चिमनी गिर कर भभकने से झुलसी महि‍ला


जिला अस्‍पताल में नर्स द्वारा आग से झुलसी महिला का इलाज करते हुए

बैतूल। घर में काम करते समय चिमनी गिरने से एक युवती बुरी तरह से झुलस गई। उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। जानकारी के मुताबिक साईखेड़ा थानांतर्गत ग्राम गुड़ी निवासी शिवरती पिता सकाराम उईके (18) घर पर काम कर रही थी। इसी बीच उस पर चिमनी गिर गई। इससे उसके कपड़ों में आग लग गई और वह गंभीर रूप से झुलस गई। परिजनों ने उपचार के लिए उसे जिला अस्पताल लाया है। बताया जाता है कि युवती 50 से 60 प्रतिशत जल गई है।

जबलपुर; परेशान था स्टाफ, कलेक्टर साहब ने बाल कहां से बनवाएं!


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

जबलपुर: lockdown में अगर सैलून और नाई की दुकान बंद है तो क्या हुआ। अगर घर में पत्नी एक्सपर्ट है तो परेशान होने की जरूरत नहीं। पत्नी ही हेयर कट कर आपको अच्छा लुक दे सकती है। जबलपुर कलेक्टर भरत यादव के साथ भी ऐसा ही हुआ।

कोरोना संक्रमण और लाखडाउन के बीच जिंदगी से कई तरह के समझौते चल रहे हैं। जैसे एक परेशानी हेयर कटिंग सैलून बंद होने से भी है। लोग परेशान हैं कि अब बाल कहां से कटवाए। इसी समस्या से जबलपुर कलेक्टर भरत यादव भी जूझ रहे थे। कोरोना संक्रमण के दौर में जिम्मेदारी और बढ़ गई है। लेकिन काम अपनी जगह है और पर्सनल लुक अपनी जगह। दुकान नहीं खुली तो कोई बात नहीं। उन्होंने घर पर ही हेयर कट करवा लिए, उनकी हेयर ड्रेसर बनी उनकी पत्नी।

इसके साथ ही कलेक्टर भरत यादव ने सबको संदेश दे दिया कि लाकडाउन में अवैध तरीके से सैलून या पार्लर न खोलें। हेयर ड्रेसर को अवैध तरीके से बुलाने या फिर चोरी छुपे किसी सैलून में जाने से बेहतर है कि सावधानी बरतें और घर पर ही रहें। यह काम आपके परिवार के सदस्य भी कर सकते हैं। रेड जोन में शामिल जबलपुर जिले में 17 मई तक टोटल लाख डाउन है। सिर्फ जरूरी सेवाओं और सुविधाओं के लिए ही छूट है।

मुलतापी समाचार

चंबल के खूंखार आत्मसमर्पित डाकू का निधन


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

भिंड: पूर्व दस्यु सरदार मोहर सिंह गुर्जर का 92 साल की उम्र में आज सुबह निधन हो गया। साठ के दशक के इस दस्यु सरदार के खिलाफ पुलिस रिकॉर्ड में 315 अपराध दर्ज थे। गिरफ्तारी पर उस वक्त 2 लाख रुपए का इनाम घोषित था। अपराध की दुनिया छोड़ने के बाद वह गरीबों की मदद और गरीब कन्याओं की शादी कराने के लिए फेमस हुए थे।

चंबल के बीहड़ों ने ना जाने कितने डाकुओं को पनाह दी। लेकिन चंबल के बीहड़ में सबसे खतरनाक डकैत जिसके नाम से बीहड़ भी कहां पर थे, उसका नाम था मोहर सिंह। मानसिंह के बाद चंबल घाटी का सबसे बड़ा डाकू मोहर सिंह ही था। जिसके पास डेढ़ सौ से ज्यादा डाकू थे। चंबल घाटी में उत्तर प्रदेश ,मध्य प्रदेश और राजस्थान की पुलिस फाइलों में उसका नाम दुश्मन नंबर एक के तौर पर दर्ज था। साठ के दशक में उसका ऐसा आतंक फैल चुका था कि लोग कहने लगे थे कि चंबल में मोहर सिंह की बंदूक ही फैसला करेगी और उसकी आवाज ही चंबल का कानून।

चंबल में पुलिस रिकॉर्ड की बात करें तो 1960 में अपराध की शुरुआत करने वाले मोहर सिंह ने इतना आतंक मचा दिया था कि सब खौफ खाने लगे थे । एनकाउंटर में मोहर सिंह के साथी आसानी से पुलिस को चकमा देकर निकल जाते थे । उसका नेटवर्क इतना बड़ा था कि पुलिस के चंबल में पैर रखते ही उसको खबर हो जाती थी और मोहर सिंह अपनी रणनीति बदल देता था।

1958 में पहला अपराध कर पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज होने वाले मोहर सिंह ने जब अपने कंधे से बंदूक उतारी तब तक वह ऑफीशियली रिकार्ड में 2 लाख रुपए का इनामी डकैत हो चुका था और उसके गैंग पर 12 लाख रुपए का इनाम था। पुलिस फाइल में 315 मामले मोहर सिंह के नाम थे और 85 कत्ल का जिम्मेदार मोहर सिंह था। उसके अपराधियों का एक लंबा सफर था। लेकिन अचानक ही इस खूंखार डाकू ने बंदूक रखने का फैसला कर लिया।

मुलतापी समाचार

चिंताजनक: लाकडाउन के बाद भी देश में कोरोना संक्रमितों का  बढ़ते जाना


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

नई दिल्ली: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण की चैन को तोड़ने के लिए देश में 24 मार्च से जारी लाक‌डाउन का आज 42 वा दिन है! लेकिन तमाम एहतियात के बावजूद भी देश में कोरोना संक्रमितो की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है! देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 46 हजार से ज्यादा हो गई है। वहीं मृतकों की संख्या 1500 से ज्यादा हो गई है।

देशभर में कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 3900 नए मामले सामने आए हैं और 195 लोगों की मौत हुई है। यह संख्या भारत में अब तक सर्वाधिक है। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 46433 हो गई है। जिसमें 32138 सक्रिय हैं, 12727 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 1568 लोगों की मौत हो चुकी है।

मुलतापी समाचार

नर्मदा जी मे नहाने गए दो बालकों की अज्ञात कारणों से मौत


मुलतापी समाचार

नीलकंठ नसरुल्लागंज जिला सीहोर में सोमवार को दो बच्चों की डूबने से मौत, एक बच्चे के शरीर पर करंट से जलने के निशान। शायद मछली मारने के लिए नदी में मछवारों ने फैलाया गया था करंट। जिससे नदी में नहाने के लिए कूदे बच्चें वापस बाहर जिंदा नही आ सके।

नसरुल्लागंज प्रशासन इस घटना को गंभीरता से नही ले रही। क्षेत्र वाशियों को आशंका है कि यह करतूत नदी से मछली पकड़े वालों मछवारों की ही कारस्तानी हैं जिसे स्थानीय पुलिस छिपा रही हैं, जिसका हर्जाना इन दो माशूम बालकों को अपनी जान से हाथ धो के चुकाना पड़ा हैं। यह एक गम्भीर घटना है जिसे प्रशासन प्रमुखता ओर गंभीरता से लेकर जांच करें तो इन बच्चों के परिजनों को न्याय दिला सकती हैं ।

न्यूज रिपोर्टर सुनील यादव भोपाल