Category Archives: बैतूल जिला न्‍यूज

केसरिया हिंदू परिषद संगठन के मयंंक हजारे बने जिला उपाध्‍यक्ष

पवार समाज के मयंक हजारे बने जिला उपाध्‍यक्ष

मयंक पवार ि‍जिला उपाध्‍यक्ष युवा मोर्चा

Multapi Samachar

बैतूल जिले के युवा समाजसेवी एवं समय-समय पर हर सामाजिक कार्य में हमेशा तत्पर रहने वाले युवा मयंक हजारे को आज जिले के केसरिया हिंदू परिषद संगठन के जिला उपाध्यक्ष के रूप में नियुक्ति किया गया है जानकारी के अनुसार इनकी नियुक्ति परिषद के संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेश शर्मा के अनुशंसा पर एवं प्रदेश उपाध्यक्ष दिनेश चढोकारऔर जिला मीडिया प्रभारी योगेश पवार ने की है इस अवसर पर मयंक हजारे ने कहा कि गौ सेवा और नारायण सेवा ही परिषद का मुख्य उद्देश्य है उन्होंने कहा कि केसरिया हिंदू परिषद के पदाधिकारियों ने जो मुझे जिम्मेदारी दी है और भरोसा जताया है उसे बखूबी निभाउँगा साथ ही क्षेत्र में संगठन का कार्यकारिणी गठन भी जल्द किया जाएगा वही मयंक हजारे की नियुक्ति पर इनके सहारे इष्ट मित्रों और मुलतापी समाचार परिवार द्वारा बधाइयां दी गई है।

एक से चार अगस्त तक सम्पूर्ण जिले में पूर्ण लॉक डाउन उल्लंघन करने पर होगी कार्रवाई

3 अगस्‍त की रात्री तक ही रहेगा पूर्ण लॉक डाउन

इस आदेश मे क्राइसेस मेनेजमेंट टीम द्वारा बैठक में अमीटमेंट कर दिया गया है जिसके बाद बैतूल जिले में 4 नहीं अब सिर्फ 3 अगस्त तक ही रहेगा लाॅक डाउन

मुलतापी समाचार

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने समूचे बैतूल जिले में शनिवार एवं रविवार 01 अगस्त एवं 02 अगस्त को पूर्ण लॉकडाउन घोषित किया है। साथ ही आगामी त्यौहारों के कारण बाजारों में होने वाली संभावित भीड़ एवं लोगों की व्यापक आवाजाही के कारण कोरोना वायरस को नियंत्रित करने हेतु आगामी सोमवार एवं मंगलवार 03 अगस्त एवं 04 अगस्त को भी लॉकडाउन घोषित किया है, फलस्वरूप शुक्रवार 31 जुलाई की सायं 8 बजे से मंगलवार 05 अगस्त की प्रात: 5 बजे तक जिले के सभी नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र में पूर्ण लॉकडाउन प्रभावी रहेगा।कलेक्टर ने आमजन से अपील है कि वे लॉकडाउन के दौरान अपने घरों से पैदल अथवा वाहनों से न निकलें। लॉकडाउन के दौरान इंसिडेंट कमाण्डर सहित पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारी समूचे जिले में सतत् गश्त करेंगे। आपातिक चिकित्सा कारणों को छोडक़र सभी व्यक्तियों को अपने घरों से निकलना पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। उन्होंने कहा है कि बेवजह घर से बाहर निकलने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।लॉकडाउन के दौरान व्यवस्थाएं इस प्रकार रहेगीं

———————–

लॉकडाउन के दौरान नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में सभी तरह की दुकानें (मेडीकल स्टोर को छोडक़र) पूरी तरह से बंद रहेंगी।

आपातिक चिकित्सा कारणों को छोडक़र सभी व्यक्तियों का अपने घरों से निकलना पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा।

