Category Archives: इन्दौर

Corona virus उज्जैन in : वार्ड का ताला तोड़ते रहे कर्मचारी, एंबुलेंस में महिला की मौत


मुलतापी समाचार । उज्जैन । Corona virus in Ujjain

कोरोना वायरस संक्रमण के बीच संदिग्ध मरीजों के इलाज में लापरवाही उजागर हुई है। दानीगेट निवासी 58 साल की महिला को गुरुवार देर रात जिला अस्पताल के बाद माधवनगर अस्पताल में भेजा गया। यहां से उसे आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज भर्ती के लिए रैफर किया गया, मगर यहां वार्ड के ताले की चाबी ही नहीं मिली।

मौजूद कर्मचारी ताला तोड़ते रहे। इस दौरान महिला बाहर एंबुलेंस में तड़पती रही। करीब 45 मिनट बाद ताला टूटा और उसे वार्ड में भर्ती कराया गया। तब तक देर हो चुकी थी। महिला की मौत हो गई। इधर, गुरुवार रात को ही माधवनगर अस्पताल में भी दो संदिग्ध मरीजों की मौत हो गई।

इसमें लक्कड़गंज निवासी एक व्यक्ति और बड़नगर की एक महिला मरीज शामिल है। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के अनुसार बड़नगर की महिला को सांस लेने में अधिक तकलीफ हो रही थी। देर रात उसकी तबीयत अचानक ज्यादा खराब हो गई। वह तड़पती रही। वेंटिलेटर नहीं मिला।

इधर, मौके पर कोई डॉक्टर भी मौजूद नहीं था। कुछ देर महिला की मौत हो गई। शुक्रवार सुबह उसका शव पलंग के पास नीचे पड़ा मिला। थोड़ी ही देर बाद महिला के पड़ोस के बेड पर भर्ती लक्कड़गंज निवासी व्यक्ति की भी मौत हो गई। कोताही सामने आने के बाद अस्पताल के प्रभारी और सिविल सर्जन आरपी परमार को पद से हटा दिया गया।

शास्त्रीनगर के युवक की भी मौत, परिजन बोले- इलाज नहीं मिला

इंदौर । शास्त्री नगर निवासी 39 साल के युवक की भी शुक्रवार को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। स्वजन का कहना है कि निजी अस्पतालों ने इलाज करने से मना कर दिया था। गुरुवार रात परिजन उसे लेकर इंदौर के एमवाय अस्पताल पहुंचे थे, मगर यहां उसकी मौत हो गई। युवक इंदौर में होटल मैनेजर था और पत्नी के साथ वहीं रहता था। लॉकडाउन में वह उज्जैन आ गया था।

गुरुवार रात को उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई। इस पर उसे निजी अस्पताल ले जाया गया, मगर यहां इलाज से मना कर दिया गया। इस पर उसे माधवनगर अस्पताल ले जाया गया, जहां स्वास्थ्य अधिक खराब होने पर इंदौर रैफर कर दिया। स्वजन उसे लेकर एमवाय अस्पताल पहुंचे ही थे कि उसकी मौत हो गई। एमवाय अस्पताल में मृत युवक का सैंपल भी लिया गया। डॉक्टरों का कहना था कि युवक में कोरोना के लक्षण मिले हैं। रिपोर्ट आने के बाद पुष्टि होगी।

MP नेपानगर और खकनार में 500 से ज्यादा घर निगरानी में, इनमें 250 इंदौर से आए लोग शामिल


जिले में बाहर से आए लोगों की निरंतर जांच जारी है।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा घर-घर जाकर लोगों को स्वच्छता रखने की समझाइश दी जा रही है।-नईदुनिया

ग्रामीण क्षेत्रों में फॉगिंग गैस से भी दवाई का छिड़काव कि या जा रहा है।

प्रत्येक घर के बाहर एसडीएम ने चस्पा कराए पोस्टर, एक विधायक प्रतिनिधि के घर के बाहर भी लगा बोर्ड

