Category Archives: रेलवे

मुलताई हथनापुर रेलवे स्टेशन के बीच रेलवे ट्रैक के किनारे मिला अज्ञात युवक का शव


रेलवे ट्रेक किनारे गला काट शव पड़ा मिला

मुलतापी समाचार

मुलताई । आज को रेलवे के पॉइंट्स मेंन सतीश नागले ने मुलताई हथनापुर रेलवे स्टेशन के बीच रेलवे ट्रैक के किनारे अज्ञात युवक का शव पड़ा देखा। युवक की गर्दन कटी हुई थी। पॉइंट्स मेन ने रेलवे ट्रैक के किनारे युवक का शव पड़ा होने की सूचना पुलिस थाने में दी। घटना की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव का पंचनामा बनाकर मर्ग कायम किया। मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने मृतक की शिनाख्त मनीष पिता सुरेश देशमुख 22 साल निवासी ग्राम करपा के रूप में की।

पुलिस की पूछताछ में यह खुलासा हुआ कि मनीष इंदौर में काम करता था। ग्राम करपा में उसकी मां  शोभाबाई अकेली रहती हैं। ग्रामीणों का कहना है मनीष कुछ दिनों से ग्राम करपा आया हुआ था। थाना प्रभारी सुरेश सोलंकी ने बताया रेलवे ट्रैक के पास से शव बरामद करने के बाद पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सुपुर्द किया है। मृतक के परिजनों से पूछताछ की जा रही है। उसके बाद ही युवक मनीष की मौत किन परिस्थितियों में हुई इसका खुलासा होंगा  इस घटना को लेकर यह चर्चा है कि मनीष का शव रेलवे ट्रैक के किनारे  जिस हालत में पड़ा हुआ मिला  है उस आधार पर यह दुर्घटना का  मामला नजर नहीं आ रहा है वही मृतक की केवल गर्दन कटी हुई है जबकि शरीर का हिस्सा सही सलामत होने से घटना संदिग्ध परिस्थितिया निर्मित कर रही हैं

ट्रेनों के स्टॉपेज के लिए ,ITI के छात्रों ने सांसद के नाम लिखे 101 पोस्ट कार्ड


विद्यार्थियों ने कहा मुलताई नगरी में ट्रेनों का स्टॉपेज नहीं मिलना दुर्भाग्य की बात

रेल रोको आंदोलन- मुलताई जन आंदोलन मंच ओर मुलताई तहसील के प्रत्येक ग्रामीण ओर नगरीय नागरिकों की प्रमुखता से मांग है,

जन आंदोलन मंच को विद्यार्थियों का समर्थन ट्रेनों के स्टॉपेज हेतू

 मुलताई । रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों के स्टॉपेज के लिए जन आंदोलन मंच द्वारा किए जा रहे धरना प्रदर्शन को व्यापक समर्थन  मिल रहा है  जहा सोमवार को अभिभाषक संघ ने आंदोलन का समर्थन किया था वही मंगलवार को आईटीआई के छात्रों ने आंदोलन का समर्थन करते हुए धरना स्थल पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। धरना स्थल पर पहुंचे आईटीआई के विद्यार्थियों ने कहा मुलताई नगरी में ट्रेनों का स्टॉपेज नहीं मिलना दुर्भाग्य की बात है। लंबे समय से नगरवासी ट्रेनों के स्टॉपेज की मांग कर रहे हैं। इसके बाद भी जनप्रतिनिधि इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। नगर और ग्रामीण अंचल के विद्यार्थियों को अध्ययन और प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल होने के लिए बड़े शहरों में जाना पड़ता है। लेकिन मुलताई स्टेशन पर ट्रेनों के स्टॉपेज नहीं होने से परेशानी होती है। धरना स्थल पर ही विद्यार्थियों ने सांसद के नाम पोस्टकार्ड लिखकर ट्रेनों का स्टॉपेज देने की मांग की। साथ ही कहा कि वह लोग दुकानों और घरों में जाकर भी लोगों से पोस्टकार्ड लिखाए जाएगे। पोस्टकार्ड अभियान के पहले दिन 101 पोस्टकार्ड लिखकर सांसद को भेजे गए है। धरना प्रदर्शन को सोनी समाज का भी समर्थन मिला है। जन आंदोलन मंच के अनिल सोनी,महेश शर्मा,मोहनसिंह परिहार, यादोराव निंबालकर,टीकाराम मंडले, राजेश तायवाड़े सहित अन्य सदस्यों ने बताया जब तक ट्रेनों के स्टॉपेज की मांग पूरी नहीं हो जाती है तब तक धरना सतत रूप से जारी रहेगा।

