Category Archives: सामाजिक संदेश

100 से अधिक जनसमूह के कार्यक्रम के लिए अनुमति लेना आवश्यक, नई गाइडलाइन जारी


धार्मिक स्थलों पर फेस मास्क लगाना एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरूरी

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह द्वारा जिले में सामाजिक/शैक्षणिक/खेल/ मनोरंजन/सांस्कृतिक/राजनैतिक/रामलीला एवं रावण दहन आदि के लिए आगामी आदेश तक के लिए अतिरिक्त आदेश जारी किए गए हैं।

सामाजिक, शैक्षणिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, राजनैतिक, रामलीला एवं रावण दहन आदि कार्यक्रमों के खुले मैदान में जनसमूह के संबंध में

खुले मैदान में उक्त प्रकार के कार्यक्रमों के लिए मैदान के आकार को दृष्टिगत रखते हुए तथा फेस मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, सेनेटाइजेशन एवं थर्मल स्केनिंग की व्यवस्था के पालन करने की शर्त पर 100 से अधिक संख्या के जनसमूह के कार्यक्रमों के लिए संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर से अनुमति प्राप्त की जाएगी।उपरोक्त प्रकार के कार्यक्रम कन्टेन्मेंट जोन में आयोजित नहीं किए जा सकेंगे।इस प्रकार के कार्यक्रमों के आयोजन के लिए आयोजकों को संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर को लिखित में आवेदन करना आवश्यक होगा तथा आवेदन में कार्यक्रम की तिथि, समय, स्थान एवं संभावित संख्या का उल्लेख करना आवश्यक होगा।

संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर द्वारा प्राप्त आवेदन पत्र पर विचारोपरान्त कार्यक्रम की लिखित अनुमति प्रदान की जाएगी, जिसमें उक्त संख्या एवं शर्तों का पालन कराने की जवाबदारी आयोजकों की होगी।उक्त प्रकार के आयोजनों की वीडियोग्राफी आवश्यक रूप से कर आयोजकों को कार्यक्रम समाप्ति के 48 घंटों में प्रति संबंधित संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर को अनिवार्यत: उपलब्ध करानी होगी।

जिले में आगामी आदेश तक धार्मिक स्थलों पर मेलों के आयोजन आदि पर प्रतिबंध रहेगा। जिले में जिन स्थानों पर पूर्व से मेलों आदि का आयोजन होता रहा है, उन स्थानों को चिन्हित कर उक्त मेलों आदि में भाग लेने वाले श्रद्धालुओं को संंबंधित संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर द्वारा उचित माध्यम से समय पूर्व सूचित कराया जाएगा।धार्मिक स्थलों पर जहां बंद कक्ष अथवा हॉल में श्रद्धालु एकत्र होते हैं, वहां संबंधित अनुविभागीय मजिस्ट्रेट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमांडर द्वारा कुल उपलब्ध स्थान के आधार पर इस प्रकार अधिकतम सीमा नियत की जा सकेगी, जिसमें उपलब्ध स्थान में श्रद्धालुओं के मध्य दो-गज दूरी सुनिश्चित करते हुए पूजा/अर्चना की जा सके।

किन्तु उक्त संख्या किसी भी स्थिति में एक समय में 200 से अधिक नहीं होगी। साथ ही धार्मिक स्थल प्रबंधन को यह सुनिश्चित करना होगा कि कोविड-19 रोकथाम के तारतम्य में फेस मास्क की बाध्यता एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन धर्मावलंबियों द्वारा किया जाए।बिना अनुमति 100 से अधिक जनसमूह के कार्यक्रम करने अथवा प्रदत्त अनुमति में उल्लेखित शर्तों के उल्लंघन करने अथवा उपर्युक्त कण्डिका में उल्लेखित कार्य में शर्तों का उल्लंघन करने पर संबंधितों के विरूद्ध धारा 188 भारतीय दण्ड विधान के अंतर्गत वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

कलेक्टर के आदेशानुसार समूचे जिले में दुकानें, बाजार, मॉल अपने निर्धारित समय तक खुले रह सकेंगे।

कृषि संशोधन बिल 2020 जन जागरूकता अभियान


आज कृषि संशोधन बिल 2020 जन जागरूकता अभियान के सम्बध मे भाजपा जिला अध्यक्ष आदरणीय बबला शुक्ला जी के नेतृत्व में आठनेर नगर मंडल मासोद मंडल एवं प्रभात पट्टन मंडल में बिल के संबंध में बूथ कार्यकर्ता और बूथ प्रभारियों से संवाद किया

