नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन, एस्कॉर्टस हॉस्पिटल में ली अंतिम



पटना। Ramvilas Paswan Health news

मुलतापी समाचार

लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के संस्‍थापक व केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान (Ram Vilas Paswan) की तबीयत अधिक बिगड़ गई है। इन दिनों वह दिल्‍ली के फोर्टिस अस्‍पताल के आइसीयू (ICU) में भर्ती हैं। उन्‍हें छोड़कर बिहार आना बेटे चिराग पासवान (Chirag Paswan) के लिए अभी संभव नहीं है। अपनी मजबूरी बयां करते हुए एलजेपी सुप्रीमो चिराग पासवान ने पार्टी कार्यकर्ताओं व नेताओं को मार्मिक चिट्ठी (Touching Letter) लि‍खी है।

चिराग ने अपनी पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं के नाम पत्र में पिता व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की अस्वस्थता की चर्चा की है, जो तीन सप्ताह से दिल्ली के अस्पताल में आइसीयू में भर्ती हैं। इसी वजह से चिराग ने बिहार नहीं आ पाने की अपनी मजबूरी बतायी है। चिराग ने पत्र में यह भी बताया है कि सीट बंटवारे पर अभी तक उनकी किसी से कोई बात नहीं हुई है।

नियमित हेल्थ चेकअप टालने से बढ़ी परेशानी 

अपनी चिट्ठी में चिराग ने लिखा है कि कोरोना संक्रमण काल में लोगों को राशन की परेशानी न हो, इसके लिए उनके पिता अपना रूटीन  हेल्‍थ चेक-अप लगातार टालते रहे। इस कारण वे अस्‍वथ हो गए। बीते तीन सप्‍ताह से वे अस्‍पताल में हैं।

इस हाल में आइसीयू में छोड़ कर हटना संभव नहीं

चिराग पासवान ने लिखा है कि वे पिता को रोज बीमारी से लड़ते देख कर विचलित हो जाते हैं। पिता पटना जाने के लिए कहते हैं, लकिन बेटा होने के नाते वे उन्‍हें इस हाल में आइसीयू में छोड़ कर नहीं हट सकते हैं। नहीं ताे वे खुद को कभी माफ नहीं कर पाएंगे।

अध्‍यक्ष होने के नाते पार्टी के साथियों की भी चिंता

चिराग पासवान ने आगे लिखा है कि पार्टी अध्‍यक्ष होने के नाते उन्‍हें उन साथियों की भी चिंता है, जिन्‍होंने ‘बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्‍ट’ के लिए जीवन समर्पित कर दिया है। लिखा है कि उनकी बिहार के भविष्‍य व चुनाव में सीटों को लेकर गठबंधन के घटक दलों से कोई बात नहीं हुई है। यह बात उन्‍होंने पार्टी के संसदीय बोर्ड की बैठक में भी कही थी।

बड़ी खबर- खून नही मिलने से जिला अस्पताल में प्रसूता की हुई मौत, स्टाफ पर लगे आचरण हिनता के आरोप


हेमन्त खंडेलवाल ने गांव पहुँचवाय महिला का शव

मुलतापी समाचार

बैतूल ।जिला अस्पताल में ब्लड बैंक की मनमानी से आज एक प्रसूता की मौत हो गई परिजनों का आरोप है कि समय पर ब्लड मिल जाता तो प्रसूता को बचाया जासकता था ।परिजनों ने एक लिखित शिकायत कर दोषियों पर कार्यवाही की मांग की है ।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक केसिया निवासी सुमन यादव 28 को बुधवार को डिलीवरी के लिए चिचोली अस्पताल में भर्ती करवाया गया था जंहा सुमन ने एक स्वस्थ बेटे को जन्म दिया ।डिलवरी के बाद से महिला को लगातार रक्त स्त्राव होने की वजह से देर रात जिला अस्पताल रेफर किया गया था ।आज सुबह लगभग 5 बजे स्थिति बिगड़ते देख नर्सिंग स्टाफ ने सुमन के परिजनों को ब्लड लाने डिमांड के साथ मृतिका का भाई को ब्लड बैंक भेजा था । मृतिका सुमन के भाई पवन यादव ने बताया ब्लड बैंक में पहले तो दो तीन बार आवाज़ देनी पड़ी बड़ी मुश्किल से नर्स आई जिसने पर्चा देखकर कहा कि 45 मिंट बाद आना अभी पवन के दोबारा बोलने पर की मेरा ही ब्लड ले लो तब भी स्टाफ ने एक नही सुनी और अभद्र व्यवहार कर भगा दिया ।
परिजनों के गांव तक शव ले जाने कोई साधन नही होने पर पूर्व विधायक हेमन्त खंडेलवाल से चर्चा की गई श्री खंडेलवाल ने महज 15 मिंट में परिजनों को शव वाहन उपलब्ध करा दिया जिससे परिजन रवाना हुए ।