घोड़ाडोंगरी को मिली 8 स्पेशल ट्रेनों की सौगात, 21 अक्टूबर से चालू होंंगी


Multapi Samachar

बैतूल। रेलवे ने अक्टूबर महीने में आगामी त्योहार सीजन को देखते हुए 196 जोड़ी यानी 392 स्पेशल ट्रेनें चलाने का ऐलान किया है. इन्हें फेस्टिवल स्पेशल ट्रेनों के नाम से चलाया जाएगा. इन ट्रेनों में से घोड़ाडोंगरी को 8 फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन की सौगात मिली है. ये ट्रेनें 21 अक्टूबर से घोड़ाडोंगरी रेलवे स्टेशन पर रुकेंगी, इससे घोड़ाडोंगरी क्षेत्र के यात्रियों को सुविधा मिलेगी.

घोड़ाडोंगरी में 08237 कोरबा -अमृतसर छत्तीसगढ़ फेस्टिवल स्पेशल एक्सप्रेस, 08238 अमृतसर- कोरबा छत्तीसगढ़ फेस्टिवल स्पेशल एक्सप्रेस का स्टॉपेज दिया गया है, जो सप्ताह में तीन-तीन दिन चलेगी.

वहीं 02577 दरभंगा मैसूर बागमती फेस्टिवल स्पेशल और 02578 मैसूर दरभंगा बागमती फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन, यह ट्रेन सप्ताह में एक-एक दिन चलेगी. जिसमें 02577 प्रति बुधवार, 02578 प्रति रविवार को घोड़ाडोंगरी आएगी.

02521 बरौनी एर्नाकुलम फेस्टिवल स्पेशल, 02522 एर्नाकुलम बरौनी फेस्टिवल स्पेशल और 02511 गोरखपुर त्रिवेंद्रम राप्तीसागर फेस्टिवल स्पेशल सहित 02512 त्रिवेंद्रम गोरखपुर राप्तीसागर फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन को भी घोड़ाडोंगरी में स्टॉपेज दिया गया है.

घोड़ाडोंगरी में वर्तमान में रुक रही 10 ट्रेनें

कोरोना के चलते रेलवे ने नियमित ट्रेनों का संचालन बंद रखा गया है. इसी के चलते यात्रियों की सुविधाओं के लिए रेलवे कोविड-19 स्पेशल ट्रेनों का संचालन कर रही है. इन ट्रेनों में से वर्तमान में घोड़ाडोंगरी रेलवे स्टेशन पर 10 ट्रेनें रुक रही हैं. 8 नई फेस्टिवल स्पेशल ट्रेनों के स्टॉपेज मिलने से अब घोड़ाडोंगरी में कुल 18 स्पेशल ट्रेनों का स्टॉपेज रहेगा, जिससे घोड़ाडोंगरी के यात्रियों को सुविधा मिलेगी.

मुलताई रेलवे स्टेशन पर लॉकडाउन के बाद 20 अक्टूबर से रुकेगी समता और छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस


31 अक्‍टूबर से दक्षिण एक्‍सप्रेस या गोंडवाना एक्‍सप्रेस दो मे से एक जल्‍द रूकने की संभावना है।

तीसरी ट्रेन 31 अक्‍टूबर एक और ट्रेन जल्‍द रूकने की संभावना

इस माह तीन ट्रेेेने जल्‍द रूकने लगेंंगी

मुलतापी समाचार

Railway News

कोरोना महामारी के चलते ट्रेन सेवा बंद हो गई थी। अब धीरे धीरे ट्रेन सेवाएं शुरू की जा रही है। जिसके चलते 20 अक्टूबर से नगर के रेलवे स्टेशन पर समता और छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस रुकेंगी। जिससे दो ट्रेनों से यात्रा करने की सुविधा मिलेगी। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए 24 मार्च से ट्रेनों की आवाजाही बंद हो गई थी। जिससे रेल यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। दो महीने पहले रेलवे ने कुछ चुनिंदा ट्रेनों को शुरू किया था। मुलताई स्टेशन पर इन ट्रेनों का स्टॉपेज नहीं होने से क्षेत्र के लोगों को इसका लाभ नहीं मिल रहा था। हाल ही में रेलवे ने स्पेशल ट्रेन चलाने का निर्णय लिया है। जिसमें निजामुद्दीन से विशाखापटनम तक चलने वाली समता एक्सप्रेस और बिलासपुर से अमृतसर तक चलने वाली छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस को शामिल किया है। इन दोनों ट्रेनों का पहले से ही मुलताई स्टेशन पर स्टॉपेज है।

