Category Archives: स्वास्थ्य

राष्ट्रीय नवजात शिशु सप्ताह का ई-शुभारंभ


मुलतापी समाचार

Betul । शासन के निर्देशानुसार राष्ट्रीय नवजात शिशु सप्ताह का आयोजन 23 से 29 नवम्बर 2020 तक किया जा रहा है। जिसका ई-शुभारंभ 23 नवम्बर को जिला शीघ्र हस्तक्षेप केन्द्र से कलेक्टर श्री राकेश सिंह द्वारा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप कुमार धाकड़ एवं सिविल सर्जन डॉ. अशोक बारंगा की उपस्थिति में किया गया। इस सप्ताह के आयोजन का मुख्य उद्देश्य समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं एवं समुदाय स्तर पर नवजात शिशु की देखभाल की गुणवत्ता में सुधार तथा समानता और गरिमा सुनिश्चित करना है, जिससे नवजात शिशु मृत्यु दर में कमी लाई जा सके।

कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने कहा कि नवजात शिशु की उचित देखभाल द्वारा शिशु मृत्यु को कम किया जा सकता है। सप्ताह के दौरान सम्पूर्ण जिले में इस संबंध में आवश्यक प्रयास किये जायेंगे, जिसके तहत् प्रसव कक्षों में आवश्यक नवजात शिशु देखभाल प्रदान की जायेगी, साथ ही पोस्ट नेटल वाड्र्स में नवजात शिशु के संबंध में आवश्यक जानकारियां परिजनों को प्रदाय की जायेंगी। लाभार्थी वे समस्त शिशु होंगे जो जन्म से 28 दिवस के बीच की आयु के हैं, समय पूर्व जन्में एवं कम वजन के नवजात शिशु एवं नवजात शिशु गहन चिकित्सा ईकाई से डिस्चार्ज नवजात शिशु।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप कुमार धाकड़ ने कहा कि सप्ताह के अंतर्गत समुदाय स्तर पर आशा कार्यकर्ता द्वारा गांव के समस्त नवजात शिशुओं के वजन, तापमान, सांस की गिनती की जांच की जायेगी एवं माताओं को स्तनपान, टीकाकरण, साफ सफाई, खतरे के आम चिन्ह तथा कंगारू मदर केयर के संबंध में सलाह दी जायेगी।

सिविल सर्जन डॉ. अशोक बारंगा ने कहा कि इस सप्ताह के दौरान आने वाले मंगल दिवस पर 24 एवं 27 नवम्बर 2020 को विशेष गतिविधियों का आयोजन कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुये किया जायेगा, जिसमें समस्त धात्री माताओं की बैठक ली जाकर उन्हें नवजात सुरक्षा, खतरे के चिन्हों एवं संस्था आधारित नवजात देखभाल के बारे में जानकारी प्रदाय की जायेगी।

इस अवसर पर खंड चिकित्सा अधिकारी सेहरा डॉ. उदयप्रताप सिंह तोमर, डी.पी.एम. डॉ. विनोद शाक्य, डी.सी.एम. श्री कमलेश मसीह, डी.ई.आई.सी. मैनेजर श्री योगेन्द्र कुमार एवं अन्य अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित रहे।

जिला अस्‍पताल के रवइये पर गरमाई राजनीति, विधायक ने लगाये गंभीर आरोपा


(बैतूल) प्रसूता का मामला पीछे छूटा और सियासत आगे निकल गई..! ,
बैतूल विधायक का खुला आरोप
– भाजपा जनप्रतिनिधियों के अस्पतालों को फायदा पहुंचाने बिगाड़ रहे व्यवस्था,
– बैतूल नगर मंडल अध्यक्ष का जवाब


यह बयानबाजी केवल रेत में भाजपा नेताओं की क्रिया की है प्रतिक्रिया
बैतूल । जिला अस्पताल में एक बार फिर लापरवाही की वजह से एक प्रसूता का जीवन खतरे में आ गया था। मामला उजागर होने के बाद सीएमएचओ ने जांच के आदेश दिए। वहीं इस पूरे मामले में विधायक निलय डागा के तीखे बयान में मामले को सियासी रंग दे दिया है।

