Category Archives: इन्दौर

मध्यप्रदेश के इंदौर में शुरू हुआ प्लाजमा थेरेपी से कोरोना का इलाज


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

इंदौर: इंदौर प्रदेश का ऐसा शहर बन गया है, जहां कोरोना के मरीजों का प्लाजमा थेरेपी की मदद से इलाज शुरू हो गया है! कोरोना के हॉटस्पॉट बने इंदौर के अरविंदो हॉस्पिटल में प्लाज्मा थेरेपी से मरीजों का इलाज शुरू कर दिया गया है! इंदौर के दो मुस्लिम युवा डॉक्टरों ने सबसे पहले अपना प्लाज्मा कोरोना ग्रस्त  2 मरीजों को दान किया है! जिसको लेकर उम्मीद जताई जा रही है कि इस थेरेपी की मदद से बेहतर परिणाम सामने आ सकते हैं!

कोरोना के इलाज में कारगर बताई जाने वाली प्लाज्मा थेरेपी उन मरीजों को दी जाएगी, जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है! क्योंकि ऐसे कई मरीज हैं जिनका लंबे समय से इलाज चल रहा है लेकिन वह ठीक नहीं हो पा रहे हैं! अब तक जितने भी मरीज इस संक्रमण से ठीक हो चुके हैं, उनके शरीर में अब ऐसी एंटीबॉडीज बन गई हैं, जिसकी सहायता से उनका शरीर इस महामारी से लड़ने में कारगर साबित हो रहा है! ऐसे में में स्वस्थ हो चुका मरीज अपना प्लाज्मा गंभीर रूप से संक्रमित मरीज को देगा, तो उसके शरीर में भी वह एंटीबॉडीज पहुंचकर कोरोना से लड़ेगी!

इंदौर के दो मुस्लिम डॉक्टरों डॉ इजहार मोहम्मद मुंशी और डॉ इकबाल कुरैशी ने सबसे पहले अरविंदो हॉस्पिटल में अपना प्लाज्मा डोनेट किया! इन दोनों डॉक्टरों ने कोरोना से मुकाबले के लिए 500 -500 ml ब्लड प्लाजमा लगभग मौत के मुंह में जा चुके 2 कोरोना संक्रमित मरीजों को दान किया है! प्लाज्मा थेरेपी अभी इंदौर के अरविंदो हॉस्पिटल से ही शुरू हुई है! अगर परिणाम बेहतर आते हैं तो इसे अन्य शहरों में भी शुरू किया जाएगा!

अरविंदो हॉस्पिटल के चेयरमैन डॉ विनोद भंडारी ने बताया कि स्वस्थ हुए और भी मरीज प्लाज्मा डोनेट कर मानवता का काम कर रहे हैं! सेंट पॉल स्कूल के पूर्व छात्र मुकेश कोठारी का कहना है कि डॉ इजहार मोहम्मद मुंशी ने कोरोना के इलाज के लिए प्लाज्मा देकर इंदौर में मिसाल पेश की है! यह प्लाज्मा कोरोना महामारी से संक्रमित लोगों के लिए अमृत का काम करेगा!

मुलतापी समाचार

MP sheopur: कोरोना संदिग्ध की स्क्रीनिंग करने के लिए गए डॉक्टर और पुलिस दल पर हमला, वीडियों देखें


Coronavirus Sheopur News :

Multapi samachar

श्योपुर जिले में हमले में पुलिस कर्मी घायल हो गया.

