All posts by मनमोहन पवार

मुलतापी समाचार (प्रधान संपादक) 9753903839

मौसम अपडेट-अगले 24 से 48 घण्टे में इन इलाकों में तेज़ी से गिरेगा पारा, हर साल अपेक्षा इस साल पड़ेगी अधिक सर्दी


नई दिल्ली

Multapi Samachar

दिसंबर आने वाला है और ठंड ने धीरे-धीरे अपना रूप दिखाना शुरू कर दिया है। कई इलाकों में मौसम का मिजाज तेजी से बदलने लगा है और ठंड बढ़ने लगी है। पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी और मैदानी इलाकों में बारिश की वजह से उत्तरी भारत के कई इलाकों में तापमान का पारा तेजी से नीचे लुढ़कता जा रहा है। इसके साथ ही कई राज्यों में मौसम तेजी से बदलता जा रहा है। दिल्ली समेत उत्तर भारत के कई राज्यों में तापमान में गिरावट का सिलसिला तेजी से शुरू हो गया है। इन इलाकों में लगातार न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की जा रही है।

मौसम विभाग के मुताबिक अगले 24 से 48 घंटों में कई इलाकों में तापमान एक से दो डिग्री नीचे आ सकता है

दिल्ली में शुक्रवार को न्यूनतम तापमान 7.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से पांच डिग्री कम था जो 14 साल में सबसे कम नवंबर का तापमान था। वहीं शनिवार को तापमान 8.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। वहीं रविवार को न्यूनतम 7 डिग्री सेल्सियस तक और गिरने की सम्भावना है। मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली में इस साल आम दिनों की तुलना में अधिक ठंड पड़ने की संभावना है।

मौसम विभाग ने पश्चिमी विक्षोभ के देश के उत्तर-पश्चिमी हिस्से की ओर बढ़ने के चलते सोमवार को रात के तापमान में वृद्धि का अनुमान जताया है। मौसम विभाग के क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के असर से सोमवार से न्यूनतम तापमान में वृद्धि होने का अनुमान है।

राजस्थान के अधिकतर इलाकों में शनिवार को न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई। मैदानी इलाकों में चुरु में न्यूनतम तापमान सबसे कम 5.5 डिग्री सेल्सियस रहा। राज्य के एकमात्र पहाड़ी इलाके माउंट आबू में रात का तापमान एक डिग्री सेल्सियस रहा।

हल्द्वानी में रात का तापमान पहली बार 5 डिग्री सेल्सियस पर आ गया है। शनिवार को पिथौरागढ़ का न्यूनतम तापमान 4.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। वहीं नैनीताल में तापमान छह डिग्री पहुंचने से रातें अत्यधिक सर्द होने लगी हैं। शाम ढलते ही लोग घरों में कैद हो जा रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश में ठंड बरकरार है और मौसम विभाग ने अगले कुछ दिन में राज्य में बारिश और बर्फबारी का अनुमान जताया है।

झारखंड और आसपास के इलाके में पिछले तीन-चार दिनों से मौसम का मिजाज बदला हुआ है। अरब सागर में बने साइक्लोनिक सर्कुलेशन का असर झारखंड पर भी रहा। रांची समेत कई जगहों पर अच्छी बारिश हुई है। हवा भी सामान्य से अधिक तेज गति से चली। इसका सबसे ज्यादा असर अधिकतम तापमान पर हुआ है।

मौसम विभाग का कहना है की प्रशांत महासागर की मौसम संबंधी घटनाओं को ला नीना के नाम से जाना जाता है, जिससे सर्दियों के महीनों में वैश्विक मौसम पर असर पड़ता है। ला नीना के दौरान केंद्रीय प्रशांत महासागर में तापमान सामान्य स्तर से नीचे चला जाता है और हवा के पैटर्न को ट्रिगर करको दूर के क्षेत्रों में मौसम को प्रभावित कर सकता है। यह उत्तर पश्चिमी भारत में सामान्य सर्दियों की तुलना में ठंड से जुड़ा हुआ है।

Corona Virus covid-19 फिर बढ़ रही कोरोना की रफ्तार,आखिरी 24 घण्टे में 46,232 नए मामलें,इतने लोगों की मौत