इस मामले में विधायक डागा ने खुला आरोप लगाया है कि जिला अस्पताल में जो व्यवस्थाएं बिगाड़ी जा रही है इसकी बड़ी वजह यह है कि भाजपा जनप्रतिनिधियों के अस्पतालों को फायदा पहुंचाने की नीयत है।  उनके इस बयान पर भाजपा के कोठीबाजार नगर मंडल अध्यक्ष विकास मिश्रा ने कड़ा एतराज जताते हुए कहा कि विधायक जी कहीं पर निगाहें हैं और कहीं पर निशाना लगा रहे हैं। उनका कहना है कि यह सब इसलिए कहा जा रहा है कि हाल ही में भाजपा नेताओं ने रेत के अवैध खनन और ठेकेदारों की मनमानी को लेकर प्रशासन को शिकायत की थी।  

– एक बार फिर जिला अस्पताल कठघरे में…
– जननी एक्सप्रेस अस्पताल के बाहर छोड़ गई तो प्रसूता का प्रसव गेट पर ही हो गया…
बोड़ी गांव से एक प्रसूता को जननी एक्सप्रेस से बीती रात गंभीर हालत में जिला चिकित्सालय लाया गया।  साथ आई उसकी मां को जननी के ड्राईवर ने पर्ची बनाने भेजा। इस बीच प्रसव वेदना सहते हुए महिला ने सीढ़ी के पास ही बच्चे को जन्म दे दिया यह तो शुक्र है कि बच्चा सकुशल है, लेकिन प्रसव के कारण सीढिय़ों के आसपास खून ही खून नजर आ रहा था। अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही के बाद मंगलवार सुबह सीएमएचओ ओैर सिविल सर्जन ने मामले की गंभीरता को देखते हुए निरीक्षण किया और बोड़ी की आशा कार्यकर्ता के साथ जननी एक्सप्रेस के ड्राईवर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। रात में ड्यूटी पर तैनात गार्ड को प्रथम दृष्टया दोषी मानते हुए तत्काल हटा दिया गया है। मामले की जांच के भी आदेश दे दिए गए है। बोड़ी निवासी प्रसूता रेखा बाई को प्रसव पीड़ा होने पर जननी एक्सप्रेस की सहायता से जिला अस्पताल लाया। जननी चालक ने गर्भवती को ट्रामा सेंटर के मुख्य द्वार के पास सीढिय़ों पर बैठा दिया और गर्भवती के साथ आई उसकी मां को पर्ची काटने भेज दिया। महिला को पर्ची काटने की कोई जानकारी नहीं होने पर वह काफी देर तक ट्रामा सेंटर में भटकती रही और गर्भवती महिला काफी देर तक सीढिय़ों पर ही बैठी रही उसे तेज प्रसव पीड़ा हुई और उसने  सीढिय़ों पर ही प्रसव हो गया। काफी देर तक बच्चा फर्श पर ही पड़ा रहा। आसपास के लोगों ने इसकी जानकारी अस्पताल के कर्मचारियों को दी। इसके बाद महिला को तत्काल अस्पताल के भीतर ले जाकर भर्ती किया। इस मामले में गंभीर लापरवाही सामने आई है। आते से ही महिला को अस्पताल के अंदर भर्ती करना था, लेकिन वह लगभग आधे घंटे से अधिक समय तक सीढिय़ों पर ही बैठी रही और प्रसव हो गया। गनीमत यह रही कि बच्चा और जच्चा दोनों स्वस्थ्य हैं। जानकारी के अनुसार महिला की यह चौथी बार डिलेवरी है। 

– व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए व्यवस्था खराब कर रहे : निलय 

विधायक निलय डागा का आरोप है कि भाजपा नेता जनप्रतिनिधि जिनके अपने निजी अस्पताल है वे अपने अस्पतालों का व्यापार बढ़ाने के लिए जिला अस्पताल की व्यवस्थाओं को जान-बूझकर चरमरा रहे है। व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए जनता की जान जोखिम में डाली जा रही है। खुद का अस्पताल चलाने जान जोखिम डाल रहे हैं। वे इस व्यवस्था से बिल्कुल संतुष्ट नहीं है। जननी एक्सप्रेस भी अपनी बिलिंग बढ़ाने के लिए महिला को आमला की बजाय बैतूल लेकर आई। 