बैतूल जिले की सीमा के अंदर सभी नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में माल वाहनों को छोडक़र आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा।प्रात: 6 बजे से प्रात: 8 बजे तक समाचार पत्रों एवं दूध की मात्र डोर-टू-डोर डिलेवरी की अनुमति रहेगी।बैतूल जिले की सीमाओं में किसी भी तरह के ऐसे दो पहिया या चार पहिया यात्री वाहन जिन्हें बैतूल जिले के किसी नगर या ग्राम में आना है, का प्रवेश पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा, परन्तु ऐसे वाहन जो हाईवे के माध्यम से मात्र सडक़ पर ही रहेंगे एवं आगामी जिले में प्रवेश करेंगे, वे समुचित प्रमाण पत्र एवं जानकारी देते हुए आवागमन कर सकेंगे।अंतर्जिला एवं अंतर्राज्यीय माल वाहन तथा रेल्वे से माल का परिवहन एवं लोडिंग-अनलोडिंग लॉकडाउन अवधि में की जा सकेगी। लोडिंग-अनलोडिंग में कार्यरत मजदूर/हम्मालों की आवाजाही संबंधित प्रतिष्ठान के स्वामी/संचालक से प्राप्त परिचय पत्र दिखाकर आवाजाही कर सकेंगे।रेल्वे से यात्रा कर बैतूल जिले में आने वाले यात्रियों को रेल्वे स्टेशन से जिले की सीमा में अन्य शहर या ग्राम में यात्रा करने के लिए मेडिकल टीम से अनुमति प्राप्त करना अनिवार्य होगा।पूर्व आदेशों के अनुक्रम में पूर्व व्यवस्था अनुसार अत्यावश्यक सेवाओं में कार्यरत कर्मी जैसे मेडीकल प्रोफेशनल्स, नर्सों तथा पैरा-मेडीकल स्टाफ, सेनिटेशन कर्मचारी, एंबुलेंस, दूरसंचार सेवाएं, विद्युत प्रदाय के कार्य, शासकीय कार्यालय एवं नगरपालिका के कार्य एवं उसमें लगे सभी कर्मी, अधिकारी/कर्मचारी लॉकडाउन अवधि में अपना परिचय पत्र दिखाकर आवागमन कर सकेंगे।उक्त लॉकडाउन अवधि में जिले के नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित समस्त पेट्रोल/डीजल पम्प बंद रखे जाएंगे।

किन्तु बैतूल जिले की सीमा में नागपुर-भोपाल हाईवे, बैतूल-इंदौर हाईवे, मुलताई-छिंदवाड़ा, मुलताई-वरूड़, खेड़ीसांवलीगढ़ से अमरावती, बैतूल-खण्डवा, घोड़ाडोंगरी-परासिया के मुख्य मार्गों पर स्थित पेट्रोल पम्प जो नगरीय क्षेत्र की सीमा से बाहर हैं, खुले रहेंगे।कलेक्टर का यह आदेश आमजनता को संबोधित है एवं एकपक्षीय पारित किया गया है।

इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 तथा एपिडेमिक एक्ट 1897 के तहत मप्र शासन द्वारा जारी किए गए विनियम दिनांक 23 मार्च 2020 की कंडिका 10 के अंतर्गत भारतीय दण्ड संहिता की धारा 187, 188, 269, 270, 271 के अंतर्गत दंडनीय है एवं उल्लंघनकर्ता के विरूद्ध इन धाराओं के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी।

बैतूल जिले में 4 नहीं अब सिर्फ 3 अगस्त तक ही रहेगा लाॅक डाउन

तीन अगस्त तक ही रहेगा लाॅक डाउन ————-

जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समूह ने देर रात लिया निर्णय 

Multapi Samachar

बैतूल ।कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने बताया कि  31 जुलाई को देर रात आयोजित जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समूह की बैठक में जिले में तीन अगस्त तक ही  लाकॅडाउन प्रभावशील किये जाने का निर्णय लिया गया है . क्राइसिस मैनेजमेंट  समूह द्वारा लिए गए निर्णय के फलस्वरूप अब तीन अगस्त की रात्रि तक ही जिले में लाकॅडाउन प्रभावी रहेगा .तद्नुसार चार अगस्त की सुबह से  आगामी आदेश तक जिला  लाकॅडाउन से मुक्त रहेगा .