बढ़ने लगी कोरोना की रफ्तार

पुन: लॉक डॉउन लगाने के आशार हो सकते है सरकार के देश में

नई दिल्ली

भारत में अब फिर से कोरोना वायरस की रफ्तार बढ़ती जा रही है, जिसके चलते अब तक करीब 1.32 लाख लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। साथ ही देश में संक्रमितों की संख्या भी करीब 90 लाख तक पहुंच गई है। इस बीच अच्छी बात यह है कि अब तक करीब 85 लाख से ज्यादा लोग स्वस्थ होकर घर लौट गए है। देश भर में शनिवार को समाप्त 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण के 46,232 नए मामले सामने आए।

इन 24 घंटों में 49,715 मरीज कोरोना संक्रमण से ठीक भी हुए हैं, जबकि 564 की मौत हो गई। अब तक देश भर में कुल 1,32,726 लोगों की इस महामारी की वजह से मौत हो चुकी है। देश में फिलहाल रिकवरी रेट 93.67% है, जबकि एक्टिव मरीज़ों की दर 4.85% है. देश में कोरोना से डेथ रेट 1.46% है, जबकि पॉजिटिविटी रेट 4.33% है. देश में अब तक कुल ठीक हुए मरीजों की संख्या 84 लाख 78 हजार 124 है, जबकि एक्टिव मामलों की संख्या 4 लाख 39 हजार 747 है

दिल्ली में हालात बेकाबू

वहीं, देश की राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में वृद्धि के बीच दिल्ली सरकार ने जिला स्वास्थ्य दलों को निर्देश दिया है कि वे घरों में पृथक-वास में रह रहे कोविड-19 मरीजों के पास जाएं और सुनिश्चित करें कि रोगी सभी नियमों का पालन करें। वहीं दिल्ली में आरटी-पीसीआर जांच क्षमता बढ़ा दी गई है और एक दिन में 37,000 से अधिक नमूनों की जांच की गयी।

वहीं, छत्तीसगढ़ में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के 2284 नए मामले सामने आए, जिसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या 2,21,688 हो गई। विभाग के अधिकारियों ने बताया कि शनिवार को संक्रमण के 2284 नए मामले सामने आए हैं। कोरोना पर काबू पाने और लोगों की जान बचाने के लिए कई राज्य सरकारों ने बड़े-बड़े शहरों में नाइट कर्फ्यू की घोषणा कर दी है।

10 लाख के इनामी जोनल कमांडर सहित 3 नक्सली ढेर-बिहार


मुलतापी समाचार

बिहार के गया में पुलिस ने एनकाउंटर में 10 लाख के इनामी एक कुख्यात नक्सली सहित 3 नक्सलियों को मार गिराया है. बताया जा रहा है कि इससे पहले नक्सलियों ने एक बार फिर बड़ी घटना को अंजाम देते हुए दो लोगों की हत्या कर दी, जिसके बाद पुलिस ने ये एनकाउंटर किया.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, नक्सली संगठन के इंदल ग्रुप ने बीती रात बाराचट्टी की के महुआरी में नगरपुरडीह के मुखिया के देवर वीरेंद्र यादव और उनके एक सहयोगी की गोली मारकर हत्या कर दी. इस घटना की सूचना पर सर्च में निकली बाराचट्टी थाना की पुलिस और कोबरा 205 कंपनी की टीम मौके पर तुरंत पहुंचकर नक्सलियों की घेराबंदी कर दी. उसके बाद दोनों तरफ से सैकड़ों राउंड फायरिंग हुई, जिसमें झारखंड सरकार से 10 लाख के इनामी जोनल कमांडर आलोक यादव को मौके पर ही ढेर कर दिया गया. वहीं 2 अन्य नक्सली भी घायल होने के बाद मौके से भाग गए थे. हालांकि बाद में पुलिस को उन दोनों की ही लाश मिली.

मिली जानकारी के अनुसार मुठभेड़ के दौरान एक पुलिसकर्मी और 2 अन्य ग्रामीण भी घायल हुए हैं, जिन्हें इलाज के लिए एनएमसीएच में भर्ती कराया गया है. दरअसल मुठभेड़ की यह घटना महुआरी के उस स्थान पर हुई जहां छठ महापर्व के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा था.

केरल में अब सोसल मीडिया पर धमकाने और अपमानित करने वाली पोस्ट लिखने पर होगी 5 साल की जेल


मुलतापी समाचार

सोसल मीडिया पर लिखने वाले को 5 साल की जेल

मुलतापी समाचार

केरल में अब सोशल मीडिया के जरिए किसी को अपमानिक करने या फिर धमकाने वाली पोस्ट लिखने वालों की खैर नहीं होगी. दरअसल केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद ने राज्य सरकार की ओर से लाए गए उस अध्यादेश को मंजूरी दे दी है, जिसके तहत किसी अपमानित करने या धमकाने वाले पोस्ट पर 5 साल तक की सजा का प्रावधान किया गया है. राज्यपाल के हस्ताक्षर के साथ ही केरल पुलिस आपराधिक एक्ट में धारा-118(ए) को जोड़ दी गई है.