– काश ऐसे ही रेत और बीज पर भी बोलते विधायक : विकास
भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष विकास मिश्रा ने विधायक के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि विधायक जो कह रहे सुन रहे हैं वह क्रिया की प्रतिक्रिया है। जिस तरह से भाजपा नेता रेत को लेकर विरोध कर रहे हैं और कार्रवाई के लिए प्रशासन से शिकायत कर रहे हैं उसका यह सब रिएक्शन है। उनका कहना है कि काश विधायक रेत के रेट और ठेकेदारों की मनमानी सहित अमानक बीज के मामले में भी ऐसा ही आरोप लगाते।

– किसी भाजपा जनप्रतिनिधि का गायनो हॉस्पीटल नहीं…                   
बैतूल विधायक पढ़े लिखे हैं और उन्हें जानकारी होना चाहिए कि किसी भी भाजपा जनप्रतिनिधि या नेता का गायनो हॉस्पीटल नहीं है। इस तरह की लापरवाही पर जांच करवाई जाएगी और दोषियों पर कार्रवाई होगी।
– डॉ योगेश पंडाग्रे, विधायक, आमला

– लापरवाही सामने आई है और कार्रवाई भी की जा रही है…               
– जननी एक्सप्रेस के चालक की लापरवाही है उसे हटाने की कार्रवाई की जा रही है। गार्ड गेट पर नहीं था इसलिए उसे हटा रहे हैं । आशा साथ में नहीं आई उसकी लापरवाही है नोटिस दिया जा रहा है।
डॉ प्रदीप धाकड़, सीएमएचओ, बैतूल ।

बड़ी खबर- खून नही मिलने से जिला अस्पताल में प्रसूता की हुई मौत, स्टाफ पर लगे आचरण हिनता के आरोप


हेमन्त खंडेलवाल ने गांव पहुँचवाय महिला का शव

मुलतापी समाचार

बैतूल ।जिला अस्पताल में ब्लड बैंक की मनमानी से आज एक प्रसूता की मौत हो गई परिजनों का आरोप है कि समय पर ब्लड मिल जाता तो प्रसूता को बचाया जासकता था ।परिजनों ने एक लिखित शिकायत कर दोषियों पर कार्यवाही की मांग की है ।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक केसिया निवासी सुमन यादव 28 को बुधवार को डिलीवरी के लिए चिचोली अस्पताल में भर्ती करवाया गया था जंहा सुमन ने एक स्वस्थ बेटे को जन्म दिया ।डिलवरी के बाद से महिला को लगातार रक्त स्त्राव होने की वजह से देर रात जिला अस्पताल रेफर किया गया था ।आज सुबह लगभग 5 बजे स्थिति बिगड़ते देख नर्सिंग स्टाफ ने सुमन के परिजनों को ब्लड लाने डिमांड के साथ मृतिका का भाई को ब्लड बैंक भेजा था । मृतिका सुमन के भाई पवन यादव ने बताया ब्लड बैंक में पहले तो दो तीन बार आवाज़ देनी पड़ी बड़ी मुश्किल से नर्स आई जिसने पर्चा देखकर कहा कि 45 मिंट बाद आना अभी पवन के दोबारा बोलने पर की मेरा ही ब्लड ले लो तब भी स्टाफ ने एक नही सुनी और अभद्र व्यवहार कर भगा दिया ।
परिजनों के गांव तक शव ले जाने कोई साधन नही होने पर पूर्व विधायक हेमन्त खंडेलवाल से चर्चा की गई श्री खंडेलवाल ने महज 15 मिंट में परिजनों को शव वाहन उपलब्ध करा दिया जिससे परिजन रवाना हुए ।

इनका कहना है


पेसेंट सुबह 6 बजे जिला अस्पताल में आई थी ।ब्लड एक्जामिनेशन में समय लगता है ।परिजनों  आरोप निराधार है ।परिजनों की शिकायत पर जांच की जाएगी ।
अशोक बारंगा
सिविल सर्जन जिला अस्पताल बैतूल ।