पलायन कर शहर से अब भी गुजर रहे लोग, 2000 लोगों की जांच, छह सैंपल भेजे

Multapisamachar.com

नेपानगर/खकनार/बुरहानपुर/शाहपुर । आमजन को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए प्रशासन ने निगरानी वाले घरों के बाहर पोस्टर लगाने की पहल की है। खकनार और नेपानगर मिलाकर करीब 500 घरों के बाहर अब तक पोस्टर लगाए जा चुके हैं। इसमें करीब 250 वे लोग शामिल हैं जो इंदौर से नेपानगर, खकनार में आए हुए हैं जबकि 250 अन्य हैं जिनकी निगरानी सतर्कता के बतौर की जा रही है। वहीं धूलकोट में बांटे गए पोस्टर की जानकारी अभी कलेक्ट नहीं हो पाई है। एक विधायक प्रतिनिधि के घर के बाहर भी प्रशासन ने निगरानी का बोर्ड लगाया है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से आमजन को बचाने के लिए इस तरह की पहल की जा रही है। क्योंकि अभी भी बाहरी लोगों का अपने घरों की ओर पलायन जारी है। इंदौर से अधिकांश लोग अपने अपने घरों को लौटे हैं। एसडीएम विशा माधवानी के अनुसार इंदौर से लौटे करीब 250 लोगों को चिन्हित कर उनके घर के बाहर निगरानी वाले पोस्टर लगाए गए हैं। जबकि नेपानगर और खकनार दोनों जगह 250 अन्य मकान हैं जहां यह पोस्टर चस्पा कि ए गए हैं। यह पहल आमजन को संक्रमण से बचाने के लिए ही की जा रही है। लोग घर में रहकर अपने आपको इस संक्रमण से बचा सकते हैं। इसलिए प्रशासन को सहयोग करें।

मॉडल हायर सेकंडरी स्कू ल देड़तलाई को बनाया आपदा राहत कैम्प

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोरोना वायरस को महामारी घोषित कि या गया है। इसे देखते हुए बाहर से आने वाले व जिले के आश्रयहीन लोगों के लिए मॉडल हायर सेकंडरी स्कू ल देड़तलाई के ग्राउंड फ्लोर पर बने 32 कमरों का अस्थायी आपदा राहत कें द्र बनाया गया है। इसे लेकर एसडीएम विशा माधवानी ने आदेश जारी कि ए। जिसमें कहा गया कि मॉडल हायर सेकंडरी स्कू ल में राहत कें द्र के प्रभारी यहां के प्राचार्य पीयूष सरवने और सहायक अधीक्षक शासकीय आदिवासी बालक छात्रावास देड़तलाई बालचंद पंवार होंगे। यहां आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की जानकारी रजिस्टर में संग्रहित की जाएगी।

मेडिकल स्टोर का समय निर्धारित

प्रशासन ने मेडिकल स्टोर खुलने और बंद होने का समय निर्धारित कर दिया है। पहले मेडिकल स्टोर पूरे समय खुला रखा जा रहा था, लेकि न अब व्यवस्था बदल दी गई है। नए आदेश के अनुसार अब मेडिकल स्टोर्स सुबह नौ बजे से दोपहर एक बजे तक वह शाम पांच बजे से आठ बजे तक ही सेवाएं दे पाएंगे।

सावदा से मांडवा की ओर जा रहे लोगों की जांच

नेपानगर में लॉक डाउन के दौरान मजदूरों का महाराष्ट्र से अपने शहर, गांव की ओर पलायन जारी है। इसी बीच बुधवारा दोपहर सावदा से मांडवा की ओर जाने जा रहे मजदूरों को रोका गया। इसमें कु ल 18 लोग शामिल थे। यह लोग जंगल के रास्ते मांडवा जा रहे थे। वन विभाग की बीट गार्ड सुरेखा वर्मा, चौकीदार अशफाक ने उन्हें रोका और जांच के लिए स्वास्थ विभाग को सूचना देकर बुलाया। कि सी में कोरोना संक्रमण के कोई लक्षण नहीं पाए गए। सावदा से मांडवा जा रहे लोगों में छगन कै लाश, दवालसिंग, रामदास, सलदार, जगदीश, दिलीप, सखराम, करण, अर्जुन, रेलबाई, मिनका, सुखमा, नाया बाई, मुन्नी बाई, रोशनी, राधिका, शेरनी बाई आदि शामिल थे।

