Category Archives: स्वास्थ्य

पोषण महोत्सव अंतर्गत लाड़ली लक्ष्मी योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजनाओं के हितग्राहियों का किया सम्‍मान


मुलतापी समाचार
आज परियोजना घोड़ाडोंगरी के अंतर्गत सेक्टर-जुवाड़ी की ग्राम पंचायतों में ग्राम सरपंच/सचिव की अध्यक्षता में मनाया गया एवं पोषण महोत्सव कार्यक्रम के दौरान लिया पोषण संकल्प l


सेक्टर के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत जुवाड़ी, मेहकार, रतनपुर, छुरी सिताकामथ,महेन्द्रवाड़ी में कार्यक्रम के अंतर्गत स्थानीय ग्रामवासियों, लाड़ली लक्ष्मी योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजनाओं के हितग्राहियों को भी आमंत्रित किया गया, सभी की उपस्थिति में एनीमिया की रोकथाम, टीकाकरण, भोजन विविधता, के बारे में उचित सलाह दी गई l


सरपंच महोदय द्वारा भी सुपोषित ग्राम पंचायत-पोषण संकल्प का वाचन कर स्थानीय ग्राम वासियों के साथ संकल्प लिया गया l एवं मेरा गाँव- सुपोषित गाँव के नारे स्थानीय परिजनों द्वारा लगाये गए l
इसी दौरान सेक्टर पर्यवेक्षक कांति गुलबासे ने भी
ग्राम पंचायत-रतनपुर में विजयलाल धुर्वे (सरपंच)
राजकुमार नागवंशी(सचिव) आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं/सहायिकाओं,पंचायत प्रतिनिधियों सहित पोषण महोत्सव आयोजित किया l

प्रांजल के लिए अक्षय तातेड़ ने बढ़ाए मदद के हाथ


बैतूल। नागपुर में ब्लड कैंसर से जूझ रहे बैतूल के मासूम बालक प्रांजल लोखंडे की मदद के लिए युवा समाजसेवी अक्षय तातेड़ भी आगे आये । जब अक्षय तातेड़ को मीडिया के माध्यम से पता चला कि बैतूल के शंकर नगर निवासी अजय लोखंडे के पांच वर्षीय पुत्र प्रांजल ब्लड कैंसर से जूझ रहा है । प्रांजल के पिता अजय पुताई का काम करते है लॉक डाउन के कारण काम बंद हो गया और बेटे इलाज के कारण उनका काम पूरी तरह से बंद हो गया और उनके सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है । प्रांजल का इलाज नागपुर के निजी अस्पताल में चल रहा है और इलाज के लिए ज्यादा राशि की जरूरत है जो पिता के पास नही है । इस परिस्थिति में प्रांजल की मदद के लिए मीडिया आगे आया और जब अपील की तो बैतूल संवेदनशील समाजसेवी प्रांजल की मदद के लिए आगे आये और सहायता राशि प्रांजल के पिता के खाते या नगद पहुचाने लगे । सोमवार को समाजसेवी अक्षय तातेड़ ने प्रांजल के पिता अजय लोखंडे के खाते में 51 हजार रुपए ट्रांसफर किए। इस दौरान प्रांजल के पिता अजय लोखंडे ने मासूम बेटे के लिए लोगों का स्नेह, प्रार्थना और लगातार मिल रही मदद के लिए अजय ने सभी सहयोगियों के प्रति आभार माना। अक्षय तातेड़ ने  जिस तरह सहृदयता दिखाते हुए गरीब परिवार के लिए बड़ी राहत की मदद की वह अन्य लोगों के लिए भी प्रेरणा है। गौरतलब है कि श्री तातेड़ ने बीते दिनों सड़क हादसे में गंभीर रुप से घायल युवक मयंक हजारे के उपचार के लिए भी पूरी सहायता की थी। अक्षय ने प्रांजल के पिता को आश्वासन दिया कि आगे भी अगर जरूरत पड़ी तो मदद करेंगे। साथ ही उन्होंने युवाओं से अपील की है कि वे भी प्रांजल की मदद के लिए आगे आये और प्राथना भी करे कि प्रांजल जल्द स्वस्थ्य हो जाये ।

कोरोना वारियर्स की मौत- सारणी की बेटी का इंदौर के MY के कोरोना सेंटर में नर्स सेवा प्रदान करते करते- कोरोना से निधन


