Rahat Indori : मशहूर शायर, दिलों पर राज करने वाले राहत इंदौरी सुपुर्दे खाक, कोविड के नियमों तहत दफनाया


राहत इंदौरी सुपुर्दे खाक मशहूर शायर

Rahat Indori News : इंदौर। अपनी शेरो-शायरी के जरिए लाखों लोगों के दिलों पर राज करने वाले मशहूर शायर राहत इंदौरी को मंगलवार सुपुर्दे खाक किया गया।शहर के छोटी खजरानी स्थित कब्रस्‍तान में उन्‍हें कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए दफनाया गया।अरबिंदो अस्‍पताल से ही उनके शव को एंबुलेंस के जरिए कब्रस्‍तान लाया गया। वहां नमाज अदा की गई। चुनिंदा लोगों की मौजूदगी में उनकी अंत्‍येष्टि की गई।

देश के प्रसिद्ध शायर डॉ. राहत इंदौरी का इंदौर में मंगलवार शाम चार बजे दिल का दौरा पड़ने से इंतकाल हो गया। राहत इंदौर की कोरोना वायरस रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती किया गया था। कोरोना से संक्रमित होने की जानकारी राहत इंदौरी ने खुद ट्वीट कर दी थी।

डॉ. राहत की तबीयत कुछ दिनों से ठीक नहीं थी और वे एक निजी अस्पताल में इलाज करा रहे थे। उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद सोमवार को रेड श्रेणी के अस्पताल अरबिदो में भर्ती कराया गया था। दोपहर बाद एक बजे उन्हें दिल का पहला दौरा पड़ा। इसके बाद दिल के और दो दौरे पड़े और शाम चार बजे उनका निधन हो गया।डॉ. राहत के निधन पर देशभर से जानी मानी हस्तियों ने शोक संवेदनाएं व्यक्त की हैं।

“मैं मर जाऊँ तो मेरी इक अलग पहचान लिख देना, लहू से मेरी पेशानी पे हिन्दुस्तान लिख देना..!” -Rahat Indori RIP Raahat Saab!

आपकी कमी हमेशा खलेगी।

Ratlam News : रतलाम में मकान की छत गिरने से पति-पत्नी और दो बच्चों की मौत


Ratlam News : रतलाम औद्योगिक थाना क्षेत्र के जवाहर नगर चारबत्ती चौराहे के समीप गुरुवार तड़के करीब पांच बजे जर्जर मकान की छत गिर गई। मलबे में छत के नीचे सो रहे पति-पत्नी और उनके दो बच्चे दब गए। इससे दो बच्चों व उनकी मां की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि परिवार के मुखिया ने इंदौर ले जाते समय रास्ते में दम तोड़ दिया। पति-पत्नी मूल रूप से झाबुआ जिले के ग्राम पारा के रहने वाले थे। प्रेम विवाह करने के बाद करीब 15 वर्ष से वे यहां रह रहे थे। चारों का अंतिम संस्कार स्थानीय जवाहरनगर मुक्तिधाम पर किया गया।

जानकारी के अनुसार जीप ड्राईवर 34 वर्षीय मोहन कहार पुत्र शांतिलाल कहार निवासी ग्राम पारा (झाबुआ) हालमुकाम चार बत्ती चौराहा जवाहर नगर में दयाशंकर वर्मा के मकान में किराए से रह रहे थे। वे बुधवार रात पत्नी 32 वर्षीय शर्मिला, 11 वर्षीय पुत्र राजवीर उर्फ कान्हा व 6 वर्षीय पुत्री इशिका के साथ सो गए थे। गुरुवार सुबह करीब पांच बजे चारों नींद में थे, तभी मकान की छत उनके ऊपर जा गिरी। छत गिरने से जोरदार आवाज होने पर आसपास के लोग, पूर्व पार्षद राजीव रावत और मॉर्निग वॉक पर निकले लोग मौके पर पहुंचे। तत्काल मलबा हटाकर चारों को बाहर निकालकर जिला अस्पताल ले जाया गया लेकिन, तब तक शर्मिला, राजवीर व इशिका की मौत हो चुकी थी।

