All posts by nishantpawar680gmailcom

DUAAO ME YAAD RKNA

MP Board MPBSE 10th result 2020: आज 12pm पर जारी होगा एमपी बोर्ड 10वीं का परिणाम


12वीं से पहले जारी हो रहा 10वीं का रिजल्ट-
हर साल एमपी बोर्ड 10वीं और 12वीं परीक्षा के परिणम एक साथ जारी किए जाते हैं लेकिन इस बार कोरोना वायरस महामारी के प्रसार को रोकने के लिए लगे लॉकडाउन के चलते इस बार 10वीं और 12वीं की कुछ परीक्षाएं बीच में ही रुक गई थी। बाद में सरकार ने 10वीं की परीक्षाएं रद्द कर औसत अंकों के आधार पर रिजल्ट जारी करने का फैसल किया वहीं 12वीं की शेष परीक्षाएं 9 जून से 16 जून के बीच आयोजित कराई गईं। 

एम पीबोर्ड के अधिकारियों ने बताया था कि 10वीं की उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन कार्य काफी समय पहले किया जा चुका था। लेकिन 12वीं की परीक्षाएं बाद में कराई गई हैं इसलिए रिजल्ट को जारी किए जाने में समय लग गया। वहीं 12वीं का रिजल्ट भी जुलाई के तीसरे सप्ताह में जारी किया जाएगा। 

इन वेबसाइटों पर भी रिजल्ट देख सकेंगे विद्यार्थी-
एमपी बोर्ड के विद्यार्थी mpbseresults.nic.in, mbpse.mponline.gov.in, mpbse.nic.in, livehindustan.com, jagranjosh.com, fastresults.in, mp10.abplive.com, and hindustantimes.com पर भी अपना रिजल्ट चेक कर सकेंगे।

एमपी बोर्ड 10वीं का रिजल्ट 4 स्टेप्स में कर सकेंगे चेक-
1- गूगल प्लेस्टोर से  MPBSE Mobile app, MP Mobile app या Fastresults app डाउनलोड करें।
2- एप का होम पेज खोलने के बाद “ MP Board 10th result 2020”  लिंक पर जाएं।
3- यहां अपना रोल नंबर और डेट ऑफ बर्थ आदि की सूचना भरकर सब्‍मिट करें।
4- अब रिजल्ट आपके सामने होगा, जिसे चाहे तो डाउनलोड/स्क्रीनशॉट ले सकते हैं

Saroj Khan का आखिरी इंस्टाग्राम पोस्ट, Sushant Singh Rajput पर लिखी थी यह इमोशनल बात


बॉलीवुड को उस समय एक और झटका लगा जब मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का हार्ट अटैक से निधन हो गया। Saroj Khan की तबीयत खराब होने के बाद बीती 20 जून को उन्हें मुंबई के गुरु नानक अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। 71 साल की उम्र में Saroj Khan के निधन से बॉलीवुड में निराशा का माहौल है। Saroj Khan ने अपना आखिरी इंस्टाग्राम पोस्ट 14 जून 2020 को किया था। उन्होंने Sushant Singh Rajput के निधन पर लंबी और भावुक करने वाली पोस्ट लिखी थी। Saroj Khan ने सुंदर तरीके से अपनी बात लिखी थी कि उन्होंने कभी Sushant Singh Rajput के साथ काम नहीं किया, लेकिन उन्हें शुरू से पसंद करती थीं। सरोज खान ने लिखा था कि काश Sushant Singh Rajput ने सुसाइड जैसा कदम उठाने से पहले अपने से बड़ों से बात की होती।

Saroj Khan को बॉलीवुड में प्यार से मास्टरजी और कोरियोग्राफी की मां कहा जाता था। उन्होंने 4 दशक तक बॉलीवुड में सेवाएं दी और 200 से अधिक फिल्मों को कोरियोग्राफ किया। खासतौर पर माधुरी दीक्षित के किए डांस स्टेप्स अब तक फैन्स के जेहन में हैं। Saroj Khan की आखिरी मूवी कलंक थी जो 2019 में रिलीज हुई थी। करण जौहर ने इसे प्रोड्यूस किया था।