मुलतापी समाचार

lock down RETAIN : 1 से 4 अगस्त तक बैतूल में पूर्ण लॉकडाउन, त्योहार घर पर ही मनेंगे

पुन: संपुर्ण कडाके वाला लॉकडाउन लगा जिलेे से लेगे छिन्‍दवाडा, सिंवनी एवं सतना में भी लॉकडाउन के आदेश जारी

कोरोना महामारी के चलते इस बार घर पर ही मनेगी ईद और रक्षाबंधन

  • लॉकडाउन के दौरान नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में सभी तरह की दुकानें (मेडीकल स्टोर को छोड़कर) पूरी तरह से बंद रहेंगी।
  • आपातकालीन चिकित्सा कारणों को छोड़कर सभी व्यक्तियों का अपने घरों से निकलना पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा।
  • जिले की सीमा के अंदर सभी नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में माल वाहनों को छोड़कर आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा।

ईद और रक्षाबंधन इस बार घर पर ही मनेगा। जिले में 31 जुलाई रात 8 बजे से 5 अगस्त सुबह 5 बजे तक जिले के ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में पूर्ण लॉकडाउन रहेगा। आगामी त्योहारों के कारण बाजारों में होने वाली भीड़ और लोगों की व्यापक आवाजाही रोकने के लिए कलेक्टर राकेश सिंह ने लॉकडाउन घोषित किया है। कलेक्टर ने जारी आदेश में लोगों से लॉकडाउन के दौरान अपने घरों से पैदल अथवा वाहनों से नहीं निकलने का आग्रह किया है। लॉकडाउन के दौरान इंसिडेंट कमांडर सहित पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारी समूचे जिले में सतत गश्त करेंगे। आपातकालीन चिकित्सा कारणों को छोड़कर सभी व्यक्तियों को अपने घरों से निकलना पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। बेवजह घर से बाहर निकलने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

यह कर सकेंगे

  • सुबह 6 से प्रात: 8 बजे तक समाचार पत्रों एवं दूध की मात्र डोर-टू-डोर डिलीवरी की अनुमति रहेगी।
  • लोडिंग-अनलोडिंग में कार्यरत मजदूर-हम्मालों की आवाजाही संबंधित प्रतिष्ठान के स्वामी, संचालक से प्राप्त परिचय पत्र दिखाकर कर सकेंगे।
  • {रेल से यात्रा कर जिले में आने वाले यात्रियों को रेल्वे स्टेशन से जिले की सीमा में अन्य शहर या ग्राम में यात्रा करने के लिए मेडिकल टीम से अनुमति प्राप्त करना अनिवार्य होगा।

इनको रहेगी छूट

  • अत्यावश्यक सेवाओं में कार्यरत कर्मी जैसे मेडिकल प्रोफेशनल्स, नर्सों तथा पैरा-मेडिकल स्टाफ, सेनिटेशन कर्मचारी, एंबुलेंस, दूरसंचार सेवाएं, विद्युत प्रदाय के कार्य, शासकीय कार्यालय एवं नगरपालिका के कार्य एवं उसमें लगे सभी कर्मी, अधिकारी व कर्मचारी लॉकडाउन अवधि में अपना परिचय पत्र दिखाकर आवागमन कर सकेंगे।

नगर के पेट्रोल पंप रहेंगे बंद, हाईवे पर शुरू
लॉकडाउन अवधि में जिले के नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित समस्त पेट्रोल, डीजल पंप बंद रखे जाएंगे। नागपुर-भोपाल हाईवे, बैतूल-इंदौर हाईवे, मुलताई-छिंदवाड़ा, मुलताई-वरूड़, खेड़ीसांवलीगढ़ से अमरावती, बैतूल-खंडवा, घोड़ाडोंगरी-परासिया के मुख्य मार्गों पर स्थित पेट्रोल पंप जो नगरीय क्षेत्र की सीमा से बाहर हैं, खुले रहेंगे।

बैतूल में फिर 10 लाख कीमत गांजे की फसल पकडाई

ग्राम आमागोहन में रामदास यादव के घर पकडाया गांजे की फसल

ग्राम आमागोहन में रामदास यादव के घर पकडाया गांजे की फसल

गांजे केे 33 पौधों को जप्त करेे

Multapi Samachar

Betul थाना शाहपुर पुलिस को मुखबिर सूचना प्राप्त हुई कि ग्राम आमागोहन के रामदास यादव के घर के पीछे खेत पर गन्ना बाड़ी में अवैध रूप से गांजा की खेती कर रहा है

