समाज सेवा के क्षेत्र में इतनी कम उम्र में मिसाल बन रहे -आदर्श अग्निहोत्री


बैतूल :- आज कल की युवा पीढ़ी मोबाइल गेम्स के पीछे पागल है,और कुछ युवा लड़के आवारगी करके अपना समय बर्बाद करते है,,

आदर्श अग्निहोत्री

इन्हीं युवाओं के बीच एक लड़का ऐसा भी है जो शिवाजी महाराज और भगत सिंह को अपना आदर्श मानकर धर्म के प्रति अपना समय दे रहा है और देश व हिन्दू धर्म के कार्य में लगा हुआ है।


विश्व हिन्दू परिषद् बजरंग दल के कार्यकर्ता आदर्श अग्निहोत्री (किट्टू) निस्वार्थ कर रहे समाज सेवा व धार्मिक कार्य।
बैतूल गर्ग कॉलोनी निवासी 18 वर्षीय आदर्श अग्निहोत्री द्वारा पिछले कुछ महीनों से निस्वार्थ समाज सेवा,गौ सेवा, हिंदुत्व के लिए एवं धर्म के लिए कार्य किए जा रहे है।


आदर्श अग्निहोत्री ने पिछले 2 महीनों में बैतूल में रहने वाले 4 लोगो पर जो फ़ेसबुक पर हिन्दू धर्म पर आपत्ति जनक बाते कर रहे थे, उनपर कानूनी कार्यवाही करवाकर सजा दिलवाई है।


पिछले 2 महीनों में आदर्श द्वारा 15 से भी अधिक गौ वंश जो कि सड़क दुर्घटना में घायल हुए थे उनका इलाज़ करवाया गया।
कॉरोना काल में आदर्श द्वारा जरूरतमंद लोगो को 10000 से अधिक मास्क वितरित करवाए गए।


बैतूल के हिन्दू युवा भी आदर्श का समर्थन करते है, युवाओं का कहना है कि आदर्श हिन्दू धर्म के लिए जिस तरह कार्य कर रहे है, इसे देखकर लगता है कि वह पूरे भारत में बैतूल जिले का नाम रौशन करेगा।
आदर्श अग्निहोत्री हिंदुत्व और देश के लिए कार्य करने में कभी पीछे नहीं हटते है, हमारे देश को आदर्श जैसे युवाओं कि जरूरत है जो एक दिन इतिहास रचकर हिंदुत्व और भारत का नाम रौशन करेगे।

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल

भारत में राफेल का स्वागत, वायु सेना की युद्धक क्षमता और मजबूत होंंगी, पीएम मोदी और राजनाथ ने किया स्‍वागत


भारतीय राफेल लड़ाकू विमानों में सामील हुआ अम्‍बाला पहुचकर

राफेल लड़ाकू विमानों ने बुधवार को अंबाला एयरबेस पर सफल लैंडिंग की. सोशल मीडिया पर लोगों ने राफेल लड़ाकू विमान का जबरदस्त स्वागत किया, तो राजनीतिक क्षेत्र में इसपर घमासान छिड़ा रहा.

भारत को मिली राफेल विमान की पहली खेप

अंबाला में राफेल के पांच विमानों ने की सफल लैंडिंग

फ्रांस से हुई डील के तहत मिलने हैं 36 विमान

मुलतापी समाचार

देश को आखिरकार लंबे इंतजार के बाद राफेल लड़ाकू विमान मिल ही गया है. बुधवार को आसमान से बरसती हुई बारिश की बूंदों के रुकने के कुछ देर बाद ही अंबाला के एयरबेस पर पांच राफेल विमानों ने लैंडिंग की. फ्रांस से मिलने वाले कुल 36 विमानों में ये पहली खेप है, जिसका शानदार स्वागत हुआ. साथ ही साथ बुधवार को ही कई मोर्चों पर राजनीतिक घमासान भी देखने को मिला. हिन्दुस्तान में राफेल लड़ाकू विमानों का पहला दिन कैसा रहा, नज़र डालिए…

UAE से भरी उड़ान अंबाला में लैंडिंग

मंगलवार को फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमानों ने उड़ान भरी थी, जिसके बाद वो UAE में रुके. UAE से जब बुधवार सुबह उड़ान भरनी थी, तो अंबाला में लगातार बादल छाए हुए थे. जिस वजह से जोधपुर में एक बैकअप लैंडिंग प्लान तैयार किया गया, हालांकि जबतक राफेल विमान आए तबतक मौसम पूरी तरह साफ हो गया था. राफेल ने जब अंबाला एयरबेस की धरती पर कदम रखा, तो वाटर सैल्यूट के द्वारा उनका स्वागत किया गया.

‘’हैप्पी हंटिंग, हैप्पी लैंडिंग’’

UAE से उड़ान भरने के कुछ ही मिनटों बाद राफेल लड़ाकू विमानों ने भारतीय वायुसीमा में प्रवेश कर लिया था. इस दौरान उनका स्वागत भारतीय नौ सेना के INS कोलकाता ने किया, जो समुद्री सीमा की रक्षा में लगा हुआ था. INS कोलकाता ने राफेल विमानों का भारतीय सीमा में स्वागत किया, साथ ही बधाई देते हुए कहा कि आप आसमान की ऊंचाइयों को छुएं, आपकी लैंडिंग सफल हो. जवाब में राफेल पायलट की ओर से भी INS कोलकाता को हैप्पी हंटिंग विश किया गया.

