MP sheopur: कोरोना संदिग्ध की स्क्रीनिंग करने के लिए गए डॉक्टर और पुलिस दल पर हमला, वीडियों देखें


Coronavirus Sheopur News :

Multapi samachar

श्योपुर जिले में हमले में पुलिस कर्मी घायल हो गया.

श्योपुर-विजयपुर। इंदौर से आए युवक की स्क्रीनिंग करने श्योपुर के गसवानी कस्बे में पहुंची स्वास्थ्य और पुलिस टीम पर पथराव कर दिया गया। पथराव से बचने के लिए डॉक्टर व पुलिसकर्मी इधर-उधर भागे लेकिन, सिर में पत्थर लगने से एक एएसआई घायल हो गए। श्योपुर पुलिस ने स्क्रीनिंग टीम पर हमले को लेकर एक महिला सहित चार लोगों पर सरकारी कार्य में बाधा, पथराव व आपदा प्रबंधन अधिनियम की धाराओं के तहत एफआइआर दर्ज कर ली है।

गसवानी निवासी गोपाल पिता गंगाराम शिवहरे इंदौर में मजदूरी करता है। लॉकडाउन में वह एक माह से इंदौर में फंसा हुआ था। बुधवार अल सुबह वह किसी तरह गसवानी पहुंच गया। पड़ोसियों ने पंचायत को गोपाल के पहुंचने की सूचना दी। पंचायत के सहायक सचिव विश्राम आदिवासी ने सूचना स्वास्थ्य विभाग व गसवानी थाने को दी। डॉ. पवन उपाध्याय टीम लेकर गोपाल के घर पहुंचे लेकिन, उसके स्वजनों ने उसे घर में छिपा दिया और स्क्रीनिंग के लिए तैयार नहीं हुए।

डॉक्टर ने सूचना थाने में दी तो एएसआई श्रीराम अवस्थी तीन-चार आरक्षकों के साथ मौके पर पहुंच गए। घर पर पुलिस व जांच टीम को देखकर गंगाराम भड़क गया और वह अपने बेटे को घर से बाहर निकालने को राजी नहीं हुआ। पुलिस ने घर में घुसने का प्रयास किया तो गंगाराम ने एक पत्थर उठाकर फेंका जो एएसआई श्रीराम अवस्थी के सिर में लगा।

इसके बाद गंगाराम ने दो-तीन पत्थर और फेंके जो एएसआई के पैरों में लगे। मौके का फायदा उठाकर स्वजनों ने गोपाल को घर से भगा दिया। गसवानी थाना प्रभारी बृजमोहन रावत ने बताया कि गंगाराम, उसकी पत्नी राधाबाई, बेटा गोपाल व आशीष के खिलाफ एफआइआर दर्ज कर ली है।पुलिस ने गंगाराम व आशीष को गिरफ्तार कर लिया जबकि राधाबाई व गोपाल घर से भाग गए।

मध्यप्रदेश में डॉक्टरों, पुलिस या सफाई कर्मचारियों पर यह पांचवां हमला है. 17 मार्च को देवास जिले में दो सफाई कर्मचारियों पर हमला किया गया था. मामले में एक मौलाना के अलावा एक व्यक्ति और उसके दो बेटों सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया गया था. उनमें से एक आरोपी पर रासुका के तहत कार्रवाई की गई. इन घटनाओं से पहले एक अप्रैल को इंदौर के टाट पट्टी बाखल में दो महिला डॉक्टरों पर हमला किया गया था और सात अप्रैल को इंदौर के चंदन नगर में एक पुलिस कांस्टेबल पर हमला किया गया था. दोनों घटनाओं में 20 लोगों को गिरफ्तार किया गया, जिनमें से आठ के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) की कार्रवाई की गई.

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में भी 6 अप्रैल की रात को तलैया क्षेत्र में हिस्ट्रीशीटर शाहिद कबूतर और उसके साथियों ने पांच सरकारी कर्मचारियों पर हमला किया था. अगले दिन शाहिद कबूतर, उसके साथी मोहसिन कचौड़ी सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था.

Video देखें

इनका कहना है

इंदौर से आए गोपाल शिवहरे की जानकारी मिलते ही पहले स्वास्थ्य विभाग की टीम उसकी स्क्रीनिंग के लिए गई थी, लेकिन गोपाल को घर में छिपाकर उसके पिता ने पथराव शुरू कर दिया। एक बड़ा पत्थर मेरे सिर में लगा और दो-तीन पांव में लगे।

-श्रीराम अवस्थी, घायल, एएसआई, श्योपुर

गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने की सराहना

गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने एएसआई राम अवस्थी और सरकारी हॉस्पिटल में पदस्थ डॉक्टर पवन उपाध्याय से फोन पर बात कर उनकी कर्तव्य परायणता की सराहना की । साथ ही वैश्विक महामारी कोरोना महा संकट के दौरान में विकृत मानसिकता के लोगों पर सरकार की ओर से सख्त कार्रवाई करने की बात भी कही।