मुखबिर सूचना पर श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय श्रीमान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महोदय एवं श्रीमान अनुविभागीय अधिकारी पुलिस शाहपुर के निर्देशन में थाना प्रभारी महोदय द्वारा सूचना तस्दीक हेतु उपनिरीक्षक खुशाल बघेल एवं सहायक उप निरीक्षक विनोद मालवीय एवं प्रधान आर 382 बलिराम आरक्षक 448 मोहित आरक्षक 133 नितिन आरक्षक 632 प्रवेश महिला आरक्षक 690 संगीता एवं 716 मोनिका के मुखबिर सूचना पर रवाना हुए एवं ग्राम आमागोहन में रामदास यादव के घर पहुंच कर उसके घर के पीछे लगे गांजे के पौधों को कटवा कर जप्त किया गया कुल 33 पौधों को जप्त कर थाना लाया गया

जिनकी कीमत अनुमानित 1000000 रुपए है उक्त आरोपी को गिरफ्तार कर आरोपी के खिलाफ स्वापक औषधि और मन प्रभावी पदार्थ अधिनियम की धारा 8 (a),20(b) और 20 (a) का अपराध पंजीबद्ध कर जांच में लिया गया।

मुलतापी समाचार

MP Betul के जज की मौत का बडा खुलासा: फूड पॉइजनिंग से नहीं, जहर से हुई मौत, जादू टोना की बात सामने आने पर आटा देने वाली महिला को रीवा से किया अरेस्ट

बैतूल एडीजे की मौत फूड पॉइजनिंग से नहीं, जहर से हुई; तंत्र-मंत्र की बात सामने आने पर आटा देने वाली महिला को रीवा से किया अरेस्ट

मुलतापी समाचार

बैतूल अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश महेंद्र त्रिपाठी (नीली टी शर्ट में) अपने परिवार के साथ। त्रिपाठी के परिवार में दो बेटे और दो बेटियां थीं।
  1. पुलिस ने महिला समेत पांच लोगों को हिरासत में लिया, इस महिला ने ही जज को आटा दिया था, कहा था- इसे घर के आटे में मिला देना
  2. 20 जुलाई को एडीजे और उनके दो बेटों की खाना खाने के बाद तबीयत बिगड़ी थी, 25 जुलाई को एडीजे और बड़े बेटे की मौत हो गई थी

Betul MP मध्य प्रदेश के बैतूल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट के एडीजे महेंद्र त्रिपाठी और उनके बेटे अभियान राज की मौत जहर से हुई है। पोस्टमाॅर्टम रिपोर्ट में इसका खुलासा हो गया है। ये पता नहीं चला है कि जहर कौन सा था? लेकिन, पुलिस सूत्रों का कहना है कि जिसने भी आटे में जहर मिलाकर दिया, उसकी साजिश पूरे परिवार को खत्म करने की थी।

किस्मत से एडीजे की पत्नी ने उस दिन रोटी नहीं खाई और छोटे बेटे को दो रोटी खाने के बाद उल्टी हो गई इसलिए वे बच गए। 20 जुलाई को त्रिपाठी और उनके दो बेटों को फूड पॉइजनिंग की शिकायत होने पर बैतूल के अस्पताल में भर्ती कराया था।

रीवा की महिला से होगी पूछताछ
मामले में पूछताछ के लिए रीवा निवासी एक महिला को बैतूल लाया गया है। पुलिस ने 5 संदिग्धों को भी हिरासत में लिया है। इस महिला ने ही जज को आटानुमा कुछ दिया था और कहा था कि इसे घर के आटे में मिला देना। घटना के बाद से ही महिला का फोन बंद आ रहा था। 25 जुलाई को एडीजे त्रिपाठी और उनके बेटे की मौत हो गई थी। पुलिस ने अस्पताल में एडीजे के बयान लिए थे। उनसे किसी पर शक होने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि आटे की जांच जरूर करा लेना।