Madhya Pradesh Cabinet Expansion : सिंधिया खेमे से 9 MLA को मिली कैबिनेट में जगह, ऐसा है पूरा गणित


भोपाल Madhya Pradesh Cabinet Expansion । मप्र में शिवराज सरकार का आज कैबिनेट विस्तार हो गया और इसी के साथ प्रदेश की सियासत में ज्योतिरादित्य सिंधिया का प्रभुत्व भी साफ दिखाई देने लगा। इसमें कोई शक नहीं कि प्रदेश में दोबारा भाजपा सरकार बनाने का पूरा श्रेय ज्योतिरादित्य सिंधिया को ही जाता है, इसलिए मंत्रिमंडल विस्तार में भी इसका असर साफ-साफ देने को मिला है।

बुधवार को जितने मंत्रियों ने शपथ ग्रहण किया, उसमें भाजपा में पहले से मौजूद 16 विधायक शामिल हैं। इन 16 विधायकों में से भी 9 नए चेहरों को मंत्रिमंडल में जगह दी गई है, वहीं 7 पुराने चर्चित चेहरे ही कैबिनेट में शामिल किए गए हैं, जो प्रदेश की सियासत में पहचान बन चुके हैं।

सिंधिया खेमें से 9 विधायकों को मिली कैबिनेट में जगह

वहीं कैबिनेट विस्तार में ज्योतिरादित्य सिंधिया की खूब चली है। सिंधिया ने अपने साथ आने वाले 9 विधायकों को कैबिनेट में जगह दिलाई है। वैसे इसके अलावा कांग्रेस से ऐसे विधायक भी भाजपा में शामिल हुए थे, जो सिंधिया खेमे के नहीं थे। उन्हें भी मंत्रिमंडल में जगह दी गई है। ऐसे विधायकों की संख्या तीन है।

ये हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे से 9 विधायक

महेंद्रसिंह सिसोदिया, प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी, सुरेश धाकड़ (राठखेड़ा), ओपीएस भदौरिया, गिर्राज दंडोतिया, राज्यवर्धन सिंह, बृजेंद्र सिंह यादव प्रभुराम चौधरी

कांग्रेस से भाजपा में आए ये तीन विधायक भी बने मंत्री

बिसाहूलाल सिंह, हरदीप सिंह डंग, एंदल सिंह कंसाना

Madhya Pradesh Cabinet Expansion : मध्य प्रदेश में 28 मंत्रियों ने ली शपथ, देखें पूरी लिस्ट, अब होगा विभागों का बंटवारा


Madhya Pradesh Cabinet Expansion : मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल में आज 28 नए मंत्री शामिल हो गए हैं। भोपाल के राजभवन में प्रभारी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल इन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलवाई। 20 ने कैबिनेट और 8 ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली। अब पिछले पांच मंत्रियों को मिलाकर मंत्रिमंडल में कुल 33 मंत्री हो गए हैं। मंत्रिमंडल विस्तार के बाद अब सबसे पहले सीएम शिवराज बैठक लेंगे और जल्द ही मंत्रियों को विभागों का बंटवारा किया जाएगा। 

कैबिनेट मंत्री

– गोपाल भार्गव

– विजय शाह

– जगदीश देवड़ा

– बिसाहू लाल सिंह

– यशोधरा राजे सिंधिया

– भूपेंद्र सिंह

– एदल सिंह कंषाना

– बृजेंद्र प्रताप सिंह

विश्वास सारंग

– इमरती देवी

– प्रभुराम चौधरी

– महेंद्र सिंह सिसौदिया(संजू भैया)

– प्रद्युमन सिंह तोमर

– प्रेम सिंह पटेल

– ओमप्रकाश सकलेचा

– उषा ठाकुर

– अरविंद भदौरिया

– डॉ. मोहन यादव

राजवर्धन सिंह प्रेमसिंह दत्तीगांव

राज्यमंत्री

– भरत सिंह कुशवाह

– इंदर सिंह परमार

MP Cabinet Expansion : कल नहीं होगा शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार, आनंदी बेन दोपहर बाद भोपाल आएंगी


