Category Archives: आरोग्य सेतू एप्प

नागपुर, महाराष्ट्र से आने पर रहना पडेगा 14 दिन होम क्वारेंटाइन


बाहर से आने वाले व्यक्तियों की पहचान, क्वारेंटाइन एवं सेम्पल लिए जाने पर रहेगा विशेष ध्यान

निजी चिकित्सालयों में आने वाले खांसी-जुकाम, बुखार के मरीजों की जानकारी सार्थक लाइट एप पर संधारित करने के निर्देश

मुलतापी समाचर

बैतूल । कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने जिले में बाहर से खासतौर पर पड़ोसी महाराष्ट्र राज्य से आने वाले व्यक्तियों पर विशेष निगरानी के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि ऐसे व्यक्तियों की पहचान की जाए। साथ ही उन्हें 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन किया जाए तथा उनके सेम्पल लेकर कोरोना संक्रमण की जांच की जाए। उन्होंने जिले के निजी चिकित्सालयों एवं मेडीकल स्टोर संचालकों को भी निर्देशित किया है कि वे सार्थक लाइट एप डाउनलोड करें एवं उनके यहां आने वाले खांसी-जुकाम, बुखार के मरीजों अथवा इस बीमारी से संबंधित दवाइयां लेने वालों की जानकारी एप में दर्ज करें।

शनिवार को निजी चिकित्सालयों के चिकित्सकों एवं मेडीकल स्टोर संचालकों की बैठक में कलेक्टर ने निर्देश दिए कि उनके यहां खांसी-जुकाम, बुखार अथवा कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखने वाले मरीजों पर विशेष ध्यान दिया जाए। साथ ही सार्थक लाइट एप डाउनलोड कर उसमें ऐसे मरीजों के संबंध में जानकारी दर्ज की जाए। मेडीकल स्टोर्स संचालक भी यह एप डाउनलोड कर खांसी-जुकाम, बुखार बीमारियों की दवा लेने आने वालों की जानकारी दर्ज करें। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि पड़ोसी महाराष्ट्र राज्य से आने वाले व्यक्तियों की मेडीकल जांच आवश्यक रूप से की जाए। ऐसे व्यक्तियों के आने की सूचना भी स्वास्थ्य विभाग को दी जाना अति आवश्यक है। यह भी जरूरी है कि इन व्यक्तियों को 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन किया जाए।

उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि महाराष्ट्र राज्य में नागपुर जैसे स्थानों पर इलाज कराने जाने वाले व्यक्तियों एवं उनके सहयोगियों को वापस आने पर 14 दिन क्वारेंटाइन होना आवश्यक है। कलेक्टर ने निजी चिकित्सकों एवं मेडीकल स्टोर संचालकों से यह भी कहा है कि वे उनके यहां आने वाले मरीजों अथवा व्यक्तियों को अनिवार्य रूप से मास्क लगाने के लिए प्रेरित करें। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए भी सजग करें। इसके अलावा कोरोना से बचाव के उपायों की जानकारी देने वाले आवश्यक फ्लेक्स, पोस्टर इत्यादि भी अपने संस्थानों के समक्ष लगाएं।

आरोग्य सेतु ऐप में पाथाखेड़ा क्षेत्र में 2 से 5 किलोमीटर कोरोना वायरस संक्रमित की जानकारी से क्षेत्र में फैली सनसनी


सारनी। विद्युत नगरी सारनी एवं कोल नगरी पाथाखेड़ा में आरोग्य सेतू ऐप उपयोगकर्ता के मोबाइल में कुछ किलोमीटर की दूरी में कोरोना वायरस संक्रमित की लोकेशन की चेतावनी आने से क्षेत्र के लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है। शुक्रवार को देखते ही देखते यह खबर पूरे क्षेत्र में फैल गई थी कुछ लोगों के मोबाइल में अलग-अलग दूरी पर कोरोना संक्रमित की लोकेशन आ रही है जिससे क्षेत्र में डर का माहौल बना हुआ है । बताया जा रहा है आरोग्य सेतु एप में पाथाखेड़ा में 2 किलोमीटर के दायरे में किसी कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति होने की आशंका जताई जा रही हैं। गौरतलब हो कि कोविड-19 उपयोगकर्ता होने के संबंध में तीन व्यक्तियों के मोबाइल में मैसेज आरोग्य सेतु एप पर डिस्प्ले हो रहा है, आरोग्य सेतु ऐप को स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर नागरिक से अपने मोबाइल में डाउनलोड करने की अपील लगातार कर रहे है। शुक्रवार की दोपहर पाथाखेड़ा निवासी मंगल खवसे सहित अन्य सभी लोगों के मोबाइल में कोविड-19 पॉजिटिव उपयोगकर्ता होने का मैसेज डिस्प्ले हो रहा है। जबकि शोभापुर के कपड़ा व्यापारी प्रकाश शिवहरे के मोबाइल में 5 किलोमीटर और इसी प्रकार का मैसेज सारनी, नगर पालिका के सहायक यंत्री रविंद्र वराठे के मोबाइल में 10 किलोमीटर के दायरे में कोविड-19 पॉजिटिव उपयोग उपयोगकर्ता होने का मैसेज डिस्प्ले हो रहा है जिससे पूरे बैतूल जिले में हड़कंप मच गया है। जब इस संबंध में जिलाधीश बैतूल से जानकारी चाही तो उन्होंने फोन नही उठाया। लेकिन क्षेत्र में सोशल मीडिया में खबर बहुत तेजी से वायरल हो रही है।

गलत जानकारी के कारण भी हो सकता है ऐसा

वही इस संबंध में जानकार लोगों का कहना है कि कई बार आरोग्य सेतु ऐप में टेस्ट देते वक्त कुछ लोग गलत जानकारी भी भर देते हैं जिसके कारण ऐसा तो होता है। हालांकि कोल नगरी पाथाखेड़ा में आरोग्य सेतु ऐप द्वारा एक संदिग्ध दिखाए जाने के पश्चात कई लोगों ने पुनः टेस्ट पर परीक्षण दिया, जिसमें पाथाखेड़ा क्षेत्र के दो किलोमीटर के अंदर शाम 6.22 बजे तक 22 लोगों ने स्व-परीक्षण किया। जिसमें 3 उपयोगकर्ता इस परीक्षण में अस्वस्थ दिखाई दिए, इनके माध्यम से जानकारी गलत भरी गई हो सकती हैं। परंतु आरोग्य सेतु एप पर दिखाए गए एक कोविड-19 पॉजिटिव की पुष्टि तो शासन की कुछ कदम के बाद ही साफ हो पाएगी।