उपस्टेशन प्रबंधक द्वारा दी गई जानकारी

इस स्थिति में अब दोनों ट्रेनों से यात्रा करने की सुविधा नगर सहित क्षेत्रवासियों को मिलेगी। उपस्टेशन प्रबंधक अरविंद तिवारी ने बताया 20 अक्टूबर की रात 12.45 बजे विशाखापटनम से निजामुद्दीन जाने वाली समता एक्सप्रेस मुलताई स्टेशन पर रुकेगी।

ट्रेन नं. में बदालव

नया गाडी नं.02887 विशाखापटनम से निजामुद्दीन जाने वाली समता एक्सप्रेस का रहेगा और निजामुद्दीन से विशाखापटनम आने वाली समता एक्सप्रेस का गाडी नं. 2888 रहेगा

http://www.indianrail.gov.in/enquiry/TBIS/TrainBetweenImportantStations.html?locale=en

छत्‍तीसगढ़ एक्‍सप्रेस का गाडी नं. पूर्वत: ही रहेगा जो 08237 एवंं 08238 में कोई बदलाव नही किया गया है

31 अक्‍टूबर से दक्षिण एक्‍सप्रेस या गोंडवाना एक्‍सप्रेस दो मे से एक जल्‍द रूकने की संभावना है।

यह ट्रेन पूर्ववत निर्धारित टाइम टेबल के अनुसार सप्ताह में पांच दिन चलेगी। प्रतिदिन चलने वाली छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस सप्ताह में तीन दिन चलेगी। 20 अक्टूबर को रात 12.20 बजे मुलताई स्टेशन पर पहुंचेगी। दोनों ट्रेनों के लिए रिजर्वेशन भी शुरू हो गए है।

घायल युवक सोना घाटी रेलवे ट्रैक पर मिला, गैैंगमैन ने बचाया


breaking news

बैतूल लगभग रात 9:30 बजे एक युवक सोनाघाटी मलहम जीरी के बीच रेलवे ट्रैक पर पड़े होने की सूचना रेलवे के गैंगमैन द्वारा जीआरपी को दी गई तत्पश्चात जीआरपी पुलिस एवं 100 डायल घटनास्थल पर पहुंची और घायल युवक को 100 डायल की सहायता से जिला चिकित्सालय पहुंचाया गया है

प्राप्त जानकारी के अनुसार घायल व्यक्ति का नाम सत्यम देशमुख पिता तुलसीराम देशमुख उम्र 23 वर्ष निवासी पहाड़ी तहसील बेतूल निवासी बताया जा रहा है युवक के लेफ्ट साइड के पैर का पंजा कटा हूआ अवस्था में मिला जिसे 100 डायल की सहायता से जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया जहां उसका उपचार चल रहा है

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार युवक को ढूंढने के लिए जीआरपी एवं हंड्रेड डायल को काफी पैदल चलकर ढुडा तब जाकर युवक सुनसान जगह के ट्रैक पर मिला

मुलताई -ट्रेन का स्टापेज की मांग को लेकर स्टेशन अधीक्षक को सौंपा ज्ञापन


Multapi Samachar

मुलताई। मुलताई में ट्रेनों के स्टापेज को लेकर लंबे समय से आंदोलन किए जा रहे हैं, लेकिन हर बार नई ट्रेन का स्टापेज मुलताई में नहीं किया जा रहा है। मुलताई और प्रभातपट्टन तहसील क्षेत्र के लोगों के साथ हो रहे इस अन्याय से आक्रोश बढ़ रहा है। हाल ही में ट्रेन क्रमांक 02591 एवं 02592 गोरखपुर-सिकंदराबाद का स्टापेज मुलताई में नहीं दिया गया है। जनआंदोलन मंच द्वारा इस मामले को लेकर रेल मंत्री एवं सांसद बैतूल के नाम एक ज्ञापन रेलवे स्टेशन अधीक्षक मुलताई को सौंपकर ट्रेन का स्टापेज मुलताई में करने की मांग की है।

