MP News नरसिंहपुर गैंगरेप को लेकर शिवराज सरकार को घेरने में जुटी कांग्रेस, 5 अक्टूबर को पूरे प्रदेश में मौन धरना


भोपाल. उत्तर प्रदेश के हाथरस में दलित युवती के साथ हुए रेप के बाद मध्य प्रदेश में भी दलित महिला से गैंगरेप (Gang rape) के मामले को लेकर सियासत गर्म है. नरसिंहपुर के चिचली थाना क्षेत्र में 35 साल की दलित महिला से गैंगरेप और सुनवाई नहीं होने पर सुसाइड के मामले में कांग्रेस (Congress) अब सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने की तैयारी में है. प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ ने दुष्कर्म के मामले के विरोध में 5 अक्टूबर को प्रदेशभर में मौन धरना देने का ऐलान किया है.

कांग्रेस कमेटी ने 5 अक्टूबर को गांधी और बाबा साहब अंबेडकर की प्रतिमा पर मौन धरना देने का ऐलान किया है. सभी जिला इकाइयों को इस संबंध में पीसीसी ने निर्देश जारी कर दिए हैं. यूपी के हाथरस और नरसिंहपुर की घटना के विरोध में कांग्रेसियों का मौन धरना होगा. वहीं प्रदेश में बढ़ते गैंगरेप के मामले को लेकर कांग्रेस बीजेपी पर हमलावर हो गई है.

शिवराज सरकार पर निशाना

कांग्रेस के नेता एनपी प्रजापति ने प्रदेश में बढ़ते गैंगरेप के मामले पर सरकार पर निशाना साधा है. सतना में दलित युवक की पिटाई के बाद अब तक हुए गैंगरेप के मामलों को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी सरकार की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए हैं.
कांग्रेस नेता एनपी प्रजापति ने कहा है कि प्रदेश में पुलिस अफसरों के तबादलों के कारण इस तरह की घटनाएं बढ़ रही हैं. प्रशासनिक तबादलों के चलते गैंगरेप के मामले हो रहे हैं और मामलों पर अफसर सुनवाई नहीं कर रहे हैं. प्रदेश में पुलिस की नैतिकता खत्म होने का आरोप भी कांग्रेस ने लगाया है.

कांग्रेस विधायक सुनीता पटेल ने खत्म किया धरना

नरसिंहपुर से एडिशनल एसपी राजेश तिवारी को हटाने की मांग को लेकर बीते 13 दिनों से धरने पर बैठी कांग्रेस विधायक सुनीता पटेल ने अपना धरना खत्म कर दिया है. गाडरवारा से कांग्रेस विधायक सुनीता पटेल ने एएसपी  राजेश तिवारी पर इलाके में अराजकता फैलाने और अवैध खनन को संरक्षण देने का आरोप लगाया था. इसी के चलते कांग्रेस विधायक बीते 13 दिनों से भोपाल में धरने पर बैठी थी. लेकिन नरसिंहपुर में गैंगरेप के मामले को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के एएसपी और एसडीओपी पर की गई कार्रवाई के बाद सुनीता पटेल ने अपना धरना खत्म कर दिया.

कृषि विज्ञान केंद्र पर बकरियों की उन्नत नस्ल सिरोही होंगी उपलब्ध


बकरियों की उन्नत नस्ल की कृषि विज्ञान केन्द्र पर उपलब्धता

बैतूल,  

मुलतापी समाचार

कृषि विज्ञान केन्द्र में इन  दिनों बकरियों की उन्नत नस्ल ‘‘सिरोही’’ जिले में बकरियों की नस्ल सुधार कार्यक्रम हेतु लाई गई है। इस नस्ल की विशेषता यह है कि यह द्विउद्देश्यीय नस्ल है। इसकी नस्ल की  बकरियां 1-1.5 लीटर दूध प्रतिदिन तो देती ही है, साथ ही इसका वजन काफी होता है। अत: यह नस्ल दूध एवं मांस दोनों के लिए उपयोगी है। यह नस्ल राजस्थान सिरोही जिले की होने की वजह से यह नाम रखा गया है। यह नस्ल दिखने में काफी सुंदर होती है। मुख्यत: यह हिरण के समान चितकबरी होती है। दूसरा यह कि इस  नस्ल का एक वर्ष में ही 100 किलो से अधिक वजन का हो जाता है। इस नस्ल की बकरियां साल में दो से तीन बच्चें जनती हैं।

कृषि विज्ञान केंद्र के कार्यक्रम समन्वयक  डॉ विजय वर्मा ने बताया कि पूर्व में जिले के किसानों को इस नस्ल की बकरियों को लेने के लिए कीरतपुर जाना पड़ता था, लेकिन अब कृषि विज्ञान केन्द्र बैतूल में अगले वर्ष तक यहां के किसानों को उपलब्धता आरंभ हो जाएगी। साथ ही नस्ल सुधार हेतु जो किसान अपनी बकरियों को सिरोही नस्ल के बकरे से क्रास (प्रजनन) करवाना चाहते हैं, यह सुविधा भी केन्द्र आने वाले समय में आरंभ कर देगा।