Category Archives: स्वास्थ्य

Vle के प्रयास से जरूरत मंद को मिला उसका हक, ह्रदय समस्या से थी परेशान, आयुषमान से हुआ सफल इलाज लाभ


पीडिता का उपचार होने के उपरान्त पीडिता के परिवार वालो ने एव ग्रामवासियों ने VLE आकाश भटकरे आभार व्यक्त किया |

महात्मा गांधी ग्राम सेवा केंद्र VLE आकाश भटकरे ,ग्राम थपोड़ा तहसील भैंसदेही जिला बेतूल म.प्र. द्वारा किया प्रयास सफल हुआ और,एक जरूरत मंद को उसका हक मिला

मध्यप्रदेश के बैतूल ज़िले की जनपद पांचायत भैंसदेही की ग्राम पांचायत थपोड़ा में कुमारी पार्वती पांसे पुत्री रामकिशन पांसे ग्राम पांचायत थपोड़ा में ग्राम थपोड़ा के रहने वाली हैं, कुछ दिन पहले वो आयुष्मान कार्ड बनाने, ग्राम पांचायत थपोड़ा में संचालित महात्मा गाधी ग्राम सेवा केन्द्र में आई ,वह हार्ड कि समस्या से पीड़ित थी, महात्मा गांधी ग्राम सेवा केंद्र के संचालक VLE आकाश भटकरे को पता चला कि वो आयुष्मान भारत योजना में पात्र है|

पीडिता का उपचार होने के उपरान्त पीडिता के परिवार वालो ने एव ग्रामवासियों ने VLE आकाश भटकरे आभार व्यक्त किया |

चुकि हितग्राही कुमारी पार्वती पांसे हार्ड कि समस्या से पीड़ित है जिसका इलाज और दवाइया काफ़ी महगी होती है, आर्थिक रूप से कमजोर होने, पर उन्हें आयुष्मान कार्ड कि बहुत जरूरत थी| इसलिए महात्मा गांधी ग्राम सेवा केंद्र VLE आकाश भटकरे द्वारा इसका पता जिला अस्पताल से करवाया तो पता चला कि आशा अस्पताल नागपुर में इस हार्ड कि बीमारी का इलाज हो सकता है| आशा अस्पताल नागपुर में जा कर VIE आकाश भटकरे द्वारा रिक्वेस्ट दिलाई जिससे पीडिता कि रिक्वेस्ट आ गई| आशा अस्पताल नागपुर में डॉक्टर ने कहा कि हार्ड का ओपरेशन होंगा, और बाइपास सर्जरी होंगी| जिसकी लागत एक लाख चालीस हजार रूपये होंगी| आयुष्मान कार्ड के माध्यम से पीडिता को निशुल्क उपचार मिला | एव पीड़िता अस्पताल से स्वस्थ होकर घर वापास आ गई |

दीप यज्ञ के द्वारा ग्रामीणों किया जागरूक


Multapi samachar

प्रभात पटटन वि.ख के ग्राम सावंगी में दीप जलाकर दीप महायज्ञ का संगीतमय आयोजन किया गया । हिवरखेड़ की टोली द्वारा दिप यज्ञ के माध्यम से घर घर गंगे अभियान और देव स्थापना की जानकारी देते हुए प्रज्ञा पुत्र श्री सुभाष कुंभारे ने कहा कि आज मनुष्य भौतिकता की चकाचौध में लिप्त होकर मानवता को भूलता जा रहा है जिससे निशाचरी प्रवर्ती बढ़ रही है समाज खोखला होता जा रहा है उक्त जानकारी देते हुये दीप महायज्ञ सम्पन्न कराया ।

गायत्री परिवार के दुर्गेश कुमार भोयरे ने बताया कि ब्लाक के विभिन्न गावो मे गायत्री परिवार द्वारा अलग अलग जगहो पर दीप महायज्ञ के माध्यम से लोगो मे धार्मिक एकता और अखंडता को मजबूत बनाने और राम मंदिर निर्माण कार्य के लिए सहयोग की अपेक्षा से कार्यक्रमो का आयोजन किया जा रहा है और बच्चो को सुसंस्कारित करने हेतु बाल संस्कार शाला चलाने हेतु प्रेरित कर रहे है। कार्यक्रम मे गांव की सैकड़ो माताओ बहनो ने बढ चढ कर भाग लिया ।

