Category Archives: जागरूकता

प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए कार्यरत विधिक सेवा प्राधिकरण- श्री अमर नाथ

बैतूल – अपर जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री मनोज कुमार मण्डलोई ने बताया कि नागपुर तथा इंदौर हाईवे पर प्रतिदिन पैदल या अन्य साधनों से अपने घरों की ओर जाने वाले प्रवासी मजदूरों को किसी भी प्रकार की सहायता मुहैया कराने के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा हेल्प डेस्क शुरू की गई है।

इस हेल्प डेस्क का शुभारंभ गुरूवार 21 मई को जिला एवं सत्र न्यायाधीश तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री अमर नाथ द्वारा किया गया। इस दौरान श्री अमर नाथ ने कहा कि सम्पूर्ण देश में लॉक-डाउन होने के कारण बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर तथा अन्य लोग जिले की सीमाओं से होकर अपने घरों को लौट रहे हैं। ऐसी विकट परिस्थिति में प्रवासियों को उनका सफर आसान बनाने के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बैतूल द्वारा सूखी खाद्य सामग्री, फल, चप्पलें, ओआरएस, सेनेटरी पेड इत्यादि बांटे जा रहे हैं। इस पांच दिवसीय हेल्प डेस्क में पैरालीगल वालेंटियर्स द्वारा स्वैच्छिक सेवाएं दी जा रही है। प्रवासी मजदूरों को नि:शुल्क राष्ट्रीय हेल्प लाइन नंबर 15100 की जानकारी दी जा रही है। यदि प्रवासियों को राशन, मेडिकल इत्यादि की समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो वे राष्ट्रीय हेल्प लाइन नंबर से सहायता प्राप्त कर सकते हैं।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल 9584390839

होम आइसोलेशन एडवाइजरी का करें पालन – डॉ. जीसी चौरसिया

‘‘ होम आइसोलेशन एडवाइजरी ’’

बैतूल –
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जी.सी. चौरसिया ने बताया कि कोरोना वायरस कोविड-19 के संबंध में होम आइसोलेशन की परिभाषा यह है कि कोरोना वायरस के संकमण से आम जन के बचाव एवं वातावरण में विषाणु के संचरण की संभावना को रोकने के लिए कोरोना से प्रभावित प्रदेशों की यात्रा करके लौटे व्यक्तियों का विवरण उसके घर तक सीमित करने हेतु ‘‘होम आइसोलेशन‘‘ किया जाता है । होम आइसोलेशन में ऐसे सभी व्यक्तियों को रहना है। जिन्होंने प्रभावित क्षेत्रों की यात्रा की हो (लक्षण नहीं होने पर भी) एवं ऐसे व्यक्ति जिनमें कोरोना वायरस के संकमण के कोई भी लक्षण जैसे सर्दी, खांसी, बुखार आदि। संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आये सभी व्यक्ति भले उनमें कोई भी लक्षण न हो। होम आइसोलेशन के नियम इस प्रकार हैं। व्यक्ति एक अलग कमरे में रहे जो हवादार तथा स्वच्छ हो। व्यक्ति 14 दिवस तक घर में ही रहे । व्यक्ति अपने स्वास्थ्य के संबंध में जागरूक रहे एवं लक्षण उत्पन्न होने पर तत्काल फोन पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला सर्विलेंस अधिकारी, जिला नोडल अधिकारी, को सूचित करें । खांसते छींकते समय रूमाल का उपयोग करें, नियमित रूप से हाथ धोएं और ऐसे प्रयोग किये कपड़ों, रूमाल इत्यादि को साबुन, डिटरजेंट से धोना सुनिश्चित करें। यथा संभव मास्क पहनें । उपयोग किये गये बर्तनों को साफ करें । अधिकमात्रा में तरल पदार्थ लेते रहें। सम्पर्क एप में अपनी रोज की स्थिति की जानकारी भरें । होम आइसोलेशन वाले व्यक्ति को क्या नहीं करना है- भीड-भाड़ वाले स्थान में ना जावें। घर के सांझा किये जाने वाले स्थान जैसे किचन, हॉल इत्यादि का उपयोग कम से कम करें। सामाजिक और धार्मिक कार्यक्रमों, शादी समारोह और अंतिम संस्कार आदि में न जायें । परिवार के अन्य सदस्यों के निकट संपर्क में ना आयें। बार-बार अपना चेहरा या आँख ना छुएं। घर में अतिथि या अन्य बाहरी व्यक्ति को आमंत्रित ना करें। इधर उधर न छींके न थूकें जहाँ तक हो सके ढक्कन वाले बर्तन में ही थूकें, जिससे छींटों से होने वाले संक्रमण की संभावना को कम से कम किया जा सके। घर के बुजुर्गो, बच्चों, गर्भवती महिलाओं तथा अन्य रोगियों से दूर रहें। होम आइसोलेशन व्यक्ति के परिजनों को क्या करना है क्या नहीं करना हैं- जहाँ तक हो सके परिवार के कम से कम व्यक्ति ही होम आइसोलेशन वाले व्यक्ति की देखभाल करें। देखभाल करने वाला व्यक्ति हमेशा मास्क पहन कर ही होम आइसोलेशन व्यक्ति के समीप जाए। जहाँ तक हो सके परिवार के बाकी सदस्य अलग कमरे में रहें, यदि ऐसा संभव न हो तो कम से कम एक मीटर की दूरी बना कर रखें एवं बार-बार साबुन से हाथ धोएं। होम आइसोलेशन व्यक्ति का विवरण अधिकृत व्यक्ति को ही बतायें। घर के प्रमुख कक्षों के खिड़की, रोशनदान इत्यादि खुले रखें ।