घर-घर जाकर कार्यकर्ता दे रही बचाव की नसीहत

शाहपुर में लॉक डाउन के बीच नगर के चंद्रशेखर वार्ड की आंगनबाड़ कार्यकर्ता और सहायिका घर-घर जाकर न सिर्फ बच्चों को पोषण आहार उपलब्ध करा रही हैं बल्कि परिजनों को बच्चों का ठीक तरह से ध्यान रखने और कोरोना वायरस से निपटने के लिए जरुरी सावधानियां रखने की सलाह भी दी जा रही है। उन्होंने लोगों से घरों से बाहर नहीं निकलने और सभी जरुरी उपाय अपनाने की सलाह भी दी।

2000 लोगों की जांच, छह सैंपल भेजे

जिले में कोरोना वायरस को लेकर जिला अस्पताल व स्वास्थ्य कें द्रों में निरंतर जांच जारी है। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के अनुसार जिले में अब तक दो हजार लोगों की जांच की जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग के रविंद्रसिंह राजपूत के अनुसार अब तक दो हजार से अधिक लोगों की जांच हुई है। छह सैंपल लेकर इंदौर मेडिकल कॉलेज भेजे हैं। जिसमें से एक नेगेटिव आया है वहीं पांच की रिपोर्ट आना अभी बाकी है।

गांवों में दवाई छिड़काव

कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर शहरी क्षेत्र सहित नगर परिषद शाहपुर व अंचल में दवाई का छिड़काव निरंतर जारी है। गांवों में दिन-रात सड़कों, नालियों की सफाई कर सैनिटाइजेशन का कार्य कि या जा रहा है। सोडियम हाईपोक्लोराईड, ब्लीचींग, फिनाईल, सिध्दी फोग आदि का स्प्रे से छिड़काव कि या जा रहा है। रात्रिकालीन फोगिंग मशीन से धुआं आदि का कार्य कि या जा रहा है। नगर परिषद शाहपुर के सीएमओ धीरेन्द्रसिंह सिकरवार ने बताया कि नगर के समस्त वार्डो में निरंतर छिड़काव व साफ-सफाई का कार्य कि या जा रहा है। उन्होंने नागरिकों से घर में रहने एवं शासन के दिशा निर्देशों का पालन करने की अपील की है तथा उन्होनें नागरिकों से मास्क पहनने के लिए भी आव्हान कि या है।

Multapi Samachar

मप्र CM शिवराज सिंह ने सख्‍त लहजे में कहा – दोषि‍यों को बख्‍शा नहीं जाएगा


डॉक्‍टरों पर हमला करने वालों के खिलाफ होगी राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून केे अंतर्गत कार्रवाई

मुलतापी समाचार

भोपाल,इंदौर (Indore) में कोरोना संक्रमण की स्क्रीनिंग करने पहुंची डॉक्टरों की टीम पर हमले को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने सख्त रुख अख्तियार किया है. सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ लड़ने वाले डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, आशा और उषा कार्यकर्ता, राजस्व अमला, नगरीय निकाय के कर्मचारियों से अपील की है कि वे कोरोना के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखें. उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी सरकार की है.

शिवराज ने इंदौर की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कहा कि घटना में शामिल सभी अराजक तत्वों को किसी भी कीमत पर नहीं छोड़ा जाएगा. पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है. कुछ को गिरफ्तार किया गया है. उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है. सीएम ने कहा कि ऐसे लोग केवल मुट्ठी भर हैं, जो मानवता की सेवा करने वालों के खिलाफ ऐसा रवैया अख्तियार कर रहे हैं. फिर भी पीड़ित मानवता को बचाने के लिए आपके काम में कोई बाधा डालेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी. दोषियों को किसी भी कीमत पर छोड़ा नहीं जाएगा. सीएम ने कहा कि, ‘लोगों की जिंदगी के लिए जरूरी है कि आप अपने काम में जुटे रहें. मैं आपकी कर्तव्यनिष्ठा को प्रणाम करता हूं. मैं और पूरा प्रदेश आपके साथ है.’

वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने भी इंदौर की घटना को कायराना करतूत करार दिया है. उन्होंने कहा कि डॉक्टर्स पर हमले की घटना कायराना करतूत है. डॉक्टर इस वक्त मानवता की सेवा के लिए अपनी जान जोखिम में डालकर इलाज का काम कर रहे हैं. ऐसे में डॉक्टरों पर हमले करने वाले बख्शे नहीं जाएंगे, दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी घटना की निंदा की है. उन्होंने ट्वीट किया है कि, ‘प्रदेश के इंदौर के रानीपुरा में पूर्व में व कल टाटपट्टी बाखल में स्वास्थ्य कर्मियों के साथ हुए दुर्व्यवहार व पथराव की घटना बेहद दुःखद व निंदनीय. ऐसा कृत्य करने वाले समाज, इंसानियत व मानवता के दुश्मन.’

दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि, ‘संकट की इस घड़ी में अपनी जान जोखिम में डालकर जनता की सुरक्षा कर रहे व अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे डॉक्टर्स, स्वास्थ्य कर्मियों व प्रशासन के अधिकारियों का सभी को आगे आकर सहयोग करना चाहिए और उनके सेवा के जज़्बे को सलाम करना चाहिए.’

दरअसल इंदौर के टाट पट्टी बाखल इलाके में बीते दिनों एक शख्स की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई थी. उसके संपर्क में जो लोग भी आए थे, स्वास्थ्य विभाग की टीम उनकी स्क्रीनिंग के लिए गई थी, लेकिन सहयोग तो दूर लोगों ने स्वास्‍थ्य विभाग की टीम का विरोध करना शुरू कर दिया. इसके बाद भीड़ गुस्सा गई और टीम के साथ मारपीट की. मारपीट के बाद भीड़ ने टीम के सदस्यों पर पथराव कर दिया. गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए इस इलाके को सील किया गया था और सुरक्षा के लिए बैरिकेडिंग भी की गई थी, जिसे गुस्साई भीड़ ने तोड़ दिया था.

Coronavirus in Indore : इंदौर में मरीजों का आंकड़ा बडा , छह की हालत अभी भी गंभीर


इंदौर में कोरोना के कहर से दो लेागों की और मौत, अब तक पांच लोगों की इस वायरस से गई जान।

मुलतापी समाचार

इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Coronavirus in Indore गुरुवार सुबह इंदौर में कोरोना संक्रमण से 2 मौत और हो गई। मृतक 65 वर्षीय महिला निवासी खजराना और 54 वर्षीय पुरुष मोती तबेला निवासी हैं। अभी छह मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है। इंदौर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 75 हो चुकी है।

सूत्रों के अनुसार इन सभी से संक्रमित होने वाले लोगों की जानकारी तो मिल रही है, लेकिन नए मरीज किसके संपर्क में आए यह जानकारी नहीं मिल रही है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी अभी भी अपर सेकेंड स्टेज में ही इसे नियंत्रण में लाने का विश्वास दिला रहे हैं।

सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया के अनुसार जो लोग पॉजिटिव मिल रहे हैं उनमें से कई लोग पहले से ही आइसोलेशन और क्वारंटाइन सेंटर में भर्ती हैं। इससे इनके कम्युनिटी में संक्रमण फैलाने की संभावना कम होगी। इंदौर में कोरोना से पहली मौत 25 मार्च को 65 वर्ष पुरुष निवासी सिलावटपुरा की हुई थी।

उसके बाद 30 मार्च को राजकुमार कॉलोनी निवासी 41 वर्षीय पुरुष की मौत हुई थी। 30 मार्च को 49 वर्ष की महिला निवासी धार रोड की मौत हो चुकी है। 24 मरीजों की हालत में सुधार एमजीएम मेडिकल कॉलेज से मिली जानकारी के अनुसार 24 मरीजों की हालत में सुधार नजर आ रहा है। 8 मरीजों की हालत गंभीर थी जिनमें से दो की मौत हो चुकी है।

अभी भी 6 मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है। अन्य मरीजों की हालत स्थित है। 17 मरीजों को किया शिफ्ट भोपाल एम्स द्वारा भेजी गई 40 जांच रिपोर्ट में से 17 पॉजिटिव मरीज सामने आए थे। दो दिनों से लिस्ट नहीं मिलने से इन्हें असरावद के सेंटर में ही रखा गया था। इनमें से 11 एक ही परिवार के थे। इनके अलावा भी 8 अन्य पॉजिटिव मरीजों को शिफ्ट किया गया है।