नवजात बच्चे को मृत घोषित कर पिता द्वारा समशान में दफनाने वक्त जिन्दा हो गया – गंजबासौदा


गंजबासौदा. डॉक्टरों और नर्सों की लापरवाही के मामले सामने आते रहते हैं। लेकिन मध्य प्रदेश के विदिशा जिले से जो घटना देखने को मिली उसने सारी हदें पार कर दीं। जहां नर्स ने इलाज के दौरान नवजात बच्चे को मृत घोषित कर दिया।

परिवार के सदस्य दुखी थे और बच्चे को दफनाने गए। परी तैयार हो गई, गड्ढे को भी खोदा, लेकिन जैसे ही उसने नवजात बच्चे को नीचे रखा, उसके हाथ और पैर हिलने लगे।

नर्स ने बताया कि बच्चे की मौत हो गई हैं, तब मां को नही हुआ यकीन

दरअसल, लापरवाही का यह मामला विदिशा जिले के गंजबासौदा अस्पताल का है। जहां संगीता नाम की महिला की डिलीवरी के बाद बच्चे की तबीयत बिगड़ गई। कुछ घंटों के बाद, नर्स ने बच्चे को मृत बताया और उसे परिवार को सौंप दिया।

प्रसूति को यकीन नहीं था कि उसका बच्चा इस दुनिया में नहीं है। वह इलाज की गुहार लगाती रही, लेकिन उसे मृत घोषित कर दिया।

जब किसी ने भगवान का चमत्कार कहा, तो किसी ने कहा

नवजात के पिता बबलू प्रजापति ने कहा कि मेरे बच्चे को नर्स रानी कुशवाहा ने मृत घोषित कर दिया था। हमने भी सही काम किया और दफन की तैयारी की। लेकिन उस समय, परमेश्वर का ऐसा चमत्कार हुआ कि वह साँस लेने लगा और वह हिलने लगा।

तो हम हैरान थे, कुछ कहने लगे कि यह भगवान का चमत्कार है। लेकिन कुछ ने कहा कि यह सब डॉक्टरों की गलती से किया गया था।

पूरी तरह से स्वस्थ हैं मासूम

अस्पताल की नर्स और स्टाफ की लापरवाही की शिकायत जिला चिकित्सा अधिकारी से की। जिसके बाद इस मामले पर कार्रवाई की गई थी। वहीं, जब बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर महेंद्र बाजोरिया और डॉक्टर अतुल जैन ने बच्चे की जांच की, तो वह सांस ले रहा था। इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

जिले में आयुष्मान सप्ताह का आयोजन 14 से 21 दिसंबर, लाभार्थी निरामय स्वास्थ्य बीमा योजना लाभ ले


प्रत्येक पात्र हितग्राही को मिले आयुष्मान भारत योजना का लाभ

कलेक्टर का आदेश जिले में आयुष्मान निरामायण स्वास्थ्य योजना अंतर्गत आयुष्मान लाभार्थी कार्ड बनाए जाने हेतु सप्ताह का आयोजन

आयुष्मान आयुष्मान सप्ताह का आयोजन 14 से 21 दिसंबर तक ग्रामों में कैंप लगाकर जिले में प्रमुख रूप से संचालित होंगे

“आयुष्मान कार्ड” बनाने के लिए अभियान चलाया जाएगा

• एक वर्ष में 5 लाख रुपये की मिलेगी नि:शुल्क उपाचार सुविधा

• मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ली आयुष्मान भारत योजना संबंधी बैठक

मुख्यमंत्री श्री Shivraj Singh Chouhan ने कहा है कि आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत पात्र हितग्राहियों को एक वर्ष में 5 लाख रुपये तक की नि:शुल्क उपचार सुविधा मिलती है। इसके अंतर्गत अधिकांश बीमारियां कवर्ड हैं। योजना का प्रदेश के प्रत्येक पात्र हितग्राही को लाभ दिलाया जाए। “आयुष्मान कार्ड” बनाने के लिए अभियान चलाया जाए। मध्यप्रदेश में यह योजना आयुष्मान भारत निरामयम् योजना के नाम से संचालित की जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में आयुष्मान भारत योजना की बैठक ले रहे थे। बैठक में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव वित्त श्री मनोज गोविल आदि उपस्थित थे।