MP Cabinet Expansion : भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह चौहान ने स्‍पष्‍ट कर दिया है कि उनके मंत्रिमंडल का विस्तार कल यानि बुधवार को नहीं होगा। अलबत्‍ता एक-दो दिन में नए मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है। मीडिया से बातचीत में शिवराज ने साफ कर दिया कि कल विस्‍तार नहीं किया जाएगा

शिवराज भाजपा के आला नेताओं से विचार-विमर्श करने के लिए पिछले दो दिनों से दिल्ली में थे। मंगलवार सुबह वे वापस भोपाल लौट आए, सीएम शिवराज के साथ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और सुहास भगत भी आए हैं। माना जा रहा था कि कल एक जुलाई को मंत्रिमंडल का विस्तार हो सकता है और इस बार इनमें नए चेहरों को जगह दी जा सकती है। सीएम इसको लेकर मंत्रालय में चर्चा की। वहीं मप्र की प्रभारी राज्यपाल आनन्दीबेन पटेल बुधवार को दोपहर 3 बजे भोपाल पहुंच रही हैं। दोपहर 4.30 बजे मप्र हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश उन्हें मप्र के राज्यपाल के रूप में शपथ दिलाएंगे।

पहले मंत्रिमंडल विस्तार के लिए 30 जून का दिन सामने आ रहा था, लेकिन बाद में यह तारीख टल गई। अब एक जुलाई को मंत्रिमंडल का विस्तार होना माना जा रहा क्योंकि कल देवशयनी एकादशी है और इसके बाद करीब 5 महीने तक कोई भी शुभ कार्य वर्जित रहेगा।

सीएम ने दो दिन दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, ज्योतिरादित्य सिंधिया सहित कई वरिष्ठ नेताओं से बात की। इस दौरान गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा भी दिल्ली पहुंच गए थे।

Jitu Soni : जीतू सोनी को इंदौर क्राइम ब्रांच ने गुजरात से किया गिरफ्तार, 3 जुलाई तक पुलिस रिमांड पर | Mon,


इंदौर लाने पर जीतू सोनी को मेडिकल के लिए एमवाय अस्‍पताल ले जाया गया। इसके बाद उसे जिला कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उसे तीन जुलाई तक पुलिस रिमांड पर सौंप दिया गया है।इंदौर लाने पर जीतू सोनी को मेडिकल के लिए एमवाय अस्‍पताल ले जाया गया। इसके बाद उसे जिला कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उसे तीन जुलाई तक पुलिस रिमांड पर सौंप दिया गया है।Jitu Soni : इंदौर। इंदौर। सात महीने से फरार मोस्ट वांटेड अपराधी जीतू सोनी को इंदौर क्राइम ब्रांच ने शनिवार रात गिरफ्तार कर लिया। उसकी गिरफ्तारी पर एक लाख साठ हज़ार रुपए का इनाम घोषित था। डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र के मुताबिक जीतू उर्फ जितेंद्र सोनी पर शहर के ज्यादातर थानों में मानव तस्करी, दुष्कर्म, अपहरण, धोखाधड़ी, अवैध वसूली के 45 से ज्यादा केस दर्ज हैं। तत्कालीन कांग्रेस सरकार के समय यानी 31 नवंबर को पुलिस ने पहली बार उसके होटल माय होम सहित अन्य ठिकानों पर छापा मारा थ। तब जीतू सोनी तो भाग गया लेकिन उसका बेटा अमित सोनी पकड़ा गया।

इंदौर लाने पर जीतू सोनी को मेडिकल के लिए एमवाय अस्‍पताल ले जाया गया। इसके बाद उसे जिला कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उसे तीन जुलाई तक पुलिस रिमांड पर सौंप दिया गया है।