सरकार की ओर से जारी नए अध्यादेश के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति ऐसी सूचना भेजा है जो किसी को भी अपमानित करने वाली या धमकी देने वाली होगी तो उसे 5 साल की जेल या 10,000 रुपये जुमार्ना या फिर दोनों सजा दी जा सकती है. सरकार की ओर जारी इस नए अध्यादेश को लेकर अभी से विवाद खड़ा हो गया है और अभि​व्यक्ति की आजादी को लेकर बातें की जानें लगी हैं. मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने इस अध्यादेश को राज्यपाल से मंजूरी मिलने के बाद कहा कि ये फैसला सोशल मीडिया के बढ़ते दुष्प्रयोग और लोगों को निशाना बनाने की कुप्रथा के कारण लाया गया है.

आरोग्‍य सेतु के बाद अब मोदी सरकार लाने जा रही कोविन एप, कोरोना वैक्‍सीन के डाटा की मिलेगी जानकारी


मुलतापी समाचार

दुनिया भर में लोग कोरोना वायरस की वैक्‍सीन के आने का इंतजार कर रहे हैं. विश्‍व भर में कोरोना वायरस कहर बरपा रहा है. भारत सरकार देश के हर व्‍यक्ति तक कोरोना वायरस की यह वैक्‍सीन पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है. इस बीच सरकार की तैयारी कोविन एप नामक मोबाइल एप्‍लीकेशन लाने की भी है. यह एप कोरोना वायरस वैक्‍सीन को लेकर होगा, जिसमें उससे जुड़ा हर डाटा उपलब्‍ध होगा.

केंद्र सरकार की ओर से लाई जाने वाली कोविन एप में यह जानकारी मिलेगी कि कोरोना वायरस की वैक्‍सीन किस व्‍यक्ति को लग गई है. कितनी वैक्‍सीन खरीदी गई हैं. साथ ही यह कितनी बची हैं. जिसे कोरोना वैक्‍सीन लगाई जाएगी उस तक ये एप पहले ही सूचना पहुंचा देगा.

कोविन एप को लेकर केंद्र सरकार का मानना है कि यह डाटा अपलोड करने के साथ ही डाटा प्राप्त करने में सहायक होगी. इससे जमीनी स्तर पर काम कर रहे अधिकारी भी सक्षम हो सकेंगे. राज्य सरकारों द्वारा केंद्र सरकार को कोरोना वैक्‍सीन का डाटा उपलब्ध कराने में भी यह मददगार होगी.

कोरोना से निपटने को केंद्र सरकार ने कसी कमर, 4 राज्‍यों में भेज रही विशेष टीमें


Multapi Samachar

देश में कोरोना वायरस संक्रमण एक बार फिर से रफ्तार पकड़ता दिख रहा है. दिल्‍ली में तो हालात और अधिक खराब हो रहे हैं. इस बीच केंद्र सरकार ने भी कोरोना वायरस से निपटने के लिए कमर कस ली है. इसके तहत सरकार पंजाब, छत्‍तीसगढ़, उत्‍तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में कोरोना से निपटने के लिए विशेष टीमें भेज रही है. केंद्र सरकार की ओर से भेजी जा रही ये टीमें राज्‍य सरकारों के साथ मिलकर कोरोना महामारी से निपटने के लिए कार्य करेंगी.

पिछले दिनों केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए ऐसी ही टीमें हरियाणा, राजस्‍थान, गुजरात, मणिपुर भी भेजी थीं. इन सभी राज्‍यों में से कुछ राज्‍य ऐसे हैं जहां बड़ा कोरोना विस्‍फोट हो रहा है. सरकार की ओर से जानकारी दी गई है कि प्रत्‍येक टीम में 3 सदस्‍य होंगे. यह टीम उन जिलों का दौरा करेंगी, जहां कोरोना वायरस के अधिक मामले सामने आ रहे हैं. इसके बाद ये टीमें कोरोना वायरस संक्रमण को कम करने, उनसे बचाव के तरीके अपनाने, टेस्टिंग बढ़ाने संबंधी कार्यों में राज्‍यों की मदद करेंगी. केंद्री

