Category Archives: घोटाला

ग्राम घोटाला- चौपाल निर्माण शौचालयों के अधूरे काम को पूरा बताकर राशि खाने वाला सचिव निलंबित


मुलतापी समाचार

ग्राम प्रधान, सचिव से राशि वसूली के लिए धारा 92 के तहत प्रकरण दर्ज

मुलताई तहसील की ग्राम पंचायत कान्हाखापा में निर्मित सीमेंट कांक्रीट रोड का घटिया निर्माण करने,चौपाल निर्माण कार्य और शौचालयों के अधूरे निर्माण कार्य को पूर्ण दर्शा कर राशि डकार ने वाले तत्कालीन पंचायत सचिव दिनेश दाबड़े (वर्तमान सचिव ग्राम पंचायत पोहर) को जिला पंचायत सीईओ ने निलंबित करने के आदेश जारी किए हैं। 
 ग्राम पंचायत कान्हाखापा के ग्रामीणों ने पंचायत में घटिया सीमेंट रोडो का निर्माण करने, ग्राम कान्हाखापा और ग्राम सोनखेड़ी में चौपाल निर्माण का कार्य आधा अधूरा करने और हितग्राहियों के निवास पर बनाए गए शौचालयों का आधा अधूरा निर्माण कर सचिव और ग्राम प्रधान द्वारा स्वीकृत राशि आहरित करने की शिकायत जनपद पंचायत सीईओ से की थी।

शिकायत पर सीईओ मनीष शेंडे ने दल गठित कर पंचायत में हुए निर्माण कार्यों की जांच कराई। जांच में सीमेंट रोड का घटिया निर्माण कार्य होने की पुष्टि हुई। वही चौपाल निर्माण कार्य आधा अधूरा होने और 5 हितग्राहियों के घर शौचालयों का आधा अधूरा निर्माण काम होने के बावजूद निर्माण कार्य पूर्ण बता कर फर्जी तरीके से स्वीकृत राशि आहरण करने का भी खुलासा जांच में हुआ था।

जांच दल ने ग्राम प्रधान( सरपंच) राधिका धोटे और तत्कालीन पंचायत सचिव दिनेश दाबडे  द्वारा 4 लाख 20 हजार 200 रुपए की वित्तीय अनियमितता और गबन करने का उल्लेख करते हुए जांच प्रतिवेदन सीईओ को सौंपकर ग्राम प्रधान और सचिव से राशि वसूलने की अनुशंसा की थी। जांच दल द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन के आधार पर सीईओ श्रीशेंडे ने जिला पंचायत सीईओ को पत्र लिखकर ग्राम प्रधान और तत्कालीन सचिव से राशि वसूलने के लिए पंचायत राज अधिनियम की धारा 92 के तहत प्रकरण दर्ज करने और सचिव दिनेश दाबड़े के खिलाफ कार्रवाई करने का अनुरोध किया था। जिला पंचायत सीईओ ने जनपद पंचायत सीईओ के पत्र और जांच प्रतिवेदन के आधार पर पंचायत सचिव दिनेश दाबडे को कर्तव्य के प्रति गंभीर लापरवाही बरतने और वित्तीय अनियमितता किए जाने के चलते निलंबित करने के आदेश जारी किए हैं। निलंबन अवधि में दिनेश दाबड़े का मुख्यालय जनपद पंचायत कार्यालय मुलताई नियत किया गया है।

रोजगार सहायक ने गांव की विधवा महिला के साथ धोखाधड़ी कर खाते से पैसे निकाले


विधवा महिला के साथ रोजगार सहायक ने की धोखाधड़ी कर खाते से पैसे निकाले

आठनेर रोजगार सहायक गांव की महिला ने अपने खाते से राशि हड़पने का लगाया आरोप

रोजगार सहायक ब्रह्मदेव बारस्कर पर 
गांव की 
विधवा महिला  ने अपने बैंक खाते से राशि हड़पने का आरोप लगाया है । धोखाधड़ी का पुलिस प्रकरण दर्ज कराने की मांग