महिला ने संकट टालने के लिए आटा दिया गया
शुरुआती जांच में सामने आया कि 19 जुलाई की दोपहर में एडीजी की संध्या नाम की महिला से मुलाकात हुई। उसी दौरान उन्हें आने वाले संकट को टालने के लिए आटा दिया गया था। 20 जुलाई को त्रिपाठी के घर में पत्नी को छोड़कर परिवार के बाकी सदस्यों ने इसी आटे से बनी रोटी खाई थी। छोटे बेटे को तत्काल उल्टी हो जाने से उस पर असर नहीं हुआ। इधर, 20 जुलाई के बाद से रीवा की मूल निवासी महिला का फोन बंद आ रहा था। 25 जुलाई को उसने जैसे ही फोन ऑन किया, पुलिस को उसकी लोकेशन रीवा में मिली। स्थानीय पुलिस की टीम ने देर रात महिला को ढूंढ़ निकाला।

महिला की कार से सामान निकालती बैतूल पुलिस। कार में तंत्र-मंत्र का सामान और इसी से जुड़ी हुईं किताबें बरामद हुई हैं।

महिला की कार में मिली तंत्र-मंत्र की किताबें और सामान
सूत्रों के मुताबिक, रीवा से महिला को देर रात कार समेत बैतूल लाया गया। कार में रखे बैग और अन्य सामान को पुलिस ने जब्त कर लिया है। पर्स से पुलिस ने तंत्र-मंत्र की सामग्री भी जब्त की है। सूत्रों का कहना है कि परिवार के सदस्य अभी भी कुछ छिपा रहे हैं। घर में ऐसा क्या था कि एडीजे महिला के चक्कर में आ गए।

छोटे बेटे आशीष राज का कहना है कि संध्या सिंह नामक महिला ने पापा को आटा दिया था, जिसकी रोटी खाने के बाद उन तीनों की तबीयत बिगड़ी। संध्या सिंह पिछले 10 सालों से उनके पापा के संपर्क में थी। कई तरीकों से उनके परिवार को खत्म करने की पहले भी साजिश रच चुकी है। संध्या सिंह ने पापा से कहा था कि यह आटा अपने घर के आटे में मिला दीजिए। इससे सबका स्वास्थ्य अच्छा होगा और समृद्धि होगी।

अस्पताल से महिला को फोन लगा रहे थे एडीजे
अस्पताल सूत्रों के मुताबिक, एडीजे अस्पताल से महिला को बार-बार फोन लगा रहे थे। उससे वे पूछ रहे थे कि आखिर कौन-सी चीज खाने को दी है। उसका नाम बता दो, ताकि डॉक्टर उसका एंटीडाेज दे सकें। लेकिन, दूसरी ओर से महिला बार-बार उनका फोन काट दे रही थी।

जब महिला ने कुछ नहीं बताया तो उसके ड्राइवर को फोन लगाया
एडीजे तीन दिन बैतूल अस्पताल में भर्ती रहे। दो दिन तक वे फोन लगाकर महिला से आटे के बारे में पूछते रहे। जब महिला ने फोन उठाना बंद कर दिया तो उन्होंने उसके ड्राइवर को फोन लगाकर जानकारी लेनी चाही। सूत्रों का कहना है कि एडीजे ने ड्राइवर से यहां तक कहा था कि भगवान की खातिर उससे पूछकर बता दो कि आटे में क्या मिला है।

एडीजे से मिलने आती थी महिला
सूत्रों के अनुसार, एडीजे इस महिला से करीब 10 साल से ज्यादा समय से परिचित थे। दो साल उनके बैतूल में तैनाती के हो चुके थे। इस बीच, कई बार महिला मिलने आई। उसके बारे में कई बातें सामने आ रहीं है। कोई उसे सिंगरौली का तो कोई छिंदवाड़ा का रहने वाला बता रहा। ये भी कहा जा रहा है कि महिला का पति उससे अलग रहता है। महिला एनजीओ और कपड़े का व्यवसाय करती है। हालांकि, अभी ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि महिला किस तरह जज के संपर्क में आई थी।

एडीजे महेंद्र त्रिपाठी की मौत के मामले में पुलिस ये जानने की कोशिश कर रही है कि आखिर ऐसी कौन सी वजह थी कि महिला जज के पूरे परिवार को खत्म करना चाह रही थी।