पुलिस ने देर शाम मीडिया को जीतू सोनी की गिरफ्तारी के बारे में विस्‍तृत जानकारी दी। इस दौरान बताया गया कि जीतू सोनी को उसके पैतृक गांव धारग्नि तहसील चलाला जिला अमरेली गुजरात से गिरफ्तार किया गया।चार दिन पूर्व क्राइम ब्रांच की टीम गुजरात के अमरेली से उसके बड़े भाई महेंद्र को पकड़ कर लाई। तब जीतू सोनी राजकोट स्थित एक फार्म हाउस से बेटे विक्की सोनी व भतीजे जिग्नेश सोनी को लेकर भाग गया। शुक्रवार को दोबारा लोकेशन निकाली गई ओर छह टीमों ने अलग अलग जगहों पर छापे मारे। इस बार भागने का मौका नहीं दिया ओर जीतू को पकड़ लिया।

इसके पहले क्राइम ब्रांच ने जीतू सोनी के भाई महेंद्र को राजकोट से गिरफ्तार किया था। उससे जानकारी मिली थी कि जीतू फरारी के बाद नेपाल और पश्चिम बंगाल में भी रहा था। पुलिस तीन अलग-अलग गाड़ियां लेकर उसे पकड़ने पहुंची थी। इस दौरान एक गाड़ी के कांच भी फूट गए, जिससे आशंका जताई जा रही है कि जीतू सोनी को पकड़ने के दौरान उसे छिपाने वालों ने पुलिस से विवाद भी किया। जीतू सोनी को किस तरह पकड़ा गया और इसकी गिरफ्तारी से जुड़ी सारी जानकारी इंदौर पुलिस ने शाम को प्रेस वार्ता कर दी।

कोरोना महामारी के बीच मध्य प्रदेश में किसानों के लिए यूरिया खाद का संकट


मालवा-निमाड़ (नईदुनिया टीम)। कोरोना महामारी के बीच प्रदेश में किसानों के लिए यूरिया खाद का संकट खड़ा हो गया है। मालवा-निमाड़ के कई जिलों में कपास, मक्का, केला, गन्ना और सब्जियों की फसल के लिए किसान यूरिया मांग रहे हैं, लेकिन आपूर्ति नहीं हो रही है। गांवों की कुछ सहकारी संस्थाओं में एक सप्ताह से खाद नहीं है, जबकि जिम्मेदार अधिकारी कह रहे हैं कि रोज रैक लग रही है।

अकेले इंदौर संभाग में जून में ही लक्ष्य का आधे से अधिक यूरिया खत्म हो चुका है। 18 जून को शाजापुर के गांव बेहरावल में कृषि साख सहकारी संस्था में आए ट्रक से किसानों द्वारा डीएपी खाद उतार ले जाने का मामला सामने आया था। प्रबंधक ने कालापीपल थाने में 60 बोरी खाद चोरी होने का आवेदन दिया था।

खाद के मामले में प्रशासन ने समय रहते ध्यान नहीं दिया तो अन्य जिलों में भी ऐसी घटनाओं से इन्कार नहीं किया जा सकता।

मध्यप्रदेश सहकारी विपणन संघ के मुताबिक इंदौर संभाग के आठ जिलों के लिए 1 लाख 47 हजार 474 टन यूरिया का लक्ष्य तय किया गया था, पर जून अंत तक 73 हजार टन से अधिक यूरिया किसानों तक पहुंच चुका है। मार्कफेड के अधिकारी बताते हैं कि अधिकांश खाद निमाड़ के खरगोन-बड़वानी जिलों में लग रहा है। इंदौर जिले की कुछ संस्थाओं में भी यूरिया नहीं है, लेकिन यहां हालात नियंत्रण में हैं। किसी जिले में लक्ष्य का आधा तो कहीं इससे भी कम यूरिया उपलब्ध है।

खंडवा : दो हजार टन ही उपलब्ध खंडवा जिले में सोसायटियों में यूरिया उपलब्ध नहीं होने की शिकायतें सामने आ रही हैं। जिले में करीब दो हजार टन यूरिया ही उपलब्ध है, जबकि एक महीने में करीब दस हजार टन यूरिया की आवश्यकता पड़ेगी। कृषि उपसंचालक आरएस गुप्ता ने बताया कि दस हजार टन यूरिया की डिमांड शासन को भेज दी है।