रेलवे में आउटसोर्सिंग के आधार पर 5285 पदों पर भर्ती – खबर फर्जी


रेलवे ने कहा- निजी एजेंसी को ऐसा करने के लिए अधिकृत नहीं किया गया है।

दिल्ली। रेलवे में आउटसोर्सिंग के आधार पर आठ श्रेणियों में  5285 पदों पर भर्ती के लिए समाचार पत्र में एक निजी एजेंसी ने  विज्ञापन, दिया है। रेलवे ने प्रेसनोट जारी का इसका खंडन किया है। रेलवे ने कहा कि भारतीय रेलवे पर पदों की आठ श्रेणियों में कथित भर्ती के संबंध में एक समाचार पत्र में एक निजी एजेंसी द्वारा एक  विज्ञापन के बारे में स्पष्ट जानकारी।  किसी भी रेलवे भर्ती के लिए विज्ञापन हमेशा भारतीय रेलवे द्वारा ही किया जाता है।  किसी भी निजी एजेंसी को ऐसा करने के लिए अधिकृत नहीं किया गया है।  विचाराधीन उक्त विज्ञापन जारी करना गैरकानूनी है और धोखाधड़ी के लिए गलत है।  एजेंसी के खिलाफ सख्त पहल करने के लिए रेलवे  नई दिल्ली, 09 अगस्त, 2020 रेलवे मंत्रालय के संज्ञान में आया है कि “अवेस्ट्रन इन्फोटेक” के नाम से एक संगठन ने वेबसाइट के पते http://www.avestran.in में 8 अगस्त 2020 को एक प्रमुख समाचार पत्र में एक विज्ञापन दिया है जिसमें आवेदन मांगे गए हैं।  11 साल के अनुबंध पर भारतीय रेलवे में आउटसोर्सिंग के आधार पर आठ श्रेणियों में कुल 5285 संख्या में पोस्ट के खिलाफ।  आवेदकों से रु .750 / -स ऑनलाइन शुल्क जमा करने के लिए कहा गया है और आवेदन की प्राप्ति के लिए अंतिम बार 10 वीं सेप्टे 20 के रूप में उल्लेख किया गया है।  यह सभी को सूचित किया जा सकता है कि किसी भी रेलवे भर्ती के लिए विज्ञापन हमेशा भारतीय रेलवे द्वारा ही किया जाता है।  किसी भी निजी एजेंसी को ऐसा करने के लिए अधिकृत नहीं किया गया है।  प्रश्न में उक्त विज्ञापन जारी करना गैरकानूनी है।  इस संबंध में, यह भी स्पष्ट किया गया है कि भारतीय रेलवे पर ग्रुप सी ‘और पूर्ववर्ती ग्रुप’ डी ‘पदों की विभिन्न श्रेणियों की भर्ती वर्तमान में 21 रेलवे भर्ती बोर्डों (आरआरबीएस) और 16 रेलवे भर्ती सेल (आरआरसी) द्वारा की जाती है।  किसी अन्य एजेंसी द्वारा नहीं।  भारतीय रेलवे पर रिक्तियों को केंद्रीयकृत रोजगार अधिसूचना (CENS) के माध्यम से व्यापक प्रचार देकर भरा जाता है।  रेलवे ऑन लाइन आवेदन पूरे देश में योग्य उम्मीदवारों से लिए जाते हैं।  CEN को रोजगार समाचार / रोज़गार समचार के माध्यम से प्रकाशित किया जाता है और राष्ट्रीय दैनिक और स्थानीय समाचार पत्रों में एक संकेत दिया जाता है।  आरईएन / आरआरसीएस की आधिकारिक वेबसाइटों पर सीईएन भी प्रदर्शित किया जाता है।  सभी आरआरबीएस / आरआरसीएस का वेबसाइट पता CEN में उल्लिखित है।  यह आगे स्पष्ट किया गया है कि रेलवे ने किसी भी निजी एजेंसी को अधिकृत नहीं किया है कि वह अपनी ओर से कथित भर्ती एजेंसी द्वारा कथित रूप से कर्मचारियों की भर्ती कर सके।  रेलवे ने इसकी जांच शुरू कर दी है और उपरोक्त एजेंसी / उपरोक्त मामले में शामिल व्यक्तियों के खिलाफ कानून के अनुसार सख्त कार्रवाई करने जा रहा है। 

