Category Archives: योग

महिला एवं बाल विकास विभाग ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 1 लाख 65 हजार 600 रूपए की एक दिन के वेतन राशि दी


डीपीओ बीएल विश्नोई जी और साथी सहयोगी टीम द्वारा बैतुल नगर में नागरिकों को हस्तनिर्मित माक्स वितरण करते हुए

MP Betul Fights Corona covid 19

मुलतापी समाचार

जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग श्री बीएल विश्नोई से प्राप्त जानकारी के अनुसार विभाग के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा कोविड-19 बीमारी में सहायता हेतु मुख्यमंत्री राहत कोष में एक दिन का वेतन 1 लाख 65 हजार 600 रूपए की राशि प्रदान की गई।

साथ ही कोरोना संक्रमण से बचने के लिए महिला एवं बाल विकास कार्यालय बैतूल की ओर से पोषण अभियान अंतर्गत RTE के तहत 3 से 6 वर्ष की आयु वर्गके बच्‍चों को मिलने वाले नाश्‍ता और गर्म पका भोजन व्‍यवस्‍था प्रभावित होने के कारण रेडी-टू-ईट का वितरण घर घर जाकर किया एवं कोविड 19 के बचाव के लिए स्वंय के द्वारा मास्क बनाकर वितरण करनेे की व्‍यवस्‍था की गई है और साथ ही इस तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था की जा रही है।

इन्हे गांवों व शहर में जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाया जा रहा है। उनसे यह अपील भी की जा रही है कि मास्क लगाकर ही रहें। महिला एवं बाल विकास कार्यालय के जिला कार्यक्रम अधिकारी बीएल विश्‍नोई जी ने बताया कि संस्थान की ओर से 10 हजार से अधिक मास्क वितरित किए जा चुंके है। इसके लिए मास्क की सिलाई का काम स्‍वयं आंगनवाडी कार्यकता द्वारा किलया गया है। जैसे जैसे मास्क तैयार होते जा रहे हैं उनका वितरण भी किया जा रहा है। यदि अधिक मास्क की जरूरत रही तो और मास्क भी सिलाकर वितरित किए जाएंगे। जिसमें जिला अधि‍कारी विश्‍नोई जी एवं एकीकृत बाल विकास परियोजना बैतूल की ओर से अधिकारी कल्‍पना जोनथन, एवं ब्लाक की समस्त परियोजनों में आंगनवाडी कार्यकता द्वारा मास्क बनाकर बांटेे गये।

Chaitra Navratri 2020 : चैत्र नवरात्रि प्रारंभ इस बार 3 सर्वार्थ सिद्धि व एक अमृत सिद्धि योग


Multapi Samachar

चैत्र नवरात्र शुरू

Chaitra Navratri 2020 चैत्र नवरात्र बुधवार से शुरू हो रही है। इसी दिन नवसंवत्सर है। इस बार नवरात्र में 3 सर्वार्थ सिद्धि योग और 1 अमृत सिद्धिय योग बन रहा है। इसमें की जाने वाली उपासना, साधना, पूजन, हवन, जाप का श्रेष्ठ पुण्य प्राप्त हागा। नवरात्र को लेकर जिले के पावई माता मंदिर, कालिका मामा मंदिर की रंगाई-पुताई पहले ही पूरी हो चुकी है। ब्रह्म मुहूर्त में यहां घट स्थापना होगी। हालांकि कोरोना वायरस के चलते किए गए लॉक डाउन के कारण भक्तों की संख्या नगण्य रहेगी।

चैत्र नवरात्र 25 मार्च से शुरू हो रही है। इसके लेकर शहर सहित अंचल के प्राचीन मंदिरों में एक सप्ताह पहले ही रंगाई-पुताई का काम हो चुका है। मंदिरों में ब्रह्म मुहूर्त में घट स्थापना होगी। लॉकडाउन के चलते नियमानुसार मां की पूजा-अर्चना व आराधना की जा जाएगी। नवरात्रि में भी विधि-विधान से पूजा अर्चना होगी। प्रशासन के आदेशानुसार मंदिर में भक्तों को नहीं आने दिया जाएगा।

