कुएं में बोरी में बंद मिला शव , संदेहियों को पकडकर ली पुख्ता जानकारी से जल्द होगा किसान की हत्या का खुलासा


मुलतापी समाचार

संदेहियों से मिली पुख्ता जानकारी से जल्द ही होगा किसान की हत्या का खुलासा एसपी ने सिरडी पहुचकर किया घटना स्थल का निरीक्षण

मुलताई। थाना क्षेत्र के ग्राम सिरडी निवासी किसान के रहस्यमय परिस्थितियों में लापता होने और उसके बाद दूसरे दिन किसान का शव एक खेत के कुएं में मिलने की घटना में  पुलिस को संदेहीयो से मिली पुख्ता जानकारी के आधार पर जल्द ही किसान की हत्या करने वाले आरोपियों का खुलासा होगा। किसान का शव जिस हालत में मिला है इससे यह तो स्पष्ट हो गया है कि किसान की हत्या कर शव कुएं  में फेंक दिया गया था।      शुक्रवार को पुलिस अधीक्षक सुश्री सिमाला प्रसाद,एसडीओपी नम्रता सोंधिया,थाना प्रभारी सुरेश सोलंकी ने सिरडी पहुंच कर घटना स्थल का निरीक्षण किया। साथ ही इस मामले में मृतक किसान आनंदराव के परिजनों से चर्चा करने के साथ संदेहियों से भी पूछताछ कर उनके घर की तलाशी भी ली है। वही दो से तीन संदेहियों को पूछताछ के लिए पुलिस थाने भी लाया है।     गौरतलब है कि बीते बुधवार को सुबह 11 बजे के दरमियान ग्राम सिरडी निवासी  किसान आनंदराव देशमुख 60 साल खेत से घर लौटने के दौरान लापता हो गया था।  किसान के पुत्र ने अपने पिता की गुमशुदगी की रिपोर्ट मासोद पुलिस चौकी में दर्ज कर खेत के कुएं को लेकर चल रहे विवाद के चलते ग्राम के ही दो लोगो पर पिता आनंदराव के अपहरण का संदेह जाहिर किया था। पुलिस और परिजन आनंदराव की खोजबीन कर ही रहे थे कि गुरुवार शाम में आनंदराव का शव ग्राम सिरडी से लगभग तीन किलोमीटर दूर जंगल में स्थित किसान भाऊराव लिखित कर के खेत के कुएं में बोरी में बंद मिला था। 

योजनाबद्ध तरीके से की गई हत्या

आनंदराव का शव जिस हालत में मिला है उससे यह बात सामने आ रही है कि  अज्ञात आरोपियों ने हत्या की घटना को योजनाबद्ध तरीके से अंजाम दिया। थाना प्रभारी सुरेश सोलंकी ने बताया बोरे में बंद आनंदराव के मुंह में कपड़ा ठुसा हुआ था। सिर पर चोट भी थी। साथ ही शव पर रस्सी से तीन पत्थरों को बांधकर बोरे में बंद कर कुएं में फेका गया था। ताकि शव पानी से जल्द बाहर नहीं आ पाए। इस स्थिति में  प्रथम दृष्टया अज्ञात आरोपियों द्वारा आनंदराव की हत्या कर शव को कुएं में फेंक देने का मामला सामने आया है।  

डॉक्टरों की टीम ने किया पोस्टमार्टम

किसान की मौत के मामले में परिजनों द्वारा ग्राम के निवासी एक परिवार के लोगों पर पहले किसान का अपहरण करने और शव मिलने के बाद किसान की हत्या करने का आरोप लगाने की स्थिति में यह मामला संवेदनशील हो गया था। इस स्थिति में पुलिस गंभीरता से मामले की विवेचना कर रही है। थाना प्रभारी श्रीसोलंकी ने बताया शुक्रवार को मृतक आनंदराव के शव का पोस्टमार्टम डॉक्टरों की टीम से कराया है। संदेहियों से घटना के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी मिली है। इस स्थिति में जल्द ही किसान की हत्या करने वाले आरोपियों का खुलासा हो जाएगा। 

इनका कहना 

किसान का पारिवारिक विवाद है जो कि  वर्षों से चला आ रहा है इसी कारण किसान की हत्या को अंजाम दिया गया है फिलहाल तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है/

सिमाला प्रसाद पुलिस अधीक्षक बैतूल

ग्राम पंचायत में महात्मा गांधी ग्राम सेवा केंद्र का हुआ शुभारंभ


दिव्यांग हितग्राही बाबुल राय को डिसेबिलिटी कार्ड प्रदाय करते हुए मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत घोड़ाडोंगरी दानिश अहमद खान