जिलें में लॉकडाउन 4.0 की नई व्यवस्था कल से लागू होगी

बैतूल कलेक्टर श्री राकेश सिंह

एक-एक दिन खोली जाएंगीं बाएं एवं दाएं तरफ की दुकानें

दूध एवं फल-सब्जी की होम डिलेवरी/डोर-टू-डोर विक्रय की व्यवस्था पूर्वानुसार रहेगी

खाने-पीने की दुकानें एवं रेस्टोरेंट सिर्फ किचन खोलकर अनुमति उपरांत होम डिलेवरी कर सकेंगे

बैतूल – जिले में प्रभावशील लॉकडाउन के दौरान अब जिले के सभी नगरीय क्षेत्रों में मंगलवार 19 मई से एक दिन बाएं तरफ की एवं एक दिन दाएं हाथ तरफ की दुकानें खोली जाएगीं। बाएं एवं दाएं तरफ का चिन्हांकन सोमवार की रात्रि में ही संबंधित नगरीय निकाय द्वारा कर दिया जाएगा। दुकानें खोलने का यही क्रम आगामी आदेश तक जारी रहेगा।

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने सोमवार को जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समूह की बैठक में विचार-विमर्श उपरांत बताया कि नगरीय क्षेत्रों में दुकानें खोलने का समय प्रात: 10 बजे से सायं 6 बजे तक रहेगा। दूध, फल एवं सब्जी की होम डिलेवरी/डोर-टू-डोर विक्रय की व्यवस्था पूर्वानुसार यथावत रखी गई है। यह बिक्री प्रात: 7 बजे से प्रात: 10 बजे तक की जा सकेगी। कलेक्टर ने बताया कि जिले में सभी खाने-पीने के रेस्टॉरेंट, दुकानें एवं चाय की दुकानें पूरी तरह बंद रखे जाएंगे। खाने-पीने की दुकानें/रेस्टोरेंट संबंधित तहसीलदार से नियमानुसार अनुमति प्राप्त कर मात्र किचन खोलकर खाद्य सामग्री की होम डिलेवरी कर सकेंगे।

ग्रामीण क्षेत्रों में दुकानें खोलने की व्यवस्था पूर्वानुसार ही रहेगी। लॉकडाउन के दौरान अन्य व्यवस्थाओं के संबंध में विस्तृत जानकारी पृथक से उपलब्ध कराई जाएगी।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल 9584390839

अस्पताल स्टाफ द्वारा किया गया माकडील का अभ्यास।

मुलताई और प्रभात पट्टन के अस्पताल स्टाफ द्वारा कोरोना मरीज को अस्पताल में भर्ती करते समय रखने वाली सतर्कता और सक्रियता पर माकडील का आयोजन किया।