कोरोना मरीजों की सेवा करते करते खुद की जिंदगी की गवां बैठी – MY नर्स

MY हॉस्पिटल में नर्स के रूप में थी कार्यरत बैतूल (सारणी) की बेटी

Multapi Samachar

मध्‍यप्रदेश के बैतूज जिले के कोलमांइस क्षेेेत्र सारणी के प्रतिष्ठित ऐरुलु परिवार की 35 वर्षीय बिटिया का इंदौर के एमवाय हॉस्पिटल में कोरोना से जंग लड़ते-लड़ते गुरुवार की दोपहर निधन हो गया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तिरुपति ऐरुलु के बड़े भाई WCL कर्मचारी राजू ऐरुलु की पुत्री शालिनी जय पीलैया इंदौर के MY हॉस्पिटल में नर्स के रूप में कार्यरत थी और कोविड सेंटर में पदस्थ थी।

इसी दौरान वह खुद कोरोना संक्रमित हो गई थी और MY हॉस्पिटल में ही उनका उपचार चल रहा था। उपचार के दौरान उनकी दो बार कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव भी आ चुकी थी लेकिन फिर उन्हें फेफड़ों में संक्रमण हो गया और इससे वह नहीं उबर पाई। गुरुवार की दोपहर लगभग 2:00 बजे उनका निधन हो गया।

शालिनी के निधन का समाचार सारणी पहुंचते ही ऐरुलु परिवार सहित पूरे सारणी क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई । प्राप्त जानकारी अनुसार शालिनी के निधन के कुछ ही घंटों के बाद इंदौर में उनके पति एवं कुछ सगे संबंधियों और अस्पताल स्टाफ की मौजूदगी में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया है । सारणी सहित बैतूल जिले के कई राजनेताओं, अधिकारियों, पत्रकारों और अन्य गणमान्य नागरिकों ने शालिनी के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

डॉ अशोक बारंगा के प्रयास से बैतूल अस्पताल पुरस्कृत


इंफ्रास्ट्रक्चर और वेस्ट मैनेजमेंट में राज्य में तृतीय स्थान पर

पुरस्कार स्वरूप मिले 8 लाख रुपये,मुख्यमंत्री ने की प्रशंसा
बैतूल। डॉ अशोक बारंगा, सिविल सर्जन, बैतूल के अथक प्रयासों से बैतूल अस्पताल को इंफ्रास्ट्रक्चर और वेस्ट मैनेजमेंट के लिए पुरस्कृत किया गया है। राज्य भर के तमाम शासकीय अस्पतालों में बैतूल का शासकीय अस्पताल तृतीय स्थान पर रहा है। मुख्यमंत्री माननीय श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा बैतूल अस्पताल की प्रशंसा की गई है।डॉ अशोक बारंगा के सार्थक,समाजोपयोगी और सकारात्मक प्रयासों के लिए
बैतूल अस्पताल को 8 लाख रुपये की सम्मानजनक पुरस्कार राशि से पुरस्कृत किया गया है। उल्लेखनीय है पूर्व में पिताश्री चंद्रशेखर बारंगा द्वारा शिक्षा क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिया गया था अब बेटे डॉ अशोक बारंगा द्वारा स्वास्थय क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिया जा रहा है। इस तरह पिता द्वारा स्थापित परंपरा को बेटे द्वारा जिया जा रहा है।
बैतूल के इस बेटे पर बैतूल को गर्व है। सुखवाड़ा आपके प्रयासों के लिए पुरस्कृत किये जाने पर बधाई प्रेषित करते हुए आपके उज्ज्वल भविष्य की कामना करता है और अपेक्षा करता है कि आपके मार्गदर्शन में बैतूल शीघ्र ही प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त कर बैतूल को पुनः गौरवान्वित होने का अवसर उपलब्ध कराएगा।
आपका “सुखवाड़ा” ई दैनिक और मासिक भारत।

नसरुल्लागंज में जिला स्तरीय अस्पताल की मांग 15 साल में स्वास्थ्य के क्षेत्र सिर्फ कागजों पर कार्यवाही


Multapi samachar

खबर मुख्यमंत्री शिवराज के गृह क्षेत्र बुधनी से है जहां अस्पताल आंदोलन तेज़ हो रहा है…..
अस्पताल आंदोलन के नेता विमलेश आरबी पिछले 5 साल से नसरुल्लागंज में जिला स्तरीय अस्पताल की मांग उठा रहे हैं….
विमलेश आरबी ने बताया कि बुधनी विधानसभा में हर साल हजारों लोग समय पर इलाज नहीं मिलने से अपनी जान गवा देते हैं….लेकिन अभी तक न तो पर्याप्त एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई है न ही कोई अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस अस्पताल बनाया गया है……
विमलेश आरबी ने यह भी बताया कि बुधनी, रेहटी ,नसरूल्लागंज , लाडकुई क्षेत्र में अगर मामूली एक्सिडेंट भी हो जाता है तो इलाज़ 100 km दूर भोपाल या सीहोर ले जाकर कराना पड़ता है जिससे कई बार रास्ते में ही मरीज की मौत हो जाती है।
आपको बता दें कि विमलेश आरबी सरकार को अस्पताल बनाने के लिए 3 एकड़ जमीन दान देने का प्रस्ताव भी रख चुके हैं जिससे क्षेत्र को एक अच्छा अस्पताल मिल सके।
मुख्यमंत्री शिवराज के गृह क्षेत्र में अस्पताल की मांग को लेकर आंदोलन यह बताता है कि मुख्यमंत्री ने 15 साल में स्वास्थ्य के क्षेत्र सिर्फ कागजों पर काम किया है।