श्योपुर-विजयपुर। इंदौर से आए युवक की स्क्रीनिंग करने श्योपुर के गसवानी कस्बे में पहुंची स्वास्थ्य और पुलिस टीम पर पथराव कर दिया गया। पथराव से बचने के लिए डॉक्टर व पुलिसकर्मी इधर-उधर भागे लेकिन, सिर में पत्थर लगने से एक एएसआई घायल हो गए। श्योपुर पुलिस ने स्क्रीनिंग टीम पर हमले को लेकर एक महिला सहित चार लोगों पर सरकारी कार्य में बाधा, पथराव व आपदा प्रबंधन अधिनियम की धाराओं के तहत एफआइआर दर्ज कर ली है।

गसवानी निवासी गोपाल पिता गंगाराम शिवहरे इंदौर में मजदूरी करता है। लॉकडाउन में वह एक माह से इंदौर में फंसा हुआ था। बुधवार अल सुबह वह किसी तरह गसवानी पहुंच गया। पड़ोसियों ने पंचायत को गोपाल के पहुंचने की सूचना दी। पंचायत के सहायक सचिव विश्राम आदिवासी ने सूचना स्वास्थ्य विभाग व गसवानी थाने को दी। डॉ. पवन उपाध्याय टीम लेकर गोपाल के घर पहुंचे लेकिन, उसके स्वजनों ने उसे घर में छिपा दिया और स्क्रीनिंग के लिए तैयार नहीं हुए।

डॉक्टर ने सूचना थाने में दी तो एएसआई श्रीराम अवस्थी तीन-चार आरक्षकों के साथ मौके पर पहुंच गए। घर पर पुलिस व जांच टीम को देखकर गंगाराम भड़क गया और वह अपने बेटे को घर से बाहर निकालने को राजी नहीं हुआ। पुलिस ने घर में घुसने का प्रयास किया तो गंगाराम ने एक पत्थर उठाकर फेंका जो एएसआई श्रीराम अवस्थी के सिर में लगा।

इसके बाद गंगाराम ने दो-तीन पत्थर और फेंके जो एएसआई के पैरों में लगे। मौके का फायदा उठाकर स्वजनों ने गोपाल को घर से भगा दिया। गसवानी थाना प्रभारी बृजमोहन रावत ने बताया कि गंगाराम, उसकी पत्नी राधाबाई, बेटा गोपाल व आशीष के खिलाफ एफआइआर दर्ज कर ली है।पुलिस ने गंगाराम व आशीष को गिरफ्तार कर लिया जबकि राधाबाई व गोपाल घर से भाग गए।

मध्यप्रदेश में डॉक्टरों, पुलिस या सफाई कर्मचारियों पर यह पांचवां हमला है. 17 मार्च को देवास जिले में दो सफाई कर्मचारियों पर हमला किया गया था. मामले में एक मौलाना के अलावा एक व्यक्ति और उसके दो बेटों सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया गया था. उनमें से एक आरोपी पर रासुका के तहत कार्रवाई की गई. इन घटनाओं से पहले एक अप्रैल को इंदौर के टाट पट्टी बाखल में दो महिला डॉक्टरों पर हमला किया गया था और सात अप्रैल को इंदौर के चंदन नगर में एक पुलिस कांस्टेबल पर हमला किया गया था. दोनों घटनाओं में 20 लोगों को गिरफ्तार किया गया, जिनमें से आठ के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) की कार्रवाई की गई.

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में भी 6 अप्रैल की रात को तलैया क्षेत्र में हिस्ट्रीशीटर शाहिद कबूतर और उसके साथियों ने पांच सरकारी कर्मचारियों पर हमला किया था. अगले दिन शाहिद कबूतर, उसके साथी मोहसिन कचौड़ी सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था.

Video देखें

इनका कहना है

इंदौर से आए गोपाल शिवहरे की जानकारी मिलते ही पहले स्वास्थ्य विभाग की टीम उसकी स्क्रीनिंग के लिए गई थी, लेकिन गोपाल को घर में छिपाकर उसके पिता ने पथराव शुरू कर दिया। एक बड़ा पत्थर मेरे सिर में लगा और दो-तीन पांव में लगे।

-श्रीराम अवस्थी, घायल, एएसआई, श्योपुर

गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने की सराहना

गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने एएसआई राम अवस्थी और सरकारी हॉस्पिटल में पदस्थ डॉक्टर पवन उपाध्याय से फोन पर बात कर उनकी कर्तव्य परायणता की सराहना की । साथ ही वैश्विक महामारी कोरोना महा संकट के दौरान में विकृत मानसिकता के लोगों पर सरकार की ओर से सख्त कार्रवाई करने की बात भी कही।

Multapi Samachar

केन्‍द्र:स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ हुई हिंसा पर केंद्र सरकार लाई अध्यादेश, 6 महीने से 7 साल तक की सजा का प्रावधान


स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ हिंसा को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार ने अध्यादेश लाया है. अगर इस मामले में किसी को दोषी पाया गया तो 6 महीने से लेकर 7 साल तक की कैद की सजा हो सकती है.

