Skip to content

Category: लेख एवं कविताएं

यह कैसा मजबूर दिवस है, मजदूर दिवस पर कविता – अशोक श्री

मुलतापी समाचार ”1 मई मजदूर दिवस” यह कैसा मजदूर दिवस! मना रहे हम मजबूर दिवस हाथ अकड़ गए, पैर जकड़ गए। कर करके आराम यह कैसा मजदूर दिवस! सुनसान रास्‍ते, […]

बेटी वंंदना, बेटी अदिति के जन्म दिवस के अवसर पर पीएम केयर्स राहत कोष के खाते में 11000 राशि भेेेट की – अशोक श्रीवास

प्रधानमंत्री राहत कोष पीएम केयर्स के खाते में 11000 राशि दान स्वरूप भेजी बेटी है तो कल है, बेटी है तो जीवन है रंग भरती जीवन में बेटियांं बेटी बचाओ […]

एक दीप जलाएं

उन रोगियों के आत्मविश्वास के लिएतिमिर हटाने, प्रकाश के लिएएक दीप जलाएं सैनिकों के जीवन आस के लिएसेवा कर्मियों के उत्साह के लिएएक दीप जलाएं देश की रक्षा के लिएअपनों […]

मेरे इस प्यारे देश में, अभी बहुत कुछ बाकी है! कविता

सहृदय धन्यवाद मेरे प्यारे देश के सभी डॉक्टर नर्स पुलिस फोर्स और मोदी जी को………. पुष्पा नागलेकविता का शीर्षक- मेरे इस प्यारे देश में, अभी बहुत कुछ बाकी है! मेरे […]

घर के बाहर निकल कर और एक जगह एकत्रित होकर हम मौत को ही न्यौता दे रहे हैं

इंसान की तरह मौत धोखा नहीं देती , लोग स्वयं बेमौत मरते हैं। मौत तो निर्धारित होती है, पर नासमझ लोग इसको अनिर्धारित कर देते हैं एक फ़कीर शाम के […]

अदृश्य प्रहार

युद्ध बदला योद्धा बदले बदल गए हथियारये कैसा है प्रहार भैयाये कैसा है प्रहारना कोई तीर ना कोई गोलाना चलती तलवारये कैसा है प्रहारभैया ये कैसा है प्रहारथरथर धरती कांप […]

ज़िंदगी है तो इम्तिहान भी होंगे साहब,वरना मुर्दों के तो सिर्फ़ श्राद्ध होते है

एक पुलिस अधिकारी कि कलम से… ✍🏼 मुलतापी समाचार मध्यप्रदेश: आजकल सोशल मिडीया पर पुलिस की सख़्ती दिखाते विडीयो किसी के लिए मनोरंजन का साधन हैं तो किसी के लिए […]

आंसू बहाती गई, इतिहास रचता गया….

आत्‍मकथा मैं अकेली थी और वे चार थे आंसू बहाती गई इतिहास रचिता गया इस लंबे सफ़र में 2651 दिन घुट घुट के आंसू बहाती गई इतिहास रचता गया मैंने […]

युद्ध से भी ज्यादा जीवन में साहस की जरुरत

Multapi samachar भंडारे ,लंगर लगाना उतने साहस का काम नहीं, जितना बूढ़े माता-पिता को भोजन कराना धार्मिक स्थानों पर सफाई करना उतने साहस का काम नहीं, जितना घर की साफ […]

कोरोना वायरस पर समर्पित कविता

मुलतापी समाचार कविता मोदीजी की तरह खादी मेंकल हम गए एक शादी में !!!!!!! चारों तरफ डेटॉल और फिनायलकी खुशबू महक रही थी।सिर्फ करोना वाइरस की हीचर्चा चहक रही थी।। […]