जांच में प्रमाण सामने आये

आठनेर । ब्‍लाक के ग्राम पंचायत अंधेरबावड़ी के

ग्राम बोथिया रैयत की एक विधवा महिला ने रोजगार सहायक ब्रह्मदेव बारस्कर पर फर्जी हस्ताक्षर कर उसके बैंक खाते से 2 बार में 1 लाख रुपये की राशि निकाल लेने का आरोप लगाते हुए अधिकारियों से शिकायत की है। महिला के पति की मौत होने पर उसे संबल योजना के तहत 2 लाख रुपये की राशि मिली थी। जनपद पंचायत द्वारा कराई गई जांच में भी शिकायत सही पाई गई है। इस पर रोजगार सहायक को पद से पृथक किए जाने की अनुशंसा की गई है। 
ललिता पत्नी रामप्रसाद ने अपनी शिकायत में बताया है कि उसके पति की मृत्यु जून 2019 में हुई थी। इस पर संबल योजना के तहत 2 लाख रुपये की सहायता राशि उसके महाराष्ट्र बैंक खोमई के खाते में प्राप्त हुई थी। इसकी जानकारी मिलने पर वह बैंक पहुंची और पासबुक में एंट्री कराई तो यह बात सामने आई कि अंधेरबावड़ी के रोजगार सहायक ब्रह्मदेव ने फर्जी हस्ताक्षर कर उसके खाते से 50-50 हजार रुपए की नकद राशि 2 बार में निकाल ली है। यह राशि 25 अक्टूबर 2019 को निकाली गई है। शेष बची 1 लाख रुपये की राशि में से भी उसे 75 हजार रुपये ही दिए गए और 25 हजार रुपये और रोजगार सहायक ने रख लिए। इस बारे में जब रोजगार सहायक से जानकारी ली गई तो वह धमकाने लगा। धोखाधड़ी से राशि निकाले जाने की बात सामने आने पर महिला ने जनपद पंचायत के अधिकारियों से मामले की शिकायत की। पंचायत समन्वयक अधिकारी विजय प्रकाश नागले से मामले की जांच कराई गई। उन्होंने महिला के कथन लेकर मामले में सत्यता पाई है। जांच प्रतिवेदन जनपद कार्यालय में जमा कर दिया गया है। इस मामले में बैंक कर्मचारियों और अधिकारियों की मिलीभगत से भी इंकार नहीं किया जा सकता। महिला का आरोप है कि पति की मौत के बाद शासन से मिली 5 हजार रुपये की अंत्येष्टि सहायता राशि भी उसे आज तक नहीं मिली। इसके अलावा उसके साथ प्रधानमंत्री आवास योजना में भी उसके साथ धोखाधड़ी की गई है। इधर जांच के दौरान रोजगार सहायक पर आरोप सिद्ध पाए जाने पर पंचायत समन्वय अधिकारी ने रोजगार सहायक को पद से पृथक करने की अनुशंसा की है। 
अधिकारियों का यह कहना…
अनुग्रह राशि में धोखाधड़ी के मामले में जंनपद पंचायत के समन्वय अधिकारी विजय प्रकाश नागले द्वारा जांच की गई है। मामले में जांच प्रतिवेदन के आधार पर रोजगार सहायक के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। 
– केदारप्रसाद राजोरिया, सीईओ, जनपद पंचायत, आठनेर
रोजगार सहायक द्वारा महिला के बैंक खाते से फर्जी तरीके से रुपये निकालने की शिकायत सही पाई गई है। शिकायत की जांच करने के बाद प्रतिवेदन अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत कर दिया गया है। 
– विजयप्रकाश नागले, पंचायत समन्वयक अधिकारी, आठनेर

Betul Breaking News ग्राम पंचायत चुनागोसाई के सरपंच सचिव पर लाखों के घोटाले का आरोप


Multapi Samachar

बैतूल। ग्राम पंचायत चूनागोसाई के प्रभारी सचिव अशोक उइके एवं सरपंच के खिलाफ ग्राम के ही दिनेश यादव ने 15 लाख रुपये का घोटाला करने का आरोप लगाया है। श्री यादव ने इस मामले में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं कलेक्टर से शिकायत की है। शिकायत में उन्होंने बताया सरपंच सचिव द्वारा 15 लाख का घोटाला किया गया है।

आवेदक का कहना है अगर भ्रष्ट सरपंच-सचिव के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती है तो वह इनके विरूद्ध न्यायालय में प्रकरण पंजीबद्ध करेंगे।

शिवा पवार, न्यूज एडिटर, मुलताई, मुलतापी समाचार