नई दिल्ली: स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ हिंसा को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार ने अध्यादेश लाया है. अगर इस मामले में किसी को दोषी पाया गया तो 6 महीने से लेकर 7 साल तक की कैद की सजा हो सकती है.

इंदौर बना हॉटस्पॉट, अब तक कुल 842 केस, 39 की मौत


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

इंदौर: इंदौर शहर में कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ते जा रहा है! गुरुवार तक शहर में कोरोना संक्रमण के 842 मामले सामने आ चुके है, वहीं 39 की मौत हो चुकी है! गुरुवार को दो सराफा व्यापारियों की मौत और एक 6 माह की बच्ची का मामला सामने आने के बाद हड़कंप मच गया है!

उज्जैन में शुक्रवार को एक और कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आया है! जिले में अब तक 28 केस सामने आ चुके हैं! इनमें से 6 की मौत हो चुकी है, वहीं 4 ठीक भी हुए हैं!

मुलतापी समाचार

कोरोना से मौत-अब्बा अस्पताल में भर्ती है, सब खैरियत तो है, डॉक्टर बोले- उनका तो शव भिजवा दिया


CORONA VIRUS IN INDORE

Multapi Samachar

इंदौर।कोरोना से मृत लोग अस्पतालों के लिए बोझ से बन गए हैं। उनका एक ही मकसद है शव गाड़ी में भरो और घर भिजवा दो। खैरियत की दुआ कर रहे स्वजन को भी खबर नहीं कर रहे हैं। शुक्रवार को एक व्यक्ति का शव चौराहे पर करीब तीन घंटे रखा रहा। स्वजन को मौत का पता ही तब चला, जब खैरियत जानने के लिए अस्पताल फोन किया।

चंदन नगर निवासी 55 वर्षीय व्यक्ति (मैकेनिक) की शुक्रवार तड़के कोरोना से मौत हो गई। उसका खुड़ैल स्थित निजी अस्पताल में उपचार चल रहा था। बेटों और अन्य स्वजन को पुलिस-प्रशासन ने सेवन स्टेप गार्डन में क्वारंटाइन करवा दिया था।

शुक्रवार दोपहर मैकेनिक के दामाद ने हालचाल जानने के लिए अस्पताल में कॉल कर ड्यूटी डॉक्टर से पूछा- ‘मेरे अब्बा भर्ती हैं। हम देखने नहीं आ सकते। आप ही बता दें वहां सब खैरियत तो है न?’ नाम-पता पूछने के बाद डॉक्टर ने कहा कि आपके अब्बा नहीं रहे। यहां से एक घंटा पहले उनका शव भी भिजवा दिया।

इतना कहकर फोन काट दिया गया। यह भी नहीं बताया कि शव कहां भिजवाया। शव देने आए हैं, घर बता दो इधर, चंदन नगर चौराहे पर एक एंबुलेंस आकर रुकी और ड्राइवर मैकेनिक के घर का पता पूछने लगा। कुछ देर बाद पार्षद रफीक खान पहुंचे। उनके पूछने पर ड्राइवर ने कहा हम शव देने आए हैं, मैकेनिक का घर बता दो।