UP RVP राष्ट्रीय वंचित पार्टी की यूपी पर नजर, प्रदेश कार्यालय का उद्घाटन


Multapi Samachar

-राष्ट्रीय अध्यक्ष सुशील कुमार यादव यूपी के दौरे पर आए
-पार्टी पदाधिकारी घोषित, वंचितों की सरकार बनाने का आह्वान
आगरा। उत्तर प्रदेश के दौरे पर आए राष्ट्रीय वंचित पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुशील कुमार यादव ने आगरा को दो दिन दिए। नौ अगस्त को यहां प्रदेश के प्रमुख पदाधिकारियों के साथ बैठक की। 10 अगस्त को पार्टी के महिला मोर्चा के प्रदेश कार्यालय का उद्घाटन किया। उन्होंने जिला और महानगर अध्यक्षों की घोषणा की। इस मौके पर उन्होंने वंचितों की सरकार बनाने का आह्वान किया। वर्ष 2022 में यूपी विधानसभा चुनाव पूरी दमदारी से लड़ने का आह्वान किया।


एमआईजी-ए-106, शास्त्रीपुरम, सिकंदरा में पार्टी का प्रदेश कार्यालय स्थापित किया गया है। लक्ष्मी शर्मा को महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है। दिलीप तिवारी को जिलाध्यक्ष और सुरेश चन्द्र को जिला महामंत्री, आलोक चतुर्वेदी को महानगर अध्यक्ष और रजनीश मौर्या को महानगर मंत्री, उमा दीक्षित को महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। नियुक्ति पत्र सौंपेते समय सुशील कुमार यादव ने वंचितों की सेवा का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि आगरा में सभी नौ विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ना है। इसमें से से पांच सीटों पर महिला प्रत्याशी होंगी। जिला स्तर पर ही महिला प्रत्याशी चयनित किए जाएंगे।
कार्यालय उद्घाटन के बाद सभा में सुशील कुमार यादव ने कहा कि वंचित ही दलित है। ऐसे लोग हर जाति और धर्म में मिलेंगे। वंचितों की सेवा की दिल में आग जलनी चाहिए। कोई वंचित है तो उसे चाय की दुकान खुलवाओ। मेरा कोई भी वंचित सड़क पर नहीं होना चाहिए। उन्होंने नारा दिया- हर घर रोटी और रोजगार चाहिए-अबकी बार वंचितों की सरकार चाहिए। कहा कि उत्तर प्रदेश में 2016 से लगातार काम कर रहे हैं। 900 अधिक वंचितों को दुकानें खुलवाई हैं। 700 से अधिक बेटियों को पढ़ाया जा रहा है। इनकी शादी भी कराएंगे। इसी तरह का काम सबको करना है। मुझे चश्मे से वंचितों के घर का बुझा हुआ चूल्हा दिखाई देता है।


कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए रघुवीर प्रसाद वर्मा ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष की बातों को सुनकर पहली बार लगा कि वंचितों का उत्थान होने वाला है। राष्ट्रीय महासचिव दिनेश गौड़ ने साफा बांधकर स्वागत किया। सभी पदाधिकारियों ने उन्हें पुष्पहारों से लाद दिया। मंच पर दिल्ली से राष्ट्रीय सचिव अनिल मिश्रा और राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी जय सिंह चौहान मौजूद थे। कार्यक्रम में संजय लोधी, कल्याण दीक्षित, श्याम सुंदर शर्मा, पूरन सिंह राजपूत एडवोकेट समेत महिलाओं और युवाओं की संख्या उल्लेखनीय रही। संचालन डॉ. प्रशांत वर्मा ने किया। सुशील कुमार यादव यहां से सीधे चम्बल संभाग के दौरे पर निकल गए।uy