Multapi Samachar

Amarnath Yatra : नहीं होगी रद्द, राज्य सरकार ने पहले जारी किया प्रेस रिलीज वापस लिया


नई दिल्ली: 

जम्‍मू-कश्‍मीर सरकार ने उस प्रेस रिलीज को वापस ले लिया है, जिसमें कहा गया था कि कोरोना वायरस की महामारी के कारण इस साल की अमरनाथ यात्रा को रद्द कर दिया गया है. इस प्रेस रिलीज ने देश को ‘हैरानी’ की स्थिति में ला दिया था. गौरतलब है कि इससे पहले पिछले साल, अमरनाथ यात्रियों की  जम्‍मू-कश्‍मीर में पवित्र गुफा तक की यात्रा की अवधि में कटौती की गई थी क्‍योंकि सरकार को इनपुट मिले थे कि अनुच्‍छेद 370 को हटाने के फैसले के खिलाफ आतंकी कोई बड़ी वारदात करने की योजना बना रहे हैं. बता दें कि शुरुआत में ऐसी खबरें आईं थी कि देश में जारी कोरोना संकट (Coronavirus) की वजह से इस साल होने वाली अमरनाथ यात्रा (Amarnath Yatra) को रद्द कर दिया गया है. इस साल अमरनाथ यात्रा 23 जून से तीन अगस्त तक होनी थी.

बता दें कि स्वास्थ्य मंत्रालय (Home Ministry) की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक भारत में कोरोनावायरस संक्रमितों की संख्या 20,471 हो गई है. पिछले 24 घंटों में कोरोना के 1,486 नए मामले सामने आए हैं और 49 लोगों की मौत हुई है. वहीं, देश में कोरोना से अब तक 652 लोगों की जान जा चुकी है, हालांकि राहत की बात यह है कि 3960 मरीज इस बीमारी को हराने में कामयाब भी हुए हैं.

देश में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए लॉकडाउन को 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है. हालांकि 20 अप्रैल से लॉकडाउन के दौरान उन इलाकों में कुछ छूट भी दी गई है, जहां कोरोना के मामले कम हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा की थी. बता दें कि पहले चरण का लॉकडाउन 14 अप्रैल को खत्म हो रहा था.

बिना मास्‍क पहने मिले युवक को पुलिस ने बैरिकेड्स खोलने-बंद करने का दंण्‍ड


Coronavirus Betul News :

बिना मास्क पहने एक युवक सड़क पर बेवजह खड़ा मिला तो पुलिस ने सजा के तौर पर एक घंटे तक उससे बैरिकेड्स खुलवाए और बंद करवाए।

यदि लॉकडाउन में आप बेवजह और बिना मास्क के घूमते हुए पकड़ाते हैं तो अब सजा के बतौर आपसे ड्यूटी भी कराई जा सकती है। बैतूल पुलिस ने बिना कारण घर से निकलने वालों को सबक सिखाने के लिए बुधवार से यह पहल शुरू कर दी है। कोरोना संक्रमण के बीच लॉक डाउन का पालन नहीं करने पर पुलिस अपने तरीके से लोगाें को सबक सिखा रही है।

बिना मास्क पहने एक युवक सड़क पर बेवजह खड़ा मिला तो पुलिस ने सजा के तौर पर एक घंटे तक उससे बैरिकेड्स खुलवाए और बंद करवाए।

पेट्रोल पंपों पर कार्यरत कर्मचारियों के मास्क व दस्ताने की वास्तविक स्थिति देखी

बुधवार को अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रद्धा जोशी पुलिस बल के साथ शहर के पेट्रोल पंपों पर कार्यरत कर्मचारियों के मास्क व दस्ताने की वास्तविक स्थिति देखने को निकली तो पेट्रोल पंप के पास एक युवक बिना मास्क के मोटर साइकिल के साथ खड़ा था।

युवक को पहले पहनाया मास्‍क फ‍िर दी सजा

जानकारी के अनुसार उस युवक को पहले तो मास्क पहनाया गया और फिर चौराहे पर तैनात पुलिसकर्मियों के साथ बैरिकेड्स खोलने-बंद करने का जिम्मा उसे दे दिया गया। काफी समय तक उससे यह ड्यूटी करवाने के बाद उसे यह हिदायत देते हुए छोड़ा गया कि बिना किसी वजह और मास्क लगाए बगैर वह भविष्य में घर से नहीं निकलेगा।

परिवीक्षाधीन डीएसपी एवं गंज थाना प्रभारी संतोष कुमार पटेल ने भी लोगों को चेतावनी दी है कि वे बेवजह घर से बाहर न निकलें अन्यथा पुलिस आपसे चौराहे पर डयूटी करवाएगी।