पोषण माह -पूरक आहार जागरूकता अभियान सेक्टर खेडीकोट


मुलताई। सेक्टर -खेडीकोर्ट के समस्त आंगनवाड़ी केन्द्रों में शासन के निर्देशानुसार कोविड 19 को ध्यान में रखते हुए पोषण माह की गतिविधियों का आयोजन नियमित रूप से की गई और सभी केंद्रों में 0-5 वर्ष के बच्चों सघन वजन , लंबाई , उंचाई गर्भवती महिला का वजन उंचाई , पोषण परामर्श, स्वच्छता हाथ धुलाई के छः चरण , सुपोषण कुंजी एवं टेक अवे के माध्यम से जीवन चक्र के 1000 दिवस , एनीमिया , एएनसी चेक अप , टीकाकरण , ग्रोथ मानिटरिग , सुक्ष्म पोषक तत्त्व किशोरी शिक्षा सही उम्र में शादी , सेनेटरी पेढ का उपयोग , वृक्षारोपण , एवं नवविवाहित दंपति को भी पोषण माह में सम्मिलित कर पोषण परामर्श , एवं

केन्द्र में पोषण के मटके का उदेश्य क्या हे और उसका उपयोग कौन से हितग्राहियों के लिए किया जायेगा के बारे में श्रीमती प्रमिला माकोडे परियोजना अधिकारी , पर्यवेक्षक सुश्री एस. गलफट द्वारा समस्त केन्द्रो पर पोषण माह कार्यक्रम का आयोजन कर भ्रमण के दौरान दी गई
सेक्टर – खेडीकोर्ट , परियोजना – मुलताई

पोषण महोत्सव अंतर्गत लाड़ली लक्ष्मी योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजनाओं के हितग्राहियों का किया सम्‍मान


मुलतापी समाचार
आज परियोजना घोड़ाडोंगरी के अंतर्गत सेक्टर-जुवाड़ी की ग्राम पंचायतों में ग्राम सरपंच/सचिव की अध्यक्षता में मनाया गया एवं पोषण महोत्सव कार्यक्रम के दौरान लिया पोषण संकल्प l


सेक्टर के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत जुवाड़ी, मेहकार, रतनपुर, छुरी सिताकामथ,महेन्द्रवाड़ी में कार्यक्रम के अंतर्गत स्थानीय ग्रामवासियों, लाड़ली लक्ष्मी योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजनाओं के हितग्राहियों को भी आमंत्रित किया गया, सभी की उपस्थिति में एनीमिया की रोकथाम, टीकाकरण, भोजन विविधता, के बारे में उचित सलाह दी गई l


सरपंच महोदय द्वारा भी सुपोषित ग्राम पंचायत-पोषण संकल्प का वाचन कर स्थानीय ग्राम वासियों के साथ संकल्प लिया गया l एवं मेरा गाँव- सुपोषित गाँव के नारे स्थानीय परिजनों द्वारा लगाये गए l
इसी दौरान सेक्टर पर्यवेक्षक कांति गुलबासे ने भी
ग्राम पंचायत-रतनपुर में विजयलाल धुर्वे (सरपंच)
राजकुमार नागवंशी(सचिव) आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं/सहायिकाओं,पंचायत प्रतिनिधियों सहित पोषण महोत्सव आयोजित किया l

प्रांजल के लिए अक्षय तातेड़ ने बढ़ाए मदद के हाथ


बैतूल। नागपुर में ब्लड कैंसर से जूझ रहे बैतूल के मासूम बालक प्रांजल लोखंडे की मदद के लिए युवा समाजसेवी अक्षय तातेड़ भी आगे आये । जब अक्षय तातेड़ को मीडिया के माध्यम से पता चला कि बैतूल के शंकर नगर निवासी अजय लोखंडे के पांच वर्षीय पुत्र प्रांजल ब्लड कैंसर से जूझ रहा है । प्रांजल के पिता अजय पुताई का काम करते है लॉक डाउन के कारण काम बंद हो गया और बेटे इलाज के कारण उनका काम पूरी तरह से बंद हो गया और उनके सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है । प्रांजल का इलाज नागपुर के निजी अस्पताल में चल रहा है और इलाज के लिए ज्यादा राशि की जरूरत है जो पिता के पास नही है । इस परिस्थिति में प्रांजल की मदद के लिए मीडिया आगे आया और जब अपील की तो बैतूल संवेदनशील समाजसेवी प्रांजल की मदद के लिए आगे आये और सहायता राशि प्रांजल के पिता के खाते या नगद पहुचाने लगे । सोमवार को समाजसेवी अक्षय तातेड़ ने प्रांजल के पिता अजय लोखंडे के खाते में 51 हजार रुपए ट्रांसफर किए। इस दौरान प्रांजल के पिता अजय लोखंडे ने मासूम बेटे के लिए लोगों का स्नेह, प्रार्थना और लगातार मिल रही मदद के लिए अजय ने सभी सहयोगियों के प्रति आभार माना। अक्षय तातेड़ ने  जिस तरह सहृदयता दिखाते हुए गरीब परिवार के लिए बड़ी राहत की मदद की वह अन्य लोगों के लिए भी प्रेरणा है। गौरतलब है कि श्री तातेड़ ने बीते दिनों सड़क हादसे में गंभीर रुप से घायल युवक मयंक हजारे के उपचार के लिए भी पूरी सहायता की थी। अक्षय ने प्रांजल के पिता को आश्वासन दिया कि आगे भी अगर जरूरत पड़ी तो मदद करेंगे। साथ ही उन्होंने युवाओं से अपील की है कि वे भी प्रांजल की मदद के लिए आगे आये और प्राथना भी करे कि प्रांजल जल्द स्वस्थ्य हो जाये ।