lord श्री कृष्ण ने ही बनाए थे भारत के ये 3 शहर कृष्‍ण जन्‍मोत्‍सव पर विशेष


जन्माष्टमी

Multapi Samachar

lord-shri-krisha-janmastmi

भगवान् श्री कृष्ण का जन्मोत्सव पुरे देश में बहुत धूम धाम से मनाया जाता है ! इस साल की जन्माष्टमी 2 दिन यानी 11 और 12 अगस्त को मनाई जा रही है !शाश्त्रो के अनुसार भगवान श्री कृष्ण का जन्म  जन्माष्टमी के दिन रात को 12 हुआ था इसलिए इस दिन लोग शाम से पूजा करना आरम्भ करते है और रात के 12 बजे तक पूजा करते रहते है फिर 12 बजने पर भगवान् को भोग लगा कर सभी को प्रसाद और मिठाईया बांटते है ! लोग इस दिन के इंतज़ार में पहले से ही तैयारिया करना शुरू कर देते है! इस दिन लोग अपनी इच्छा पूर्ति के लिए सारा दिन उपवास रखते है और रात के 12 बजे ही इस उपवास को खोलते है ! मान्यता है कि इस दिन उपवास रखने से जीवन में सुख , समृधि , शान्ति , और सफलता प्राप्त होती है साथ ही ह्ग्वान श्री कृष्ण की कृपा बनी रहती है !

भगवान श्री कृष्ण को न केवल भारत में बल्कि दुनिया के कई देशो में इन्हें पूजा जाता है इसलिए जन्माष्टमी को दुनिया के कई देशो में एक त्यौहार की तरह मनाया जाता है! ये तो सब जानते ही है कि श्री कृष्ण का जन्म मथुरा में हुआ था और उन्होंने  अपना जीवन गोकुल, वृंदावन, गिरिराज और द्वारिका में बिताया था लेकिन बहुत कम लोग  उन नगरों के बारे में जानते है जिन्हें श्री कृष्ण ने स्वयं बनाया था ! श्रीकृष्ण ने सोमनाथ के पास प्रभास क्षेत्र में देह त्यागा और वहां उनका समाधि है।दरअसल कृष्ण जी ने अपने मानव जीवन मेंं तीन नगर बसाए थे। मान्यता के मुताबिक भगवान कृष्ण ने अपने मानव जीवन द्वारिका, इंद्रप्रस्थ और बैकुंठ नाम के नगरों को बसाया।

द्वारिका (Dwarka)

यह नगर भारत के पश्चिम में समुद्र के किनारे पर बसी है। द्वारिका का पूर्व में नाम कुशवती था, जो उजाड़ हो चुकी थी। श्रीकृष्ण ने इसी स्थान पर नए नगर का निर्माण करवाया। कंस वध के बाद श्रीकृष्ण ने गुजरात के समुद्र के तट पर द्वारिका का निर्माण कराया और वहां एक नए राज्य की स्थापना की। आज से हजारों वर्ष पूर्व भगवान कॄष्ण ने इसे बसाया था। कृष्ण मथुरा में उत्पन्न हुए, गोकुल में पले, पर राज उन्होंने द्वारका में ही किया। यहीं बैठकर उन्होंने सारे देश की बागडोर अपने हाथ में संभाली। द्वारका उस जमाने में देश की राजधानी बन गई थीं। बड़े-बड़े राजा यहां आते थे और बहुत-से मामले में भगवान कृष्ण की सलाह लेते थे। इस जगह का धार्मिक महत्व तो है ही, रहस्य भी कम नहीं है। कहा जाता है कि कृष्ण की मृत्यु के साथ उनकी बसाई हुई यह नगरी समुद्र में डूब गई। आज भी यहां उस नगरी के अवशेष मौजूद हैं।

इंद्रप्रस्थ (Indraprastha)