मरीजों के परिजन क्वारंटाइन

टाटपट्टी बाखल में अपर कलेक्टर दिनेश जैन और एडिशनल एपी राजेश व्यास और अन्य अधिकारियों व जवानों की मौजूदगी में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सर्वे शुरू किया है। यहां से गुरुवार को 11 और लोगों को चोइथराम अस्पताल के पास अमरदास बैंक्वेट हॉल में क्वारंटाइन किया।

वहीं दौलतगंज में कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के परिवार से पत्नी, बच्चों सहित 4 और स्नेहलतागंज से 5, लोगों को एमटीएच हॉस्पिटल में क्वारंटाइन किया गया है। अपर कलेक्टर पवन जैन ने बताया कि इलाके में सख्ती से कर्फ्यू का पालन कराया जा रहा है।

लॉकडाउन में भी पीथमपुर से चौथिया गांव पहुंचे 10 लोगों का कराया स्वास्थ्य परीक्षण


मुलतापी समाचार

इंदौर में कोरोना फैलने से दहशत में है क्षेत्र के लोग

मुलताई। इंदौर क्षेत्र में कोरोना फैलने से क्षेत्र के लोग भी दहशत में है, क्योंकि मुलताई क्षेत्र से बड़ी संख्या में लोग पीथमपुर इंदौर में कार्यरत हैं। लॉकडाउन के बाद लगातार उस क्षेत्र से लोगों का मुलताई वापस आना लगा हुआ है। ऐसे में डर है कि यदि एक भी संक्रमित नगर में आ गया तो यहां भी यह गंभीर बीमारी फैलने में देर नहीं लगेगी। नगर के समीपस्थ ग्राम चौथिया से भी कई लोग पीथमपुर में कार्य कर रहे हैं। बुधवार पीथमपुर से ग्राम चौथिया में 10 लोग पहुंचे जिनको पंचायत द्वारा पहले स्वास्थ्य परीक्षण के लिए मुलताई स्वास्थ्य केंद्र भिजवाया गया। इसके लिए सभी लोगों के पहले पास बनाए गए जिसके बाद स्वास्थ्य परीक्षण हुआ।

Indore से क्वारंटाइन से भागा युवक बाइक से पहुंचा Bhopal, कोरोना से संक्रमित मिला


Multapi Samachar

भोपाल। इंदौर के एक क्वारंटाइन सेंटर से भागकर भोपाल पहुंचा युवक कोरोना से संक्रमित मिला है। उसे सोमवार को इलाज के लिए एम्स में भर्ती कराया गया है। युवक लंदन (यूके) से मुंबई आया था। यहां से 24 मार्च को दिल्ली आने के बाद उसी दिन इंदौर पहुंचा। विदेश यात्रा की हिस्ट्री की वजह से उसे इंदौंर में क्वारंटाइन किया गया था। वहां से वह 29 मार्च को भागा और अपने दोस्त की बाइक से छिपते हुए भोपाल पहुंचा। यहां 30 मार्च की सुबह 6ः30 बजे वह इलाज के लिए बाइक से ही जेपी अस्पताल पहुंचा। यहां इमरजेंसी में देखने के बाद डॉक्टरों ने इलाज के लिए एंबुलेंस से एम्स रेफर कर दिया। यहां सोमवार को ही उसके सैंपल लेकर जांच की गई। सोमवार देर रात आई रिपोर्ट में वह कोरोना वायरस से संक्रमित मिला। युवक की हालत ठीक है। युवक के भाई का घर वेदवती परिसर अवधपुरी में है। क्वारंटाइन से भागने के चलते युवक पर एफआईआर कराने की तैयार प्रशासन ने की है।

भोपाल से मंगलवार को 87 सैंपल लिए गए हैं। इनकी रिपोर्ट बुधवार को आएगी। शहर में अब तक मिले चारों पॉजिटिव मरीजों का इलाज एम्स में चल रहा है। उधर, एम्स के आईसोलेनशन वार्ड में भर्ती नीमच के 22 साल के एक युवक की सोमवार को मौत हो गई है। उसकी कोरोना वायरस की जांच निगेटिव आई है।