बैतूल के वकीलों की चर्चा के अनुसार, एडीजे उन जजों से नाखुश थे, जो अन्य राज्य के निवासी हैं। बीते कुछ दिन से उनका आध्यात्म की तरफ ज्यादा झुकाव हो गया था। बातचीत भी वे आध्यात्म की ज्यादा करने लगे थे। एडीजे का बड़ा बेटा कुछ दिन पहले ही इंदौर से बैतूल आया था।

लेन-देन की जांच चल रही है
सूत्रों का कहना है कि एडीजे के खाते में बड़ी रकम ट्रांसफर होने की बात सामने आई। महिला के खाते में भी काफी पैसा जमा हुआ है। इसकी जांच चल रही है। सूत्रों से ये भी पता चला है कि महिला की लाइफस्टाइल हाई सोसायटी जैसी है। आशंका जताई जा रही है कि इस मामले में कई बड़े लोगों का हाथ भी हो सकता है।

Multapi Samachar

Multai – मुस्लिम महिला नागपुर में कोरोना पजेटिव, मस्जिद के सामने की दुकानें बंद कराई

मुलताई बजरंग चौक से बैंक तक दुकाने बंंद कराई

मुलतापी समाचार

Betul, मुलताई । नगर के इंदिरा गांधी वार्ड निवासी 22 वर्षीय मुस्लिम महिला की नागपुर के मेयो अस्पताल में कोरोना पाजेटिव रिपोर्ट आई है । उक्त महिला गर्भवती होने से 2 दिन पूर्व मुलताई अस्पताल से रेफर किया गया था जहां डिलेवरी के दौरान सेम्पल लेने पर मंगलवार कोरोना पाजेटिव रिपोर्ट आई है ।

प्रशासन द्वारा सतर्कता बतौर फव्वारा चौक मस्जिद के सामने महिला के रिश्तेदार सहित अन्य दुकानें बंद करा दी गई है । BMO डॉ पल्लव ने बताया कि महिला की कॉन्टेक्ट हिस्ट्री के अनुसार वह उसके 9 परिजनों के सम्पर्क में आई है जिसमे से मस्जिद के सामने की दुकान वाले परिजन शामिल हैं । फिलहाल महिला और कितने परिजनों के सम्पर्क में आई है इसकी भी प्रशासन द्वारा जानकारी ली जा रही है ताकि सतर्कता की दृष्टि से आगे की कार्यवाही की जा सके

Betul शाम आठ बजे से प्रातः पांच बजे तक रात्रि कालीन कर्फ्यू रहेगा

सायं साढ़े सात बजे सभी व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद हो जाएंगे

Milati Samachar

बैतूल । बैतूल कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी राकेश सिंह ने जिले में प्रभावी लाॅक डाउन व्यवस्था के तहत मंगलवार 21 जुलाई से समूचे जिले में प्रतिदिन सायं आठ बजे से प्रातः पांच बजे तक रात्रि कालीन कर्फ्यू घोषित किया है .इस दौरान नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में आवागमन पूरी तरह बंद रहेगा .
इसी तरह अत्यावश्यक सेवाओं को छोड़ कर जिले के सभी शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में व्यावसायिक प्रतिष्ठान/दुकानें प्रतिदिन सायं साढ़े सात बजे अनिवार्य रूप से बंद कर दिए जाएंगे .यह आदेश तत्काल प्रभावशील किया गया है .

सम्पूर्ण बैतूल जिले में प्रत्येक रविवार पूरी तरह लॉक डाउन रहेगा

बैतूल। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह

बैतूल। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने कोविड-19 के दृष्टिगत बैतूल जिले की सम्पूर्ण सीमा में स्थित समस्त नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक रविवार को पूर्णत: लॉकडाउन रखे जाने के निर्देश दिए हैं।
लॉकडाउन के दौरान रविवार के दिवस में नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में सभी तरह की दुकानें (मेडिकल स्टोर को छोडक़र) पूरी तरह से बंद रहेंगी।

आपात चिकित्सा कारणों को छोडक़र सभी व्यक्तियों का अपने घरों से निकलना पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा।
बैतूल जिले की सीमा के अंदर सभी नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में माल वाहनों को छोडक़र आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा।
प्रात: 6 बजे से प्रात: 8 बजे तक समाचार पत्रों एवं दूध की मात्र डोर-टू-डोर डिलेवरी की अनुमति रहेगी।

