Category Archives: प्रशासन ध्यान दे

ट्रेनों के स्टॉपेज के लिए ,ITI के छात्रों ने सांसद के नाम लिखे 101 पोस्ट कार्ड


विद्यार्थियों ने कहा मुलताई नगरी में ट्रेनों का स्टॉपेज नहीं मिलना दुर्भाग्य की बात

रेल रोको आंदोलन- मुलताई जन आंदोलन मंच ओर मुलताई तहसील के प्रत्येक ग्रामीण ओर नगरीय नागरिकों की प्रमुखता से मांग है,

जन आंदोलन मंच को विद्यार्थियों का समर्थन ट्रेनों के स्टॉपेज हेतू

 मुलताई । रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों के स्टॉपेज के लिए जन आंदोलन मंच द्वारा किए जा रहे धरना प्रदर्शन को व्यापक समर्थन  मिल रहा है  जहा सोमवार को अभिभाषक संघ ने आंदोलन का समर्थन किया था वही मंगलवार को आईटीआई के छात्रों ने आंदोलन का समर्थन करते हुए धरना स्थल पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। धरना स्थल पर पहुंचे आईटीआई के विद्यार्थियों ने कहा मुलताई नगरी में ट्रेनों का स्टॉपेज नहीं मिलना दुर्भाग्य की बात है। लंबे समय से नगरवासी ट्रेनों के स्टॉपेज की मांग कर रहे हैं। इसके बाद भी जनप्रतिनिधि इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। नगर और ग्रामीण अंचल के विद्यार्थियों को अध्ययन और प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल होने के लिए बड़े शहरों में जाना पड़ता है। लेकिन मुलताई स्टेशन पर ट्रेनों के स्टॉपेज नहीं होने से परेशानी होती है। धरना स्थल पर ही विद्यार्थियों ने सांसद के नाम पोस्टकार्ड लिखकर ट्रेनों का स्टॉपेज देने की मांग की। साथ ही कहा कि वह लोग दुकानों और घरों में जाकर भी लोगों से पोस्टकार्ड लिखाए जाएगे। पोस्टकार्ड अभियान के पहले दिन 101 पोस्टकार्ड लिखकर सांसद को भेजे गए है। धरना प्रदर्शन को सोनी समाज का भी समर्थन मिला है। जन आंदोलन मंच के अनिल सोनी,महेश शर्मा,मोहनसिंह परिहार, यादोराव निंबालकर,टीकाराम मंडले, राजेश तायवाड़े सहित अन्य सदस्यों ने बताया जब तक ट्रेनों के स्टॉपेज की मांग पूरी नहीं हो जाती है तब तक धरना सतत रूप से जारी रहेगा।

Betul जिले में औद्योगिकीकरण की असीम संभावनाओं को लगेंगे पंख


बैतूल में उद्योग एवं व्यापार स्थापित करने की संभावनाओं एवं समस्याओं पर हुआ विचार-मंथन

उद्योग संवर्द्धन समिति की बैठक आयोजित

कलेक्टर डेक्स

Multapi Samachar

जिले में वनोपज, उन्नत कृषि एवं हस्तशिल्प के बेहतर संसाधन उपलब्ध हैं, जरूरत सिर्फ इनसे जुड़े उद्योगों एवं व्यापार को बढ़ावा देने की है। इनको बढ़ावा देने की संभावनाओं पर पृथक-पृथक वर्किंग ग्रुप बनाकर प्रति सप्ताह चर्चा की जाएगी एवं आने वाली अड़चनों को निराकृत किया जाएगा। कलेक्टर श्री राकेश सिंह की अध्यक्षता में बुधवार को हुई जिला उद्योग संवर्द्धन समिति की बैठक में निर्णय लिया गया कि जिले में सागौन से निर्मित फर्नीचर एवं अन्य उत्पाद, हस्तशिल्प, कृषि उत्पादों पर आधारित उद्योगों की स्थापना की बेहतर पृष्ठभूमि तैयार की जाए। साथ ही सागौन आधारित फर्नीचर एवं वुडन उद्योगों को क्लस्टर बनाकर मूर्त रूप दिया जाए। जिले में बड़ी संख्या में कार्यरत महिलाओं के स्व सहायता समूहों का बेहतर ह्यूमन रिसोर्स के रूप में प्रोत्साहित किया जाए। इस दौरान पुलिस अधीक्षक सुश्री सिमाला प्रसाद, वनमंडलाधिकारी श्री पुनीत गोयल, सीईओ जिला पंचायत श्री एमएल त्यागी सहित उद्योगपति, व्यापारी, कर सलाहकार, चार्टर्ड एकाउंटेंट एवं संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