इलाज के बाद अशोका लेक व्यू में क्वारंटाइन होंगे हमीदिया के डॉक्टर-नर्स

हमीदिया अस्पताल के डॉक्टर व नर्स संदिग्ध व पॉजिटिव मरीजों के इलाज के बाद होटल अशोका लेक व्यू समेत तीन होटलों में क्वांरटाइन में रहेंगे । इसके लिए पूरा होटल चिकित्सा शिक्षा विभाग ने ले लिया है। अब यहां पर अन्य लोग नहीं रुक पाएंगे। इसके अलावा लाल घाटी स्थित आरके रीजेंसी और निर्मल होटल को भी लिया गया । हमीदिया अस्पताल में संदिग्ध या पॉजिटिव मरीज भर्ती होने के बाद इलाज में लगे डॉक्टर, नर्स व अन्य स्टाफ घर नहीं जाएंगे। उन्हें अस्पताल से होटल लाने व छोड़ने के लिए दो बसें भी चलाई जाएंगी। बस के ड्राइवर, क्लीनर भी क्वारंटाइन रहेंगे। हफ्ते भर इलाज के बाद भी उन्हें घर जाने की अनुमति नहीं होगी। न ही वह अपने परिवार के लोगों से मिल सकेंगे।

हमीदिया में संदिग्धों के आज से लिए जाएंगे सैंपल

हमीदिया अस्पताल में अब कोरोना की जांच की सुविधा शुरू हो गई है। लिहाजा संदिग्ध मरीजों को भर्ती कर सैंपल लिया जाएगा। रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर उनका इलाज भी शुरू कर दिया जाएगा। फिलहाल तीन शिफ्ट में 18 डॉक्टर, नर्स व अन्य कर्मचारियों की ड्यूटी आइसोलेशन वार्ड में लगाई गई हैं

मुलतापी समाचार

आज से यह शहर 3 दिन के लिए रहेगा पूरा बंद


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

इंदौर: देशभर में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए 21 दिन का लॉकडाउन जारी है ! इसके बावजूद देश के अधिकांश इलाकों में लापरवाही के मामले सामने आ रहे हैं! नतीजा संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, इसी कारण से आज से मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले इंदौर में देश का सबसे सख्त लाकडाउन रहेगा! अगले 3 दिन तक यहां दूध- सब्जी, किराना सहित कोई भी सामान नहीं मिलेगा! यह शहर पूरी तरह से कर्फ्यू में ग्रस्त रहेगा!

मुलतापी समाचार

उज्जैन-इंदौर में #covid_19 की दस्तक,5 पॉजीटिव मरीज मिले म.प्र. मैं कुल 14


मुलतापी समाचार

इंदौर: मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। कोरोना वायरस ने अब इंदौर और उज्जैन में भी दस्तक दी है। मध्यप्रदेश में एक साथ पांच नए कोरोना पॉजिटिव सामने आए हैं। इंदौर में 4 और उज्जैन में एक मरीज के कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। इंदौर शहर में 4 मरीजों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। वहीं, उज्जैन में महिला की रिपोर्ट भी पॉजीटिव आई है। इंदौर निवासी सभी 4 मरीजों का उपचार फिलहाल निजी अस्पताल में चल रहा है। कुछ की हालत गंभीर बनी हुई है।

सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिया ने बताया कि मंगलवार को इंदौर से कुल 13 मरीजों और आसपास के जिलों से 8 सेंपल जांच के लिए भेजे गए थे। इन सभी सेंपलों की जांच इंदौर के ही एमजीएम मेडिकल कॉलेज में मौजूद वायरोलॉजी लैब में हुई है। जांच में इंदौर के 4 मरीजों और उज्जैन के एक मरीज में कोरोना वायरस होने की पुष्टि हुई है। चारों का ही इलाज फिलहाल निजी अस्पतालों में चल रहा है जबकि उज्जैन निवासी मरीज का इलाज एमवायएच में हो रहा है।

इन चार मरीजों में मनीष बाग निवासी 68 वर्षीय पुरूष और 66 वर्षीय पुरूष और रानीपुरा निवासी 49 वर्षीय महिला का बॉम्बे हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है। चंदननगर निवासी 50 वर्षीय महिला का अरिहंत हॉस्पिटल में इलाल चल रहा है। वहीं उज्जैन निवासी 65 वर्षीय महिला का इलाज एमवायएच में चल रहा है। इनमें से कुछ मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है।