• 1 करोड़ 49 लाख आयुष्मान कार्ड, 5.85 करोड़ हितग्राही

अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि प्रदेश में अभी 1 करोड़ 49 लाख लोगों के आयुष्मान कार्ड बन गए हैं। योजना अंतर्गत प्रदेश के लगभग 5.85 करोड़ गरीब एवं मध्यम वर्गीय व्यक्तियों के कार्ड बनाए जाने हैं। इस वर्ष इनमें से 60 प्रतिशत व्यक्तियों के कार्ड बनाए जाने का लक्ष्य है।

• 717 अस्पतालों में कैशलेस उपचार सुविधा

योजना के अंतर्गत प्रदेश के कुल 717 शासकीय एवं संबद्ध निजी चिकित्सालयों में पात्र हितग्राहियों को कैशलेस उपचार की सुविधा है। अब इसके अंतर्गत कोविड के इलाज भी व्यवस्था जा सकता है।

• अब पंचायतों एवं नगरीय निकायों के माध्यम से भी वार्ड बनेंगे

योजना के अंतर्गत अभी तक सम्बद्ध शासकीय व निजी चिकित्सालयों के अलावा लोक सेवा केन्द्र तथा कॉमन सर्विस सेंटर में जाकर आयुष्मान कार्ड बनवाना होता था, परन्तु अब पंचायतों एवं नगरीय निकायों के माध्यम से कार्ड बनाने की भारत सरकार से स्वीकृति प्राप्त हो गई है।

• अधिक से अधिक निजी अस्पतालों को संबद्ध किया जाए

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि इस योजना के अंतर्गत अधिक से अधिक निजी अस्पतालों को संबद्ध किया जाए, जिससे मरीज अपनी सुविधा अनुसार जहां चाहे इलाज करवा सकें। योजना में वर्तमान में प्रदेश में 282 निजी चिकित्सालय संबद्ध हैं, जबकि उत्तरप्रदेश में 1542, राजस्थान में 1498, महाराष्ट्र में 1243 व गुजरात में 802 निजी अस्पताल संबद्ध है।

• 561 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान

योजना के अंतर्गत शासकीय अस्पतालों में इलाज करवाने पर 60 प्रतिशत व्यय केन्द्र सरकार एवं 40 प्रतिशत व्यय राज्य सरकार उठाती है। वहीं निजी चिकित्सालयों में इलाज कराने पर शत-प्रतिशत भुगतान शासन द्वारा किया जाता है। योजना अंतर्गत अभी तक प्रदेश में 4 लाख 14 हजार 509 प्रकरणों में 561 करोड़ रूपए की राशि का भुगतान किया जा चुका है।

एडवोकेट रवि यादव जी नही रहे


दुःखद समाचार

मुलताई। रवि यादव मामाजी  एडवोकेट,पूर्व अभिभाषक संघ अध्यक्ष, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष ह्रदयघात आजाने के कारण अब हमारे बीच नही रहे।

यह फोटो रवि यादव मामाजी के साथ मुलतापी समाचार पत्रिका के विमोचन के समय की यादगार तोर पर ह्यदय के समीप लगी हैं आप हमें याद आएंगे मामा जी,

12 घण्टे से पीएम कराने मृत बेटी को सीने से लगाकर अस्पताल में बैठे रही नाबालिग मां,लिखा पढ़ी में ढला दिन,


