5 मई से जिले वासियों को मिलेगी बड़ी राहत


बैतूल- जिलेवासियों को जिस राहत का इंतजार था आखिरकार वह खत्म हो गया है। जिला प्रशासन ने लॉकडाउन के नियमों को शिथिल करते हुए कई महत्वपूर्ण बदलाव किया है, जिससे जिलेवासियों को राहत मिली है। जारी किए गए आदेश आज मंगलवार से लागू होंगे। कलेक्टर ने सोमवार को जारी किए गए आदेशों के मुताबिक दूध व्यवसाय और थोक एवं फुटकर व्यापारियों सहित अन्य व्यवसाय करने के लिए छूट दी गई है।

आदेश के मुताबिक दूध एवं अखबार के वितरण प्रात: 7 से 11 बजे तक, फल एवं सब्जी का व्यवस्था अनुसार नगर पालिका से अनुमति प्राप्त वेंडरों द्वारा विक्रय एवं किसानों द्वारा मोटर साईकिल से वितरण प्रात: 7 से 11 बजे तक, समस्त प्रकार के डेरी उत्पादन दूध, दही आदि के प्रतिष्ठान एवं मिठाई, नाश्ता एवं दुकानें, पान, गुटखा, तंबाकू उत्पादन की दुकानें, बेकरी की दुकानों से क्रय एवं डोर टू डोर डिलेवरी प्रात: 7 से 11 बजे तक।

समस्त प्रकार के पोल्ट्री उत्पादन मांस, मछली का विक्रय, सभी प्रकार के व्यक्तिगत कौशल सेवा संबंधित व्यवसायिक कार्य प्रात: 7 से 11 बजे तक होगे ।

मुख्य बाजारों की समस्त प्रकार की दुकानें प्रतिष्ठान एवं एक ही प्रकार की सामग्री के विक्रय, ग्रासरी के बहुमंजिला स्टोर, समस्त प्रकार के थोक एवं फुटकर व्यापारियों द्वारा प्रतिष्ठान से विभिन्न सामग्रियों का आदान-प्रदान एवं क्रय प्रात: 11 से शाम 5 बजे तक किया जाएगा।

मोहल्ला एवं रिहायशी स्थानों की समस्त प्रकार की दुकानें प्रात: 7 से शाम 5 बजे तक खुली रहेगी। इन सभी दुकानों का संचालन करते समय लॉकडाउन के नियम एवं सोशल डिस्टेंसिंग का कढ़ाई से पालन करने के निर्देश दिए गए है।

कलेक्टर राकेश सिंह ने जारी किए आदेश में वाहनों से आने-जाने में छूट दी है। आदेश के मुताबिक सभी प्रकार के निजी वाहनों से प्रात: 7 से शाम 5 बजे तक आने-जाने की अनुमति है। परंतु दो गज की दूरी बनाएं रखने के लिए कहीं भी भीड़ नहीं की जाएगी एवं यातायात व पार्किंग को शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में समय-समय पर विनीयमित किया जाता रहेगा। किसी भी व्यक्ति का जिले से बाहर आगमन प्रतिबंधित है। किंतु आपातकालीन स्थिति निर्मित होने पर सुविधा अनुसार ई-पास प्राप्त कर जिले की सीमा से बाहर आवागमन कर सकेंगे।

जिले के अंदर अनुमत कार्य हेतु प्रात: 7 से शाम 5 बजे तक निजी दोपहिया वाहनों एवं 4 पहिया वाहन टैक्सी एवं कैब वाहन में ड्रायवर एवं उसके अतिरिक्त दो व्यक्ति आना जाना कर सकेंगे। खाली ट्रकों सहित माल कार्गो की आवाजाही की अनुमति होगी।

आवश्यक सेवाओं के लिए यह है नियम
कलेक्टर ने जारी किए आदेश के मुताबिक छूट प्राप्त गतिविधियां आवश्यक सेवाओं में 3 एवं 4 मई तक जिन गतिविधियों, आवश्यक सेवाओं को छूट दी गई है। ऐसे हॉस्पिटल, दवा दुकानें, बैंक, दुरसंचार के कार्य, अन्य शासकीय कार्य आदि के लिए कोई पृथक से अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी एवं उनके व्यक्तियों और वाहनों का आवागमन सांय 7 प्रात: 7 बजे तक किया जा सकेगा। समस्त इंसीडेंट कमांडर दो गज की दूरी का उल्लंघन होने पर किसी भी प्रतिष्ठान, बाजार के हिस्से या संपूर्ण बाजार क्षेत्र को आगामी आदेश पर्यंत तक बंद करने के लिए सक्षम होंगे। समस्त अनुविभागीय दंडाधिकारी एवं कार्य पालिका मजिस्टे्रट सह इंसीडेंट कमांडर बाजार क्षेत्र में दो गज की दूरी का पालन कराने हेतु अतिरिक्त निर्देश जारी कर सकेंगे, जिसका उल्लंघन होने पर दंडात्मक कार्रवाई की जा सकेगी।