इस दौरे में मासौद मंडल के प्रभारी देवी सिंह ठाकुर अल्पसंख्यक मोर्चा के जिला अध्यक्ष अभीजर हुसैन आठनेर मंडल के प्रभारी किशोर मोहबे सहित तीनों मंडलों के अध्यक्ष गोवर्धन रानी विजय घोड़की राजेश सोनारे उपस्थित रहे

MULTAPI SAMACHAR

NEWS RIPOTOR (RAHUL SARODE)

छत्रपति शिवाजी युवा संगठन जि बैतूल मुलताई के सदस्यों ने सांसद डी डी उइके जी को सौंपा ज्ञापन


मूलताई। (मुलतापी सामाचार)

छत्रपति शिवाजी युवा संगठन जि बैतूल मुलताई के सदस्यों ने आज बैतूल में मा.सांसद डी.डी.उईके जी, नरेश फाटे जी, भैय्या बबला शुक्ला जी, भैय्या कमलेश लोखंडे जी, भैय्या भवानी गांवडे जी, भैय्या कृष्णा गायकी जीभैय्या गोवर्धन राणे जी, राजेश हिंगवे जी से सप्रेम भेंट की व सांसद महोदय जी को छत्रपति शिवाजी महाराज जी का छायाचित्र भेंट किया. .

जिस दौरन संगठन की बैठकों के लिये सभाकक्ष व मुलताई में कई वर्षो सें लम्बवत् छत्रपति शिवाजी महाराज जी की मूर्ती स्थापित करने के लिये ज्ञापन दिया।।

NEWS EDITOR

RAHUL SARODE

पवारी भाषा और संस्कृति ज्ञान परीक्षा -व्कि‍ज प्रतियो‍गीता


प्रतियोगिता में क्षेत्र ,उम्र और लिंग का कोई बंधन नहीं है

प्रतियोगिता के प्रथम पाँच विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत

प्रश्नावली हल करके सुखवाड़ा के व्हाट्सएप्प नंबर 9425392656 पर 30 सितम्बर 2020 तक उपलब्ध कराने का अनुरोध

मुलतापी समाचार

भोपाल। गाँव में निवासरत होने और शिक्षा तथा रोजगार के लिए शहर का रुख करने वाले पवार जन अपनी जमीन ,भाषा और संस्कृति से कितने जुड़े हैं यह जानने के उद्देश्य से पवारी भाषा और संस्कृति ज्ञान परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है। राष्ट्रीय भर्तृहरि -विक्रम -भोज पुरस्कार समिति भारत और सुखवाड़ा ई -दैनिक और मासिक भारत के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस प्रतियोगिता में क्षेत्र ,उम्र और लिंग का कोई बंधन नहीं है। पोवारी ,पंवारी, भोयरी और पवारी भाषा और संस्कृति में समानता होने के साथ -साथ मूल शब्द लगभग एक से ही हैं।
प्रतियोगिता के प्रथम पाँच विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया जायेगा और ई -प्रशस्ति पत्र भी दिया जायेगा। 85 % या उससे अधिक अंक प्राप्त करने वाले शेष सभीप्रतिभागियों को ई -प्रशस्ति पत्र दिया जायेगा। प्रश्नावली को कॉपी पेस्ट करके और हल करके सुखवाड़ा के व्हाट्सएप्प नंबर 9425392656 पर अनिवार्यतः 30 सितम्बर 2020 के शाम 5 बजे तक उपलब्ध कराना सुनिश्चित करने का अनुरोध है।

