कृषि उपज मण्डी बैतूल एवं मुलताई में किसानों से गेहुं खरीदी के संबंध में निर्देश


किसानों की सुविधा के लिए मण्डी में हेल्पलाइन नंबर

मुलतापी समाचार

बैतूल, कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने कोविड-19 के परिप्रेक्ष्य में कृषि उपज मण्डी समिति बैतूल एवं मुलताई में किसानों की कृषि उपज के विक्रय का प्रबंध किए जाने के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए हैं।

यह खरीदी व्यवस्था तीन प्रकार से होगी-


प्राइवेट खरीदी केन्द्रों पर यह खरीदी ऐसे अनुज्ञप्तिधारियों द्वारा की जाएगी, जिन्होंने इस हेतु स्वीकृति प्राप्त की है।

वर्तमान में छ: व्यापारियों क्रमश: श्री प्रमोद कुमार अग्रवाल (मो.नं.- 9425002209), श्री नीरज डागा (मो.नं.- 9826043854), श्री वीरेन्द्र पांडे (मो.नं.-9926003733), श्री राकेश शर्मा (मो.नं.- 9425002521), श्री रामकिशोर राठौर (मो.नं.-9425002194) एवं श्रीमती पुष्पा राठौर (मो.नं.- 9425002194) के आवेदन पत्र प्रक्रिया में हैं एवं किसान इनसे सम्पर्क कर सकते हैं।
इसके अतिरिक्त सौदा पत्रक के माध्यम से वे किसान जो मण्डी प्रांगण में अपनी उपज नहीं ला पा रहे हैं वे मण्डी समितियों के समस्त अनुज्ञप्तिधारियों के समक्ष आपसी सहमति के आधार पर अपनी फसल का विक्रय कर सकते हैं।


जो किसान एवं व्यापारी क्रय-विक्रय का संव्यवहार मण्डी समिति के प्रांगण में करना चाहते हैं, उनके लिए निम्नानुसार व्यवस्था रहेगी-
मण्डी प्रांगण में विक्रय हेतु आने वाले ट्रक वाहन का प्रवेश निषेध रहेगा।
मण्डी प्रांगण में कृषि उपज लाने का समय प्रात: 6 बजे से प्रात: 10 बजे तक रहेगा।
वाहन में वाहन चालक एवं एक कृषक ही एक वाहन में बैठने की अनुमति रहेगी।
एक वाहन में एक ही जिन्स लाना अनिवार्य होगा।
मण्डी प्रांगण में प्रवेश के बाद जिन्सों के निर्धारित स्थान पर खड़ा करना अनिवार्य होगा।
कृषि उपज की नीलामी वाहन में ही की जाएगी। ढेरी लगाकर विक्रय करने पर प्रतिबंध रहेगा।
कृषि उपजों की नीलामी का समय प्रात: 10 बजे से प्रारंभ होगा।
नीलामी के पश्चात् व्यापारिक प्रतिष्ठान में होगी। जिन व्यापारियों के पास पर्याप्त जगह नहीं होगी, मण्डी समिति द्वारा निर्धारित स्थान पर तुलाई करानी होगी।
मण्डी प्रांगण में अनाज को लोड करने हेतु आने वाले वाहन दिन के दो बजे तक प्रतिबंधित रहेंगे।
मण्डी प्रांगण में मंडी कर्मचारी, क्रेता, व्यापारी या उनका एक अधिकृत प्रतिनिधि, किसान, वाहन चालक, हम्माल एवं तुलावटी को प्रवेश की अनुमति होगी।
एक दिवस में अधिकतम 100 ट्राली बैतूल मण्डी एवं 25 ट्राली मुलताई मण्डी में विक्रय हेतु किसान अपना अनाज ला सकेंगे।


मण्डी परिसर के अन्दर कोविड-19 से सुरक्षा हेतु निर्धारित प्रोटोकॉल जैसे हैण्डवाश, सेनेटाइजर तथा मास्क का उपयोग एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना अनिवार्य होगा।

हेल्पलाइन नंबर स्थापित
किसानों की सुविधा के लिए मण्डी में हेल्पलाइन नंबर स्थापित किए गए हैं, जिनके नाम एवं नंबर इस प्रकार हैं-