बैठक में कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जिले में फर्नीचर क्लस्टर एवं इससे जुड़े उद्योगों के विकास के लिए सागौन के अलावा अन्य प्रजाति की लकड़ी से संबंधित उद्योगों के विकास पर भी विचार किया जा रहा है। फर्नीचर क्लस्टर के रूप में मध्यप्रदेश में चार जिले चयनित किए गए हैं, जिनमें बैतूल भी शामिल है। फर्नीचर क्लस्टर की स्थापना के लिए उपयुक्त जमीन तलाश कर उपलब्ध कराने के लिए भी कार्य प्रारंभ किया गया है। उन्होंने कहा कि वुडन आधारित क्लस्टर स्थापित होने से परंपरागत अथवा घरेलू उपयोग के फर्नीचर के अलावा अन्य वुडन उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए भी कार्य किया जाएगा, ताकि इन उत्पादों की विदेशों तक मांग बढ़ाई जा सके। इस बात का भी विशेष ध्यान रखा जाएगा कि स्थानीय उद्यमियों को उद्यमों की स्थापना में बढ़ावा मिल सके।

बैठक में पुलिस अधीक्षक सुश्री सिमाला प्रसाद ने कहा कि जिले में उत्पादित होने वाली सामग्री को बेहतर बाजार उपलब्ध कराना भी हमारे लिए एक चुनौती होगी, जिसके लिए उचित प्लेटफार्म देना होगा। इसके अलावा स्थानीय लोगों को इन उद्यमों से जोडक़र हम जिले के औद्योगिकीकरण को बेहतर स्वरूप दे पाएंगे। बैठक में वन मंडलाधिकारी श्री पुनीत गोयल ने जिले में वुडन उद्योगों की स्थापना के लिए वन विभाग के प्रावधानों से अवगत कराया।

बैठक में एमपी विनियर्स के श्री अभिमन्यु श्रीवास्तव ने कहा कि वुडन पर आधारित छोटे-छोटे प्रोडक्ट भी विदेशों में एक्सपोर्ट हो सकते हैं। बैतूल जिले का सागौन लोगों को बेहतर रोजगार उपलब्ध कराने एवं औद्योगिकीकरण को बढ़ावा देने में काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। कर-सलाहकार श्री राजीव खण्डेलवाल ने बैठक में कहा कि वुड प्रोडक्ट्स यदि कन्ज्यूमर गुड्स के रूप में तैयार किए जाएंगे, तो उनको बेहतर मार्केट मिलेगा। उन्होंने पैकिंग-रिपैकिंग एवं जीएसटी व्यवस्थाओं के संबंध में भी बैठक में अपने विचार व्यक्त किए। चार्टर्ड एकाउंटेंट श्री सुनील हिराणी ने छोटे उद्यमियों को उद्यम स्थापित करने हेतु आवश्यक फेसिलेटेशन की आवश्यकता पर जोर दिया, ताकि वे बेहतर व्यवसाय की तरफ बढ़ सके। इसके अलावा जिले में छोटे उद्यमों को बढ़ावा देने के लिए स्व-सहायता समूहों के सशक्तिकरण की बात भी उन्होंने कही। उन्होंने कहा कि उद्यम स्थापित करने वालों को टैक्स, मार्केटिंग एवं अन्य एक्सपर्ट्स से आवश्यक मार्गदर्शन दिलवाया जाए। जिला व्यापार संघ के श्री मनोज भार्गव ने जिले में व्यापारिक संभावनाओं पर प्रकाश डाला। आरामशीन संचालक संघ की तरफ से श्री अब्दुल भाई एवं श्री राजा साहू द्वारा स्थानीय स्तर पर विनियर उद्यम को बढ़ावा देने की बात कही। साथ ही वुडन उद्योग में वन विभाग से संबंधित आवश्यक सहयोग की अपेक्षा के संबंध में भी चर्चा की गई। बैठक में उन्नत कृषि एवं आयुर्वेद औषधि उत्पादों की संभावनाओं पर भी विस्तृत विचार रखे गये।