बैतूल – बैतूल जिले में एक साथ दो लोगों के कोरोना पाजिटिव मिलने से एक बार फिर स्वास्थ्य विभाग और प्रसाशन पूर्ण रूप से सक्रिय नजर आ रहा है। वही दूसरी ओर बैतूल जिलें के मुलताई और प्रभातपट्टन क्षेत्र में अस्पताल स्टाफ द्वारा माकडील का अभ्यास किया गया। कि यदि क्षेत्र में कोई कोरोना पाजेटिव मिलता है तो स्वास्थ्य अमला कितनी सतर्कता तथा सक्रियता से उसे भर्ती करता है। जिले में दो कोरोना पाजेटिव मरीज के मिलने से पूरे जिले में हड़कंप मच गया है एैसे में स्वास्थ्य अमला भी अलर्ट मोड पर आ गया है तथा जहां भी कोराना पाजेटिव मरीज मिलता है तो उसे कैसे स्वास्थ्यकर्मी हेंडल करेगे इसके लिए दोनों ही स्थानों पर पूरी तरह अभ्यास किया गया। इस संबन्ध में मुलताई बीएमओ उदयप्रताप सिंह तोमर तथा प्रभात पट्टन प्रभारी बीएमओ पल्लव अमृतफले ने बताया कि कोरोना पाजेटिव मरीज मिलने के अभ्यास के तहत सबसे पहले नकली मरीज बनाकर उसे सेनेटाईज्ड किया गया जिसके बाद ग्लब्ज पहनकर मरीज को एंबूलेंस में रखा गया। अस्पताल स्टाफ द्वारा पीपीई किट पहनकर पूरी सतर्कता के साथ वाहन को भी सेनेटाईज्ड किया गया जिसके बाद आईसुलेट करके मरीज को भर्ती किया गया। इसके बाद मरीज के सेंपल लेकर उसे जांच के लिए भेजे गए हैं। चिकित्सकों ने बताया गया कि वर्तमान में पूरे क्षेत्र में संदिग्ध मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है जिनके लगातार सेंपल लेकर जांच हेतू भेजे जा रहे हैं। उन्होने बताया कि हालांकि प्रभात पट्टन तथा मुलताई क्षेत्र में अभी तक सभी भेजे गए सेंपल की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है लेकिन इसके बावजूद जिले में दो मरीज मिलने से पूरी सतर्कता बरती जा रही है। यदि इस दौरान कोई संदिग्घ मरीज मिलता है तो कैसे स्वास्थ्य अमला पूरी सतर्कता से मरीज को भर्ती करेगा इसके तहत मुलताई और प्रभात पट्टन में माकडील का आयोजन किया गया।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल 9584390839

जिलें में 2 कोरोना पाजिटिव युवक मिलने से फिर मचा हड़कंप

बैतूल का ग्रीन जोन में आने का सपना टूटा, जिले में मिले फिर 2 कोरोना पॉजिटिव

बैतूल मुलतापी समाचार – कोरोना पॉजिटिव के ठीक होकर जाने के बाद जिले में अब कोई पॉजिटिव केस न मिले इसकी दुआ कर रहे लोगो को बड़ा झटका लगा है ।अबके जिले में दो कोरोना पाजिटिव मरीज पाए गए है। इससे हड़कम्प मच गया है। अधिकारियों ने इसकी पुष्टि नही की है लेकिन हमीदिया से इसकी रिपोर्ट लीक होने की बात कही जा रही है।

बताया जा रहा है कि गांव तारा के दोनों युवक एक ही परिवार के है। उनकी निजता का ध्यान रखते हुए हम उनके नाम प्रकाशित नही कर रहे है। इनकी रिपोर्ट के पॉजिटिव आने की सूचना के बाद अब इनकी ट्रेवल हिस्ट्री खंगाली जा रही हैं। इनमे एक पुणे और दूसरा मुम्बई से लौटे थे। दोनों को चिचोली के हॉस्पिटल में क्वरेंटीन किया गया है।
DHO डॉ आरके धुर्वे ने बताया कि युवकों की रिपोर्ट पाजिटिव आयी है।लेकिन मेल द्वारा प्राप्त होने वाली रिपोर्ट अभी प्राप्त नही हुई है। सैंपल की रिपोर्ट हमीदिया से।लीक हुई है।जिसमे दोनो के पॉजिटिव होने का उल्लेख है। हालाकि चिचोली बीएमओ श्री राजेश अतुलकर ने इसकी पुष्टि कर दी है। उन्होंने बताया कि दोनों युवकों को कोविड सेंटर चिचोली लाया जाएगा।
इन दो प्रकरणों के सामने आने से ग्रीन जोन में जिले को देखने की आस।लगाए बैठे लोगों को झटका लगा है। बीते 2 मई को जिले का एकमात्र पाजिटिव युवक ठीक होकर घर जा चुका है।

