मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की रिक्त पदों की पूर्ति के अभियान की समीक्षा


मुलतापी समाचार

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड और विभाग स्तर पर रिक्त पदों की भर्ती के लिए की जा रही कार्यवाही की जानकारी अधिकारियों से प्राप्त की। उन्होंने रिक्त पदों की पूर्ति के लिए संचालित अभियान की समीक्षा की। बैठक में जेल, स्वास्थ्य, कृषि, पुलिस विभाग में रिक्त पदों की पूर्ति के संबंध में की जा रही कार्यवाही की जानकारी दी गई।बैठक में बताया गया कि गृह विभाग में आरक्षकों के 6 हजार 800 पदों, स्वास्थ्य विभाग में 2249 पदों और कृषि और किसान कल्याण विभाग में 800 पदों के लिए रिक्रूटमेंट टेस्ट की तैयारी हो गई है। उपयंत्री के ग्रुप 3 रिक्रूटमेंट टेस्ट 52 पदों के लिए हो रहे हैं। इसी तरह ग्रुप-2 एवं सब ग्रुप-4 के रिक्रूटमेंट टेस्ट हो रहे हैं जिनसे 240 पदों की पूर्ति हो सकेगी। जेल प्रहरी के 282 पदों के लिए रिक्रूटमेंट टेस्ट हो रहे हैं। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस और विभिन्न विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

विश्व हाथ धुलाई कार्यक्रम के तहत संस्‍थाओं ने सेनेटाइजर का वितरण किया


Multapi Samachar

नेहरू युवा केन्द्र द्वारा विश्व हाथ धुलाई कार्यक्रम के अवसर पर पूरे जिले में युवा मंडलों व राष्ट्रीय युवा स्वयं सेवकों के सहयोग से आम नागरिकों के हाथों को सेनेटाइज किया गया तथा सेनेटाइजर की बोतल का वितरण किया गया। युवाओं द्वारा शहर के प्रमुख दुकानों, पेट्रोल पंप, बैंक सहित सार्वजनिक स्थलों के साथ-साथ राहगीरों के हाथों को सेनेटाइज किया गया। युवाओं द्वारा आमजन को मास्क पहनने, दो गज की दूरी का पालन करने व नियमित हाथ धोने की समझाईश दी गई।

कलेक्टर ने फायर एनओसी के लिए नगरपालिका से मांगी भवनों की जानकारी


15 मीटर से अधिक ऊंचाई वाले आवासीय भवनों, शैक्षणिक संस्थाओं, सभा भवनों इत्यादि के लिए लेना होगी फायर एनओसी

ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से जारी होंगे अनापत्ति प्रमाण पत्र

नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के निर्देशानुसार एनबीसी 16 के भाग-4 के अनुसार 15 मीटर या अधिक ऊंचाई के आवासीय उपयोग के भवन, होटल, शैक्षणिक, संस्थागत, व्यावसायिक, मर्केन्टाइल, औद्योगिक, स्टोरेज, हैजार्ड्स एवं मिश्रित उपयोग के भवन (किसी एक तल या अधिक तल का फ्लोर एरिया 500 वर्ग मीटर से अधिक), शैक्षणिक भवन (जिनकी ऊंचाई 09 मीटर से अधिक है),

सभी सभा भवन, आकस्मिक सभा उपयोग के भवन (जिनके किसी तल का क्षेत्रफल 300 वर्ग मीटर से अधिक है), भवन जिसमें दो या अधिक बेसमेंट है अथवा एक बेसमेंट का क्षेत्रफल 500 वर्ग मीटर से अधिक है, के लिए फायर एनओसी लेना आवश्यक है।जिला कलेक्टर द्वारा ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले समस्त प्रकार के प्रकरणों हेतु फायर अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी किया जाएगा। कलेक्टर द्वारा पेट्रोलियम तथा एक्सप्लोसिव एक्ट संबंधी शहरी क्षेत्रों के प्रकरण पूर्वानुसार ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से संभागीय संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन एवं विकास को प्रेषित किए जाएंगे।

संभागीय संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन एवं विकास द्वारा संबंधित शहरी क्षेत्रों से आने वाले समस्त प्रकार के प्रकरणों हेतु फायर अनापत्ति प्रमाण पत्र ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से जारी किया जाएगा।राज्य शासन द्वारा घोषित ‘अग्निशमन प्राधिकारी’ द्वारा मध्यप्रदेश भूमि विकास नियम 2012 के नियम 87(3) के प्रावधान अनुसार नेशनल बिल्डिंग कोड के भाग-04 में उल्लेखित अग्नि सुरक्षा उपायों के प्रावधान अनुसार ‘फायर अनापत्ति प्रमाण पत्र’ स्वीकृत किया जाएगा।नगरीय प्रशासन एवं विकास के निर्देशानुसार ई-नगरपालिका के माध्यम से ऑनलाइन फायर अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी करने के लिए मानक प्रक्रिया का निर्धारण किया जा चुका है और सभी जिला कलेक्टरों को लॉग-इन तथा पासवर्ड प्रदाय किए जा चुके हैं।कलेक्टर श्री राकेश सिंह एवं प्रशासक नगरपालिका बैतूल द्वारा उपरोक्त निर्देशानुसार फायर एनओसी जारी करने हेतु नगर पालिका से भवनों की जानकारी मांगी गई है।

100 से अधिक जनसमूह के कार्यक्रम के लिए अनुमति लेना आवश्यक, नई गाइडलाइन जारी


धार्मिक स्थलों पर फेस मास्क लगाना एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरूरी

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह द्वारा जिले में सामाजिक/शैक्षणिक/खेल/ मनोरंजन/सांस्कृतिक/राजनैतिक/रामलीला एवं रावण दहन आदि के लिए आगामी आदेश तक के लिए अतिरिक्त आदेश जारी किए गए हैं।

सामाजिक, शैक्षणिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, राजनैतिक, रामलीला एवं रावण दहन आदि कार्यक्रमों के खुले मैदान में जनसमूह के संबंध में

खुले मैदान में उक्त प्रकार के कार्यक्रमों के लिए मैदान के आकार को दृष्टिगत रखते हुए तथा फेस मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, सेनेटाइजेशन एवं थर्मल स्केनिंग की व्यवस्था के पालन करने की शर्त पर 100 से अधिक संख्या के जनसमूह के कार्यक्रमों के लिए संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर से अनुमति प्राप्त की जाएगी।उपरोक्त प्रकार के कार्यक्रम कन्टेन्मेंट जोन में आयोजित नहीं किए जा सकेंगे।इस प्रकार के कार्यक्रमों के आयोजन के लिए आयोजकों को संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर को लिखित में आवेदन करना आवश्यक होगा तथा आवेदन में कार्यक्रम की तिथि, समय, स्थान एवं संभावित संख्या का उल्लेख करना आवश्यक होगा।

संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर द्वारा प्राप्त आवेदन पत्र पर विचारोपरान्त कार्यक्रम की लिखित अनुमति प्रदान की जाएगी, जिसमें उक्त संख्या एवं शर्तों का पालन कराने की जवाबदारी आयोजकों की होगी।उक्त प्रकार के आयोजनों की वीडियोग्राफी आवश्यक रूप से कर आयोजकों को कार्यक्रम समाप्ति के 48 घंटों में प्रति संबंधित संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर को अनिवार्यत: उपलब्ध करानी होगी।

जिले में आगामी आदेश तक धार्मिक स्थलों पर मेलों के आयोजन आदि पर प्रतिबंध रहेगा। जिले में जिन स्थानों पर पूर्व से मेलों आदि का आयोजन होता रहा है, उन स्थानों को चिन्हित कर उक्त मेलों आदि में भाग लेने वाले श्रद्धालुओं को संंबंधित संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर द्वारा उचित माध्यम से समय पूर्व सूचित कराया जाएगा।धार्मिक स्थलों पर जहां बंद कक्ष अथवा हॉल में श्रद्धालु एकत्र होते हैं, वहां संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर द्वारा कुल उपलब्ध स्थान के आधार पर इस प्रकार अधिकतम सीमा नियत की जा सकेगी, जिसमें उपलब्ध स्थान में श्रद्धालुओं के मध्य दो-गज दूरी सुनिश्चित करते हुए पूजा/अर्चना की जा सके।

किन्तु उक्त संख्या किसी भी स्थिति में एक समय में 200 से अधिक नहीं होगी। साथ ही धार्मिक स्थल प्रबंधन को यह सुनिश्चित करना होगा कि कोविड-19 रोकथाम के तारतम्य में फेस मास्क की बाध्यता एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन धर्मावलंबियों द्वारा किया जाए।बिना अनुमति 100 से अधिक जनसमूह के कार्यक्रम करने अथवा प्रदत्त अनुमति में उल्लेखित शर्तों के उल्लंघन करने अथवा उपर्युक्त कण्डिका में उल्लेखित कार्य में शर्तों का उल्लंघन करने पर संबंधितों के विरूद्ध धारा 188 भारतीय दण्ड विधान के अंतर्गत वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

कलेक्टर के आदेशानुसार समूचे जिले में दुकानें, बाजार, मॉल अपने निर्धारित समय तक खुले रह सकेंगे।

कोयलांचल क्षेत्र पाथाखेड़ा के क्वार्टर में युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली , कोर्ट मैरिज करे हुए तीन माह हुए


युवक ने की आत्महत्या; डब्ल्यूसीएल के क्वार्टर में लगाई फांसी

मृतक युवक ने फांसी लगाने के पहले पत्नी के साथ मारपीट की

मुलतापी समाचार

सारनी । कोयलांचल क्षेत्र पाथाखेड़ा के आजाद नगर में डब्ल्यूसीएल के एक आवास में 30 वर्षीय युवक नितेश बिझाड़े ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। आत्महत्या युवक के द्वारा क्यों की गई, इसका कारण स्पष्ट नहीं हुआ है। युवक पाथाखेड़ा के शिवाजी नगर में निवास करता था और तीन माह पूर्व आजाद नगर की किसी परित्यक्ता महिला से कोर्ट मैरिज कर उसके साथ रह रहा था।

स्थानीय लोगों ने बताया कि बीती रात नितेश बिझाड़े और उसकी पत्नी के बीच किसी बात को लेकर विवाद हो गया था। मृतक युवक ने फांसी लगाने के पहले पत्नी के साथ मारपीट की और रात में डब्ल्यूसीएल के क्वार्टर के एक कमरे में जाकर फांसी लगा ली। पत्नी एवं बच्चों ने आस-पड़ोस के लोगों को इस घटना की जानकारी दी गई। तब जाकर हंड्रेड डायल और स्थानीय पुलिस को बुलाकर युवक को फंदे से उतारकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र घोड़ाडोंगरी लाया गया जहां पर डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया है। इस मामले में पाथाखेड़ा पुलिस ने मर्ग कायम कर विवेचना शुरू कर दी है।

मृतक युवक के पिता हेमराज बिझाड़े का कहना है कि नितेश ने लव मैरिज कब की थी इसकी जानकारी घर के लोगों को नहीं लग पाई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मौत के कारण सामने आएंगे। पुलिस इस मामले में विवेचना में जुटी हुई है।