झाबुआ : 45 हजार टन की जरूरत झाबुआ जिले में 45 हजार टन खाद की आवश्यकता है। फिलहाल 27 हजार टन ही उपलब्ध है। रविवार को जिले के मुख्य रेलवे स्टेशन मेघनगर पर खाद की रैक लगने का इंतजार किया जा रहा है।

खरगोन लक्ष्य : 63 हजार टन अब तक प्राप्त : 29 हजार टन इस सप्ताह की मांग : 10 हजार टन रकबा : 2 लाख 15 हजार हेक्टेयर (90 प्रतिशत बोवनी हो चुकी है) नीमच लक्ष्य : 17 हजार 400 टन अब तक प्राप्त : 7 हजार 255 टन रकबा : 1 लाख 77 हजार हेक्टेयर (50 प्रतिशत बोवनी हो चुकी है)

मंदसौर लक्ष्य : 25 हजार टन अब तक प्राप्त : 12 हजार 145 टन इस सप्ताह की मांग : 5 हजार टन रकबा : 3 लाख 29 हजार हेक्टेयर (लगभग 50 प्रतिशत बोवनी हो चुकी है)

धार लक्ष्य : 62 हजार टन अब तक प्राप्त : 33 हजार टन इस सप्ताह की मांग : 7 हजार टन रकबा : 5 लाख 14 हजार हेक्टेयर (92 प्रतिशत बोवनी हुई)

बड़वानी यूरिया की कुल मांग : 40 हजार टन भंडारण : 11 हजार 466 टन वितरण : 10 हजार 107 टन मांग : 10 हजार टन कुल रकबा : 2 लाख 38 हजार 250 हेक्टेयर

रतलाम जरूरत : 25 हजार टन अब तक प्राप्त : 17 हजार 996 टन इस सप्ताह की मांग : 7 हजार 855 टन रकबा : 3 लाख 16 हजार हेक्टेयर (50 प्रतिशत बोवनी हुई)

आलीराजपुर जरूरत : 17 हजार टन अब तक प्राप्त : 6265 टन बोवनी का लक्ष्य : 1.82 लाख हेक्टेयर (अब तक 60 प्रतिशत बोवनी हुई)

बुरहानपुर यूरिया की कुल मांग : 5000 टन भंडारण : 4700 टन जिले में कुल रकबा : 93 हजार हेक्टेयर (अब तक 75 प्रतिशत बोवनी हुई)

शाजापुर लक्ष्य : 12,500 टन वर्तमान में उपलब्ध : 9398 टन शनिवार को रैक से एक हजार टन यूरिया और मिला जिले में कुल रकबा : 2 लाख 82 हजार हेक्टेयर

इनका कहना है

लक्ष्य और जरूरत के हिसाब से हर जिले और हर केंद्र पर यूरिया का इंतजाम किया जा रहा है। खरीफ के लक्ष्य का आधे से अधिक खाद तो हम दे चुके हैं, लेकिन इस बार कुछ अधिक मांग आ रही है। खंडवा में यूरिया की लगातार रैक लग रही है। इंदौर में भी दो रैक लगने वाले हैं। यहां से अधिक जरूरत वाले जिलों और क्षेत्र में खाद भेजा रहा है।

-महेश त्रिवेदी, संभागीय प्रबंधक, मार्कफेड

उज्जैन में शराब के नशे में एएसआई ने मचाया हंगामा, निलंबित


यातायात थाने में पदस्थ एक एएसआई ने गुरुवार को शराब के नशे में पुलिस ऑफिसर्स मेस के समीप जमकर हंगामा मचाया। लोगों ने इसकी जानकारी डॉयल 100 पर दी। इस पर पुलिस मौके पर पहुंची और उसे माधवनगर थाने ले गई। वहां भी उसने हंगामा किया। उसका कहना था कि उसकी पत्नी चार माह से बीमार है।