खुलेगी शराब की दुकानें सुबह 7 से शाम 7

जिले में शराब दुकानें खुलेंगी, लेकिन दुकान संचालकों को इसमें कड़े निर्देशों का पालन करना अनिवार्य होगा। कलेक्टर द्वारा जारी किए आदेश के मुताबिक शराब, पान, गुटखा, तंबाकू आदि का सेवन सार्वजनिक स्थानों पर करने की अनुमति नहीं है। शराब, पान, गुटखा आदि बेचने वाली दुकानें ग्राहकों की एक दूसरें से न्यूनतम छह फीट की दूरी सुनिश्चित करें और यह भी सुनिश्चत करें कि दुकान पर एक बार में 5 से अधिक व्यक्ति मौजूद न हो। सार्वजनिक स्थानों पर थूकना दंडनीय होगा। जैसे कि राज्य व केन्द्र शासित प्रदेश स्थानीय प्राधिकरण द्वारा निर्धारित किया जा सकेंगा।

विवाह समारोह में 50 लोग हो सकेंगे शामिल
विवाह संबंधित समारोह में सोशल डिस्टेंस सुनिश्चित किया जाएगा और व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 50 से अधिक नहीं रहेगी। इसके अलावा सार्वजनिक स्थानों पर मास्क लगाना अनिवार्य होगा। सार्वजनिक स्थानों का भी स्वामी/आयोजक/प्रबंधक पांच या अधिक व्यक्तियों को एकत्रित होने की अनुमति नहीं देगा। सार्वजनिक स्थानों पर अधिक लोगों को एकत्रित होने की अनुमति नहीं रहेगी। जारी किए गए आदेशों का कड़ाई से पालन करना होगा।

प्रदीप डिगरसे बैतूल मुलतापी समाचार

वालीवाल खेलते देख बने राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी शैलेन्द्र बारंगे


फोटो : शैलेन्द्र बारंगे

राष्ट्रीय वालीवाल प्रतियोगिता में कर चुके हैं दो बार सहभागिता

नेट क्लियर कर यूजीसी स्केल पाने की राह की आसान, पीएससी क्लियर कर ,बने कालेज में क्रीड़ा अधिकारी

मुलतापी समाचार

बैतूल, पाथाखेड़ा। कब कोई किससे प्रेरित होकर जीवन में सफलता प्राप्त कर जाता है कहना मुश्किल है। ऐसे ही हैं श्री शैलेन्द्र बारंगे जिनकी कक्षा बारहवीं तक वॉलीबॉल क्लब में वॉलीबॉल खेलते देख खेल के प्रति रुचि जागृत हुई।

आपने 4 वर्ष तक नरसिंहपुर खेल छात्रावास में रहकर अभ्यास किया । फिजिकल एजुकेशन कॉलेज ग्वालियर से बीपीएड , एमपीएड किया। और वर्ष 2012 में नेट तथा वर्ष 2018 में एमपीपीएससी क्लियर कर बन गए कालेज में क्रीड़ा अधिकारी।

इसके पूर्व आप 2004 और 2006 में दो बार राष्ट्रीय स्तर वालीबाल प्रतियोगिता में सहभागिता कर चुके हैं।

आपने पटियाला से खेल में डिप्लोमा भी हासिल किया है तथा खेल मंत्रालय के स्पोर्ट अथॉरिटी आफ इंडिया गांधीनगर गुजरात में वालीवाल के कोच के रूप में सेवाएं भी दी हैं। वर्तमान में आप भैंसदेही कालेज में सेवारत हैं।

हमें श्री शैलेंद्र बारंगे की उपलब्धि पर गर्व है। समाज के युवा उनकी इस यात्रा से प्रेरित- प्रोत्साहित हो सके तो सुखवाड़ा का यह प्रयास सार्थक सिद्ध हो सकेगा।
स्रोत: श्री जगन्नाथ पाठेकर भैंसदेही, बैतूल।

कोरोना: जबलपुर में 98 पहुंची मरीजों की संख्या , 2 की मौत


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

जबलपुर: मेडिकल कॉलेज में भर्ती कोरोना के मरीज आर के पांडे 61 वर्ष निवासी विजय नगर (जबलपुर) की रविवार सोमवार दरमियानी रात मौत हो गई! इस तरह जिले में कोरोना से जान गवाने वाले मरीजों की संख्या 2 हो गई! जिले में अब तक कोरोना मरीजों की संख्या 98 पहुंच गई है, जिसमें 12 स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं!