पवारी भाषा और संस्कृति ज्ञान परीक्षा प्रश्नावली

  1. प्रतिभागी का नाम
  2. उम्र
  3. गाँव /शहर का नाम
  4. व्हाट्सप्प न
  5. प्राप्ताँक ————-(मूल्यांकनकर्त्ता के उपयोग हेतु )
  1. पखवाड़ा या पाक्षिक को पवारी भाषा में कहा जाता है ——
  2. अधिकमास या मलमास को पवारी भाषा में कहा जाता है ——–
  3. आई अखाड़ी आया सन, गई ————— गया सन।(कहावत पूरी करिये)
  4. रफाड़ में बैलों को चरने के लिए बाँधी गई लम्बी रस्सी कहलाती है ——-
  5. “इत सी गई उगी मुगी, उत सी आई गाल फुगी” पहेली का उत्तर है ——
  6. गूँजे- पपड़ी मुख्यतः किस त्योहार से जुड़े हुए व्यंजन हैं ——
  7. नदी नाले में अस्थायी रूप से सिंचाई के लिए बनाया गया अस्थायी कुँआ कहलाता है —-
  8. “हरि लिली पति रे मरो देवता भोली या बिनती भली रे देव” लोकगीत किस अवसर पर गया जाता है –
  9. सेवा भगत, सेवा भगत सम्बोधन का उपयोग किस यात्रा के दौरान किया जाता है
  10. दीपावली के कितने दिन बाद मुलताई का कार्तिक मेला प्रारम्भ होता है –
  11. .मुलताई तहसील से निकलने वाली दो पवित्र नदियों के नाम हैं –
  12. बालाघाट जिले के पवार किस नदी विशेष के नाम से जाने जाते हैं –
  13. आम की —— ——और ———- गिरने के बाद आम को उतारा जाता है।
  14. बाट की लाड न लाहुरया लिहे ओ लाहुरया लिहे ओ -गीत किस अवसर पर गाया जाता है-
  15. विवाह अवसर पर काज करते समय गाये जाने वाले गीत के बोल हैं –
  16. बैलगाड़ी में क्रमशः आगे अधिक भार और पीछे अधिक भार होने पर दर्शाने हेतु किन शब्दों का उपयोग करते हैं –
  17. पान्ढुर्णा का प्रसिद्ध गोटमार मेला किस तिथि को आयोजित होता है –
  18. गाँव के बाहर जानवरों के खड़े रहने हेतु सुरक्षित स्थान कहलाता है –
  19. गाँव में बारात पहुँचने पर बारात का स्वागत कर उसे लाने की रस्म कहलाती है –
  20. .”टाली” गाय को और “खुखड़ा” मुर्गा को कहा जाता है। यह किस भाषा के शब्द है –
  21. “खांसी खोखला घेऊन जाय नारबोद” प्रभाती किस तिथि पर गायी जाती है –
  22. गाँव की सीमा रेखा को —————- कहते हैं।
  23. नदी में बाढ़ आती है और नाले में ——————-
  24. मसाला बाँटने वाले पत्थर कहलाते हैं ————– —————
  25. पत्थर की हाथ चक्की ——————– कहलाती है और मिट्टी की हाथ चक्की ————————-कहलाता है।
  26. ओखली का जोड़ीदार —————- और मोट के चका का जोड़ीदार —————–
  27. बैलों को हल में जोतने पर जोत बांधते हैं और बैलगाड़ी में जोतने पर ————————
  28. फाड़ा में कुल नग होते हैं ————-और ठाना में कुल नग होते हैं —————-
  29. कूड़ो से छोटा माप पायली ,पायली से छोटा माप —————— और उससे छोटा ————–
  30. मोजना याने —————डंगेला याने——————-
  31. आठ हाथ काकड़ी ———————-हाथ बीजा। (मुहावरा पूरा करिये।)
  32. “एक हाथ लकड़ी दो हाथ छिल्पा”का अभिप्राय है —————————-
  33. “कुल्हाड़ी को एक वार सी झाड़ नी कटत” का अर्थ है ——————-
  34. “आम उतर जाना” का अभिप्राय है ——————–
  35. नागर की मूठ होती है और बक्खर का —————- होता है।
  36. महिलाओं की पिवसी होती है और पुरुषों की ————————–
  37. आंजुर याने अंजुलि और ठोमा याने ————–
  38. औकार याने ——————-
  39. पेज़ कोदो कुटकी सावा से बनती है और ढासला ————— और ————— से
  40. गुड़ का बड़ा और भारी जमाव ————– कहलाता है और छोटी तथा हल्की जमाव ———————–
  41. तरल गुड़ ——————— कहलाता है और चाके में जमे गुड़ के ऊपर जमी हलकी परत कहलाती है ————–
  42. बफोड़ी बनाने के लिए प्रयुक्त बर्तन————— और प्रक्रिया ———————–
  43. पगड़ी को पवारी में कहते हैं ————————-
  44. रस्सी आटने वाला चक्र कहलाता है ——————-
  45. “भाई भरय एक बार, भाभी भरय बार बार”.पहेली का अर्थ है —————-
  46. “तू चल्यो समधी तू चल्यो रे तू ते नाचत चल्यो ,हाथ म दोना ले चल्यो रे , पातर चाटत चल्यो ” लोकगीत कब गाया जाता है ————————
  47. हँसी ख़ुशी और स्वस्थ सुखी के संदेशे के लिए पवारी का एक शब्द है ————————–
  48. मराठी भजन के साथ मंजीरे और पवारी भजन के साथ —————————बजायी जाती है।
  49. पवारी में गर्मी और ठण्ड की ऋतु को कहते हैं —-
  50. दीमक का घर कहलाता है——————– और चूहे का घर कहलाता है ——————

मनमोहन पंवार ,प्रधान संपादक, मुलतापी समाचार