लॉकडाउन थोक सब्जी मंडी भी बंद, बगैर बेचे ही लौटे रहे किसान


बैतूल मेंं लोगो नहीं मिल पा रही सब्‍जीयां और किसान अपनी सब्‍जी नहीं बैच पा रहा लोग हो रहें परेशान

बैतूल न्‍यूज। ( टोटल लॉकडाउन को सख्ती से लागू किए जाने के चलते बुधवार से थोक सब्जी मंडी भी बंद हो गई है। ऐसे में जानकारी के अभाव में सब्जियां बेचने किसान आ गए, लेकिन उन्हें सब्जी बेचे बगैर ही लौटना पड़ा। इसी तरह मंडी बंद रही तो कई सब्जियां खेतों में ही सड़ जाएंगी। जानकारी के अनुसार थोक सब्जी मंडी बडोरा को आगामी आदेश तक के लिए बंद कर दिया है। इसकी जानकारी नहीं होने से किसान सब्जियां लेकर मंडी पहुंच गए थे। मंडी बंद होने से किसान अपनी सब्जी बेच ही नहीं पाए। किसानों को यह सब्जियां वापस लेकर जाना पड़ा। हाथ ठेलों पर सब्जी बेचने वालों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। इससे वे भी सब्जी खरीदने नहीं पहुंचे। मंडी सचिव एसडी वर्मा के अनुसार मंगलवार को कलेक्टर द्वारा जारी किए गए आदेश के बाद अगले आदेश तक सब्जी मंडी बंद कर दी है। इसकी जानकारी थोक सब्जी विक्रेताओं को भी दे दी गई है। इधर किसानों का कहना है कि थोक सब्जी मंडी बंद रही तो वे सब्जियां नहीं बेच पाएंगे, इससे उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। कई सब्जियां ऐसी हैं जो तोड़ने की स्थिति में आ गई हैं। इन्हें नहीं तोड़ा तो वह खेत में ही सड़ जाएगी। कोरोना के कारण किए गए लॉकडाउन ने किसानों की कमर तोड़ दी है। अभी तक दिन भर सब्जियां मोहल्ले में बिकने से लोगों को भी आसानी से सब्जी मिल जा रही थी, लेकिन आज लोगों को भी परेशान होना पड़ा।

Multai राखीढाना में गेहूं की कालाबाजारी मामले में पांच लोगों पर एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश


एसडीएम ने एएफओ को किया आदेशित

Multapi Samahcar

मुलताई। ग्राम राखीढाना में 5 अप्रैल को पीडीएस के 37 कट्टे गेहूं की कालाबाजारी के मामले में मुलताई एसडीएम सीएल चिनाप ने कनिष्ठ खाद्य आपूर्ति अधिकारी लोकेंद्र चौहान को कालाबाजारी में लिप्त पांच लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिए है। दरअसल प्रभात पट्टन विकासखंड के ग्राम राखीढाना में शासकीय उचित मूल्य दुकान का सेल्समेन शासकीय गेंहू की कालाबाजारी करते हुए पकड़ाया था। खाद्य विभाग द्वारा मौके पर पहुंचकर कार्रवाई की गई थी। खाद्य विभाग के एल एस चौहान ने बताया था कि राखीढाना स्थित शासकीय उचित मूल्य दुकान के सेल्समेन कल्लू राठौर द्वारा 37 कट्टे गेंहू दुकान में नहीं रखते हुए गांव की ही पूर्णा बाई उइके के मकान में रखा था। उसके द्वारा कोई संतोषप्रद जवाब नहीं दिया गया था। जिसके बाद उनके द्वारा उचित कार्रवाई के लिए एसडीएम को जांच प्रतिवेदन दिया गया था। जिसके बाद एसडीएम मुलताई ने उन्हें आदेशित किया है कि दुकान के विक्रेता कल्लू राठौर, खरीददार कैलाश पंवार, पूर्णा बाई, रामचरण कवड़ैती एवं ट्रैक्टर के ड्राइवर सुधार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाए।

मुलताई खेत में लगी आग, ग्रामीणों ने बुझाई


मुलताई। ग्राम पंचायत चौथिया में गेहूं के एक खेत में आग लग गई, जिसे ग्रामीणों द्वारा बुझाया गया। यदि ग्रामीण आग पर काबू नहीं पाते तो आसपास के कई खेतों में आग पहुंच जाती और हजारों का नुकसान हो जाता। गांव के रोजगार सहायक एवं ग्रामीणों ने बताया कि गांव के ही एक व्यक्ति द्वारा आग लगाई गई है। जिसकी लिखित शिकायत मुलताई पुलिस से की गई है।

अच्छी न्‍यूज: 18 और सैंपलों की आई रिपोर्ट निगेटिव पायें सभी


कोरोना के संदिग्‍ध १८मरीजों की रिपोर्ट आई निगेटव

मुलतापी समाचार

बैतूल । एक रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद दहशत में आए लोगों के लिए राहत भरी खबर है कि गुरुवार को आई सभी 18 रिपोर्ट निगेटिव आई हैं। अभी तक कुल 24 रिपोर्ट आई हैं जिनमें से केवल 1 ही पॉजिटिव है। क्वारंटाइन में भर्ती किए गए मरीजों की संख्या में जरुर 2 का इजाफा हुआ है।