इससे नाराज पार्षद ने कहा कोरोना से मृत व्यक्ति का शव उसके घर कैसे ले जा सकते हो। इससे मोहल्ले में संक्रमण फैल जाएगा। उनके स्वजन को बुलाना पड़ेगा। आप बगैर सूचना के शव लेकर आ गए। क्रियाकर्म करने वाले परिवार का एक सदस्य तक नहीं है। अभी कब्र भी नहीं खुदी। कब्र खोदने में तीन-चार घंटे लगते हैं। तब तक शव गाड़ी में ही रखा रहेगा क्या?हंगामे के काफी देर बाद एसडीएम (राऊ) रवि सिंह ने मैकेनिक के दो बेटों को लाने की अनुमति दी।

सिपाही बेटे का इंतजार करता रहा पिता का शव

चंदन नगर निवासी एक अन्य वृद्ध की भी शुक्रवार को मौत हो गई। बेटा पीटीसी में सिपाही है। वह दस्तूर मैरिज गार्डन में क्वारंटाइन था। वृद्ध का शव पहले ही पहुंच चुका था। स्वजन को काफी देर बाद सूचना दी गई। बाद में स्वजन लुनियापुरा कब्रिस्तान पहुंचे और शव सुपुर्द-ए-खाक किया गया।

इनका कहना है

एंबुलेंस को ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा। मृतक के बेटे गार्डन में क्वारंटराइन थे। कुछ देर बाद उन्हें बुला लिया और सुपुर्द ए खाक करवा दिया।-रविसिंह, एसडीएम

इंदौर, भोपाल एवं उज्जैन को टोटल सील किया : मुख्यमंत्री श्री चौहान


जिला प्रशासन के माध्यम से हो आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति
मुख्यमंत्री ने की कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा

मुलतापी समाचार

भोपाल । मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए हैं कि अधिक कोरोना संक्रमण वाले इंदौर, भोपाल और उज्जैन को टोटल सील कर दिया जाए। दूसरे ज़िलों में भी संक्रमित क्षेत्रों को टोटल सील किया जाए। इन क्षेत्रों में जिला प्रशासन आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करे। इन क्षेत्रों से कोई भी व्यक्ति अंदर-बाहर आ-जा नहीं सकेंगे। कोरोना संबंधी कार्य में सभी शासकीय विभागों की तथा उनके संसाधनों की सेवाएं ली जाएं। मुख्यमंत्री आज मंत्रालय में प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं नियंत्रण व्यवस्थाओं की वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समीक्षा कर रहे थे।

मास्क लगाकर ही निकलें घर से बाहर

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेशवासियों से आग्रह किया है कि संक्रमण से बचने के लिए हर व्यक्ति मास्क लगाकर ही घर से बाहर निकले। उन्होने कहा कि होममेड मास्क का भी प्रयोग किया जा सकता है।

छुपाएंगे तो मौत, बताएंगे तो जीवन

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोई भी व्यक्ति कोरोना रोग को नहीं छुपाए। यह भी बताए कि वह किस-किस के संपर्क में आया है। उन्होने कहा कि कोरोना छुपाने पर मौत है तथा बताने पर जिंदगी। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि जो व्यक्ति इसे छुपाए, उसके विरुद्ध एफआइआर दर्ज की जाए तथा इलाज के बाद उसके विरुद्ध दंडात्मक कार्रवाई की जाए। श्री चौहान ने कहा कि जो भी व्यक्ति कोरोना नियंत्रण कार्य में लगे लोगों से दुर्व्यवहार करता है, उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए।

मजदूरों के स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्था

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि प्रदेश में बाहर के राज्यों से आए तथा प्रदेश में वापस लौटे मजदूरों के स्वास्थ्य परीक्षण की अच्छी व्यवस्था हो। उन्होने कहा कि ग्वालियर में एक माइग्रेंट लेबर पॉजिटिव आया है, जो दूसरे राज्य से मध्यप्रदेश आया था। इस प्रकरण में विशेष सतर्कता बरती जाए।

अभी तक 14 जिले प्रभावित

समीक्षा के दौरान बताया गया कि प्रदेश में अभी तक कोरोना वायरस से प्रदेश के 14 जिले प्रभावित हुए हैं। इंदौर में कोरोना पॉजिटिव की संख्या 170, भोपाल में 96, उज्जैन में 13, खरगोन में 12 एवं मुरैना में 12 है।