यह खबर आपको झकझोर देगी की किस तरह जिला अस्पताल प्रशासन की संवेदनाएं मर गई है ।

मुलतापी समाचार

बैतूल ।जिला अस्पताल में एक नाबालिग मां अपनी मृत बच्ची को सीने से लगाकर 12 घण्टे इन्तेज़ार करती रही कि कोई तो उसका पुरसाने हाल पूछेगा ।कोई तो मदद के लिए आएगा ।कोई तो मृत बच्ची ओर उसे उसके गांव तक छुड़वायगा । भूखे प्यासे उसने एक जगह बैठे बैठे ही पूरा दिन बिता दिया ।सिपाही आया तो वह भी 3 घण्टे तक डॉक्टरों को ही ढूंढता रहा । यह मामला आज का ही है ।जिला अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड के सामने बीते बारह घण्टे से अपनी मृत बच्ची को लेकर बुआ के साथ बैठी नाबालिग मां का है । आमला थाना क्षेत्र के की आदिवासी युवती के पिता ने मार्च में गांव के ही सजातीय युवक की थाने में शिकायत की थी कि उसकी बेटी के साथ युवक ने दुराचार किया है ।दुराचार की शिकायत के बाद युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जंहा से उसे जेल भेज दिया गया फिलहाल युवक जेल में है । इधर दुराचार की शिकार नाबालिग मां बन गई । युवती ने गांव में ही 4 दिन पूर्व बच्ची को जन्म दिया बच्ची 7 माह की थी इसलिए उसे जिला अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड में भर्ती रखा गया जंहा आज सुबह लगभग 5 बजे मौत हो गई ।

सुबह पांच बजे से शाम पांच बजे तक नाबालिग मां इस इन्तेज़ार में भूखे प्यासे अपनी बुआ के साथ बैठे रही । पीड़ित की बुआ ने बताया कि सुबह से बैठे है लेकिन कोई यह नही बता रहा कि हम को गांव कब और कौन छोड़ेगा ।यह पूछने पर की सुबह से खाना खाया या नही तो उनका जवाब था कि खाना तो आया था लेकिन लिखा पढ़ी में खाना नही ले पाए इस लिए भूखे ही बैठे हुए है सुबह चाय भर पी थी । मौके पर मौजूद प्रत्यक्ष दर्शी के मुताबिक डॉक्टरों ने मृत बच्ची का वजन किया आधार कार्ड अन्य कागज़ात देखे तब जाकर पूरी लिखा पढ़ी की गई शाम लगभग 5 बजे मृत बच्ची को पोस्टमार्टम के लिये भेजा गया ।तब तक भी किसी डॉक्टर या स्टाफ ने मानवता नही दिखाई किसी ने यह भी न पूछा कि सुबह से तुमने खाया या नही कुछ मिला या नही ।

इनका कहना है । मृत बच्ची का डीएनए टेस्ट होना था कागज़ी कार्यवाही में समय लगता है ।सिपाही डॉक्टर को नही ढूढ़ पाया यह उसकी गलती है ।ड्यूटी डॉक्टर की कोई लापरवाही नही है उसके लिए केसुअलटी पहली प्राथमिकता है ।इसमें प्रबंधन की कोई लापरवाही नही है ।

डा अशोक बारंगा सिविल सर्जन जिला अस्पताल बैतूलई

राष्ट्रीय नवजात शिशु सप्ताह का ई-शुभारंभ


मुलतापी समाचार

Betul । शासन के निर्देशानुसार राष्ट्रीय नवजात शिशु सप्ताह का आयोजन 23 से 29 नवम्बर 2020 तक किया जा रहा है। जिसका ई-शुभारंभ 23 नवम्बर को जिला शीघ्र हस्तक्षेप केन्द्र से कलेक्टर श्री राकेश सिंह द्वारा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप कुमार धाकड़ एवं सिविल सर्जन डॉ. अशोक बारंगा की उपस्थिति में किया गया। इस सप्ताह के आयोजन का मुख्य उद्देश्य समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं एवं समुदाय स्तर पर नवजात शिशु की देखभाल की गुणवत्ता में सुधार तथा समानता और गरिमा सुनिश्चित करना है, जिससे नवजात शिशु मृत्यु दर में कमी लाई जा सके।