सहायक उप निरीक्षक श्री प्रदीप उइके (मो.नं.- 8103858504), सहायक गे्रड-2 श्री प्रशांत घोडक़ी (मो.नं.- 8827299205), सहायक उप निरीक्षक श्री विनोद पन्द्रे (मो.नं.- 8109598900), सहायक ग्रेड-3 श्री लाला प्रसाद आर्य (मो.नं.- 9993301594), सहायक उप निरीक्षक श्री पवन विश्वकर्मा (मो.नं.- 9074019357), सहायक ग्रेड-3 श्री मोहनचन्द्र अमझरे (मो.नं.- 9479979599)।
कृषि उपज मण्डी कार्यालय का दूरभाष क्रमांक 07141-239422 है।

CG बीजापुर-दंतेवाड़ा सीमा पर मुठभेड़ में एक नक्सली ढेर, शव बरामद


Chhattisgarh News

Multapi Samachar

दंतेवाड़ा ।बीजापुर-दंतेवाड़ा सीमा से लगे हुर्रेपाल- बेचापाल के जंगलों में गुरुवार की दोपहर नक्सली और डीआरजी जवानों के बीच जमकर मुठभेड़ हुई। रुक- रुक कर करीब एक से डेढ़ घंटे तक दोनों ओर से गोलीबारी होती रही। फायरिंग थमने पर सर्चिंग के दौरान जवानों ने एक पुरुष नक्सली का शव बरामद किया। इसकी पुष्टि एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने की है।

बताया जा रहा है कि जंगल के इंद्रावती नेशनल पार्क दलम और भैरमगढ़ एरिया कमेटी बड़े नक्सलियों का डेरा था। नक्सली कैम्प से बड़ी मात्रा में दैनिक उपयोग की सामग्रियों के साथ पिट्ठू, दवा और अन्य नक्सल सामग्री बरामद किया गया है।

फोर्स अभी भी जंगल में है। थाना भांसी और फरसपाल से सपोर्टिंग पार्टी रवाना कर दी गई है। बताया जा रहा है की नक्सलियों की इस कैंप में जुड़े डीवीसी मेंबरों की मौजूद थी। इनमे आठ आठ लाख रुपए के इनामी नक्सली चन्दना, कमलू और हूंगा के नाम बताएं जा रहे हैं।

3 मई के बाद काफी कुछ बदल जाएगा, नए कानून बनेंगे, लाइफ पहले जैसी नहीं रहेगी


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने lockdown की तारीख बढ़ाकर 3 मई कर दी है! लेकिन 3 मई के बाद भी life पहले जैसी नहीं रहेगी! भारत के नागरिकों में कुछ नई आदतें डालने के लिए कुछ नए कानून बनाने पड़ेंगे!

भारत के नागरिकों की लाइफ स्टाइल बदल जाएगी! क्योंकि वैज्ञानिकों ने आगाह किया है कि कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए 2022 तक सोशल distancing का पालन करना होगा! इसके लिए संसद को एक नया कानून बनाना पड़ेगा! ऑफिस में, माल में, मंदिर में, और पब्लिक प्लेस पर डिस्टेंस मेंटेन करने के लिए धारा 144 से काम नहीं चलेगा, काफी कुछ बदलना पड़ेगा!

नई स्टडी में शोधकर्ताओं ने बताया है कि आने वाले सालों में कोरोना वायरस फिर से तबाही मचा सकता है! सिर्फ एक बार lockdown करने से महामारी पर नियंत्रण पाना मुश्किल है! रोकथाम के उपायों के बिना कोरोना वायरस की दूसरी लहर ज्यादा भयावह हो सकती है!

हावर्ड यूनिवर्सिटी में महामारी विशेषज्ञ और स्टडी के लेखक मार्क लिपचिस के अनुसार वैक्सीन या इलाज ना खोजें जा पाने की स्थिति में 2025 में कोरोना वायरस फिर से पूरी दुनिया को अपनी जद में ले सकता है! जब तक कि दुनिया की ज्यादातर आबादी में वायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता विकसित नहीं हो जाती है, तब तक बड़ी आबादी के इसकी चपेट में आने की संभावना बनी रहेगी! इसका मतलब हुआ लोगों के खान-पान का तरीका बदलना होगा! इम्यूनिटी बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ सस्ते करने होंगे, उत्पादन बढ़ाना होगा! इम्यूनिटी को कमजोर करने वाले खाद्य पदार्थों को प्रतिबंधित करना होगा! इसके लिए भी नया कानून बनाना पड़ेगा!

यदि इन वैज्ञानिकों की बात सही साबित हुई तो परिवहन के सभी साधन बदल जाएंगे! ऑटो रिक्शा से लेकर फ्लाइट तक यात्रियों के बैठने का इंतजाम सोशल डिस्टेंस को ध्यान में रखकर करना होगा!

मुलतापी समाचार