5 मई से जिले वासियों को मिलेगी बड़ी राहत

बैतूल- जिलेवासियों को जिस राहत का इंतजार था आखिरकार वह खत्म हो गया है। जिला प्रशासन ने लॉकडाउन के नियमों को शिथिल करते हुए कई महत्वपूर्ण बदलाव किया है, जिससे जिलेवासियों को राहत मिली है। जारी किए गए आदेश आज मंगलवार से लागू होंगे। कलेक्टर ने सोमवार को जारी किए गए आदेशों के मुताबिक दूध व्यवसाय और थोक एवं फुटकर व्यापारियों सहित अन्य व्यवसाय करने के लिए छूट दी गई है।

आदेश के मुताबिक दूध एवं अखबार के वितरण प्रात: 7 से 11 बजे तक, फल एवं सब्जी का व्यवस्था अनुसार नगर पालिका से अनुमति प्राप्त वेंडरों द्वारा विक्रय एवं किसानों द्वारा मोटर साईकिल से वितरण प्रात: 7 से 11 बजे तक, समस्त प्रकार के डेरी उत्पादन दूध, दही आदि के प्रतिष्ठान एवं मिठाई, नाश्ता एवं दुकानें, पान, गुटखा, तंबाकू उत्पादन की दुकानें, बेकरी की दुकानों से क्रय एवं डोर टू डोर डिलेवरी प्रात: 7 से 11 बजे तक।

समस्त प्रकार के पोल्ट्री उत्पादन मांस, मछली का विक्रय, सभी प्रकार के व्यक्तिगत कौशल सेवा संबंधित व्यवसायिक कार्य प्रात: 7 से 11 बजे तक होगे ।

मुख्य बाजारों की समस्त प्रकार की दुकानें प्रतिष्ठान एवं एक ही प्रकार की सामग्री के विक्रय, ग्रासरी के बहुमंजिला स्टोर, समस्त प्रकार के थोक एवं फुटकर व्यापारियों द्वारा प्रतिष्ठान से विभिन्न सामग्रियों का आदान-प्रदान एवं क्रय प्रात: 11 से शाम 5 बजे तक किया जाएगा।

मोहल्ला एवं रिहायशी स्थानों की समस्त प्रकार की दुकानें प्रात: 7 से शाम 5 बजे तक खुली रहेगी। इन सभी दुकानों का संचालन करते समय लॉकडाउन के नियम एवं सोशल डिस्टेंसिंग का कढ़ाई से पालन करने के निर्देश दिए गए है।

कलेक्टर राकेश सिंह ने जारी किए आदेश में वाहनों से आने-जाने में छूट दी है। आदेश के मुताबिक सभी प्रकार के निजी वाहनों से प्रात: 7 से शाम 5 बजे तक आने-जाने की अनुमति है। परंतु दो गज की दूरी बनाएं रखने के लिए कहीं भी भीड़ नहीं की जाएगी एवं यातायात व पार्किंग को शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में समय-समय पर विनीयमित किया जाता रहेगा। किसी भी व्यक्ति का जिले से बाहर आगमन प्रतिबंधित है। किंतु आपातकालीन स्थिति निर्मित होने पर सुविधा अनुसार ई-पास प्राप्त कर जिले की सीमा से बाहर आवागमन कर सकेंगे।

जिले के अंदर अनुमत कार्य हेतु प्रात: 7 से शाम 5 बजे तक निजी दोपहिया वाहनों एवं 4 पहिया वाहन टैक्सी एवं कैब वाहन में ड्रायवर एवं उसके अतिरिक्त दो व्यक्ति आना जाना कर सकेंगे। खाली ट्रकों सहित माल कार्गो की आवाजाही की अनुमति होगी।