कलेक्टर श्री राकेश सिंह ने कहा कि नवजात शिशु की उचित देखभाल द्वारा शिशु मृत्यु को कम किया जा सकता है। सप्ताह के दौरान सम्पूर्ण जिले में इस संबंध में आवश्यक प्रयास किये जायेंगे, जिसके तहत् प्रसव कक्षों में आवश्यक नवजात शिशु देखभाल प्रदान की जायेगी, साथ ही पोस्ट नेटल वाड्र्स में नवजात शिशु के संबंध में आवश्यक जानकारियां परिजनों को प्रदाय की जायेंगी। लाभार्थी वे समस्त शिशु होंगे जो जन्म से 28 दिवस के बीच की आयु के हैं, समय पूर्व जन्में एवं कम वजन के नवजात शिशु एवं नवजात शिशु गहन चिकित्सा ईकाई से डिस्चार्ज नवजात शिशु।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप कुमार धाकड़ ने कहा कि सप्ताह के अंतर्गत समुदाय स्तर पर आशा कार्यकर्ता द्वारा गांव के समस्त नवजात शिशुओं के वजन, तापमान, सांस की गिनती की जांच की जायेगी एवं माताओं को स्तनपान, टीकाकरण, साफ सफाई, खतरे के आम चिन्ह तथा कंगारू मदर केयर के संबंध में सलाह दी जायेगी।

सिविल सर्जन डॉ. अशोक बारंगा ने कहा कि इस सप्ताह के दौरान आने वाले मंगल दिवस पर 24 एवं 27 नवम्बर 2020 को विशेष गतिविधियों का आयोजन कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुये किया जायेगा, जिसमें समस्त धात्री माताओं की बैठक ली जाकर उन्हें नवजात सुरक्षा, खतरे के चिन्हों एवं संस्था आधारित नवजात देखभाल के बारे में जानकारी प्रदाय की जायेगी।

इस अवसर पर खंड चिकित्सा अधिकारी सेहरा डॉ. उदयप्रताप सिंह तोमर, डी.पी.एम. डॉ. विनोद शाक्य, डी.सी.एम. श्री कमलेश मसीह, डी.ई.आई.सी. मैनेजर श्री योगेन्द्र कुमार एवं अन्य अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित रहे।

जिला अस्‍पताल के रवइये पर गरमाई राजनीति, विधायक ने लगाये गंभीर आरोपा


(बैतूल) प्रसूता का मामला पीछे छूटा और सियासत आगे निकल गई..! ,
बैतूल विधायक का खुला आरोप
– भाजपा जनप्रतिनिधियों के अस्पतालों को फायदा पहुंचाने बिगाड़ रहे व्यवस्था,
– बैतूल नगर मंडल अध्यक्ष का जवाब


यह बयानबाजी केवल रेत में भाजपा नेताओं की क्रिया की है प्रतिक्रिया
बैतूल । जिला अस्पताल में एक बार फिर लापरवाही की वजह से एक प्रसूता का जीवन खतरे में आ गया था। मामला उजागर होने के बाद सीएमएचओ ने जांच के आदेश दिए। वहीं इस पूरे मामले में विधायक निलय डागा के तीखे बयान में मामले को सियासी रंग दे दिया है।

इस मामले में विधायक डागा ने खुला आरोप लगाया है कि जिला अस्पताल में जो व्यवस्थाएं बिगाड़ी जा रही है इसकी बड़ी वजह यह है कि भाजपा जनप्रतिनिधियों के अस्पतालों को फायदा पहुंचाने की नीयत है।  उनके इस बयान पर भाजपा के कोठीबाजार नगर मंडल अध्यक्ष विकास मिश्रा ने कड़ा एतराज जताते हुए कहा कि विधायक जी कहीं पर निगाहें हैं और कहीं पर निशाना लगा रहे हैं। उनका कहना है कि यह सब इसलिए कहा जा रहा है कि हाल ही में भाजपा नेताओं ने रेत के अवैध खनन और ठेकेदारों की मनमानी को लेकर प्रशासन को शिकायत की थी।  