इनकी संख्या अब 31 पर पहुंच गई है। सीएमएचओ डॉ. जीसी चौरसिया ने बताया कि जिले में अभी तक कुल 26723 लोगों की स्क्रीनिंग हुई है। इनमें सामान्य सर्दी, खांसी, बुखार के मरीजों की संख्या 2636 है। जिले में अभी तक कुल 70 सैंपल लिए गए हैं। गुरुवार को 12 सैंपल लिए गए। अभी तक 24 की रिपोर्ट आ चुकी है। इनमें से एक को छोड़ कर शेष 23 रिपोर्ट निगेटिव आई है। अभी 45 सैंपलों की रिपोर्ट आना है।

क्वारंटाइन में 31 और आइसोलेशन में 5 लोगों को भर्ती किया गया है। होम आइसोलेशन में 2405 को रखा गया है जबकि 843 को होम आइसोलेशन से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

भैंसदेही में 2413 घरों का भ्रमण किया गया है। यहां 11703 लोगों की स्क्रीनिंग की गई जिनमें 18 लोगों को सामान्य सर्दी, खांसी, बुखार की शिकायत पाई गई। इस ब्लॉक में अभी तक 27 सैंपल लिए गए हैं।

होशंगाबाद तहसील कार्यालय और थाने में बन रहे हैं सैनिटाइजर रूम


मुलतापी समाचार

सिवनी मालवा। एसडीएम कार्यालय सिवनी मालवा थाना और शिवपुर थाने में सैनिटाइजर रूम बनाए जा रहे हैं। मुख्य गेट पर ही सेंट मशीन के माध्यम से सैनिटाइजर का हल्का छिड़काव चलता रहेगा। अधिकारी, कर्मचारी उस रूम में से होकर निकलेंगे। जिससे कि कोरोनावायरस से बचा जा सके। शिक्षाविद प्रवीण पाणिकर ने इटारसी में कोरोना के मरीज मिले हैं। तब से प्रशासन और सक्रिय हो गया है। एसडीएम कार्यालय के मुख्य द्वार पर परदे के माध्यम से एक अस्थाई रूम बनाया जा रहा है। जिसके अंदर सेट मशीन होगी और यह सैनिटाइजर का छिड़काव करती रहेगी। अधिकारी, कर्मचारी को इस रूम में से होकर निकलना पड़ेगा। जिससे कि वह सुरक्षति रहेंगे। थाने में भी यह व्यवस्था की है। सिवनी मालवा थाना प्रभारी संजय चौकसे ने बताया कि पुलिस कर्मियों की सुरक्षा के लिए एक अच्छा कदम है। शिवपुर थाने में भी सैनिटाइजर रूम बनाया जा रहा है।

रोजाना मास्क बनाकर खेतों में काम कर रहे मजदूरों को बांट रहीं


हमारे योद्धा..

काेेेेेेेरोना सैनिक

8एचओएस8 सिवनी मालवा। अर्चना मिश्रा मास्क बनाती

मुलतापी समाचार

सिवनी मालवा। कोरोना महामारी के लॉक डाउन के दौरान कई लोग समाज सेवा में जुटे हुए हैं। ब्राह्मण महिला मंडल सिवनी मालवा की सदस्य अर्चना मिश्रा रोज 20-25 मास्क खुद ही सिलकर खेतों में काम करने वाले गरिबों को बांट रही है। अर्चना मिश्रा का कहना है कि सभी बहनों से निवेदन करती हूं जो मास्क बना सकती हैं व सभी बनाएं और जरूरतमंदों को बांटे। देश पर आई विपदा में सभी मिलकर सहयोग करें।

लॉक डाउन के बाद भी नर्मदा के घाटों पर पहुंच रहे लोग


8एचओएस15 सोहागुपर। नर्मदा में स्नान करने लगा लोगों का जमावड़ा।

मुलतापी समाचार

सोहागपुर। संपूर्ण लॉक डाउन के बाद भी लोग लापरवाही बरत रहे हैं शासन प्रशासन के बार.बार समझाने के बाद भी लोग अपने घरों से तो निकल ही रहे हैं। साथ ही नर्मदा स्नान के लिए नर्मदा घाटों पर भी भीड़ लगा रहे हैं। इन घाटों पर पुलिस की कोई व्यवस्था नहीं है। जिसकी वजह से घाटों पर लोगों की भीड़ दिखाई दे रही है। बुधवार को ईश्वरपुर नर्मदा घाट पर लोगों की भीड़ देखी गई है। जिसे देख कर लगता है कि लॉक डाउन का खुला उल्लंघन किया जा रहा है। यहां पर सुरक्षा संबंधी कोई इंतजाम दिखाई नहीं दे रहा है। शहर में भले ही पुलिस डंडों के दम पर लॉक डाउन को सफल बनाने का प्रयास किया जा रहा है। लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में इसका असर देखने को नहीं मिल रहा है। ग्रामीण अंचलों में अभी भी लोग लॉक डाउन का उल्लंघन करते देखे जा रहे हैं।