प्राचीन भारत के राज्यों में से एक था इंद्रप्रस्थ। महान भारतीय महाकाव्य महाभारत के अनुसार यह पांडवों की राजधानी थी। यह शहर यमुना नदी के किनारे स्थित था। इंद्रप्रस्थ, जो पूर्व में खांडवप्रस्थ था, को पांडव पुत्रों के लिए बनवाया गया था। यह नगर बड़ा ही विचित्र था। खासकर पांडवों का महल तो इंद्रजाल जैसा बनाया गया था। द्वारिका की तरह ही इस नगर के निर्माण कार्य में मय दानव और भगवान विश्वकर्मा ने अथक प्रयास किए थे जिसके चलते ही यह संभव हो पाया था। आज हम जिसे दिल्ली कहते हैं, वही प्राचीनकाल में इंद्रप्रस्थ था। दिल्ली के पुराने किले के आसपास खुदाई में मिले अवशेषों के आधार पर पुरातत्वविदों का एक बड़ा वर्ग का मनना है कि पांडवों की राजधानी इसी स्थल पर रही होगी। यहां खुदाई में ऐसे बर्तनों के अवशेष मिले हैं, जो महाभारत से जुडे़ अन्य स्थानों पर भी मिले हैं। दिल्ली में स्थित सारवल गांव से 1328 ईस्वी का संस्कृत का एक अभिलेख प्राप्त हुआ है। यह अभिलेख लाल किले के संग्रहालय में मौजूद है। इस अभिलेख में इस गांव के इंद्रप्रस्थ जिले में स्थित होने का उल्लेख है।

बैकुंठ (Baikunth)

हिन्दू धर्म मान्यताओं में बैकुंठ जगतपालक भगवान विष्णु का वास होकर पुण्य, सुख और शांति का लोक है, लेकिन हम बात कर रहे हैं उस बैकुंठ धाम की, जो भगवान श्रीकृष्ण का धाम था। विद्वानों के अनुसार इसके कई नाम थे- साकेत, गोलोक, परमधाम, ब्रह्मपुर ‍आदि। अब सवाल यह उठता है कि ऐसा नगर कहां था? कुछ लोग बद्रीनाथ धाम को बैकुंठ कहते हैं, तो कुछ जगन्नाथ धाम को। कुछ का मानना है कि पुष्कर ही बैकुंठ धाम था। हालांकि कुछ इतिहासकारों के मुताबिक अरावली की पहाड़ी श्रृंखला पर कहीं बैकुंठ धाम बसाया गया था, जहां इंसान नहीं सिर्फ साधक ही रहते थे।  कहा जाता है कि श्रीकृष्ण ने अरावली की पहाड़ी पर कहीं छोटा-सा नगर बसाया था। भू-शास्त्र के अनुसार भारत का सबसे प्राचीन पर्वत अरावली का पर्वत है। मान्यता है कि यहीं पर श्रीकृष्ण ने बैकुंठ नगरी बसाई थी।

देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के कोरोना पॉजिटिव होने पर गंभीर हालत


Multapi Samachar

देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के कोरोना पॉजिटिव

देश भर में को”रो ना का कहर बढ़ता ही जा रहा है,सरकार की लाख कोशिशो के बाद भी इस पर लगाम नही लग रही है,हर शहर हर राज्य से बुरी खबर आ रही है ,हजारो लोग अब तक दुनिया छोड़ चुके है और ये बहुत चिंताजनक स्थिति है, हालांकि बहुत से लोगो की हालत में सुधार भी आया है लेकिन जिस तरह ये महामारी बढती जा रही है उसे देख कर ऐसा लगत है जैसे हमारा देश दुनिया में नंबर वन पर पहुँच जाएगा ! इन्ही सब के बीच एक और खबर आई है !

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर आई है। उनकी कोरोना पॉजिटिव होने की खबर उन्होंने स्वयं ट्वीट करके दी है। उन्होंने इसके अलावा कहा है कि पिछले एक हफ्ते में मेरे संपर्क में जो भी लोग आए हैं। वह भी खुद को आइसोलेट कर लें। और कोरोना जांच करा लें।

84 वर्ष है उम्र
बता दें पूर्व राष्ट्रपति ने ट्वीट करके कहा है कि इस बार .