– एक बार फिर जिला अस्पताल कठघरे में…
– जननी एक्सप्रेस अस्पताल के बाहर छोड़ गई तो प्रसूता का प्रसव गेट पर ही हो गया…
बोड़ी गांव से एक प्रसूता को जननी एक्सप्रेस से बीती रात गंभीर हालत में जिला चिकित्सालय लाया गया।  साथ आई उसकी मां को जननी के ड्राईवर ने पर्ची बनाने भेजा। इस बीच प्रसव वेदना सहते हुए महिला ने सीढ़ी के पास ही बच्चे को जन्म दे दिया यह तो शुक्र है कि बच्चा सकुशल है, लेकिन प्रसव के कारण सीढिय़ों के आसपास खून ही खून नजर आ रहा था। अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही के बाद मंगलवार सुबह सीएमएचओ ओैर सिविल सर्जन ने मामले की गंभीरता को देखते हुए निरीक्षण किया और बोड़ी की आशा कार्यकर्ता के साथ जननी एक्सप्रेस के ड्राईवर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। रात में ड्यूटी पर तैनात गार्ड को प्रथम दृष्टया दोषी मानते हुए तत्काल हटा दिया गया है। मामले की जांच के भी आदेश दे दिए गए है। बोड़ी निवासी प्रसूता रेखा बाई को प्रसव पीड़ा होने पर जननी एक्सप्रेस की सहायता से जिला अस्पताल लाया। जननी चालक ने गर्भवती को ट्रामा सेंटर के मुख्य द्वार के पास सीढिय़ों पर बैठा दिया और गर्भवती के साथ आई उसकी मां को पर्ची काटने भेज दिया। महिला को पर्ची काटने की कोई जानकारी नहीं होने पर वह काफी देर तक ट्रामा सेंटर में भटकती रही और गर्भवती महिला काफी देर तक सीढिय़ों पर ही बैठी रही उसे तेज प्रसव पीड़ा हुई और उसने  सीढिय़ों पर ही प्रसव हो गया। काफी देर तक बच्चा फर्श पर ही पड़ा रहा। आसपास के लोगों ने इसकी जानकारी अस्पताल के कर्मचारियों को दी। इसके बाद महिला को तत्काल अस्पताल के भीतर ले जाकर भर्ती किया। इस मामले में गंभीर लापरवाही सामने आई है। आते से ही महिला को अस्पताल के अंदर भर्ती करना था, लेकिन वह लगभग आधे घंटे से अधिक समय तक सीढिय़ों पर ही बैठी रही और प्रसव हो गया। गनीमत यह रही कि बच्चा और जच्चा दोनों स्वस्थ्य हैं। जानकारी के अनुसार महिला की यह चौथी बार डिलेवरी है। 

– व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए व्यवस्था खराब कर रहे : निलय 

विधायक निलय डागा का आरोप है कि भाजपा नेता जनप्रतिनिधि जिनके अपने निजी अस्पताल है वे अपने अस्पतालों का व्यापार बढ़ाने के लिए जिला अस्पताल की व्यवस्थाओं को जान-बूझकर चरमरा रहे है। व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए जनता की जान जोखिम में डाली जा रही है। खुद का अस्पताल चलाने जान जोखिम डाल रहे हैं। वे इस व्यवस्था से बिल्कुल संतुष्ट नहीं है। जननी एक्सप्रेस भी अपनी बिलिंग बढ़ाने के लिए महिला को आमला की बजाय बैतूल लेकर आई। 

– काश ऐसे ही रेत और बीज पर भी बोलते विधायक : विकास
भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष विकास मिश्रा ने विधायक के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि विधायक जो कह रहे सुन रहे हैं वह क्रिया की प्रतिक्रिया है। जिस तरह से भाजपा नेता रेत को लेकर विरोध कर रहे हैं और कार्रवाई के लिए प्रशासन से शिकायत कर रहे हैं उसका यह सब रिएक्शन है। उनका कहना है कि काश विधायक रेत के रेट और ठेकेदारों की मनमानी सहित अमानक बीज के मामले में भी ऐसा ही आरोप लगाते।

– किसी भाजपा जनप्रतिनिधि का गायनो हॉस्पीटल नहीं…                   
बैतूल विधायक पढ़े लिखे हैं और उन्हें जानकारी होना चाहिए कि किसी भी भाजपा जनप्रतिनिधि या नेता का गायनो हॉस्पीटल नहीं है। इस तरह की लापरवाही पर जांच करवाई जाएगी और दोषियों पर कार्रवाई होगी।
– डॉ योगेश पंडाग्रे, विधायक, आमला

– लापरवाही सामने आई है और कार्रवाई भी की जा रही है…               
– जननी एक्सप्रेस के चालक की लापरवाही है उसे हटाने की कार्रवाई की जा रही है। गार्ड गेट पर नहीं था इसलिए उसे हटा रहे हैं । आशा साथ में नहीं आई उसकी लापरवाही है नोटिस दिया जा रहा है।
डॉ प्रदीप धाकड़, सीएमएचओ, बैतूल ।