जानकारी के लिए बता दें कि इंदौर में 222 होम क्वारेंटाइन में रखे गए लोगों में से सिर्फ 14 लोगों की जांच रिपोर्ट आना बाकी थी। इनमें से 162 लोगों को मुक्त कर दिया गया था। 46 लोगों के सेंपल अभी तक जांच में लिए गए हैं और इसमें से 32 के सेंपल निगेटिव आ चुके हैं। मिली जानकारी के मुताबिक शहर में करीब तीन हजार लोग विदेश से आए हैं।

मध्यप्रदेश में अब तक 14 मरीज मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या 14 हो गई है। इससे पहले 9 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई थी। मंगलवार को ग्वालियर में मिले दो संदिग्ध मरीजों की खबर आई थी। ग्वालियर में दो मरीजों में कोरोना वायरस के लक्षण पाए गए हैं। इनमें से एक मरीज ग्वालियर और एक शिवपुरी का रहने वाला है। देर शाम प्रशासन द्वारा इस बात की पुष्टि की गई की दोनों मरीजों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है।

शिवा पवार मुलतापी समाचार बैतूल

इस बार चैत्र नवरात्र में नाव पर सवार होकर आएंगी मां


मुलतापी समाचार मनोज कुमार अग्रवाल

इंदौर: शक्ति की उपासना का पर्व चैत्र नवरात्रि की शुरुआत 25 मार्च से होगी!

इस वर्ष मां के आगमन का वाहन ‘नाव ‘होगी! इसका प्रभाव शुभ माना गया है!

काली माता खजराना के पंडित शिव प्रसाद तिवारी ने बताया कि 24 मार्च मंगलवार के दिन दोपहर 2:58 से एकम तिथि लगेगी जो

दूसरे दिन 25 मार्च को दोपहर 5:26 बजे तक रहेगी!

घट स्थापना व कलश स्थापना के लिए ब्रह्म मुहूर्त को सर्वश्रेष्ठ माना गया है!

अत: 25 मार्च को घट स्थापना एवं कलश स्थापना करना मंगलकारी होगा!

हिंदू नव वर्ष विक्रम संवत 2077 की शुरुआत भी होगी!

मुलतापी समाचार

Devash बालोन में ट्रैक्टर पलटने से 3 की मौत, दुल्हन समेत दर्जनभर घायल


घायलों को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया

मरने वालों में दो बारह साल के बच्चे और एक 50 साल का व्यक्ति शामिल हैं।

Multapi Samachar

देवास। जिले के पीपलरावां थाना क्षेत्र के ग्राम बालोन में ट्रैक्टर पलटने से 3 लोगों की मौत हो गई और दर्जनभर लोग घायल हो गए। जानकारी के मुताबिक ग्राम खेरिया से विवाह सम्मेलन में शामिल होने ट्रैक्टर वधू पक्ष को लेकर जा रहा था। इस दौरान ट्रैक्टर बोलान तालाब के पास घाटी पर उतरते समय पलटी खा गया, जिसमें मौके पर ही 3 लोगों की दबने से मौत हो गई। मरने वालों में दो बारह साल के बच्चे और एक 50 साल का व्यक्ति शामिल हैं। ट्रैक्टर में सवार दुल्हन समेत बाकी लोग भी घायल हो गए। घायलों को 108 ने बेरछा अस्पताल पहुंचाया, जहां उनका इलाज किया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक दुल्हन और बाकी परिवार वालों को ले जाने के लिए ट्रैक्टर बुलवाया गया था। सभी इसी में बैठकर खेरिया गांव जा रहे थे, जहां विवाह सम्मेलन में शादी होना थी। तभी बालोन गांव से निकलते ही एक जगह पर ट्रैक्टर चाइक उस पर से नियंत्रण खो बैठा और उसकी ट्रॉली पलट गई। हादसे के बाद उसमें सवार लोग घबराकर चिल्लाने लगे, किसी तरह उन्हें बाहर निकाला गया। रास्ते से गुजर रहे लोगों ने घटना की सूचना पुलिस और एंबुलेंस को इसकी सूचना दी। जिसके बाद एंबुलेंस मौके पर पहुंची और घायलों को अस्पताल पहुंचाया और पुलिस ने तीन शवों को निकालकर पोस्टमार्टम के लिए पहुंचाया।