अस्पताल जाने की प्रक्रिया अलग होगी, क्योंकि मैं कोरोना पॉजिटिव पाया गया हूं। बता दें प्रणब मुखर्जी की उम्र वर्तामान में 84 साल है और वह 2012 से 2017 तक भारत के राष्ट्रपति की कमान संभाल चुके हैं।

नई दिल्ली. भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) कोविड टेस्ट के दौरान कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) पाए गए हैं. प्रणब मुखर्जी ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है. पूर्व राष्ट्रपति ने ट्वीट कर बताया कि वह किसी और जांच के लिए अस्पताल गए थे, जहां उनमें कोरोना (Corona) के लक्षण मिले. उन्होंने कहा कि जांच (COVID Test) के बाद मैं कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया हूं.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, प्रणब मुखर्जी 84 साल के हैं और रुटीन जांच के लिए अस्पताल पहुंचे थे. कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद. प्रणब मुखर्जी को दिल्ली के आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. प्रणब मुखर्जी ने अपने ट्वीट में लिखा कि पिछले एक हफ्ते में जो भी लोग मेरे संपर्क में आए हैं, मैं उनसे अपील करता हूं कि वो सभी टेस्ट करवाएं और आइसोलेट हो जाएं.

बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से पहले गृह मंत्री अमित शाह, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कनार्टक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा सहित कई बड़े नेता कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं.

Multai प्राइवेट हॉस्पिटल पर गलत इलाज कर इंजेक्शन लगाने को लेकर केस दर्ज -डॉ प्रवीण शुक्‍ला


डा. प्रवीण शुक्ला के अनमोल हास्पीटल पर गलत इलाज कर इन्जेक्शन देने का आरोप ।

घुटनों में दर्द होने पर कमर में इंजेक्शन लगाए गए। इंजेक्शन का इन्फेक्शन होने से घाव बना।

नगर के पारेगांव रोड पर स्थित डॉ. प्रवीण शुक्ला द्वारा संचालित प्राइवेट अनमोल अस्पताल में हुए गलत इलाज से पीड़ित महिला के साथ एसडीओपी मेडम से मिलकर शिकायत आवेदन सौपा एवं कार्यवाही की मांग की

Multapi Samachar

मुलताई – प्राइवेट हॉस्पिटल पर  गलत इलाज कर  इंजेक्शन लगाने को लेकर  शिकायतकर्ता ने शिकायत दर्ज की । आवेदक गायत्री उर्फ नान्ही पति हरिसिंग निवासी ताप्ती वार्ड मुलताई की निवासी है जिन्होने कल एस डी ओ पी मुलताई  के पास आवेदन दे कर सिकायत की। आवेदन मे बताया की उनके पैरो मे दर्द होने के कारण दिनाक 06/06/2020 को अनमोल हास्पीटल पारेगाव रोड़ मुलताई में गई वहा डा. प्रवीण द्वारा चेकअप करने के पश्चात हॉस्पिटल की नर्स लल्ली द्वारा मुझे कमर पर इंजेक्शन लगाए गए।

इस तरह आगे भी 1 दिन के अंतराल में 2 सप्ताह तक दो दो इंजेक्शन लगाए गए। फिर तीसरे सप्ताह भी इंजेक्शन लगाने पर मेरे कमर में इंफेक्शन हो गया कमर में मवाद बनने लगा तब डॉ प्रवीण शुक्ला ने कहा कि बैतूल में इन्फेक्शन का इलाज कराओ उसका सारा खर्च में दूंगा । जब तक मेरी काफी हालत बिगड़ चुकी थी मैं राठी हॉस्पिटल मैं एडमिट हो गई वहां मुझे ऑपरेशन के लिए कहा गया जिसमें 30000 का खर्चा आया और 20000 आना-जाना रहना दवाई  खर्च आया लेकिन डॉक्टर शुक्ला द्वारा सारा खर्च उठाने की बात कही गई थी अब वह बात से मुकर गया। मेरे पास सब कॉल रिकॉर्डिंग है । अतः महोदय जी से प्रार्थना है कि उक्त घटना की जांच कर डॉक्टर शुक्ला के खिलाफ उचित कार्रवाई की जावे ।

नगर में प्रैक्टिस कर रहे डॉ. प्रवीण शुक्ला के अस्पताल में आए दिन मरीजों के गलत उपचार की शिकायतें आती है। युवा साथियों के साथ इन शिकायतों की जांच कर कार्यवाही हेतु तहसीलदार साहब को ज्ञापन सौंपा ।

