दृष्टि एजुकेशन पॉइंट बैतूल के छात्र-छात्राएं पहुंचे बाचा गांव


बैतूल- मध्यप्रदेश के बैतूल जिले की घोड़ाडोंगरी ब्लॉक के बाचा ग्राम को किसी नाम और शोहरत की आवश्यकता नहीं है बैतूल जिले का बाचा ग्राम एक आदर्श ग्राम है और पूरे भारत में सोलर विलेज के नाम से जाना जाता है, भारत सहित विश्व के करीब 10 देशों से ज्यादा के छात्र छात्राएँ यहाँ पर आ चुके है जिसमें जापान, सिंगापुर, मलेशिया, कजाकिस्तान, दक्षिण कोरिया के छात्र छात्राएँ शामिल है। जिनके द्वारा इस गांव का भ्रमण किया जा चुका है।

इसी क्रम में आज बैतूल जिले के प्राइवेट संस्थान दृष्टि एजुकेशन प्वाइंट बैतूल के शिक्षक और छात्र छात्राओं के द्वारा भी बाचा ग्राम का भ्रमण किया गया।बाचा ग्राम हर तरह से जल संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण, स्वच्छता, ऊर्जा संरक्षण के मामले में देश में नंबर वन बना हुआ है।

बाचा गांव के सरपंच राजेन्द्र जी और गाँव के जागरुक युवाओं के द्वारा सभी का पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया।

बचा ग्राम के सभी 74 घरों में सोलर पैनल से चलने वाले चूल्हों पर ग्राम की महिलाएं खाना पका रही है अब उनके घर धुएँ और प्रदूषण से मुक्त है। उन्हें अब जंगलों से लकडियां भी लाने नहीं जाना पड़ रहा है। पर्यावरण संरक्षण का जीता जागता नमूना मध्यप्रदेश के बैतूल जिले का बाचा ग्राम पूरे विश्व में ख्याति प्राप्त कर रहा है।

यहां प्रतिवर्ष जल महोत्सव का आयोजन भी किया जाता है जिसमें देश और विदेश के मेहमान शामिल होते हैं।

गांव के जागरूक युवा देवसु कवड़े और अनिल उईके बताते हैं कि उन्हें गांव में जल, ऊर्जा, स्वच्छता सहित सभी कार्यों को करने के लिए गांव के सभी परिवारों का खूब सहयोग मिलता है उन्हीं के सहयोग के कारण आज हम देश सहित विदेश में भी बाचा गांव का नाम रोशन कर पाए हैं।

दृष्टि एजुकेशन पॉइंट के संचालक कमलेश निरापुरे बताते हैं की बाचा सोलर पैनल से खाना पकाने, स्वच्छता, जल संरक्षण में वास्तविकता में अग्रणी है। बाचा ग्राम से सभी को एक सीख लेनी चाहिए और आने वाले भविष्य में देश के सभी ग्रामों में इस प्रकार की योजनाओं का लाभ लेकर गाँव के विकास को करना चाहिए।

ग्राम के सरपंच राजेन्द्रजी बताते हैं कि इस कार्य को करने के लिए भारतभारती शिक्षा समिति और आईआईटी मुंबई के छात्रों का सराहनीय योगदान है साथ ही गांव के सभी परिवारों का भी इस कार्य में बराबर का सहयोग है बाचा गांव आज 100% सोलर विलेज बन गया है

दृष्टि एजुकेशन पाईट के शिक्षक कमलेश निरापुरे, विजय नरवरे फिजिकल ट्रेनर ( पूर्व सैनिक), संजय नरवरे फिजिकल ट्रेनर (पूर्व सैनिक), प्रदीप कुशवाह , प्रखर खंडागरे, रूपेश पवार, सुनील पवार, रीता बिहारिया, प्रदीप डिगरसे, अलकेश चडोकार सहित संस्था के आधा सैकड़ा से ज्यादा बच्चे शामिल थे।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s