सीएम शिवराज सिंह चौहान का एडिटेड वीडियो ट्वीट करने पर दिग्विजय सिंह के खिलाफ एफआईआर


भोपाल। भाजपा नेताओं की शिकायत पर रविवार रात क्राइम ब्रांच ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। शिकायत में बताया गया कि रविवार दोपहर 01ः50 बजे पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने अधिकारिक ट्वीटर अकाउंट पर एक वीडियो डाला है। इस वीडियो में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह कह रहे हैं कि दारू इतनी फैला दो कि पीयें और पड़े रहें। शिकायत में जिक्र किया गया है कि यह वीडियो 12 जनवरी 2020 को शिवराजसिंह के अधिकृत ट्वीटर अकाउंट पर डाला गया था। 2 मिनट 19 सेकेंड के इस वीडियो में छेड़छाड़ कर 9 सेकेंड का वीडियो तैयार किया गया है। जिसे दिग्विजयसिंह ने अपने ट्वीटर पर डाला है

एएसपी क्राइम ब्रांच निश्चल झारिया ने बताया कि रविवार रात को पूर्व मंत्री व विधायक विश्वास सारंग, पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता,विधायक कृष्णा गौर,रामेश्वर शर्मा आदि ने लिखित शिकायत की। साक्ष्य के तौर पर वीडियो की कॉपी पेन ड्राइव में पेश की। शिकायत में बताया गया कि कमलनाथ सरकार की आबकारी नीति में गांव-गांव में शराब दुकान खोलने की रूपरेखा बनाई जा रही थी। इस पर 12 जनवरी को किसी पत्रकार ने शिवराजसिंह चौहान से प्रतिक्रिया ली थी। उसमें शिवराजसिंह ने साक्षात्कार के दौरान तत्कालीन सरकार की आबकारी नीति के विरोध में समाज हित पर अपनी टिप्पणी की थी। साक्षात्कार का यह 2 मिनट 19 सेकेंड का वीडियो उसी दिन शिवराजसिंह के अधिकृत ट्वीटर अकाउंट पर डाला गया था।

उसी वीडियो में कांटछांट कर 9 सेकेंड का वीडियो तैयार किया गया है। उसे रविवार दोपहर 01ः50 बजे पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने अधिकारिक ट्वीटर अकाउंट पर डाला है। एएसपी झारिया ने बताया कि इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई। उधर सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के पुराने वीडियो में कांटछांट कर सोशल मीडिया पर वायरल भी हुआ। इसी मामले में सोशल मीडिया मॉनीटरिंग सेल ने अविनाश कड़वे नाम के व्यक्ति व अन्य के खिलाफ धारा-500,501,505(1)बी,67 आइटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। इन पर आरोप है कि इन्होंने दिग्विजिय सिंह का उक्त वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया था।

CGBSE Result 2020 : 10वीं-12वीं बोर्ड के परिणाम इसी हफ्ते होंगे जारी


छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ( माशिमं) की 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा के परिणाम इसी हफ्ते जारी होंगे। कोरोना के कारण 10वीं-12वीं बोर्ड के बचे हुए पेपर नहीं होंगे।

माशिमं के सचिव प्रो. वीके गोयल के मुताबिक जिन स्कूलों में प्री बोर्ड परीक्षा हुई थी उसके आधार पर ही बचे हुए प्रश्न पत्रों में अंक मिलेंगे। जहां प्री बोर्ड परीक्षा नहीं हो पाई थी वहां छमाही परीक्षा के अंक को भी आधार बनाया जा सकता है। दोनों परीक्षाओं में करीब सात लाख परीक्षार्थी शामिल हुए हैं।

माशिमं की 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षाओं में शामिल होने वाले खिलाड़ियों को बोनस अंक मिलते हैं। इस साल तीन हजार 522 छात्र-छात्राओं को बोनस अंक दिया जाएगा। पिछले साल तीन हजार 385 छात्र-छात्राओं को इसका फायदा मिला था। इस साल 137 परीक्षार्थियों को अधिक फायदा होगा