आवश्यक सेवाओं के लिए यह है नियम
कलेक्टर ने जारी किए आदेश के मुताबिक छूट प्राप्त गतिविधियां आवश्यक सेवाओं में 3 एवं 4 मई तक जिन गतिविधियों, आवश्यक सेवाओं को छूट दी गई है। ऐसे हॉस्पिटल, दवा दुकानें, बैंक, दुरसंचार के कार्य, अन्य शासकीय कार्य आदि के लिए कोई पृथक से अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी एवं उनके व्यक्तियों और वाहनों का आवागमन सांय 7 प्रात: 7 बजे तक किया जा सकेगा। समस्त इंसीडेंट कमांडर दो गज की दूरी का उल्लंघन होने पर किसी भी प्रतिष्ठान, बाजार के हिस्से या संपूर्ण बाजार क्षेत्र को आगामी आदेश पर्यंत तक बंद करने के लिए सक्षम होंगे। समस्त अनुविभागीय दंडाधिकारी एवं कार्य पालिका मजिस्टे्रट सह इंसीडेंट कमांडर बाजार क्षेत्र में दो गज की दूरी का पालन कराने हेतु अतिरिक्त निर्देश जारी कर सकेंगे, जिसका उल्लंघन होने पर दंडात्मक कार्रवाई की जा सकेगी।

खुलेगी शराब की दुकानें सुबह 7 से शाम 7

जिले में शराब दुकानें खुलेंगी, लेकिन दुकान संचालकों को इसमें कड़े निर्देशों का पालन करना अनिवार्य होगा। कलेक्टर द्वारा जारी किए आदेश के मुताबिक शराब, पान, गुटखा, तंबाकू आदि का सेवन सार्वजनिक स्थानों पर करने की अनुमति नहीं है। शराब, पान, गुटखा आदि बेचने वाली दुकानें ग्राहकों की एक दूसरें से न्यूनतम छह फीट की दूरी सुनिश्चित करें और यह भी सुनिश्चत करें कि दुकान पर एक बार में 5 से अधिक व्यक्ति मौजूद न हो। सार्वजनिक स्थानों पर थूकना दंडनीय होगा। जैसे कि राज्य व केन्द्र शासित प्रदेश स्थानीय प्राधिकरण द्वारा निर्धारित किया जा सकेंगा।

विवाह समारोह में 50 लोग हो सकेंगे शामिल
विवाह संबंधित समारोह में सोशल डिस्टेंस सुनिश्चित किया जाएगा और व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 50 से अधिक नहीं रहेगी। इसके अलावा सार्वजनिक स्थानों पर मास्क लगाना अनिवार्य होगा। सार्वजनिक स्थानों का भी स्वामी/आयोजक/प्रबंधक पांच या अधिक व्यक्तियों को एकत्रित होने की अनुमति नहीं देगा। सार्वजनिक स्थानों पर अधिक लोगों को एकत्रित होने की अनुमति नहीं रहेगी। जारी किए गए आदेशों का कड़ाई से पालन करना होगा।

प्रदीप डिगरसे बैतूल मुलतापी समाचार

Bhopal Warriyars : लोगों ने सफाई कर्मियों पर बरसाए फूल, उतारी आरती, कपड़े और राशन देकर किया सम्मान

कमला नगर कोटरा सुल्तानाबाद के रहवासियों द्वारा सफाई कर्मचारियों की आरती उतारते हुए

भोपाल में कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में लोग घरों में रहकर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं, तो कुछ ऐसे लोग हैं, जो बाहर रहकर एक योद्धा की तरह वैश्विक महामारी के खात्मे के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं। इनमें सफाईकर्मी भी शामिल हैं। यह दूसरों की अच्छी सेहत के लिए सफाई कार्यों में लगे हैं। इन कर्मवीरों को लोग सलाम कर रहे हैं।

सोमवार सुबह कमला नगर कोटरा सुल्तानाबाद के रहवासियों ने मोहल्लों में सफाई करने पहुंचे कर्मचारियों का शानदार तरीके से सम्मान किया गया। कहीं फूल बरसाए गए तो कहीं आरती उतारी गई। लोगों ने ताली बजाकर सफाई कर्मचारियों का हौसला भी बढ़ाया। 

कमला नगर कोटरा सुल्तानाबाद के रहवासियों द्वारा सफाई कर्मचारियों को भोजन सामग्री भेट करते हुए

रहवासियों द्वारा सफाई कर्मचारियों को कपड़े, गेहूं, चावल, दाल आदि राशन सामग्री की बोरी भेट की गई।