आर के पांडे को 26 अप्रैल को अस्पताल में भर्ती कराया गया था! वह 20 मार्च को फ्लाइट से बेंगलुरु से जबलपुर आए थे! कोरोना रिपोर्ट आने के 5 दिन पूर्व घर में फिसल कर गिर जाने के कारण उनकी कमर की हड्डी टूट गई थी! आर के पांडे वृद्ध पत्नी के साथ रहते थे, जबकि उनके बेटे स्विट्जरलैंड और बेटी बेंगलुरु में रहती है!

इधर देर रात जारी रिपोर्ट में कोरोना का एक और मरीज सामने आया! नगीना मस्जिद गोहलपुर निवासी एवं कृषि उपज मंडी में फल विक्रेता मोहम्मद शाहनवाज corona से संक्रमित मिला!

मुलतापी समाचार

कालापीपल बदमाशों ने पुलिस पर किया हमला


Multapi Samachar

मुलतापी समाचार

कालापीपल पीछा कर रहे आरक्षक पर बदमाशों ने लोहे की छड़ी से हमला कर दिया शनिवार को शुजालपुर की ओर से मोटरसाइकिल से आ रहे दो लोगों पर शंका होने पर कालापीपल थाना के आरक्षक जितेन्द्र पवैया ने साथी वेदप्रकाश परमार के साथ बदमाशों का पीछा किया कालापीपल-कुरावर रोड के ग्राम भान्याखेड़ी जोड़ पर पकड़ने के दौरान बदमाश पवन ने आरक्षक जितेन्द्र पवैया पर लोहे की छड़ से हमला कर दिया इससे उनके सिर में गंभीर चोट आई इसी दौरान दोनों बदमाश भाग खड़े हुए घायल जवान ने फिर भी हिम्मत नहीं हारी और इनका पीछा किया साथ ही मोबाइल से इसकी सूचना आसपास के ग्रामीणों को दी ग्राम बेहरावल में ग्रामीणों की मदद से इन बदमाशों को पकड़ा गया इस दौरान भागने का प्रयास करने पर ये बदमाश भी घायल हो गए…

कालापीपल से ब्रजमोहन परमार की रिपोर्ट मुलतापी समाचार

देश हित में योगदान: सोनिया गांधी का ऐलान- घर लौट रहे हर मजदूर के रेल टिकट का खर्च उठाएगी कांग्रेस


मुलतापी समाचार

Lockdown 3.0: सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने यह सवाल भी किया कि जब रेल मंत्रालय ‘पीएम केयर्स फंड’ में 151 करोड़ रुपये का योगदान दे सकता है, तो श्रमिकों को बिना किराये के यात्रा की सुविधा क्यों नहीं दे सकता?

नई दिल्ली. कोरोना महामारी (COVID-19) के बढ़ते मामलों की वजह से आज से देशभर में लॉकडाउन के तीसरे फेज (Lockdown 3.0) की शुरुआत हो चुकी है. लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्य तक पहुंचाने के लिए रेलवे के किराया लेने का फैसला सरकार और विपक्ष के बीच टकराव की नई वजह बन गया  है. ऐसे में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने ऐलान किया कि मजदूरों, कामगारों के घर लौटने की रेल यात्रा का खर्च कांग्रेस प्रदेश कमिटी उठाएगी.

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में जारी लॉकडाउन को 17 मई तक बढ़ाया गया है. सरकार ने शुक्रवार से फंसे हुए मजदूरों को उनके गृह राज्य तक पहुंचाने के लिए विशेष ट्रेनें चलानी शुरू की हैं. रेलवे के सर्कुलर के मुताबिक, स्थानीय सरकारी अधिकारी अपने द्वारा क्ल‍ियर किए गए मजदूरों को टिकट सौंपेंगे. उनसे टिकट का किराया वसूल करेंगे और कुल राशि रेलवे को सौंप देंगे. इसकी आलोचना करते कांग्रेस ने मजदूरों के लिए बड़ा ऐलान किया है.