मुलतापी समाचार

ग्राम पंचायत हीरापुर में महात्मा गांधी ग्राम सेवा केंद्र का शुभारंभ हुआ जिसमें मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत घोड़ाडोंगरी दानिश अहमद खान ,सरपंच श्रीमती रुकमणी यूइके ,भाजपा मंडल अध्यक्ष विजयपाल एवं भाजपा नेता विकास बोस ने फीता काटकर केंद्र का उद्घाटन किया

इस दौरान दिव्यांग हितग्राही बाबुल राय को डिसेबिलिटी कार्ड प्रदाय किया गया मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत घोड़ाडोंगरी दानिश अहमद खान ने उपस्थित ग्रामीणों को महात्मा गांधी ग्राम सेवा केंद्र के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि यह केंद्र के संचालित होने से लोगो को काफी राहत मिलेगी ।

कार्यक्रम में ग्राम पंचायत के प्रभारी सचिव नारायण सिसोदिया, केंद्र संचालक विक्रम बोस, पंच निर्मल मजूमदार, श्रीमती प्रभाती, नेहरू परते , बलहरी विश्वास , केशव सरकार , नंदू साना , सहित अनेकों गणमान्य लोग उपस्थित थे।

राष्ट्रीय एकता दिवस की बधाइयां


Happy Rashtriya Ekta Diwas 2020:

सरदार वल्लभभाई पटेल के जन्मदिवस को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने इसकी शुरुआत की थी। इस तरह हर वर्ष 31 अक्टूबर को सरदार पटेल को याद किया जाता है और देशभर में एकता को बल देने वाले कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। सोशल मीडिया के दौर में Rashtriya Ekta Diwas की बधाइयांं SMS, Greetings, Images, Whatsapp, Facebook Status के रूप में दी जा रही हैं। आप भी अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को यहां दिए दिए गए SMS, Greetings, Images, Whatsapp, Facebook Status से बधाई दे सकते हैं।

ना ही वो हिन्दू लिखेगा ,ना मुसलमान लिखेगा।

हमेशा एकता का गीत हर जवान लिखेगा।

धर्म,भाषा,मज़हब और मुल्क में तो हमने बांटा है

बहेगा खून सरहद पे तो हिन्दोस्तान लिखेगा।

………………

किसी की असहमति हो तो माफ करना। एक छोटी सी कोशिश की है। (याद रखिए बुराई समाज मे जंगल मे लगे आग की तरह फैलती है।)

विश्व में हमारा देश एकता और अखंडता के लिए जाना जाता है 🙏🇮🇳🙏✝☪🕉💖💝🇮🙏

मुझे उम्मीद है कि आज के दिन भी हम इसकी मिसाल पेश करेंगे

……………..

::: एकता का संदेश ::::

भाषा अनेक , भाव एक !

राज्य अनेक , राष्ट्र एक !

पंथ अनेक , लक्ष्य एक !

बोली अनेक , स्वर एक !

रंग अनेक , तिरंगा एक !

समाज अनेक , भारत एक !

रिवाज़ अनेक , संस्कार एक !

योजना अनेक , मक़सद एक !

कार्य अनेक , संकल्प एक !

राह अनेक , मंज़िल एक !

चेहरा अनेक , मुस्कान एक !

विविधता में एकता ही हमारे भारत की विशेषता है ।

🇮🇳 हमें भारतीय होने पर गर्व है 🇮🇳

…………….

किसी के लिए धर्म खतरे में है …..

किसी के लिए जति खतरे में है ….

जरा गौर से देखो भाईयों आज अपना देश खतरे में है..

भगवान भी हर जगह है और अल्लाह भी हर जगह है,,, तो क्या ऐसा नहीं हो सकता कि भगवान मस्ज़िद में भी हों, और अल्लाह मंदिर में भी।।”