साधना, उपासना, पूजन, हवन, जाप का श्रेष्ठ पुण्य मिलेगा

पंडित श्यामसुंदर पाराशर के मुताबिक 25 मार्च से 2 अप्रैल तक वासंती नवरात्र शुरू हो रही है। इस बार नवरात्रि में 3 सर्वार्थ सिद्धि योग व 1 अमृत सिद्धि योग बन रहा है। जिसमें की जाने वाली उपासना, साधना, पूजन, हवन, जाप से श्रेष्ठ पुण्य मिलता है। बुधवार को प्रतिपदा सूर्योदय पूर्व से शाम 5.27 तक रहेगी। घटस्थापना सुबह सूर्योदय से 12.20 तक तथा अभिजित मुहुर्त में 11.57 से 12.32 बजे तक शुभ मुहूर्त में किया जा सकता है।

26 मार्च को सुबह 6.29 से सर्वार्थ सिद्धि योग रहेगा जो अगले दिन 27 को सुबह 10.08 बजे तक रहेगा। 30 मार्च को सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 6.25 से शाम 5.19 तक रहेगा। 2 अप्रैल को सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 6.22 से शाम 7.28 तक रहेगा। 30 मार्च को शाम से अमृत सिद्धि योग निर्मित हो रहा है, जो अगले दिन सुबह 6.23 तक रहेगा।

पंडित विपिन कृष्ण भारद्वाज के मुताबिक इस बार 2 अप्रैल को रामनवमी पर शाम 7.28 बजे के बाद पुष्य नक्षत्र आरंभ हो रहा है। रात में गुरुपुष्य की युक्ति सहित उपरोक्त सिद्धि योग में सभी अनिष्ट निवारणार्थ व मनोकामना सिद्धि के लिए देवी संबंधी उपासना पाठ जाप के लिए जाने से शीघ्र लाभ होगा। उन्होंने बताया कि 1 अप्रैल को अष्टमी सूर्योदय पूर्व से अगले 2 अप्रैल् को सूर्योदय पूर्व 3.42 बजे तक रहेगी। 3.42 के बाद नवमी तिथि शुरू होगी जो 2 अप्रैल की मध्यरात्रि तक रहेगी। इस प्रकार दुर्गाष्टमी 1 अप्रैल व श्रीरामनवमी 2 अप्रैल को मनाई जाएगी। मुलतापी समाचार

मस्तिष्क काम ना करे तो योग का सहारा ले


मनोज अग्रवाल मुल्तापी समाचार हटा

जीने की राह

प्रकृति के चमत्कार भी बड़े गजब के हैं जैसे विज्ञान मानता है कि समझदार से समझदार घोर प्रतिभाशाली व्यक्ति भी जीवन में अपने मस्तिष्क का आधा हिस्सा ही उपयोग में ले पाता है बाकी आधा भाग जीवन भर अनुपयोगी ही रह जाता है जब तक आधे हिस्से से काम करेंगे कितने ही योग्य हो हम जिंदगी की कुछ घटनाएं पकड़ नहीं पाएंगे श्री राम रावण युद्ध में मेघनाथ माया फैला रहा था ऐसा दृश्य उपस्थित कर दिया था कि दसों दिशाओं में बाढ़ छा गए जहां तुलसीदासजी ने लिखा धरु धरु मारु सुनिए गाना जो मारे दही को न जाना चारों ओर हमारी जिंदगी में भी कई बार ऐसे बन जाते हैं आज जिस प्रकार का पुणे में तो बहुत है अत्याचार दुराचार हो गए हैं लेकिन फिर भी हम पढ़ नहीं पाते कि यह कौन कर रहा है आज पूरी तरह से तो योग का सहारा लीजिए कहते हैं कि जब मनुष्य अपने दोनों के बीच अपना काम करता है तो उसका आधा मस्तिष्क विज्ञान में है उसे मिटा देता है और जैसे ही यह आसपास की वह सारे देखने लग जाएंगे जो हमें की ओर धकेल देते हैं फिर आप सजग होकर स्वयं को भी बचा पाएंगे और दूसरों को भी