कांग्रेस के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का बयान ट्वीट किया गया है, जिसमें कहा गया है, ‘भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने यह निर्णय लिया है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी की हर इकाई हर जरूरतमंद श्रमिक व कामगार के घर लौटने की रेल यात्रा का टिकट खर्च वहन करेगी व इस बारे जरूरी कदम उठाएगी.’

कांग्रेस अध्यक्षा, श्रीमती सोनिया गांधी का बयान

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने यह निर्णय लिया है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी की हर इकाई हर जरूरतमंद श्रमिक व कामगार के घर लौटने की रेल यात्रा का टिकट खर्च वहन करेगी व इस बारे जरूरी कदम उठाएगी।
 pic.twitter.com/DWo3VZtns0

— Congress (@INCIndia) May 4, 2020


सोनिया गांधी ने यह सवाल भी किया कि जब रेल मंत्रालय ‘पीएम केयर्स फंड’ में 151 करोड़ रुपये का योगदान दे सकता है, तो श्रमिकों को बिना किराये के यात्रा की सुविधा क्यों नहीं दे सकता? उन्होंने एक बयान में कहा, ‘श्रमिक व कामगार देश की रीढ़ की हड्डी हैं. उनकी मेहनत और कुर्बानी राष्ट्र निर्माण की नींव है. सिर्फ चार घंटे के नोटिस पर लॉकडाउन करने के कारण लाखों श्रमिक व कामगार घर वापस लौटने से वंचित हो गए.’

सोनिया ने कहा, ‘उनकी व्यथा सोचकर ही हर मन कांपा और फिर उनके दृढ़ निश्चय और संकल्प को हर भारतीय ने सराहा भी. पर देश और सरकार का कर्तव्य क्या है?’


कांग्रेस अध्यक्ष के मुताबिक, 1947 के बंटवारे के बाद देश ने पहली बार यह दिल दहलाने वाला मंजर देखा कि हजारों श्रमिक व कामगार सैकड़ों किलोमीटर पैदल चल घर वापसी के लिए मजबूर हो गए. न राशन, न पैसा, न दवाई, न साधन, पर केवल अपने परिवार के पास वापस गांव पहुंचने की लगन.


सोनिया गांधी ने कहा कि आज भी लाखों श्रमिक व कामगार देश के अलग-अलग कोनों से घर वापस जाना चाहते हैं, पर न साधन है, और न पैसा. दुख की बात यह है कि भारत सरकार व रेल मंत्रालय इन मेहनतकशों से मुश्किल की इस घड़ी में रेल यात्रा का किराया वसूल रहे हैं.

उन्होंने सवाल किया, ‘जब हम विदेशों में फंसे भारतीयों को अपना कर्तव्य समझकर हवाई जहाजों से निशुल्क वापस लेकर आ सकते हैं, जब हम गुजरात के एक कार्यक्रम में सरकारी खजाने से 100 करोड़ रुपये खर्च कर सकते हैं, जब रेल मंत्रालय प्रधानमंत्री के कोरोना कोष में 151 करोड़ रुपये दे सकता है तो फिर तरक्की के इन ध्वजवाहकों को निशुल्क रेल यात्रा की सुविधा क्यों नहीं दे सकते?’


सोनिया ने कहा, ‘कांग्रेस ने कामगारों की इस निशुल्क रेलयात्रा की मांग को बार-बार उठाया है. दुर्भाग्य से न सरकार ने एक सुनी और न ही रेल मंत्रालय ने. इसलिए कांग्रेस ने यह निर्णय लिया है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी की हर इकाई हर जरूरतमंद श्रमिक व कामगार के घर लौटने की रेल यात्रा का टिकट खर्च वहन करेगी व इस बारे जरूरी कदम उठाएगी.’

उन्होंने कहा कि मेहनतकशों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होने के मानव सेवा के इस संकल्प में कांग्रेस का यह योगदान होगा.

दरअसल, राज्यों पर टिकट जारी करने और किराया वसूल कर जमा करने जिम्मेदारी के कारण, विपक्ष द्वारा शासित ज्यादातर राज्यों को सियासी नुकसान होने की आशंका है. गैर-बीजेपी शासित राज्य मांग कर रहे हैं कि केंद्र इन प्रवासी श्रमिकों की यात्रा का खर्च वहन करे.