ज्ञापन में कहा गया है कि जिले के लगभग हर रेलवे स्टेशन पर जिस ट्रेन का स्टापेज दिया जा रहा है, उसे मुलताई में रोकने से परहेज किया जा रहा है। कोविड 19 गोरखपुर-सिकंदराबाद ट्रेन का स्टापेज मुलताई से 25 किमी दूर आमला, 50 किमी दूर बैतूल एवं घोड़ाडोंगरी में दिया गया है। जन आंदोलन मंच के सदस्य रवि यादव, अनिल सोनी, महेश पाठक, रजनीश गिरे, कृष्णा दरवाई ने बताया कि मुलताई स्टेशन पर लॉक डाउन के दौरान एक भी ट्रेन नहीं रोकी गई। पिछले 7 माह से मुलताई का व्यापार पूरी तरह से ठप हो गया है। मुलताई के व्यापारी एवं किसान वर्ग को जरूरी कार्य से नागपुर एवं भोपाल आना-जाना होता है। अब नई ट्रेन का स्टापेज भी मुलताई में नहीं दिया जा रहा है।

ट्रेन नहीं रूकी तो शुरू होगा आंदोलनः

जन आंदोलन मंच के सदस्य महेश पाठक ने कहा कि यदि गोरखपुर-सिकंदराबाद ट्रेन का स्टापेज मुलताई में नहीं किया गया तो आंदोलन शुरू किया जाएगा। इसके पूर्व भी जन आंदोलन मंच द्वारा कई बार ट्रेनों के स्टापेज की मांग को लेकर आंदोलन किया जा चुका है।

ज्ञापन में कहा गया है कि जिले के लगभग हर रेलवे स्टेशन पर जिस ट्रेन का स्टापेज दिया जा रहा है, उसे मुलताई में रोकने से परहेज किया जा रहा है। कोविड 19 गोरखपुर-सिकंदराबाद ट्रेन का स्टापेज मुलताई से 25 किमी दूर आमला, 50 किमी दूर बैतूल एवं घोड़ाडोंगरी में दिया गया है। जन आंदोलन मंच के सदस्य रवि यादव, अनिल सोनी, महेश पाठक, रजनीश गिरे, कृष्णा दरवाई ने बताया कि मुलताई स्टेशन पर लॉक डाउन के दौरान एक भी ट्रेन नहीं रोकी गई। पिछले 7 माह से मुलताई का व्यापार पूरी तरह से ठप हो गया है। मुलताई के व्यापारी एवं किसान वर्ग को जरूरी कार्य से नागपुर एवं भोपाल आना-जाना होता है। अब नई ट्रेन का स्टापेज भी मुलताई में नहीं दिया जा रहा है।

ट्रेन नहीं रूकी तो शुरू होगा आंदोलनः

जन आंदोलन मंच के सदस्य महेश पाठक ने कहा कि यदि गोरखपुर-सिकंदराबाद ट्रेन का स्टापेज मुलताई में नहीं किया गया तो आंदोलन शुरू किया जाएगा। इसके पूर्व भी जन आंदोलन मंच द्वारा कई बार ट्रेनों के स्टापेज की मांग को लेकर आंदोलन किया जा चुका है।

Govt. Job : रेलवे, 1,40,640 पदों के लिए 2.40 करोड़ से ज्यादा कैंडिडेट्स ने किया आवेदन, अब 15 दिसंबर से परीक्षा आयोजित करेगा


NTPC- GROUP D भर्ती 2019 के लिए 15 दिसंबर से परीक्षा आयोजित करेगा

मुलतापी समाचार

रेल सरकारी जॉब समाचार

कोरोना के कारण स्थगित हुई परीक्षाएं अब अनलॉक के साथ एक फिर शुरू हो चुकी है। इसी क्रम में भारतीय रेलवे भी अपनी स्थगित हुई नॉन-टेक्निकल पॉपुलर कैटेगरी (NTPC) और Group D भर्ती 2019 के लिए परीक्षा का आयोजन कराने जा रहा है। रेलवे ने दोनों भर्तियों की कुल 1,40,640 रिक्तियों को भरने के लिए प्रथम चरण की परीक्षा आयोजित कराने की तैयारी शुरू कर दी है। इस बारे में जानकारी देते हुए रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष विनोद कुमार यादव ने कहा कि भारतीय रेलवे 15 दिसंबर, 2020 से 1.40 लाख पदों पर भर्ती के लिए कंप्यूटर आधारित परीक्षा का पहला चरण आयोजित करेगा।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्विटर पर दी जानकारी