……………

Rashtriya Ekta Diwas Slogans

  • एकता के लिए संघर्ष करेंगे तभी तो हम देश का उत्कर्ष करेंगे ।
  • हाथ मिलाकर एक साथ चलेंगे, हम विश्व में एकता की मिसाल बनेंगे।
  • एकता में बहुत बल है, यह राष्ट्र की हर समस्या का हल है ।
  • एकता ही देश की तकदीर है, जिसमे एकता नहीं वो देश फकीर है ।
  • राष्ट्रीय एकता में बल है अपार, चलो हाथ मिलाये बाटे प्यार।
  • सच्चे मायनों में तभी होगी देशभक्ति, जब एक होकर हम दिखायें एकता की शक्ति ।
  • हमारी एकता हमारी पहचान है, तभी तो हमारा देश महान है ।
  • देश तभी बनेगा महान जब एकता बनेगी हमारी पहचान ।
  • एकता में बल है और इससे देश का सुनहरा कल है ।
  • राष्ट्रीय एकता से होती है हर मुश्किल आसान, यही बोलते हैं गीता और कुरान।
  • कोई फ़ादर कोई काज़ी कोई है सन्यासी, एकसाथ जब खड़े हो हम तो सिर्फ हैं भारतवासी ।
  • जहां एकता है वहां जीत सर्वदा है ।
  • तोड़ने वाला खुद टूट के बिखर जायेगा, जब राष्ट्र एकता के सूत्र में निखर जायेगा ।
  • राष्ट्रीय एकता हम अपनाये और विकास का मार्ग बनाये।
  • राष्ट्रीय एकता में बहुत बल है, यह राष्ट्र की हर समस्या का हल है।
  • राष्ट्रीय एकता में जो ताकत है, वो अतुलनीय है व्यापक है।
  • हमे तोड़ने वाले ही टूट जायेंगे, हम सब भारतीय गर एकजुट हो जायेंगे।
  • इतिहास के पन्नो से आवाज़ आती है, राष्ट्रीय एकता हमेशा जीत दिलाती है।
  • राष्ट्रीय एकता होगी राष्ट्र का विकास होगा, तभी तो अपना भारत पुरे विश्व में सबसे खास होगा।
  • राष्ट्रीय एकता का महत्व जब जन जन समझता है, तब जा के वह राष्ट्र इतिहास रचता है
  • राष्ट्रीय एकता को बनाए रखना है, देश को सजाए रखना है।
  • राष्ट्रीय एकता से है हमारा अस्तित्व, इसे बनाए रखना है हमारा दायित्व।
  • राष्ट्रीय एकता का बहुत बड़ा है प्रभाव, इसे उत्पन्न होता देश में सदभाव।
  • देश की आजादी के लिए हुई अनगिनत जंग, पर प्राप्त हुई आजादी राष्ट्रीय एकता के संग।
  • देश की राष्ट्रीय एकता है अविभाज्य, इसी के बल बूते टिका हुआ है भारत का साम्राज्य।
  • बहुत मुश्किलों से हुआ है राष्ट्रीय एकता का निर्माण, इसके लिए ना जाने कितने क्रांतिकारियों ने दियें अपने प्राण।
  • राष्ट्रीय एकता का करों चुनाव, देशहित से करो लगाव।
  • राष्ट्रीय एकता के विषय में दो सबको ज्ञान, देशहित के लिए चलाओ अभियान।
  • राष्ट्रीय एकता बिना है भारत अपूर्ण, यह भावना राष्ट्र को परिपूर्ण।
  • आओ मिलकर बढ़ाये राष्ट्रीय एकता को सब लोग, ताकि देश में तरक्की का हो सके उपयोग।
  • राष्ट्रीय एकता है देश की तरक्की का आधार, इसके बिना है सब बेकार।
  • राष्ट्रीय एकता है भारत का रीढ़, इसके बिना है देश शक्तिक्षीण।
  • राष्ट्रीय एकता के बिना भारत है शक्तिहीन, इसके द्वारा भारत में होता शक्तिसंचार नवीन।
  • हमारे राष्ट्रीय एकता ने तोड़ा है अनगिनत महाशक्तियों का दंभ, इसके द्वारा भारत में हुआ है नवयुग का आरंभ।
  • जिन देशों में होता है राष्ट्रीय एकता का आभाव, वहा नही देखने को मिलता है लोगो में सदभाव।
  • राष्ट्रीय एकता का हमें समझना होगा अर्थ, यह है वह शक्ति जो देश में पैदा करती है सामर्थ्य।
  • राष्ट्रीय एकता का है देशहित से संबंध, इसमें विघ्न डालने वालों पर लगना चाहिए प्रतिबंध।
  • देश की एकता है सबसे महत्वपूर्ण, इसके बिना देश की शक्ति है अपूर्ण।
  • राष्ट्रीय एकता को स्थिर रखना है सबसे बड़ा कार्य, इसका पालन करना है सबके लिए अनिवार्य।
  • चाहे हो कोई भी विवाद, पर राष्ट्रीय एकता पर चोट करना है अपराध।
  • प्रदेश और भाषा के नाम पर ना करो विवाद, राष्ट्रीय एकता को तोड़ना है सबसे बड़ा अपराध।
  • हमारे देश की राष्ट्रीय एकता और अखंडता ही इसकी शक्ति का आधार है।
  • राष्ट्रीय एकता को बनाए रखना देश के हर नागरिक का कर्तव्य है।
  • भाषा और राज्य के नाम पर लोगो से भेदभाव राष्ट्रीय एकता को प्रभावित करता है।
  • राष्ट्रीय एकता ही स्वतंत्र भारत का आधारस्तंभ है।

………………..