महाराष्ट्र सरकार 8.82 लाख बेघरों के लिए 100 दिनों में बनाएगी घर


Multapi Samachar

महाराष्ट्र सरकार ने एक नई स्किम की शुरुआत की है. इसके तहत राज्य के 8.82 लाख बेघरों को 100 दिनों अंदर घर दिए जाएंगे. ये घर ग्रामीण इलाकों में बनाए जाएंगे. घर बनाने का काम अगले साल 21 फरवरी से शुरू किया जाएगा. महाआवास योजना नाम के नाम के इस स्कीम के लिए करीब 4000 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने स्कीम को लॉन्च करते हुए कहा कि उन्होंने अधिकारियों को बढ़िया क्वालिटी के घर बनाने का आदेश दिया है.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा- सभी अधिकारियों को ये सुनिश्चित करना चाहिए कि मकान पक्का और अच्छी गुणवत्ता के हों. वे इतने आदर्श और सुंदर होने चाहिए कि दूसरे राज्यों के लोग उन्हें देखने आएं. उन्होंने आगे कहा कि सरकार ने इसे पूरा करने के लिए महा आवास योजना में कई बदलाव किए हैं. ठाकरे ने कहा- हम लोगों को मकान बनाने के लिए न केवल अनुदान देंगे, बल्कि ये भी देखेंगे कि उन्हें जमीन मिले और शौचालय जैसी बुनियादी सुविधाएं हों.

ग्रामीण विकास मंत्री हसन मुश्रीफ ने कहा- हमने 28 4,000 करोड़ के खर्च के साथ 28 फरवरी तक 882,135 घर बनाने का लक्ष्य रखा है. हम उन लोगों को जमीन देंगे, जिनके पास कोई भी जमीन का टुकड़ा नहीं है और योजना के तहत सरकारी भूखंडों पर अवैध अतिक्रमण को भी नियमित किया जाएगा. हम ये सुनिश्चित करना चाहते हैं कि ग्रामीण महाराष्ट्र में एक भी परिवार बेघर न रहे.

मनुष्य जन्म- एक अवसर


आदि ग्रंथ मे पृष्ठ सं 1075  गुरु अर्जुन देव जी फरमाते है:

“लाख चौरासी जोन सबाई।। मानस को प्रभ दी वड आई।।इस पौड़ी ते जो नर चुंके, सो आई जाइ दुख पाईदा।।”

इन्सान को  दूसरे जीवों के मुकाबले श्रेष्ठ बुद्धि इसीलिए मिली है कि वह इस चरण में अपनी यात्रा को सफल कर सके। मनुष्य शरीर उस यात्रा का अंतिम पड़ाव है। चाहे प्रभु के पैदा किए गए जीवों कि किस्में चौरासी लाख से कम नहीं, यहां भवसागर से पार होने का अवसर केवल एक बार मिलता है, मनुष्य के वेष में, मानो नाम या शब्द के जहाज में चड़कर बैठने के लिए इस रूप में सीढ़ी लटका दी गई है। जो कोई इस दुर्लभ अवसर को हाथ से गवा बैठता है, वह और और निचली योनियों में पड़कर अनेक कष्ट सहता रहता है।

मनुष्य जन्म का क्या उद्देश्य है?

गुरु अर्जुन साहेब (आदि ग्रंथ पृष्ठ स 251) फरमाते है:

“या जुग मह एकही क आइया।।”

 केवल पारब्रह्म परमेश्वर को प्राप्त करना, उसके साथ एक होना।पर हमने यहां आकर कहा लग गए

तो इसी को गुरु साहिब ने (आदि ग्रंथ पृष्ठ स 43) पर फरमाते है:

” प्राणी तू आया लाहा लैन।।लगा कित कुफकडे सभ मुकदी चली रैन।।

हम सब आए तो मालिक को मिलने पर इस बहुमूल्य समय को व्यर्थ के कामों में ही गुज़ार रहे है। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए मिला समय बहुत कम है और वह भी तेजी से बीत रहा है।

कबीर साहब भी यही फरमाते है:

“इही तेरा अवसर इह तेरी बार।। घट भीतर तू देख विचार।। कहत कबीर जीत के हार।। बहु बिध कहियो पुकार पुकार।।

“आप बताते है कि सिर्फ यही आखिरी अवसर है जिसमें हैं अपने अंतर में उस परमात्मा को गुरु के जरिए पा सकते है। इसलिए कबीर साहिब बानी के जरिए हमें बार बार चेतावनी दे रहे है कि नहीं तो हम मनुष्य जन्म रूपी जीती हुई बाज़ी को हार जायेंगे।