इनका कहना है


पेसेंट सुबह 6 बजे जिला अस्पताल में आई थी ।ब्लड एक्जामिनेशन में समय लगता है ।परिजनों  आरोप निराधार है ।परिजनों की शिकायत पर जांच की जाएगी ।
अशोक बारंगा
सिविल सर्जन जिला अस्पताल बैतूल ।

आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद बैतूल ने प्राचार्य को उच्चशिक्षामंत्री के नाम ज्ञापन सौपा



मध्यप्रदेश के बैतूल जिले में विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय प्रवेश प्रक्रिया अंतिम चरण अभी जारी है । महोदय अभाविप छात्रों को आ रही समस्याओं के कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओ पर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहती है।

मान्यवर वर्तमान समय में रुक जाना नहीं योजना एवं पूरक परीक्षा से जो विधार्थी उतीर्णं हुए है ऐसे छात्रों का ऑनलाइन पंजीयन प्रक्रिया बंद होने के कारण हजारों छात्रों का पंजीयन नहीं हो पाया जिससे कहि ना कहि छात्र प्रवेश से वंचित होते हुए नजर आ रहे हैं, ऐसे छात्र अपनी आगे के भविष्य व पढ़ाई को लेकर मानसिक रूप से प्रताड़ित है।
अत: तत्काल प्रभाव से ऑनलाइन पंजीयन प्रक्रिया प्रारंभ कर प्रवेश तिथि आगे बढ़ाई जाए साथ ही प्रवेश सीट में वृद्धि की जाए ।
प्रदेश के अधिकांश शासकीय महाविद्यालयो में सीमित संकाय संचालित है ऐसे में विद्यार्थियों को अपने रुचि अनुसार कोर्स करने से वंचित रह जाते हैं।
महोदय ऐसे महाविद्यालयों में आवस्यकतानुसार संकाय शुरू किया जाये।
महोदय यह भी संज्ञान में आया है कि जिन विद्यार्थियों कि ओपन बुक्स परीक्षा आयोजित हुई है ऐसे विद्यार्थी को अगली कक्षा में प्रवेश लेने पर उन छात्रो को मेरिट सूची के अंत में रखा गया है जबकी कम अंक प्राप्त विद्यार्थियों को जो क्लिर है उन्हे मेरिट सूची में प्रथम स्थान दिया जा रहा है ।
अत: मेरिट सूची कि विसंगतियो में सुधार कर अधिक अंक प्राप्त विद्यार्थियों को प्राथमिकता दी जाए ।

अत: अभाविप प्रदेश सरकार से यह आग्रह करती है कि उक्त सभी प्रकार की छात्रो की समस्याओ को ध्यान में रखते हुए छात्र हित में तत्काल प्रभाव से समस्याओं का समाधान करें अन्यथा अभाविप प्रदेश सरकार के विरुद्ध उग्र आन्दोलन करने के बाध्य होगी जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी प्रदेश सरकार कि होगी।

RAHUL SARODE
NEW EDITOR

MULTAPI SAMCHAR

नाराज ग्रामीणों ने खोद दी सड़कें, वाहनों की आवाजाही बंद


बैतूल ( मुलतापी सामाचार )। जिले में शाहपुर और घोड़ाडोंगरी तहसील क्षेत्र की नदियों से हो रहे अवैध रेत खनन के कारण क्षेत्र के ग्रामीणों की नाराजगी बढ़ रही है। ग्रामीणों की शिकायतों पर ना तो प्रशासन ध्यान दे रहा है और न ही जनप्रतिनिधियों के पास उनको सुनने का समय है। ग्राम सातलदेही में रेत माफिया की दबंगई से नाराज ग्रामीणों ने मंगलवार को नदी के सारे रास्तों पर नाली खोदकर वाहनों की आवाजाही बंद करा दी है। ग्रामीणों के गुस्से को देखते हुए खनन माफिया ने अपने वाहन और पोकलेन मशीनें नदी से बाहर निकाल ली और भाग गए। ग्राम पंचायत सातलदेही के करीब से बहने वाली लोहार नदी में बड़े पैमाने पर रेत का अवैध खनन किया जा रहा है। रेत का परिवहन करने वाले वाहनों की आवाजाही से सड़कें खराब हो गई हैं। ग्रामीणों ने रेत के अवैध खनन के संबंध में सांसद दुर्गादास उइके से शिकायत की थी लेकिन कोई कार्रवाई न होने से उन्होंने सड़क खोदकर आवाजाही बंद कर दी है। ग्राम पंचायत सरपंच ने इस कदम की जानकारी कलेक्टर राकेश सिंह को देकर रेत का अवैध खनन बंद कराने की मांग की है।