कमला नगर कोटरा सुल्तानाबाद के रहवासियों की टीम

जनपद पंचायत ने शुरू किया फ्यूमीगेशन मशीन का प्रयोग

रोंढा बैतूल – जनपद पंचायत बैतूल द्वारा विश्वव्यापी संक्रामक महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए फ्यूमीगेटींग मशीन द्वारा फ्यूमीगेशन का कार्य किया जाता है । फ्यूमीगेशन मशीन एक प्रकार की धुआँ मशीन है जिसके द्वारा धुआं निकलता है और इस धुएँ के सम्पर्क से मक्खी, मच्छर सहित अन्य छोटे हानिकारक जीव नष्ट हो जाते है। जिससे किसी भी प्रकार की बीमारी से लोगों को बचाया जा सकता है। इस मशीन में केमिकल के रूप में IBN और सोडियम हाइपो का छिड़काव किया जाता है एवं घोलक के रुप में डीजल एवं पानी का भी उपयोग किया जाता है। जनपद पंचायत के CEO श्री के. एस. चौहान ने बताया है कि इस मशीन का उपयोग ग्रामीण क्षेत्र की ग्राम पंचायत रोंढा से प्रारंभ किया जा रहा है आगे आने वाले समय में इस धुआँ मशीन का प्रयोग बैतूल जिलें के सभी गांवों में किया जाएगा। ताकि सभी लोगों को मच्छर, मक्खी और अन्य हानिकारक जीवों से लोगों की रक्षा की जा सके। इस कार्य में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष तरुण कालभोर, जनपद सदस्य लोकेश बारंगे, ग्राम पंचायत कर्मचारी अलकेश हजारे, प्रदीप डिगरसे उपस्थित रहे।

प्रदीप डिगरसे बैतूल मुलतापी समाचार

मुलताई – ताप्ती वाहिनी संगठन द्वारा बिरूलबाजार में चलाया जा रहा अभियान

Mutapi samachar

मुलताई। विकासखंड की ग्राम पंचायत बिरूलबाजार में ग्रामीणों को कोरोना महामारी के प्रति जागरूक करने के लिए ग्राम की दीवारों पर स्लोगन लिख कर ग्रामीणों को जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है। ताप्ती वाहिनी संगठन की रेशमा खान एवं राधा बरोदे ने बताया कि उनके द्वारा ग्रामीणों को कोरोना के प्रति घर-घर जा कर एक मीटर की दूरी से बचाव के बारे में जानकारी दी जा रही है। साथ ही मध्यप्रदेश जनअभियान परिषद कि मदद से कोरोना वायरस के प्रति जागरूकता हेतू पूरे गांव में विभिन्ना प्रकार के स्लोगन दिवारों पर लेखन किया जा रहा है। कोरोना वायरस से बचाव हेतू जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है जिसमें ग्रामीणों को सामाजिक दूरी बनाकर रहने हेतू प्रेरित किया गया। साथ ही यह भी समझाया गया कि लॉकडाउन का पालन करें, बहुत जरूरी हो तभी घर से बाहर निकलें , मास्क का उपयोग करें, मास्क ना हो तो सूती गमछे से चेहरे को ढक़े, बार बार साबून से हाथों धोये तभी हम कोरोना महामारी से जीतेंगे। मध्यप्रदेश जनअभियान परिषद कि प्रभात पट्टन ब्लाक समन्वय राधा बरोदे ने बताया कि पूरे ब्लाक मे कोरोना महामारी को लेकर दीवार लेखन और जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है,वही स्वच्छ भारत मिशन के ब्लाक समन्वय उपेन्द्र दुबे द्वारा सभी को स्वच्छता रखने हेतू आग्रह किया जा रहा है।

LOCK DOWN को लेकर विशेषज्ञों की राय- सही समय पर सही फैसला, लेकिन बड़ी परीक्षा अभी बाकी

एम्पावर्ड ग्रुप वन’ के अध्यक्ष एवं नीति आयोग के सदस्य वी. के. पॉल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का फैसला ‘‘समय रहते उठाया गया एक लाभदायक कदम’’ साबित हुआ.

Corona Covid -19 news

Multapi Samachar

नई दिल्ली. वैश्विक महामारी कोविड-19 (Covid-19) के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन को एक महीना पूरा हो गया और चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि भारत ने सही समय पर सही फैसला लेकर खुद को अमेरिका और यूरोप जैसी स्थिति में पहुंचने से बचा लिया. वहीं कुछ की राय में बड़ी परीक्षा अभी बाकी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च की रात आठ बजे देश में लॉकडाउन की घोषणा की थी, जो उसी दिन आधी रात को लागू हो गया था.