कोरोना वारियर्स की मौत- सारणी की बेटी का इंदौर के MY के कोरोना सेंटर में नर्स सेवा प्रदान करते करते- कोरोना से निधन


कोरोना मरीजों की सेवा करते करते खुद की जिंदगी की गवां बैठी – MY नर्स

MY हॉस्पिटल में नर्स के रूप में थी कार्यरत बैतूल (सारणी) की बेटी

Multapi Samachar

मध्‍यप्रदेश के बैतूज जिले के कोलमांइस क्षेेेत्र सारणी के प्रतिष्ठित ऐरुलु परिवार की 35 वर्षीय बिटिया का इंदौर के एमवाय हॉस्पिटल में कोरोना से जंग लड़ते-लड़ते गुरुवार की दोपहर निधन हो गया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तिरुपति ऐरुलु के बड़े भाई WCL कर्मचारी राजू ऐरुलु की पुत्री शालिनी जय पीलैया इंदौर के MY हॉस्पिटल में नर्स के रूप में कार्यरत थी और कोविड सेंटर में पदस्थ थी।

इसी दौरान वह खुद कोरोना संक्रमित हो गई थी और MY हॉस्पिटल में ही उनका उपचार चल रहा था। उपचार के दौरान उनकी दो बार कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव भी आ चुकी थी लेकिन फिर उन्हें फेफड़ों में संक्रमण हो गया और इससे वह नहीं उबर पाई। गुरुवार की दोपहर लगभग 2:00 बजे उनका निधन हो गया।

शालिनी के निधन का समाचार सारणी पहुंचते ही ऐरुलु परिवार सहित पूरे सारणी क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई । प्राप्त जानकारी अनुसार शालिनी के निधन के कुछ ही घंटों के बाद इंदौर में उनके पति एवं कुछ सगे संबंधियों और अस्पताल स्टाफ की मौजूदगी में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया है । सारणी सहित बैतूल जिले के कई राजनेताओं, अधिकारियों, पत्रकारों और अन्य गणमान्य नागरिकों ने शालिनी के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