छुट्टी नहीं मिलने के कारण वह पत्नी को समय नहीं दे पा रहा है। आखिरकार पुलिस ने उसका मेडिकल करवाया और घर छोड़ दिया। पुलिस अधीक्षक मनोजसिंह ने एएसआई को निलंबित कर दिया है। एएसआई योगेश पांडे यातायात थाने में पदस्थ है। गुरुवार को वह शराब के नशे में पुलिस ऑफिसर्स मेस के समीप हंगामा कर रहा था।

इस पर कुछ लोगों ने फोन कर डॉयल 100 पर इसकी सूचना दी थी। इस पर डीएसपी एचएन बाथम व टीम मौके पर पहुंची और एएसआई को माधनगर थाने भेज दिया। थाने पर भी एएसआई ने काफी देर तक हंगामा किया। इस दौरान वह चार बार थाने से निकलकर जाने भी लगा। इस पर उसे पुलिसकर्मी पकड़कर थाने में लेकर आते रहे। बाद में उसे अस्पताल ले जाकर मेडिकल करवाया गया। शिकायत मिलने पर एसपी मनोजसिंह ने उसे निलंबित कर दिया

परेशान हूं…

एएसआई पांडे का कहना था कि उसकी पत्नी चार माह से बीमार है। लॉकडाउन के दौरान ड्यूटी करने के कारण वह पत्नी को समय नहीं दे पा रहा है। इस कारण काफी परेशान हो गया है।

Madhya Pradesh News : फिर मिलेगा महापौर व अध्यक्ष को वापस बुलाने का अधिकार


Madhya Pradesh News : भोपाल  मध्य प्रदेश की जनता को एक बार फिर नगर निगमों के महापौरों और नगर पालिका व नगर परिषद के अध्यक्षों को वापस बुलाने का अधिकार मिलेगा। तीन चौथाई पार्षदों द्वारा अविश्वास प्रस्ताव लाने और उसे विधिसम्मत पाए जाने पर राज्य निर्वाचन आयोग ‘खाली कुर्सी, भरी कुर्सी’ का चुनाव कराएगा। इसमें खाली कुर्सी के पक्ष में अधिक मतदान होता है तो फिर महापौर या अध्यक्ष को कुर्सी छोड़नी पड़ेगी।

पूर्ववर्ती कमल नाथ सरकार ने नगर पालिका अधिनियम में संशोधन कर इस प्रावधान को समाप्त कर दिया था। शिवराज सरकार ने फिरसे इसमें संशोधन कर व्यवस्था को लागू करने की मंजूरी दे दी है। पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने प्रदेश के नगर निगम के महापौर और नगर पालिका तथा नगर परिषद के अध्यक्ष का चुनाव पार्षदों के माध्यम से कराने की व्यवस्था लागू की थी। इसके साथ ही जनता को मिला वह अधिकार भी छिन गया था, जिसमें उसे महापौर और अध्यक्ष को वापसवापस बुलाने का अधिकार मिला था।

हालांकि इससे पहले दिग्विजय सरकार ने नगर निगम अधिनियम-1956 में बदलाव कर राइट-टू-रिकॉल के माध्यम से पार्षदों को यह अधिकार दिया था कि वे आर्थिक अनियमितता सहित अन्य आरोपों के चलते महापौर या अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास ला सकते हैं। कमल नाथ सरकार ने यह व्यवस्था लागू कर दी थी कि पार्षदों को महापौर या अध्यक्ष के प्रति अविश्वास हो तो वे अपने में से ही किसी दूसरे व्यक्ति को चुन सकते हैं। विपक्ष में रहते हुए भाजपा ने कमल नाथ सरकार की इस व्यवस्था का विरोध किया था।

राज्यपाल लालजी टंडन को ज्ञापन देकर अध्यादेश को मंजूरी नहीं देने की मांग भी की थी। राज्यपाल ने कुछ दिन के लिए प्रस्ताव रोक भी लिया था, लेकिन बाद में इसे अनुमति दे दी थी।