आंगनवाडी कार्यकता द्वारा मास्क एवं लडडू बनाकर किया जा रहा वितरण


मुलतापी समाचार

कोरोना संक्रमण से बचने के लिए महिला एवं बाल विकास कार्यालय बैतूल की ओर से पोषण अभियान अंतर्गत मास्क एवं लडडू बनाकर जरूरतमंदों एवं बच्‍चों में वितरिण किए जाने का अभियान शुरू कर दिया है। इन्हे गांवों व शहर में जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाया जा रहा है। उनसे यह अपील भी की जा रही है कि मास्क लगाकर ही रहें। महिला एवं बाल विकास कार्यालय के जिला कार्यक्रम अधिकारी बीएल विश्‍नोई जी ने बताया कि संस्थान की ओर से तीन हजार से अधिक मास्क वितरित किए जा चुंके है। इसके लिए मास्क की सिलाई का काम स्‍वयं आंगनवाडी कार्यकता द्वारा किलया गया है। जैसे जैसे मास्क तैयार होते जा रहे हैं उनका वितरण भी किया जा रहा है। यदि अधिक मास्क की जरूरत रही तो और मास्क भी सिलाकर वितरित किए जाएंगे। जिसमें जिला अधि‍कारी विश्‍नोई जी एवं एकीकृत बाल विकास परियोजना बैतूल की ओर से अधिकारी कल्‍पना जोनथन, मुलताई परियोजना श्रीमति मकोड़े जी द्वारा एवं आंगनवाडी कार्यकता द्वारा मास्क बनाकर बांटेे गये।

साथ ही जिले के समस्त परियोजनाओं में जिला अधिकारी के निर्देश पर माक्‍स वितरण का कार्य किया गया एवं हर गांव एवं शहर में आंगनवाडी कार्यकता द्वारा टीएचआर और लडडू वितरण काम निरंतर जारी हैं।

बैतूल कृषि उपज मंडी भाव – 22/04/2020


बैतूल मंडी भाव

चना की आवक 76 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 3676 रुपये अधिकतम भाव 3781 रुपये और प्रचलित भाव 3750 रुपये रहा।

मक्का की आवक 1981 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 1025 रुपये अधिकतम भाव 1240 रुपये और प्रचलित भाव 1160 रुपये रहा।

गेहूँ की आवक 1952 बोरे जिसका न्यूनतम भाव 1551 रुपये अधिकतम भाव 1740 रुपये और प्रचलित भाव 1680 रुपये रहा।

सरसों की आवक 03 बोरे जिसका न्यूनतम भाव, अधिकतम भाव और प्रचलित भाव 3200 रुपये ही रहा।

तुअर की आवक 15 बोरे जिसका न्यूनतम भाव, अधिकतम भाव और प्रचलित भाव एक ही 4000 रुपये रहा।

पृथ्वी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं


विनम्र अपील 🌱🌱

पृथ्वी दिवस के अवसर पर हम सभी को ईमानदारी से संकल्प लेना चाहिए कि हमारी विलासिता,लापरवाही, अकर्मण्यता,गलतीयों असंवेदनशीलता,अनदेखी, भ्रष्ट राजनीति , विकलांग व्यवस्था,अंधविश्वास, कर्मकांड, परंपराओं, त्यौहारों, रीतिरिवाजों आदि के कारण दुनिया को प्रदूषित नहीं होने देंगे।
आज पृथ्वी में ग्लोबल वार्मिंग,प्रदूषण और क्लाइमेट चेंज की समस्या के लिए सिर्फ इंसान जिम्मेदार है।ईश्वर ने मानव को सबसे श्रेष्ठ बुद्धि दिया है और यह उम्मीद किया होगा कि इंसान मानवता,पर्यावरण के लिए वरदान सिद्ध होगा।परन्तु बहुत दुखद है कि मानव ने अपने विलासिता पूर्ण जीवन जीने के लिए पर्यावरण को इस हद तक प्रदूषित कर दिया है कि आने वाली पीढ़ी के लिए जीवन कठिन होता जा रहा है।
अभी कोरोना वायरस के कारण पूरी दुनिया मे सभी मानव डरे हुए हैं ,यह प्रकृति के साथ छेड़छाड़ का परिणाम है।
यदि हमने पर्यावरण संरक्षण की दिशा में वैज्ञानिक दृष्टिकोण से अपना दिन चर्या प्रारंभ नहीं किया तो हम अपने भविष्य के लिए अभिशाप साबित होंगे।प्रकृति हमे दंड अवश्य देगी।इसका परिणाम हमारी बर्बादी होगी।इसके जिम्मेदार हम ही होंगे।हमारे नेता हमे जाति, धर्म,क्षेत्र और साम्प्रदाय के नाम पर हमें बांटकर अपना उल्लु सीधा कर रहे हैं।जाति, धर्म की राजनीति से हम दुनिया को प्रदूषित कर रहे हैं।आज कोरोना वायरस के कारण सभी धर्म के ठेकेदार और धार्मिक स्थल बंद हैं परंतु ये कोई चमत्कार नहीं कर पा रहे हैं।इसलिए हमें वैज्ञानिक दृष्टिकोण से प्रकृति के अनुकूल जीवन जीना प्रारंभ करें और अपने नेताओं से मांग करें कि जल, जंगल और जमीन से और छेड़छाड़ ना करें।
पृथ्वी जीवन के लिए बहुत अनुकूल है इसके बावजूद मानव अरबों रुपये खर्च करके दूसरे ग्रहों में जीवन की संभावना तलाश रहा है परंतु पृथ्वी के पर्यावरण को बचाने के लिए कुछ नहीं कर रहा है उल्टे प्रदूषण बढ़ाने में पीछे नहीं है।
अब पर्यावरण और प्रकृति की खातिर हम एक होकर प्रदूषण के खिलाफ काम करें क्योंकि यह हम सभी का दुश्मन है।सभी मानव को प्रकृति के अनुशासन और नियमानुसार जीवन जीना चाहिए इससे उनका भविष्य सुरक्षित होगा।
हमे सादा जीवन पद्धति अपनाना चाहिए ताकि पृथ्वी में लंबे समय के लिए अच्छा पर्यावरण बना रहे।जल, जंगल और जमीन को अपने और भविष्य के लिए सुरक्षित रखें।यह मानव का परम कर्तव्य भी है।