भ्रष्टाचार पर CM गहलोत हुए सख्त, अब सभी कर्मचारियों को देना होगा संपत्ति का ब्यौरा


मुलतापी समाचार

राजस्थान में भ्रष्टाचार के बढ़ते मामले और कर्मचारियों के रिश्वत लेने की लगातार मिलती शिकायतों के बाद सरकार अब सख्ती बरतने के मूड में है. सरकार सभी कर्मचारियों के लिए अब चल-अचल संपत्ति की जानकारी देना अनिवार्य करने जा रही है. इसकी जानकारी एंटी करप्शन ब्यूरो के अधिकारियों को भी दी जाएगी. अभी तक सिर्फ अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों और राजपत्रित अधिकारियों को ही अपनी चल-अचल संपत्ति का ब्यौरा देना होता था.

दरअसल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शासन में पारदर्शिता चाहते हैं. उनका प्रयास है कि भ्रष्टाचार पर अंकुश लगे और काम के बदले लिए जाने वाले पैसों पर रोक लगे. इसके लिए उन्होंने अब नया सिस्टम तैयार किया है. जिसके अनुसार बाबू से लेकर ऊपरी स्तर के अधिकारी को सालाना अपनी चल-अचल संपत्ति की जानकारी देनी होगी. मिली जानकारी के अनुसार इस नियम को एक जनवरी, 2021 से लागू कर दिया जाएगा.

राष्ट्रीय नवजात शिशु सप्ताह का ई-शुभारंभ


मुलतापी समाचार

Betul । शासन के निर्देशानुसार राष्ट्रीय नवजात शिशु सप्ताह का आयोजन 23 से 29 नवम्बर 2020 तक किया जा रहा है। जिसका ई-शुभारंभ 23 नवम्बर को जिला शीघ्र हस्तक्षेप केन्द्र से कलेक्टर श्री राकेश सिंह द्वारा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप कुमार धाकड़ एवं सिविल सर्जन डॉ. अशोक बारंगा की उपस्थिति में किया गया। इस सप्ताह के आयोजन का मुख्य उद्देश्य समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं एवं समुदाय स्तर पर नवजात शिशु की देखभाल की गुणवत्ता में सुधार तथा समानता और गरिमा सुनिश्चित करना है, जिससे नवजात शिशु मृत्यु दर में कमी लाई जा सके।

कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने कहा कि नवजात शिशु की उचित देखभाल द्वारा शिशु मृत्यु को कम किया जा सकता है। सप्ताह के दौरान सम्पूर्ण जिले में इस संबंध में आवश्यक प्रयास किये जायेंगे, जिसके तहत् प्रसव कक्षों में आवश्यक नवजात शिशु देखभाल प्रदान की जायेगी, साथ ही पोस्ट नेटल वाड्र्स में नवजात शिशु के संबंध में आवश्यक जानकारियां परिजनों को प्रदाय की जायेंगी। लाभार्थी वे समस्त शिशु होंगे जो जन्म से 28 दिवस के बीच की आयु के हैं, समय पूर्व जन्में एवं कम वजन के नवजात शिशु एवं नवजात शिशु गहन चिकित्सा ईकाई से डिस्चार्ज नवजात शिशु।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप कुमार धाकड़ ने कहा कि सप्ताह के अंतर्गत समुदाय स्तर पर आशा कार्यकर्ता द्वारा गांव के समस्त नवजात शिशुओं के वजन, तापमान, सांस की गिनती की जांच की जायेगी एवं माताओं को स्तनपान, टीकाकरण, साफ सफाई, खतरे के आम चिन्ह तथा कंगारू मदर केयर के संबंध में सलाह दी जायेगी।

सिविल सर्जन डॉ. अशोक बारंगा ने कहा कि इस सप्ताह के दौरान आने वाले मंगल दिवस पर 24 एवं 27 नवम्बर 2020 को विशेष गतिविधियों का आयोजन कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुये किया जायेगा, जिसमें समस्त धात्री माताओं की बैठक ली जाकर उन्हें नवजात सुरक्षा, खतरे के चिन्हों एवं संस्था आधारित नवजात देखभाल के बारे में जानकारी प्रदाय की जायेगी।

इस अवसर पर खंड चिकित्सा अधिकारी सेहरा डॉ. उदयप्रताप सिंह तोमर, डी.पी.एम. डॉ. विनोद शाक्य, डी.सी.एम. श्री कमलेश मसीह, डी.ई.आई.सी. मैनेजर श्री योगेन्द्र कुमार एवं अन्य अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित रहे।