रेलवे अध्यक्ष ने यह भी बताया कि 1.40 लाख पदों पर भर्ती के लिए जारी किए गए नोटिफिकेशन के लिए 2.40 करोड़ से ज्यादा आवेदन प्राप्त हुए थे। इन रिक्तियों के लिए होने वाली परीक्षा को कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन के चलते स्थगित कर दिया गया था। इससे पहले रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी ट्विटर के जरिए जानकारी दी थी कि रेलवे 15 दिसंबर, 2020 से अधिसूचित 1,40,640 रिक्तियों के लिए कंप्यूटर आधारित टेस्ट शुरू करेगा। जिसमें नॉन-टेक्निकल पॉपुलर कैटेगरी (NTPC) (गार्ड, क्लर्क आदि), आइसोलेटिड एंड मिनिस्ट्रियल और लेवल-1 के ट्रैक मेंटेनर, पॉइंट्समैन आदि पद शामिल हैं।

जेईई मेन और नीट- यूजी के बाद अब होगी रेलवे की परीक्षा

रेलवे की इन भर्तियों में NTPC के कुल 35,208 पद और ग्रुप डी लेवल-1 के कुल 1,03,769 पद शामिल हैं। कोरोना काल में आयोजित हो रही जेईई मेन और नीट- यूजी के बाद अब रेल मंत्रालय ने भी परीक्षा की घोषणा की। दरअसल, ECA और फिर कोविड-19 महामारी के कारण भर्ती परीक्षा की तारीख को लेकर कोई जानकारी नहीं दी जा रही थी।

वहीं, अब सुरक्षित तरीके से चल रही जईई मेन और 13 तारीख को होने वाली नीट को देखते हुए रेलवे ने भी सीबीटी-1 के लिए तारीख जारी कर दी है। फिलहाल आवेदकों को पोस्ट वाइज एग्जाम शेड्यूल, शिफ्ट और एडमिट कार्ड का इंतजार है। जिसके बारे में आने वाले समय में सूचित करने की बात कही गई है।

चेन्नई में फंसे प्रवासी मजदूर वापस लौटे बैतूल सहीत तीन जिले के है मजदूर आए


चेन्नई में फंसे ४७ प्रवासी मजदूर वापस लौटे बैतूल, छिन्दवाड़ा और खंडवा के है मजदूर

मुलतापी समाचार

बैतूल। लॉकडाउन के चलते देश के विभिन्न राज्यों में फंसे हुए मजदूरों को श्रमिक ट्रेनों के जरीए उनके घरों तक पहुंचाए जाने का सिलसिला लगातार जारी है। चेन्नई में पिछले 54 दिनों से फंसे यात्रियों को लेकर आज सुबह एक श्रमिक एक्सप्रेस बैतूल पहुंची। इस ट्रेन में बैतूल के साथ छिंदवाड़ा और खंडवा जिले के मजदूर भी बैतूल स्टेशन पर उतरे। मजदूरों के बैतूल स्टेशन पर पहुंचने की सूचना मिलते ही बैतूल एसडीएम राजीव रंजन पांडे के साथ स्वास्थ्य विभाग की टीम भी रेलवे स्टेशन पहुंच गई थी। टे्रन से सभी मजदूरों के उतरने के बाद इन प्लेटफॉर्म पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर बैठाया गया और सभी मजदूरों का स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा परीक्षण किया गया। स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद मजदूरों को अपने-अपने गंतव्य स्थानों की ओर रवाना किया।

रेलवे के अधिकारियों ने सांध्य दैनिक खबरवाणी को बताया कि चेन्नई से चलकर रीवा जाने वाली श्रमिक एक्सप्रेस से बैतूल स्टेशन पर कुल 81 यात्रियों को उतरना था, लेकिन इस ट्रेन से केवल 47 यात्री ही उतरे है, जिसमें छिंदवाड़ा जिले के सबसे ज्यादा 34 मजदूर शामिल है। इसके अलावा बैतूल के विभिन्न क्षेत्रों में रहने वाले 11 और खंडवा के 2 मजदूर शामिल है। इन मजदूरों को बसों के माध्यम से अपने-अपने जिलों के लिए रवाना किया गया। बैतूल के मजदूरों का स्वास्थ्य परीक्षण कराने के साथ ही इन्हें सुरक्षा की दृष्टि से छात्रावास में क्वारंटाइन किया गया है।