 टेस्टिंग क्षमता बढ़ाएं

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि कोरोना की टेस्टिंग क्षमता बढ़ाई जाए। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस ने बताया कि हमारी क्षमता 788 प्रतिदिन हो गई है, जो आगामी 10 अप्रैल तक 1000 पर पहुंच जाएगी। टेस्टिंग लैब की संख्या 7 है, एक लाख टेस्टिंग किट्स का आर्डर दिया गया है। वर्तमान में हमारे पास 29 हज़ार 380 पीपीई कीट्स हैं। एन 95 मास्क की संख्या 1 लाख 40 हज़ार तथा थ्री लेयर मास्क की संख्या 7 लाख 50 हज़ार है।

डेथ रेट

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि कोरोना मरीजों की सर्वोत्तम उपचार व्यवस्था सुनिश्चित की जाए, जिससे डेथ रेट को न्यूनतम किया जा सके। अधिकारियों ने बताया कि अभी प्रदेश में कोरोना डेथ रेट 7:00 से 7:30 प्रतिशत तक है। इलाज के लिए भारत सरकार की गाइडलाइंस फॉलो किए जाने के निर्देश दिए गए हैं।

रैपिड टेस्टिंग किट्स का उपयोग

बैठक में बताया गया कि वायरस की त्वरित जांच के लिए रैपिड टेस्टिंग किट्स की व्यवस्था की जा रही है। इसकी रिपोर्ट तुरंत आ जाती है। इसके माध्यम से बड़ी संख्या में वायरस की जांच की जा सकेगी। इसके माध्यम से शरीर में कोई भी वायरस है या नहीं, इसकी त्वरित रिपोर्ट मिलेगी। वायरस होने पर कोरोना वायरस संबंधी जांच की जाएगी। अभी 50,000 रैपिड टेस्टिंग किट्स का आर्डर दिया गया है।

7 लाख 55 हजार व्यक्तियों की भोजन व्यवस्था

प्रमुख सचिव खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण श्री शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि 7 अप्रैल को प्रदेश में 7 लाख 55 हजार व्यक्तियों को भोजन पैकेट एवं खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई गई। विभिन्न स्थानों पर 257 अशासकीय संगठनों द्वारा 1 लाख 80 हजार व्यक्तियों को भोजन पैकेट वितरित कराए गए। इंदौर में 60 हजार भोजन पैकेट का वितरण किया गया।

MP मध्‍यप्रदेश के 15 जिलों में 46 कोरोना हॉट स्पॉट घोषित


मुलतापी समाचार

राज्य शासन ने 15 जिलों में कुल 46 कोरोना हॉट स्पॉट घोषित किये हैं। इन जिलों में कुल 75 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। जिन क्षेत्रों को हॉट स्पाट घोषित किया गया है, उन क्षेत्रों को जिला प्रशासन द्वारा एहतियात के तौर पर बेरिकेट्स लगाकर सील किया गया है। इन क्षेत्रों में जिला प्रशासन द्वारा अति आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति नागरिकों के घरों पर उनकी माँग के अनुसार सुनिश्चित की जा रही है।

बैतूल की भैंसदेही सिटी में एक, विदिशा के सिरोंज में काड़ी मोहल्ला तथा गंजबासौदा के मिर्जापुर करीमी मोहल्ला में कुल 2, श्योपुर के हसनपुर हवेली क्षेत्र में एक कोरोना पॉजिटिव मिलने पर इन क्षेत्रों को हॉट स्पॉट घोषित किया गया है।