पर्यावरण बचाओ आंदोलन

Earth day

केन्‍द्र:स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ हुई हिंसा पर केंद्र सरकार लाई अध्यादेश, 6 महीने से 7 साल तक की सजा का प्रावधान


स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ हिंसा को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार ने अध्यादेश लाया है. अगर इस मामले में किसी को दोषी पाया गया तो 6 महीने से लेकर 7 साल तक की कैद की सजा हो सकती है.

नई दिल्ली: स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ हिंसा को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार ने अध्यादेश लाया है. अगर इस मामले में किसी को दोषी पाया गया तो 6 महीने से लेकर 7 साल तक की कैद की सजा हो सकती है.

महाराष्ट्र में सीएम के आवास पर तैनात महिला सुरक्षाकर्मी कोरोना पॉजिटिव


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

मुंबई; महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास पर तैनात पुलिस इंस्पेक्टर की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है! मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास जिसका नाम “वर्षा बंगला” है वहां तैनात महिला अधिकारी की रिपोर्ट आने के बाद बाद से प्रशासन में हड़कंप मच गया है! पुलिस अधिकारी के 6 करीबियों को Quarantine कर दिया गया है! इस बात की जानकारी मुंबई पुलिस ने दी है!

महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में पिछले 24 घंटे में 553 नए कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए हैं और 19 लोगों की मौत हुई है! इसके बाद राज्य में कोरोना पॉजिटिव की कुल संख्या 5229 हो गई है और कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या 251 हो गई है!

मुलतापी समाचार

अर्थ डे के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, पर्यावरण संरक्षण का ले संकल्प


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

नई दिल्ली: आज पूरी दुनिया में अर्थ डे यानी पृथ्वी दिवस मनाया जा रहा है! सबसे पहले अर्थ डे 1970 में मनाया गया था! अर्थ डे के मौके पर पर्यावरण संरक्षण के बारे में लोगों को जागरूक किया जाता है! साथ ही लोग पर्यावरण को बेहतर बनाने का संकल्प भी लेते हैं!

पीएम मोदी ने कहा है कि अंतर्राष्ट्रीय अर्थ डे पर हम सभी हमारे देखभाल और हम पर करुणा के लिए अपने ग्रह का आभार व्यक्त करते हैं! आइए हम एक स्वच्छ, स्वस्थ और अधिक समृद्ध ग्रह की दिशा में काम करने का संकल्प लें!

पृथ्वी पर रहने वाले तमाम जीव जंतुओं और पेड़ पौधों को बचाने तथा दुनिया भर में पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लक्ष्य के साथ 22 अप्रैल के दिन ‘पृथ्वी दिवस’ यानी ‘अर्थ डे’मनाने की शुरुआत की गई थी!

1970 में शुरू की गई इस परंपरा को 192 देशों ने खुली बांहों से अपनाया और आज लगभग पूरी दुनिया में प्रतिवर्ष पृथ्वी दिवस के मौके पर धरा की धानी को बनाए रखने और हर तरह के जीव जंतुओं को पृथ्वी पर उनके हिस्से का स्थान और अधिकार देने का संकल्प लिया जाता है!

मुलतापी समाचार