Multai हेटी ग्राम से एक ही परिवार के 3 लोग कोरोना को हरा कर घर पहुचे


मुलताई कोविड सेंटरसे घरजातेे मरीज

Multapi Samachar

मुलताई। सोमवार 10 अगस्त को बीएमओ डॉ पल्लव अमृत फुले के निर्देशन में कोविड केयर सेंटर मुलताई में 1 अगस्त को हेटी निवासी 3 कोरोना पॉजिटिव मरीजो को भर्ती किया गया था। जिसने एक 65 वर्षीय बुजुर्ग, 45 वर्षीय पुरुष एव 21 वर्षीय युवक को  आज सोमवार को स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी बी ई ई श्रीमती चंद्रकला डोंगरे मलेरिया इंस्पेक्टर श्री दिवाकर इन कर एवं समस्त स्टाफ द्वारा फूल माला से स्वागत कर इन्हें उनके निवास स्थान हेतु शासकीय वाहन से छोड़ा गया बीएमओ द्वारा उन्हें घर में 7 दिन क्वॉरेंटाइन  रहते हुए नियमित मास्क लगाना साबुन पानी से बार-बार हाथ धोना एवं सोशल डिस्टेंस का पालन करने हेतु समझाइश दी गई। 

            स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार अभी तक कुल 683 लोगो के सैंपल जांच हेतु भिजवाए गए जिनमें से 28 के पॉजिटिव पाए गए एवं 27 सैंपल की रिपोर्ट अभी आना  बाकी है। कुल पॉजेटिव केस में से अब मात्र 2 मरीज कोविड केयर सेंटर में भर्ती है।

धार्मिक कार्यों तथा त्यौहारों के सार्वजनिक आयोजनों पर रोक रहेगी


जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समूह की बैठक आयोजित

Multapi Samachar

Multapi Samachar धार्मिक कार्यों तथा त्यौहारों के सार्वजनिक आयोजनों पर रोक रहेगी

गृह विभाग द्वारा कोविड-19 से बचाव के लिए जारी निर्देशों के तारतम्य में सोमवार को जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समूह की बैठक आयोजित की गई। बैठक में कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने बताया कि गृह विभाग द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार जिले में किसी भी धार्मिक कार्य या त्यौहार का सार्वजनिक स्थलों पर आयोजन नहीं किया जायेगा और न ही कोई धार्मिक जुलूस या रैली निकाली जायेगी। साथ ही सार्वजनिक स्थानों पर मूर्ति, झाँकी या ताजिये आदि स्थापित नहीं किये जा सकेंगे।

नागरिक अपने घरों में पूजा-उपासना कर सकेंगे।कलेक्टर ने अपर मुख्य सचिव गृह श्री एस.एन. मिश्रा के द्वारा जारी निर्देशों का हवाला देते हुए बताया कि धार्मिक/उपासना स्थलों पर कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के मद्देनजर एक समय में 5 से अधिक व्यक्ति एकत्र न हों। साथ ही उपासना स्थलों पर फेस कवर और सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जाये।उन्होंने बताया कि 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर राज्य शासन द्वारा प्रसारित निर्देशों के अनुरूप ही कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे।

यह सुनिश्चित करना होगा कि निजी तौर पर आयोजित किये जाने वाले समारोहों में 5 से अधिक व्यक्ति एकत्र न हों और फेस कवर एवं सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का कड़ाई से पालन किया जाये।बैठक में जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समूह के सदस्य विधायक आमला डॉ. योगेश पण्डाग्रे, पूर्व विधायक श्री हेमन्त खण्डेलवाल, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के पूर्व प्रशासक श्री अरूण गोठी, अशासकीय संगठनों के प्रतिनिधि श्री मोहन नागर, जिला उद्योग संघ से श्री ब्रजआशीष पाण्डे, रेडक्रॉस समिति के सचिव डॉ. अरूणजयसिंग सहित संबंधित अधिकारी मौजूद थे।