जबलपुर में कचिया पाथ गोल बाजार, प्रोफेसर कॉलोनी, सुहागी सरस्वती कॉलोनी, अंधेरदेव, शंकर नगर, मौलाना की गली कोतवाली, रामपुर तथा पंचशील नगर को हॉट स्पॉट घोषित किया गया है। इन स्थानों पर कुल 8 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाये गये। ग्वालियर में ढोली बुआ का पुल, चेतकपुरी, विजय नगर, आमखो, नाका चंद्रवंदनी, सत्यदेव नगर और बीएसएफ कॉलोनी टेकनपुर को कुल 6 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाये जाने पर हॉट स्पॉट घोषित किया गया है। खरगोन में धारगाँव, असनगाँव, बड़गाँव, साकार नगर केजीएन और वार्ड नम्बर-11 कसरावद में कुल 12 कोरोना पॉजिटिव प्रकरण पाये जाने के कारण इन्हें हॉट स्पॉट घोषित किया गया है।

मुरैना में वार्ड नम्बर-47 में 13 कोरोना पॉजिटिव और शिवपुरी में खनियाधाना में 2 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाये जाने पर इन क्षेत्रों को हॉट स्पॉट घोषित किया गया है। बड़वानी के सेंधवा में अमन नगर, खलवाड़ी मोहल्ला और मदीना नगर तथा बड़वानी के पानवाड़ी मोहल्ला और सुतार कॉलोनी में कुल 12 कोरोना पॉजिटिव पाये जाने पर हॉट स्पॉट घोषित किया गया है।

राज्य शासन ने छिंदवाड़ा जिले के ग्राम गुलबरारा, इमलीखेड़ा, सरना, मालनवारा और केवलारी में कुल 4, रायसेन के वार्ड-6 में एक, होशंगाबाद जिले के इटारसी में देशबंधुपुरा, जीन मोहल्ला और हाजी मंजिल में कुल 6 और खण्डवा की संजय कॉलोनी तथा मक्का मस्जिद में कुल 5 कोरोना पॉजिटिव पाये जाने पर इन क्षेत्रों को हॉट स्पॉट घोषित किया गया है। धार में बख्तावर मार्ग में एक तथा देवास में पीठा रोड, नाहर दरवाजा, शीतलामाता वार्ड हाटपिपल्या सिटी और कन्नौज के पानीगाँव को कुल 3 कोरोना पॉजिटिव मिलने के कारण हॉट स्पॉट घोषित किया गया है।

इंदौर से आए संदिग्ध युवक को भेजा आइसुलेशन सेंटर, 500 ग्रामीणों को किया होम कोरेटिने


घर-घर जाकर पूरे गांवों और क्षेत्रो में घूम कर स्वास्थ्य विभाग की टीम कर रही जांच

पूरे क्षेत्र में लगभग 500 मरीजो को किया होम क्वारेंटिन

मुलतापी समाचार

मुलताई। स्वास्थ्य अमले द्वारा इंदौर से कुछ दिनों पूर्व रिधोरा अपने ग्रह ग्राम आए युवक को सर्दी, खांसी,बुखार, गले मे खरास तथा प्लस रेट बढ़ी हिने के कारण सेम्पल लिया गया। बीएमओ तोमर द्वारा सेम्पल जिला अस्पताल भेजने के उपरांत पीड़ित युवक को कामथ स्थित आइसुलेशन सेंटर भिजवा दिया गया है जहाँ युवक को सेम्पल की रिपोर्ट आने तक रखा जाएगा। बताया जा रहा है कि उक्त युवक का स्वास्थ्य इंदौर से आने के बाद से ही खराब चल रहा था इसी दौरान युवक द्वारा वरुड़ महाराष्ट्र में उपचार भी कराया गया जिसके बाद भी ठीक नही होने पर स्वास्थ्य अमले द्वारा उसकी जांच कर सेम्पल लिया गया। बीएमओ के अनुसार पीड़ित युवक पर आइसुलेशन सेंटर में टीम के द्वारा पूरी निगरानी रखी जाएगी।