डॉ अशोक बारंगा के प्रयास से बैतूल अस्पताल पुरस्कृत


इंफ्रास्ट्रक्चर और वेस्ट मैनेजमेंट में राज्य में तृतीय स्थान पर

पुरस्कार स्वरूप मिले 8 लाख रुपये,मुख्यमंत्री ने की प्रशंसा
बैतूल। डॉ अशोक बारंगा, सिविल सर्जन, बैतूल के अथक प्रयासों से बैतूल अस्पताल को इंफ्रास्ट्रक्चर और वेस्ट मैनेजमेंट के लिए पुरस्कृत किया गया है। राज्य भर के तमाम शासकीय अस्पतालों में बैतूल का शासकीय अस्पताल तृतीय स्थान पर रहा है। मुख्यमंत्री माननीय श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा बैतूल अस्पताल की प्रशंसा की गई है।डॉ अशोक बारंगा के सार्थक,समाजोपयोगी और सकारात्मक प्रयासों के लिए
बैतूल अस्पताल को 8 लाख रुपये की सम्मानजनक पुरस्कार राशि से पुरस्कृत किया गया है। उल्लेखनीय है पूर्व में पिताश्री चंद्रशेखर बारंगा द्वारा शिक्षा क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिया गया था अब बेटे डॉ अशोक बारंगा द्वारा स्वास्थय क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिया जा रहा है। इस तरह पिता द्वारा स्थापित परंपरा को बेटे द्वारा जिया जा रहा है।
बैतूल के इस बेटे पर बैतूल को गर्व है। सुखवाड़ा आपके प्रयासों के लिए पुरस्कृत किये जाने पर बधाई प्रेषित करते हुए आपके उज्ज्वल भविष्य की कामना करता है और अपेक्षा करता है कि आपके मार्गदर्शन में बैतूल शीघ्र ही प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त कर बैतूल को पुनः गौरवान्वित होने का अवसर उपलब्ध कराएगा।
आपका “सुखवाड़ा” ई दैनिक और मासिक भारत।

नसरुल्लागंज में जिला स्तरीय अस्पताल की मांग 15 साल में स्वास्थ्य के क्षेत्र सिर्फ कागजों पर कार्यवाही


Multapi samachar

खबर मुख्यमंत्री शिवराज के गृह क्षेत्र बुधनी से है जहां अस्पताल आंदोलन तेज़ हो रहा है…..
अस्पताल आंदोलन के नेता विमलेश आरबी पिछले 5 साल से नसरुल्लागंज में जिला स्तरीय अस्पताल की मांग उठा रहे हैं….
विमलेश आरबी ने बताया कि बुधनी विधानसभा में हर साल हजारों लोग समय पर इलाज नहीं मिलने से अपनी जान गवा देते हैं….लेकिन अभी तक न तो पर्याप्त एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई है न ही कोई अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस अस्पताल बनाया गया है……
विमलेश आरबी ने यह भी बताया कि बुधनी, रेहटी ,नसरूल्लागंज , लाडकुई क्षेत्र में अगर मामूली एक्सिडेंट भी हो जाता है तो इलाज़ 100 km दूर भोपाल या सीहोर ले जाकर कराना पड़ता है जिससे कई बार रास्ते में ही मरीज की मौत हो जाती है।
आपको बता दें कि विमलेश आरबी सरकार को अस्पताल बनाने के लिए 3 एकड़ जमीन दान देने का प्रस्ताव भी रख चुके हैं जिससे क्षेत्र को एक अच्छा अस्पताल मिल सके।
मुख्यमंत्री शिवराज के गृह क्षेत्र में अस्पताल की मांग को लेकर आंदोलन यह बताता है कि मुख्यमंत्री ने 15 साल में स्वास्थ्य के क्षेत्र सिर्फ कागजों पर काम किया है।

घोड़ाडोंगरी ब्लॉक में स्वास्थ विभाग ने रेड जोन से आए 35 लोगों के लिए सैंपल


मुलतापी समाचार


घोडाडोंगरी । घोड़ाडोंगरी ब्लॉक में रेड जोन से आए 35 लोगों का   सैंपल लिया गया। बीएमओ डॉ संजीव शर्मा  ने बताया चोपना- हीरापुर क्षेत्र में 16 लोगो,पाढर क्षेत्र में 10 एव आम ढाना क्षेत्र में 9 लोगो के सैम्पल लिए गए है। 
 हीरापुर एवं चोपना क्षेत्र में डॉ आदित्य बघेल एवं डॉ मनोज कुमार सूर्यवंशी ने गांव पहुंच रेड जोन से आए लोगों का रेंडम सैंपल लिया। इस दौरान हीरापुर एवं चोपना क्षेत्र में कुल 16 लोगों के सैंपल लिए गए। घोड़ाडोंगरी ब्लॉक में अब तक 12 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इनमें अधिकांश रेड जोन मुंबई से आए हैं।इसके चलते स्वास्थ विभाग की टीम रेड जोन से आने वाले लोगों का रेंडम टेंपल ले रही है। डॉ मनोज कुमार सूर्यवंशी ने बताया कि हीरापुर एवं चोपना क्षेत्र में शुक्रवार को रेड जोन से आए लोगों में से रेंडम 16 लोगो का सैंपल लिया गया। इस सैंपल को जांच के लिए भोपाल भेजा जाएगा।