सभी तरह के शासकीय एवं अशासकीय प्रतिष्ठान (हॉस्पिटल, चिकित्सालय एवं क्लीनिक को छोडक़र) पूरी तरह बंद रहेंगे।
बैतूल जिले की सीमाओं में किसी भी तरह के ऐसे दो पहिया या चार पहिया यात्री वाहन जिन्हें बैतूल जिले के किसी नगर या ग्राम में आना है, का प्रवेश पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा, परन्तु ऐसे वाहन जो हाईवे के माध्यम से मात्र सडक़ पर ही रहेंगे एवं आगामी जिले में प्रवेश करेंगे, वे समुचित प्रमाण पत्र एवं जानकारी देते हुए आवागमन कर सकेंगे। इसी प्रकार अंतर्जिला एवं अंतर्राज्यीय माल वाहन तथा रेल्वे से माल के परिवहन एवं आने-जाने में पूर्णत: छूट रहेगी।
रेल्वे से यात्रा कर बैतूल जिले में आने वाले यात्रियों को रेल्वे स्टेशन से जिले की सीमा में अन्य शहर या ग्राम में यात्रा करने के लिए मेडिकल टीम से अनुमति प्राप्त करना अनिवार्य होगा।

रविवार एवं अन्य दिवस के लिए

सभी नागरिकों के लिए यह अनिवार्य है कि वे आगामी आदेश तक पूर्व आदेशों की निरंतरता के क्रम में एक-दूसरे से भौतिक दूरी

(छ: फीट) का पालन करे।
प्रत्येक दुकानदार, प्रतिष्ठान स्वामी उनके ग्राहकों के बीच भौतिक दूरी (छ: फीट) का अनिवार्यत: पूर्वानुसार पालन कराते रहेंगे एवं इसके लिए उत्तरदायी रहेंगे।

सार्वजनिक स्थलों पर आम नागरिकों द्वारा फेस मास्क, फेस कव्हर अनिवार्यत: लगाया जावेगा तथा भौतिक दूरी (छ: फीट) का पालन किया जाता रहेगा।

पड़ोसी राज्यों एवं अन्य राज्यों से आने वाले प्रत्येक नागरिक के लिए यह अनिवार्य है कि वे सर्वप्रथम जिले में स्थापित चिकित्सालयों/फीवर क्लीनिक में अपनी जांच कराएं एवं चिकित्सकीय परामर्श अनुसार ही अपने निवास स्थान पर प्रस्थान करें। यदि उन्हें क्वारेंटाइन में रहने हेतु या सेम्पल देने हेतु कहा जाता है तो इनका पूर्णत: पालन करना होगा।
जिले की महाराष्ट्र राज्य से लगी सीमाओं पर चेकिंग नाके स्थापित किये जाकर मेडिकल परीक्षण किया जाएगा।
सभी नागरिकों को कोविड-19 के प्रबंधन हेतु राष्ट्रीय निर्देशों का अनिवार्यत: पालन करना होगा एवं पूर्व में कलेक्टर कार्यालय द्वारा जारी किए गए विभिन्न एसओपी भी पूर्वानुसार पूर्णत: लागू रहेंगे।

जिले के समस्त इंसिडेंट कमाण्डर इन निर्देशों को लागू करने के लिए पूर्णत: उत्तरदायी रहेंगे एवं उनके क्षेत्राधिकार से समस्त शासकीय अधिकारी-कर्मचारी उनके नियंत्रण में कार्य करेंगे।

कलेक्टर का यह आदेश आमजनता को संबोधित है एवं एकपक्षीय पारित किया गया है। इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 तथा एपिडेमिक एक्ट 1897 के तहत मप्र शासन द्वारा जारी किए गए विनियम दिनांक 23 मार्च 2020 की कंडिका 10 के अंतर्गत भारतीय दण्ड संहिता की धारा 187, 188, 269, 270, 271 के अंतर्गत दंडनीय है एवं उल्लंघनकर्ता के विरूद्ध इन धाराओं के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी।

यह आदेश 10 जुलाई 2020 से आगामी आदेश पर्यन्त प्रभावशील रहेगा।

Multapi Samachar