केसरिया हिंदू परिषद संगठन के योगेश पवार बने जिला मीडिया प्रभारी


केसरिया हिंदू परिषद संगठन के योगेश पवार बने जिला मीडिया प्रभारी।

बैतूल नगर के युवा समाजसेवी एवं 108 में इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन के पद पर कार्य कर रहे योगेश पवार को आज केसरिया हिंदू परिषद संगठन बैतूल जिले के जिला मीडिया प्रभारी के पद पर नियुक्त किया गया जानकारी अनुसार इनकी नियुक्ति परिषद के संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेश शर्मा के अनुशंसा पर प्रदेश अध्यक्ष सुजीत कुमार शर्मा, जिला अध्यक्ष दिनेश चढोकार ने की है इस अवसर पर योगेश पवार ने कहा की मानव सेवा ही माधव सेवा है और यही मेरा उद्देश्य है उन्होंने कहा की केसरिया हिंदू परिषद के पदाधिकारियों ने जो मुझे जिम्मेदारी दी है और जो भरोसा जताया है मैं उसे बखूबी निभाऊंगा साथ ही क्षेत्र में संगठन का कार्यकारिणी संगठन की नियुक्ति पर उन्हें इष्ट मित्रों ने बधाइयां दी है।

सीमा पर बढ़े भारत-चीन तनाव के बीच Zoom, TikTok और Helo जैसे चीनी ऐप हटाने लगे लोग


कोरोना काल में भले ही अनलॉक वन आ गया हो, लेकिन अभी भी लॉकडाउन माना जा सकता है। तमाम कंपनियां अपने कर्मचारियों से घर से ही काम लेने (Work From Home) में जुटी हैं। ऑफिस की मीटिंग, वीडियो कॉन्फ्रेंसिग, असाइनमेंट पूरा करने, ऑनलाइन क्लास जैसे तमाम काम ऑनलाइन ही किये जा रहे हैं। इसमें चीनी ऐप काफी मदद कर रहे थे, लेकिन सीमा पर चीन से तनाव बढ़ा। उसका गुस्सा मोबाइल यूजर्स पर आसानी से देखा जा सकता है। नोएडा के लोगों ने चीन को चुनौती देते हुए उसकी कंपनियों के ऐप अपने मोबाइल से हटाना शुरू कर दिया है। लोग रिमूव चाइना ऐप गूगल प्ले स्टोर से डाउन लोड कर आसानी से इसे अंजामदे रहे हैं। एक ही झटके में जूम, टिक टॉक, कैम स्कैनर, हैलो, लाइकी जैसे ऐप को मोबाइल से बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है। इसके विकल्प में जो स्वदेशी ऐप मौजूद हैं, उन्हें डाउनलोड कर रहे हैं।

लोगों के इस कार्य से गृह मंत्रालय के उस मकसद को भी बल मिलेगा जिसके लिए हाल ही में चीनी कंपनियों के ऐप को न इस्तेमाल करने की गाइड लाइन जारी की गई थी। इसमें साफ कहा गया था कि चीनी ऐप Zoom सुरक्षित प्लेटफॉर्म नहीं है। मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी की कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम ने भी इसे लेकर लोगों को आगाह किया था।

नोएडा एंटरप्रिनियोर्स एसोसिएशन के उपाध्यक्ष राकेश कोहली कहते हैं कि शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि देने एनइए कार्यालय पर आया था। गुस्सा इतना ज्यादा था कि मौके पर रिमूव चाइना एप प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सारे चीनी एप को मोबाइल से बाहर कर दिया।

वहीं, एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर हैंडीक्रॉफ्ट के पूर्व उपाध्यक्ष राजेश कुमार जैन का कहना है कि सभी सदस्यों और अपने साथियों से अपील की जा रही है कि वह चीनी ऐप का इस्तेमाल करना बंद करें और उन्हें अपने मोबाइल से बाहर करें। अपील का तत्काल असर दिख रहा है। हालांकि ये जरूरी ऐप थे, लेकिन अब भारतीय एप्लीकेशन डाउनलोड हो रहे हैं।