मध्‍यप्रदेश सेे छत्‍तीसगढ रवाना हुई स्‍पेशल ट्रेन वीडीयो देखे


मुलतापी समाचार

भोपाल। हबीबगंज, मध्य प्रदेश से रायपुर, छत्तीसगढ जा रहे श्रमिक स्पेशल ट्रेन के यात्री अपने घर जाने को लेकर खुश हैं और रेलवे की सुविधाओं को लेकर अपने विचार शेयर कर रहे हैं। उन्हें उनके घर भेजने के लिये रेलवे द्वारा उन्हें संक्रमण से सुरक्षा के सभी उपाय और सुविधायें भी दी गयी हैं।

लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों और छात्रों को लाने के लिए चलाई ट्रेन, राज्यों से किराया वसूलेगी रेलवे, देखे वीडियों


मुलतापी समाचार

रेलवे (Railway) ने कहा कि ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेन के किराए में नियमित स्लीपर क्लास के टिकटों की कीमत के अलावा 30 रुपये सुपरफास्ट चार्ज और खाने व पानी के लिए 20 रुपये का अतिरिक्त शुल्क लिया जाएगा.

नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) को रोकने के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन में फंसे मजदूरों की घर वापसी के लिए सरकार ने बड़ा फैसला किया है. गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने रेलवे को प्रवासी मजदूरों और छात्रों को लाने के लिए स्पेशल ट्रेन (Train) चलाने की मंजूरी दे दी है. इसके बाद रेलवे ने स्पेशल ट्रेनों के टिकटों का किराया वसूलने का फैसला किया है. रेलवे एक अधिकारी ने कहा कि लॉकडाउन में फंसे प्रवासी कामगारों को लाने के लिए वह राज्यों से किराया वसूला जाएगा.

रेलवे ने कहा कि ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेन के किराए में नियमित स्लीपर क्लास के टिकटों की कीमत के अलावा 30 रुपये सुपरफास्ट चार्ज और खाने व पानी के लिए 20 रुपये का अतिरिक्त शुल्क लिया जाएगा. इसमें लंबी दूरी की ट्रेनों में भोजन और पीने का पानी शामिल होगा.

विशेष ट्रेन चलाने की अनमित

बता दें कि लॉकडाउन के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे हुए लाखों प्रवासी मजदूरों, पर्यटकों, छात्रों और अन्य लोगों को बुधवार को कुछ शर्तों के साथ उनके गंतव्यों तक जाने की अनुमति दी है. आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत प्रदत्त शक्तियों का उपयोग करते हुए केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने कहा कि प्रवासी मजदूरों, तीर्थयात्रियों, छात्रों और विभिन्न स्थानों पर फंसे अन्य लोगों के आवागमन को रेल मंत्रालय द्वारा चलाई जाने वाली विशेष ट्रेनों के माध्यम से अनुमति है. उन्होंने कहा कि रेल मंत्रालय आवागमन को लेकर राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के साथ समन्वय के लिए नोडल अधिकारी नामित करेगा.

तेलंगाना से झारखंड के लिए चली पहली ट्रेन
प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए तेलंगाना में लिंगमपल्ली (Lingampalli (Hyderabad) से झारखंड के हटिया तक (Hatia (Jharkhand) 1200 प्रवासियों को ले जाने वाली पहली ट्रेन शुक्रवार सुबह 4:50 बजे चली. 24 कोच की ट्रेन आज रात 11 बजे झारखंड के हटिया पहुंचेगी. दिशानिर्देशों के अनुसार क्वारंटीन आदि सहित सभी उचित प्रक्रिया का पालन किया जाएगा. लिंगमपल्ली (हैदराबाद) से हटिया (झारखंड) तक जो विशेष ट्रेन चलाई गई वो तेलंगाना सरकार के अनुरोध पर और रेल मंत्रालय के निर्देशानुसार चलाई गई है.