भारत में कोविड-19 का पहला मामला 30 जनवरी को सामने आया था और ठीक 54 दिन बाद 25 मार्च को देश में कोरोना वायरस के 519 पुष्ट मामले थे और 11 लोगों की इससे जान जा चुकी थी. 25 मार्च को देश में लॉकडाउन लग चुका था, जो कोविड-19 से निपटने की लड़ाई में भारत का सबसे बड़ा हथियार साबित हुआ है. इस बीच, सरकार ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा करना समय पर उठाया गया कदम था और अगर यह फैसला नहीं लिया गया होता तो भारत में अब तक कोविड-19 के एक लाख मामले होते.

सरकार ने सही समय पर लिया सही फैसला

‘एम्पावर्ड ग्रुप वन’ के अध्यक्ष एवं नीति आयोग के सदस्य वी. के. पॉल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का फैसला ‘‘समय रहते उठाया गया एक लाभदायक कदम’’ साबित हुआ और देश में कोविड-19 मामलों की रफ्तार में आया बदलाव इसकी पुष्टि करता है. उन्होंने कहा, ‘‘अब यह ग्राफ समतल होना शुरू हो गया है. अगर हमने राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का फैसला नहीं लिया होता तो अनुमान के मुताबिक अब तक कोविड-19 के करीब एक लाख मामले होते. अब महामारी का प्रकोप काबू में है.’’

भारत में लॉकडाउन के एक माह पूरे होने पर अब देश में कोविड-19 के 23,452 मामले हैं. वहीं विश्वभर में इससे 27.3 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं और 1.91 लाख से अधिक लोगों की जान जा चुकी है. कोरोना वायरस से अमेरिका और ब्रिटेन तथा कुछ यूरोपीय देश सर्वाधिक प्रभावित हैं.

सरकार ने 3 मई तक बढ़ाया लॉकडाउन

प्रधानमंत्री ने 14 अप्रैल को 21 दिन का लॉकडाउन खत्म होने से पहले ही इसे अतिरिक्त 19 दिन यानी तीन मई तक बढ़ा दिया था. ऐसा करने का कारण देश में कोविड-19 के लगातार बढ़ते मामले और अमेरिका तथा अन्य पश्चिमी देशों से वायरस के प्रकोप की सामने आ रही भयावह तस्वीरें थीं.

‘श्री गंगा राम अस्पताल’ में फेफड़ों के सर्जन डॉ. अरविंद कुमार ने कहा कि एक महीने का लॉकडाउन भारत के लिए काफी फायदेमंद रहा और देश अमेरिका या यूरोप जैसी स्थिति में पहुंचने से भी बच गया. उन्होंने कहा, ‘‘ महत्वपूर्ण बात यह है कि इसने स्वास्थ्य सेवाओं और अन्य सहयोगी सेवाओं को तैयार होने के लिए 30 दिन दिए  ताकि वह आने वाले दिनों में वायरस के प्रकोप से निपट पाएं.’ कुमार ने कहा, ‘‘ लॉकडाउन को बेहद धीरे-धीरे हटाना चाहिए. स्कूल, कॉलेज, मॉल, सिनेमाघर, धार्मिक स्थल और बाजार जैसी सुविधाएं मई में भी बंद रहनी चाहिए.’’

‘फोर्टिस एस्कॉर्ट्स’ (फरीदाबाद) के पल्मोनोलॉजी विभाग के प्रमुख रवि शेखर झा ने भी सरकार के लॉकडाउन लगाने के निर्णय की सराहना करते हुए कहा कि यह निर्णय सही समय पर ले लिया गया. उन्होंने हालांकि असली चुनौती के अब सामने आने की बात कही और साथ ही सबसे अधिक प्रभावित इलाकों की पहचान कर वहां केवल जरूरी सेवाओं को अनुमति देने पर जोर दिया. ‘मैक्स हैल्थकेयर’ के इंटरनल मेडिसन के एसोसिएट डायरेक्टर डॉ. रोमेल टिक्कू ने कहा कि अमेरिका और यूरोप से तुलना करें तो भारत में लॉकडाउन काफी कारगर साबित हुआ है. लॉकडाउन के बाद भारत के समक्ष पेश होने वाली चुनौतियों के सवाल पर उन्होंने कहा कि चरणबद्ध तरीके से प्रतिबंध हटाए जाने चाहिए.