प्रतिबंध के बाद नरवाई में लगाई जा रही आग


शिकायत के बाद एक पर मामला दर्ज

8एचओएस13 सोहागपुर। फसल को आग से बचाने के लिए खेत में मौजूद किसान।

मुलतापी समाचार

सोहागपुर। गेहूं की फसल कटने के बाद किसान अपने खेत की नरवाई में आग लगा देते हैं। जिसकी वजह से आसपास के खेतों मैं खड़ी गेहूं की फसल भी तबाह हो जाती है। यह सिलसिला नया नहीं है। पिछले कई वर्षों से किसानों को इस लापरवाही से कई किसानों को अपनी फसल से हाथ धोना पड़ा है। बावजूद इसके किसान नरवाई में आग लगाना नहीं छोड़ रहे हैं। ग्राम डूंडादेह के खेत में एक किसान के कर्मचारी द्वारा नरवाई में आग लगाई गई। जिसकी वजह से आसपास के खेतों में खड़ी गेहूं की फसल जलकर खाक हो गई खड़ी फसल जलने वाले एक खेत मालिक ने पुलिस थाने में रिपोर्ट लिखाई है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार डूंडादेह में रहने वाले हीरालाल पिता सुखलाल उइके उम्र 39 वर्ष ने बताया कि मंगलवार की शाम को जब वह अपने खेत की फसल कटवाने खेत पर गया था। तभी उसने देखा की राम सिंह रघुवंशी का कर्मचारी पदम सिंह ठाकुर खेत की नरवाई में आग लगा रहा है। हीरालाल ने बताया की उसने पदम सिंह को नरवाई में आग लगाने के लिए मना भी किया। लेकिन वह नहीं माना और उसने नरवाई में आग लगा दी नरवाई की आग से हीरालाल सहित गांव के अन्य लोगों के खेतों में खड़ी गेहूं की फसल भी जलकर खाक हो गई। पुलिस ने इस मामले में हीरालाल की रिपोर्ट पर आरोपी पदम सिंह ठाकुर के खिलाफ भादवि की धारा 188 एवं 435 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया है। हीरालाल का कहना है कि उसके साथ साथ सहोदरा बाई ठाकुर, हाकम सिंह ठाकुर नंदलाल ठाकुर, अरविंद ठाकुर, सनिया बाई ठाकुर, प्रकाश ठाकुर के खेतों की फसल भी जलकर खाक हो गई है।

Korona ki viprit paristithiyo me kese kre padai


Super 100 के संस्थापक आनंद कुमार द्वारा विद्यार्थियों को lock down जैसी स्थिति में अपने घर में रहने की बात कही और साथ ही कहा कि ऐसी स्थिति में विद्यार्थियों को घर में रह कर पढ़ाई करना चाहिए और रिवाइज करते रहना है

आंनद कुमार ने कहा कि विपरित परिस्थितियों में ही योग्यता और शील की पारख होती है, इससे प्राप्त अनुभव ही जीवन में सफल होने मे भी सहायक होते हैं

MP in कंटेनमेंट एरिया और जिलों की सीमाओं को प्रभावी ढंग से सील करने के निर्देश


मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस ने संभागीय आयुक्तों, कलेक्टरों को दिये निर्देश

मुलतापी समाचार

भोपाल । मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस ने प्रदेश के सभी संभागायुक्त एवं कलेक्टर्स को पत्र भेजकर निर्देशित किया है कि कंटेनमेंट एरिया तथा जिलों की सीमाओं को प्रभावी ढंग से सील किया जाये। प्रभावी जिलों की सीमाओं पर चौकसी बढ़ाई जाये और लोगों के आने-जाने को कड़ाई से प्रतिबंधित किया जाये। कंटेनमेंट एरिया से लोगों की आवाजाही को रोकने के लिये बेरीकेटिंग के साथ कार्डन ऑफ किया जाये।

मुख्य सचिव श्री बैंस ने जिला कलेक्टरों से कहा है कि कंटेनमेंट एरिया को प्रभावी ढंग से सील करें। वहाँ रहने वाले लोगों की जरूरत की आवश्यक सामग्री उनके द्वार तक पहुँचाने की व्यवस्था को प्रभावी बनायें। इस एरिया में आकस्मिक चिकित्सकीय आवश्यकता होने पर लोगों को अस्पताल जाने की छूट होना चाहिये। कंटेनमेंट एरिया के प्रबंधन के संबंध में जारी गाइड-लाइन के अनुसार कार्यवाही करें। जिले की सीमाओं से अन्य जिलों से होने वाले आवागमन पर और अधिक प्रभावी ढंग से नियंत्रण लगाया जाये। श्री बैंस ने कहा कि भोपाल, इंदौर, उज्जैन आदि बड़े जिलों को अपने शहरों की सीमाओं को और अधिक सुरक्षित करने की आवश्यकता है, जिससे जिले के अन्य ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले लोगों को कोरोना के संक्रमण से बचाया जा सके।