पावर इंजीनियर्स एंड इंप्लाइज एसोसिएशन द्वारा मध्य प्रदेश के तीनों विद्युत वितरण कंपनियों को निजीकरण के विरोध में सौंपा ज्ञापन


बैतूल – पावर इंजीनियर्स एंड इंप्लाइज एसोसिएशन द्वारा मध्य प्रदेश के तीनों विद्युत वितरण कंपनियों को निजीकरण हेतु जारी बिल्डिंग डाक्यूमेंट्स का संगठन ने विरोध कर ज्ञापन सौंपा।

बैतूल- 26.09.2020 को मध्यप्रदेश के तीनों विद्युत वितरण कंपनियों पूर्व क्षेत्र, मध्य क्षेत्र एवं पश्चिम क्षेत्र में पावर इंजीनियर्स एवं एम्पलाइज एसोसिएशन द्वारा ज्ञापन सौंपा गया। इसी तारतम्य में बैतूल सर्किल में कार्यपालन यंत्री श्री वी० के० बागड़े जी सौपा गया, एक ज्ञापन माननीय मुख्यमंत्री जी के नाम संबोधित था जिसमें निजीकरण हेतु जारी बिल्डिंग डॉक्यूमेंट का पुरजोर विरोध किया गया। दूसरा ज्ञापन माननीय प्रबंध संचालक को संबोधित था जिसमें अधिकारियों/ कर्मचारियों के साथ भेदभाव समाप्त करने की मांग की गई, जिसमें 03 कॉलम की मैट्रिक्स विलोपित कर कंपनी द्वारा नियुक्त कार्मिकों हेतु 03 कालम की मैट्रिक्स लागू करने, उच्च शिक्षा प्राप्त कार्मिकों की उच्च पद पर नियुक्ति प्रशिक्षण अवधि का वेतन वृद्धि दिए जाने, वरिष्ठतानुसार चालू प्रभार दिए जाने, 2011 का वेतन वृद्धि दिए जाने, कर्मचारियों के वेतन विसंगति सातवें वेतनमान की मैट्रिक कालम -4 में मूल वेतन की शुरुआत 23200 की जगह 25300 से अधिक कर मैट्रिक्स कॉलम -4 को तदनुसार संशोधित करने, बिजली बिल छूट प्रदान किए जाने समेत कई मांगे शामिल की गई। ज्ञापन पश्चात समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी काली पट्टी बांधकर कार्य करेंगे, जब तक निजीकरण का बिडिंग डॉक्यूमेंट निरस्त नही हो जाता तथा अन्य मांगें पूरी नहीं हो जाती। संगठन के अध्यक्ष श्री कुलदीप सिंह गुर्जर तथा महासचिव श्री अजय कुमार मिश्रा जी ने बताया कि निजीकरण हेतू जारी बिडिंग डॉक्यूमेंट यदि जल्द से जल्द निरस्त नही किये जाते तथा अन्य मांगे पूरी नही की जाती है तो संगठन उग्र आंदोलन हेतु बाध्य होगा।

इस अवसर पर पावर इंजीनियर एंड इंप्लाइज एसोसिएशन के प्रदेश प्रचार सचिव श्री सुनील सरियाम जी, श्री भूपेंद्र बघेल जी श्री संजय यादव जी , श्री अंकित पटेल जी, श्री राहुल ठाकरे जी, श्री शिवराज धुर्वे जी, श्री घनश्याम धुर्वे जी, श्री कमलेश खोबरागड़े जी, श्री नीरज पवार जी, श्री अनिल गाडगे जी, श्री सिराज भलावी जी, श्री संपत परपाची जी, श्री भवानी शंकर धावले जी आदि संगठन के पदाधिकारी/सदस्यगण उपस्थित थे।