बीएमओ तोमर ने बताया कि स्वास्थ्य अमले के साथ वे स्वयं पूरे क्षेत्र के ग्रामो में जाकर मरीजों का फालो उप ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि मंगलवार उन्होंने करपा, बरई, साईंखेड़ा, गौला तथा टेमझीरा में फालो अप लिया। उन्होंने बताया कि करपा में लगभग 45 लोग इंदौर से आए हैं वहीं क्षेत्र के अधिकांश गांवों में लोग बाहर से वापस आए हैं इसलिए उनके द्वारा लगभग 150 ग्रामीणों की जांच की गई।
घरों के सामने चिपकाया जा रहा पर्चा
जिन घरों में बाहर से आने वाले लोगों को होम क्वारन्टीन किया है इन घरों पर पर्चा लगाया गया है ताकि लोग सतर्क रहें। बीएमओ तोमर ने बताया कि फिलहाल पूरे क्षेत्र के लगभग 500 घरों पर पर्चे लगाकर आसपास के लोगों को हिदायत दी है कि मरीजों से सुरक्षित दूरी बनाकर रखें।

हरसिद्धि माता का बेहद सुंदर चलचित्र वीडियों देखे


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

उज्जैन: श्री राजराजेश्वरी हरसिद्धि माता उज्जैन का कल रात 9:00 बजे का अति विहंगम एवं बेहद सुंदर चलचित्र! जय माता दी

मुलतापी समाचार

भगवान महावीर स्वामी ने 12 वर्षों तक की थी कठोर तपस्या


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

महावीर जयंती 2020; राज परिवार में जन्म लेकर राजकुमार से सन्यासी बने महावीर स्वामी को छोटी सी उम्र में ही भोग विलास से विरक्ति हो गई थी! उनके पिता महाराज सिद्धार्थ ने उनको राजसी जीवन जीने के लिए सभी तरह की सुख सुविधाएं और ऐश्वर्य उनको प्रदान किए, लेकिन इसके बावजूद उनका मन सांसारिक सुखों में नहीं लगा, और विवाह के पश्चात उन्होंने सब कुछ त्याग कर संन्यास ले लिया! कठोर तपस्या के बाद जब उनको ज्ञान की प्राप्ति हुई तो उनके अनमोल वचनों से दुनिया बड़ी प्रभावित हुई और बड़ी संख्या में लोगों ने जैन धर्म को अंगीकार किया! भगवान महावीर स्वामी के अनमोल वचन

महावीर स्वामी ने संसार को अहिंसा, त्याग और संयम का संदेश दिया! उन्होंने यज्ञ में दी जाने वाली बली का विरोध किया और जाति के भेद को मिटाने की दशा में बड़ा काम किया! जैन धर्म को मानने वालों के लिए उन्होंने पांच व्रत दिए, जो अहिंसा, सत्य, अस्तेय ,ब्रह्मचर्य और अपरिग्रह है! महावीर स्वामी ने हर तरह की हिंसा का विरोध करते हुए’ जियो और जीने दो’का सिद्धांत दिया! उन्होंने अपने तप से सभी इंद्रियों पर विजय प्राप्त कर ली थी इसलिए उनको “जितेंद्रय ‘कहा गया!

जैन धर्म के गुरुओं ने भगवान महावीर के कुल 11 गणधर बताए थे! जिनमें गौतम स्वामी पहले गणधर थे! महावीर जी की मृत्यु के 200 वर्षों के पश्चात जैन धर्म श्वेतांबर और दिगंबर दो संप्रदायों में विभक्त हो गया! दिगंबर संप्रदाय को मानने वाले अनुयाई या संत अपने वस्त्रों का त्याग कर देते हैं, जबकि श्वेतांबर संप्रदाय को मानने वाले संत श्वेत वस्त्र धारण करते हैं! उन्होंने बिहार के पावापुरी में देह त्याग किया था इसलिए इस स्थान को जैन धर्मावलंबी पावन स्थली मानते हैं! भगवान महावीर स्वामी ने 12 साल तक निर्वस्त्र रहकर और मौन व्रत धारण कर कठोर तपस्या की थी उसके बाद उनको ज्ञान की प्राप्ति हुई थी!

मुलतापी समाचार