इस दौरान जिला वाणिज्य कर अधिकारी श्री युवराज पाटीदार ने जीएसटी के प्रावधानों से अवगत कराया। कलेक्टर श्री सिंह ने बैठक के अंत में कहा कि चर्चा में हुए निष्कर्षों को संस्थागत स्वरूप देकर आगे बढ़ाया जाएगा। जिले में औद्योगिकीकरण को बढ़ावा देने के लिए जिला स्तर पर आ रही छोटी-मोटी दिक्कतों को शीघ्रता से निराकृत कराया जाएगा। शासन स्तर से जिन समस्याओं का हल होना होगा, उन्हें चिन्हित कर निराकृत करवाने की पहल की जाएगी। उत्पादों के आवश्यक प्रमाणीकरण के लिए भी जिला प्रशासन उद्यमियों की पूरी मदद करेगा। तदुपरांत जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एमएल त्यागी ने जिले में स्व सहायता समूहों के कार्यों को छोटे उद्यम के रूप में बढ़ावा देने के लिए समन्वित प्रयास करने की बात कही। बैठक का संचालन जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष श्री ब्रजआशीष पाण्डे द्वारा किया गया।

National हाईवे पर पुलिस ने भेड़ बकरियों से भरा ट्रक पकड़ा 24 घंटे से खड़े ट्रक में भरी बकरियों  में  से 2 बकरियों की हुईं मौत


प्रशासन ने की कोई व्यवस्था

मुलताई news

मुलतापी समाचार

 नेशनल हाईवे से भेड़ बकरियों को भरकर जा रहे ट्रक को पुलिस ने पकड़ा। और  ट्रक को एक्सीलेंस स्कूल के खेल मैदान पर खड़ा करा दिया। 22  घंटे से अधिक समय से खेल मैदान पर खड़े ट्रक में भरी बकरियों को चारा पानी नहीं मिलने  से दो बकरियों की मौत हो गई। और तीन बकरियां अचेत हो गई।
     रविवार रात 10 बजे के दरमियान खुरई से भेड़ बकरी भरकर हैदराबाद जा रहा ट्रक फोरलेन मार्ग के बायपास से गुजर रहा था। उसी दौरान पुलिस ने ट्रक को पकड़ा और एक्सीलेंस स्कूल के खेल मैदान पर लाकर खड़ा करने के बाद ट्रक चालक को थाने में ले गया। रविवार रात भर और सोमवार पूरे दिन ट्रक खेल मैदान पर खड़ा रहा। लेकिन 24 घंटे कार्रवाई करने में  बिता दिए इस दौरान ट्रक में भरी भेड़ बकरियों के लिए पानी आदि की व्यवस्था नहीं होने से दो बकरियों की मौत हो गई। ट्रक के साथ चल रहे मजदूर संतोष किरार ने बताया कि रविवार रात 10 बजे से ट्रक खड़ा है। 

इस संबंध में थाना प्रभारी सुरेश सोलंकी ने बताया कि बकरा बकरी का अवैध परिवहन करने सहित अन्य धाराओं के तहत ट्रक चालक के खिलाफ केस दर्ज कर कोर्ट में प्रस्तुत किया है। 250 बकरा बकरी और भेड़ जप्त की है। ट्रक से बकरा बकरी और भेड़ उतारने के बाद भूख प्यास से मर रही है। इसकी जवाबदारी ट्रक मालिक की है।

पुलिस मुख्यालय खुद कराना चाहता है भर्ती, उम्मीदवारों ने कहा-पीईबी ही कराए परीक्षा