ना ही वो हिन्दू लिखेगा ,ना मुसलमान लिखेगा।

हमेशा एकता का गीत हर जवान लिखेगा।

धर्म,भाषा,मज़हब और मुल्क में तो हमने बांटा है

बहेगा खून सरहद पे तो हिन्दोस्तान लिखेगा।

……………

मकतल* युध्द क़ा मैदान

ख़ू ए पैरहन* खून मे लिपटा कपड़ा

वो तो बच निकले थे उस धर्म की लड़ाई से

हमे अपनी समझ क़ा इस्तेमाल करना होगा

कॆ धरम कॆ नाम से लड़ने पर नुकसान किसका है और फायदा किसका ….

“भगवान भी हर जगह है और अल्लाह भी हर जगह है,,, तो क्या ऐसा नहीं हो सकता कि भगवान मस्ज़िद में भी हों, और अल्लाह मंदिर में भी।।”

आंखें खोलो।।

…………………

ख़ंजर चले किसी पे तड़पते हैं हम ‘अमीर’

सारे जहाँ का दर्द हमारे जिगर में है

एक हो जाएँ तो बन सकते हैं ख़ुर्शीद-ए-मुबीं

वर्ना इन बिखरे हुए तारों से क्या काम बने

………………

तू हिन्दु बनेगा ना मुसलमान बनेगा

इन्सान की औलाद है इन्सान बनेगा

– साहिर लुधियानवी

सात संदूक़ों में भर कर दफ़्न कर दो नफ़रतें

आज इंसाँ को मोहब्बत की ज़रूरत है बहुत

– बशीर बद्र

ONLINE eDUCATION भारतीय संस्कृति के अनुरूप नहीं


मुलतापी समाचार

इंदौर । ऑनलाइन शिक्षा भारतीय संस्कृति के अनुरूप नहीं है। गुरु और शिष्य का मिलन जब तक नहीं होता तब तक विद्या का भाव नहीं आता है। एेसे ही शिक्षक और विद्यार्थी आमने-सामने बैठते है तो शिक्षा का वातावरण निर्मित होता है। कोरोना महामारी के कारण ऑनलाइन शिक्षा की अल्पकालीन व्यवस्था बनी है।

यह बात आचार्य विद्यासागर महाराज ने शुक्रवार को पत्रकारों से चर्चा में नेमीनगर जैन मंदिर में कही। उन्होंने एक अन्य सवाल के जवाब में कहा कि सभी समाचार पत्र मिलकर प्रयास करे तो देश के 13 प्रांतों में जहां हिंदी बोली जाती है वहां पर शुद्ध हिंदी बोली जाने लगेगी। हिंदी समाचार पत्रों में अंग्रेजी शब्दों का इस्तमाल नहीं होना चाहिए। अगर एेसा होता है तो इन राज्यों में रहने वाली 70 फीसदी लोग हिंदी भाषा को सही रूप में अपना लेंगे। इसके अच्छे परिणाम सामने आएंगे। देश की तरक्की होगी।

संतों ने मठ मंदिर बना लिए लेकिन उन्हें नदी के समान होना चाहिए-

एक अन्य सवाल के जवाब में आचार्यश्री ने कहा कि संतों ने मठ-मंदिर बना लिए है लेकिन उन्हें नदी की तरह होना चाहिए। संतों को संभव हो तो एक स्थान पर नहीं रहना चाहिए। उन्हें बहते पानी के समान होना चाहिए। जैसे नदी बहती रहती है वैसे ही संतों को भी चलते रहना चाहिए। इस दौरान उन्होंने कहा राजनीति और धर्मनीति में अंतर है। राजनीति में लोग इधर से उधर हो जाते है। धर्म नीति में एेसा संभव नहीं है।

किसानों को शीघ्र मिलेगी अनुदान राशि


मूलतापी सामाचार

राहुल सारोडे

बैतूल मुलताई । भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष आदित्य बबला शुक्ला ने शाहपुर के किसानों को उद्यानिकी विभाग की शेडनेट योजना में अनुदान न मिलने के मामले में कृषि मंत्री को पत्र लिखकर जल्द ही भुगतान करने की मांग की है। उन्होंने इस सबंध में विभाग के उप संचालक आषा उपवंशी से भी चर्चा कर मामले की जानकारी ली है। जिसमें योजना के तहत लगभग 3 करोड 82 लाख 40 हजार रुपये का अनुदान भुगतान किया जा चुका है। 11 किसानो को 64 लाख रुपये का अनुदान भुगतान किया जाना शेष है।