बड़ी खबर- खून नही मिलने से जिला अस्पताल में प्रसूता की हुई मौत, स्टाफ पर लगे आचरण हिनता के आरोप


हेमन्त खंडेलवाल ने गांव पहुँचवाय महिला का शव

मुलतापी समाचार

बैतूल ।जिला अस्पताल में ब्लड बैंक की मनमानी से आज एक प्रसूता की मौत हो गई परिजनों का आरोप है कि समय पर ब्लड मिल जाता तो प्रसूता को बचाया जासकता था ।परिजनों ने एक लिखित शिकायत कर दोषियों पर कार्यवाही की मांग की है ।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक केसिया निवासी सुमन यादव 28 को बुधवार को डिलीवरी के लिए चिचोली अस्पताल में भर्ती करवाया गया था जंहा सुमन ने एक स्वस्थ बेटे को जन्म दिया ।डिलवरी के बाद से महिला को लगातार रक्त स्त्राव होने की वजह से देर रात जिला अस्पताल रेफर किया गया था ।आज सुबह लगभग 5 बजे स्थिति बिगड़ते देख नर्सिंग स्टाफ ने सुमन के परिजनों को ब्लड लाने डिमांड के साथ मृतिका का भाई को ब्लड बैंक भेजा था । मृतिका सुमन के भाई पवन यादव ने बताया ब्लड बैंक में पहले तो दो तीन बार आवाज़ देनी पड़ी बड़ी मुश्किल से नर्स आई जिसने पर्चा देखकर कहा कि 45 मिंट बाद आना अभी पवन के दोबारा बोलने पर की मेरा ही ब्लड ले लो तब भी स्टाफ ने एक नही सुनी और अभद्र व्यवहार कर भगा दिया ।
परिजनों के गांव तक शव ले जाने कोई साधन नही होने पर पूर्व विधायक हेमन्त खंडेलवाल से चर्चा की गई श्री खंडेलवाल ने महज 15 मिंट में परिजनों को शव वाहन उपलब्ध करा दिया जिससे परिजन रवाना हुए ।

इनका कहना है


पेसेंट सुबह 6 बजे जिला अस्पताल में आई थी ।ब्लड एक्जामिनेशन में समय लगता है ।परिजनों  आरोप निराधार है ।परिजनों की शिकायत पर जांच की जाएगी ।
अशोक बारंगा
सिविल सर्जन जिला अस्पताल बैतूल ।

पोषण माह -पूरक आहार जागरूकता अभियान सेक्टर खेडीकोट


मुलताई। सेक्टर -खेडीकोर्ट के समस्त आंगनवाड़ी केन्द्रों में शासन के निर्देशानुसार कोविड 19 को ध्यान में रखते हुए पोषण माह की गतिविधियों का आयोजन नियमित रूप से की गई और सभी केंद्रों में 0-5 वर्ष के बच्चों सघन वजन , लंबाई , उंचाई गर्भवती महिला का वजन उंचाई , पोषण परामर्श, स्वच्छता हाथ धुलाई के छः चरण , सुपोषण कुंजी एवं टेक अवे के माध्यम से जीवन चक्र के 1000 दिवस , एनीमिया , एएनसी चेक अप , टीकाकरण , ग्रोथ मानिटरिग , सुक्ष्म पोषक तत्त्व किशोरी शिक्षा सही उम्र में शादी , सेनेटरी पेढ का उपयोग , वृक्षारोपण , एवं नवविवाहित दंपति को भी पोषण माह में सम्मिलित कर पोषण परामर्श , एवं

केन्द्र में पोषण के मटके का उदेश्य क्या हे और उसका उपयोग कौन से हितग्राहियों के लिए किया जायेगा के बारे में श्रीमती प्रमिला माकोडे परियोजना अधिकारी , पर्यवेक्षक सुश्री एस. गलफट द्वारा समस्त केन्द्रो पर पोषण माह कार्यक्रम का आयोजन कर भ्रमण के दौरान दी गई
सेक्टर – खेडीकोर्ट , परियोजना – मुलताई