पीएम और रक्षा मंत्री ने किया स्वागत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राफेल के आगमन पर संस्कृत भाषा में एक श्लोक ट्वीट किया, जिसका अर्थ था कि राष्ट्र रक्षा के समान कोई पुण्य नहीं, राष्ट्र रक्षा के समान कोई व्रत नहीं, राष्ट्र रक्षा के समान कोई यज्ञ नहीं.

वहीं, राफेल का लैंडिंग करते वक्त टचडाउन का वीडियो रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट पर डाला, जो देखते ही देखते वायरल हो गया. उन्होंने साथ ही लिखा कि ये वायुसेना के इतिहास में क्रांतिकारी बदलाव है, अब अगर कोई दुश्मन हमारी ज़मीन पर बुरी नज़र डालता है तो उसे कई बार सोचना होगा.

राहुल गांधी ने फिर किया सरकार से सवाल

राफेल लड़ाकू विमान का मसला लोकसभा चुनाव 2019 में जोरों पर था. राहुल गांधी की ओर से इस विमान की डील में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया गया और गलत तरीके से अनिल अंबानी की कंपनी को फायदा पहुंचाने की बात कही गई. राहुल ने इस भ्रष्टाचार का सीधा आरोप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ही लगाया था. बुधवार को भी राहुल गांधी ने ट्वीट कर तीन सवाल पूछे जिसमें राफेल विमानों की सही कीमत, 126 विमानों की जगह 36 विमानों की डील क्यों और अनिल अंबानी को पहुंचे फायदे की सच्चाई जाननी चाही.

मतलब है कि भारत और फ्रांस के बीच गवर्नमेंट टू गवर्नमेंट एग्रीमेंट के तहत राफेल लड़ाकू विमानों का सौदा हुआ था. ये डील करीब 58 हजार करोड़ रुपये की थी, जिसके तहत भारत को आधुनिक सुविधाओं से लैस कुल 36 राफेल लड़ाकू विमान मिलने हैं. पहली खेप के तहत पांच विमान पहुंच गए हैं, इनके अलावा पांच अभी ट्रेनिंग पीरियड में हैं जो जल्द ही भारत पहुंचेंगे. सभी 36 विमानों की डिलीवरी 2021-22 तक पूरी होने की संभावना है.

Betul जज के पूरे परिवार को खत्म करनेे की थी साजिस महिला मित्र, छह गिरफ्तार


महिला मित्र ने लियेे रूपयों का मामला सामने आया

तांत्रिक बाबा द्वारा आटा अभिमंत्रित कर

जज और उनके बेटे की हत्या में महिला समेत छह गिरफ्तार – तांत्रिक से अभिमंत्रित कराने आटा मांगा और मिला दिया जहर।

Multapi Samachar

Betul News : बैतूल। बैतूल में पदस्थ रहे अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश (एडीजे) महेन्द्र कुमार त्रिपाठी और उनके पुत्र अभिनयराज की मौत का मामला हत्या में बदल गया है। जज की महिला मित्र उनके पूरे परिवार को मौत के घाट उतारना चाहती थी, लेकिन छोटा बेटा आशीषराज त्रिपाठी और पत्नी बच गए। पुलिस ने बुधवार को पूरे मामले का राजफाश कर दिवंगत एडीजे की महिला मित्र और वारदात में मददगार बने उसके पांच साथियों को गिरफ्तार कर लिया है।

बैतूल की पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने बताया रीवा जिले की मूल निवासी छिंदवाड़ा में रह रही एनजीओ संचालिका संध्या सिंह से एडीजे त्रिपाठी के 10 वर्ष से संबंध थे और उसका उनके घर भी आना-जाना था।कुछ दिनों से एडीजे परिवार को अधिक समय दे रहे थे, जिससे संध्या स्वयं को अकेला महसूस करने लगी।

कुछ लेनदेन को लेकर भी दोनों के बीच कटुता बढ़ गई थी। इससे नाराज होकर 44 संध्या ने एडीजे और उनके परिवार को खत्म करने की साजिश रची।

इस तरह दिया झांसा

संध्या ने एडीजे को घर-परिवार में कलह खत्म करने और समृद्धि लाने का झांसा दिया और एक तांत्रिक द्वारा आटा अभिमंत्रित कर देने की बात बताई।

इसके लिए एडीजे राजी हो गए और घर से करीब आधा किलो आटा लेकर संध्या के घर 18 जुलाई को छिंदवाड़ा गए। दो दिन बाद 20 जुलाई को संध्या स्वयं कार से बैतूल आईं और सर्किट हाउस के पास एडीजे को आटा देकर उनके घर में रखे आटे में मिलाकर उसकी रोटियां खाने की सलाह दी।

इस पर त्रिपाठी ने घर में रखे आटे में उसे मिला दिया और उससे बनी रोटियां खाने के बाद उनकी और दोनों बेटों की हालत बिगड़ गई। 21 जुलाई से 23 जुलाई तक वे घर में ही उपचार कराते रहे, लेकिन जब स्थिति गंभीर हुई तो देर शाम एडीजे और उनके बड़े बेटे को पाढर के स्थानीय अस्पताल में भर्ती किया गया।

25 जुलाई को हालत बिगड़ने पर पिता-पुत्र को नागपुर अस्पताल रेफर किया, जहां दोनों की मौत हो गई। इन्हें किया गिरफ्तार पुलिस ने त्रिपाठी व बेटे की हत्या के आरोप में संध्या पति संतोष सिंह, उसके ड्राइवर संजूू, सहयोगी देवीलाल चंद्रवंशी, मुबीन खान, कमल और बाबा उर्फ रामदयाल सभी निवासी छिंदवाड़ा को गिरफ्तार किया है।