भोपाल :-उप निरीक्षक स्तर के 1500 और सिपाही स्तर के 15 हजार पुलिस कर्मियों की भर्ती पर विवाद खड़ा हो गया है। पुलिस मुख्यालय यह भर्ती खुद कराने पर अड़ गया है। इसके लिए प्रस्ताव भी राज्य सरकार को भेज दिया है। जबकि उम्मीदवार हर बार की तरह इस बार भी प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) से भर्ती कराने की मांग कर रहे हैं।

कई छात्र संगठनों ने इस मांग को लेकर ज्ञापन भी सौंपे हैं। यह भर्ती प्रक्रिया अप्रैल से शुरू होनी थी, लेकिन लॉकडाउन की वजह से टल गई थी। अब लॉकडाउन में रियायतों के बाद यह प्रक्रिया फिर शुरू होगी। यह भर्ती प्रक्रिया प्रदेश में करीब तीन साल बाद हो रही है। प्रदेश में आखिरी बार पुलिस की भर्ती साल 2017 में हुई थी।

तब से किसी न किसी कारण से यह भर्ती प्रक्रिया टलती रही। इस साल जनवरी में उप निरीक्षक के डेढ़ हजार और सिपाही के पंद्रह हजार पदों पर भर्ती की पूरी तैयारी हो गई थी। यह भर्ती हर बार की तरह इस बार भी पीईबी से होनी थी, लेकिन इसी बीच पुलिस मुख्यालय की चयन शाखा ने भर्ती नियम बनाकर यह परीक्षा खुद ही कराने का प्रस्ताव राज्य शासन को भेज दिया है।

हालांकि जब तक राज्य शासन इस संबंध में कोई निर्णय लेता तब तक कोरोना का संक्रमण फैल गया और लॉकडाउन की वजह से पूरी प्रक्रिया एक बार फिर अधर में लटक गई। अब लॉकडाउन में रियायतें मिलने के साथ ही इस प्रस्ताव पर फिर कार्यवाही शुरू होने के आसार हैं। भर्ती परीक्षा जल्द हो सके इसके लिए मप्र युवा बेरोजगार संघ आगे आया है।

संघ के दिनेश चौहान, रवींद्र सिंह परिहार, रजनीश पांडे ने बताया कि उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा को ज्ञापन भेजा है। इसमें उन्होंने मांग की है कि परीक्षा जल्द से जल्द आयोजित की जानी चाहिए। परीक्षा पीईबी को ही लेनी चाहिए।

धीरे धीरे पुलिया हर रोज धस रही है,  प्रशासन कर रही नजर अंदाज, हो सकती है बड़ा हादसा – सतर्क


बैतूल ब्लॉक काकाजी जामठी गांव आमला रोड पर नवनिर्मित पुलिया बनाई गई है जो कि धीरे-धीरे 1 इंच धस्ते जा रही है रोजाना मुलतापी समाचार , प्रशासन ध्यान दे

जल्द बड़ी दुर्घटना होने की आसंका ध्यान दे बैतुल आमला रोड पर

नव निर्मित पुलिया पिछले कुछ दिनों पहले ही बनकर तैयार हुई है और अभी बारिश शुरू नहीं हुई उसके पहले ही वह पुलिया धसने लगी है – प्रशासन ध्यान दे

Multapi samachar की पॉजिटिव न्यूज

आमला। बैतूल ब्लॉक काकाजी जामठी गांव आमला रोड पर नवनिर्मित पुलिया बनाई गई है जो कि धीरे-धीरे 1 इंच धस्ते जा रही है रोजाना, प्रशासन ध्यान दे कहीं बड़ी दुर्घटना घट जाए। बारिश के मौसम की दस्तक दे चुकी है, जिसके पहले ही नवनिर्मित पुलिया का धसना प्रारंभ हो गया था हमारी प्रशासन से यही अपील है कि जिले में कोई आपदा ना गठित हो जाए मौसम की दस्तक प्रारंभ हो चुकी है जिले में कोई आपदा दल अभी तक गठित नहीं किया गया है हमारी शासन प्रशासन से अपील है कि जल्द से जल्द पुलिया की जांच कर कार्रवाई की जाए और नवनिर्मित पुलिया का पुनः सुधार कार्य किया जाए जिससे भविष्य में कोई बड़ी दुर्घटना होने से समय पूर्व बचा जा सके।

मुलताई समाचार