ऐसी रहती है प्रक्रिया

कलेक्टर यदि तीन चौथाई पार्षदों के माध्यम से प्राप्त प्रस्ताव को परीक्षण में विधिसम्मत पाता है तो शासन को महापौर या अध्यक्ष को वापस बुलाने के लिए चुनाव कराने की सिफारिश कर सकता है। -शासन के प्रस्ताव पर राज्य निर्वाचन आयोग ‘खाली कुर्सी, भरी कुर्सी ‘ का चुनाव कराता है। -यदि खाली कुर्सी के पक्ष में जनता मतदान करती है तो संबंधित को पद छोड़ना पड़ता है। -महापौर या अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव उनके कार्यरत रहने के दो साल बाद और माह शेष रहने से पहले लाया जा सकता है। 

नगरीय विकास विभाग ने तैयार किया प्रारूप सत्ता परिवर्तन के बाद शिवराज सरकार ने पिछली सरकार के जिन फैसलों की समीक्षा कर परिवर्तन करने का सैद्धांतिक निर्णय लिया था, उसे अब नगरीय विकास एवं आवास विभाग अमलीजामा पहना रहा है। इसके लिए पिछले दिनों मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस की अध्यक्षता में हुई वरिष्ठ सचिव समिति की बैठक में अधिनियम में संशोधन के लिए विधेयक लाने की मंजूरी दी गई है। इसके मुताबिक नगरीय विकास एवं आवास विभाग ने संशोधित विधेयक का प्रारूप तैयार कर लिया है।

Siya Kakkar Suicide News LIVE: अब मशहूर TikTok स्टार सिया कक्कड़ ने की आत्महत्या, कुछ घंटे पहले डांस वीडियो किया था पोस्ट


Siya Kakkar Suicide News LIVE: सुशांत सिंह राजपूत के असमय दुनिया छोड़ जाने का जख्म अभी भरा भी नहीं है कि एक और आत्महत्या की खबर आ गई है। खबर है कि मशहूर TikTok स्टार सिया कक्कड़ ने सुसाइड कर लिया है। 16 साल की उम्र में Siya Kakkar ने अपने TikTok वीडियो के जरिए देशभर में शौहरत हासिल कर ली थी। अभी यह साफ नहीं हुआ है कि Siya Kakkar ने यह कदम क्यों उठाया। मशहूर पैपराजी विरल भयानी ने अपने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर कर ये जानकारी दी है। भयानी के अनुसार, Siya Kakkar ने आखिरी बार अपने मैनेजर अर्जुन सरीन से बात की थी। पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है और जांच जारी है।

वहीं मैनेजर अर्जुन सरीन ने माना है कि बीती रात उनकी Siya Kakkar से बात हुई थी। हालांकि उनकी साफ कहना है कि बातचीत में जरा भी नहीं लगा कि Siya Kakkar परेशान है या ऐसा कोई कदम उठाने जा रही है। Siya Kakkar सोशल मीडिया पर खासी लोकप्रिया है। TikTok के अलावा Siya Kakkar के इंस्टाग्राम वीडियो भी खासे लोकप्रिय होते थे। उनके इंस्टाग्राम पर 91 हजार से अधिक फॉलोअर्स हैं। वहीं TikTok पर उन्हें करीब 11 लाख लोग फॉलो करते हैं। TikTok पर उन्होंने करीब 20 घंटे वीडियो पोस्ट किया था। अपने आखिरी इंस्टाग्राम वीडियो में Siya Kakkar ने पंजाबी गाने पर डांस लिया था, जिसे उनके चाहने वालों ने खूब पसंद किया था।

सोशल मीडिया फैन्स कह रहे…यह क्या हो रहा

Siya Kakkar के सुसाइड की खबर सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर गम का माहौल है। फैन्स भरोसा नहीं कर पा रहे हैं कि उनकी फेवरेट Siya Kakkar अब इस दुनिया में नहीं रही। कुछ लोग एक बार फिर 2020 को कोस रहे हैं। वहीं कुछ यूजर्स का मानना है कि मानसिक कमजोरी अब हावी होने लगी है। एक यूजर ने लिखा, अभी जिंदगी सही से संभला ही नहीं था लेकिन अंत का सोच लिया, ऐसा क्या मजबूरी थी। सुशांत सिंह राजपूत के बाद एक और सवाल, जिम्मेदार कौन?