संप्रदाय को मानने वाले संत श्वेत वस्त्र धारण करते हैं! उन्होंने बिहार के पावापुरी में देह त्याग किया था इसलिए इस स्थान को जैन धर्मावलंबी पावन स्थली मानते हैं! भगवान महावीर स्वामी ने 12 साल तक निर्वस्त्र रहकर और मौन व्रत धारण कर कठोर तपस्या की थी उसके बाद उनको ज्ञान की प्राप्ति हुई थी!

मुलतापी समाचार