घोड़ाडोंगरी ब्लॉक में स्वास्थ विभाग ने रेड जोन से आए 35 लोगों के लिए सैंपल


मुलतापी समाचार


घोडाडोंगरी । घोड़ाडोंगरी ब्लॉक में रेड जोन से आए 35 लोगों का   सैंपल लिया गया। बीएमओ डॉ संजीव शर्मा  ने बताया चोपना- हीरापुर क्षेत्र में 16 लोगो,पाढर क्षेत्र में 10 एव आम ढाना क्षेत्र में 9 लोगो के सैम्पल लिए गए है। 
 हीरापुर एवं चोपना क्षेत्र में डॉ आदित्य बघेल एवं डॉ मनोज कुमार सूर्यवंशी ने गांव पहुंच रेड जोन से आए लोगों का रेंडम सैंपल लिया। इस दौरान हीरापुर एवं चोपना क्षेत्र में कुल 16 लोगों के सैंपल लिए गए। घोड़ाडोंगरी ब्लॉक में अब तक 12 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इनमें अधिकांश रेड जोन मुंबई से आए हैं।इसके चलते स्वास्थ विभाग की टीम रेड जोन से आने वाले लोगों का रेंडम टेंपल ले रही है। डॉ मनोज कुमार सूर्यवंशी ने बताया कि हीरापुर एवं चोपना क्षेत्र में शुक्रवार को रेड जोन से आए लोगों में से रेंडम 16 लोगो का सैंपल लिया गया। इस सैंपल को जांच के लिए भोपाल भेजा जाएगा।

घोड़ाडोंगरी ब्लॉक में स्वास्थ विभाग ने रेड जोन से आए 35 लोगों के लिए सैंपल


मुलतापी समाचार


घोडाडोंगरी । घोड़ाडोंगरी ब्लॉक में रेड जोन से आए 35 लोगों का   सैंपल लिया गया। बीएमओ डॉ संजीव शर्मा  ने बताया चोपना- हीरापुर क्षेत्र में 16 लोगो,पाढर क्षेत्र में 10 एव आम ढाना क्षेत्र में 9 लोगो के सैम्पल लिए गए है। 
 हीरापुर एवं चोपना क्षेत्र में डॉ आदित्य बघेल एवं डॉ मनोज कुमार सूर्यवंशी ने गांव पहुंच रेड जोन से आए लोगों का रेंडम सैंपल लिया। इस दौरान हीरापुर एवं चोपना क्षेत्र में कुल 16 लोगों के सैंपल लिए गए। घोड़ाडोंगरी ब्लॉक में अब तक 12 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इनमें अधिकांश रेड जोन मुंबई से आए हैं।इसके चलते स्वास्थ विभाग की टीम रेड जोन से आने वाले लोगों का रेंडम टेंपल ले रही है। डॉ मनोज कुमार सूर्यवंशी ने बताया कि हीरापुर एवं चोपना क्षेत्र में शुक्रवार को रेड जोन से आए लोगों में से रेंडम 16 लोगो का सैंपल लिया गया। इस सैंपल को जांच के लिए भोपाल भेजा जाएगा।

अब भीमपुर के कास्या में मिले 2 कोरोना पॉजिटिव


जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या हुई 23

Multapi Samachar


बैतूल। दो दिन की शांती के बाद गुरूवार शाम एक बार फिर कोरोना वायरस पॉजिटिव रिपोर्ट की जिले में आमद हुई है। आज शाम की पाली में प्राप्त कोरोना टेस्ट रिपोर्ट में भीमपुर ब्लॉक में दो लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है। भैंसदेही एसडीएम राधेश्याम बघेल ने बताया कि भीमपुर विकासखण्ड के कास्या भुरू गांव के दो व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इस समय एसडीएम समेत पूरा सरकारी अमला कास्या गांव पहुंच चुका है और दोनो पॉजिटिव पाए गए लोगों को भीमपुर सीएचसी के कोविड सेंटर में शिफ्ट करने की तैयारी जारी है। गांव की बेरिकेडिंग कर सीमाएं सील की जा रही हैं। प्राप्त जानकारी अनुसार भीमपुर विकासखण्ड के कास्या भुरू गांव के 27 वर्षीय एवं 34 वर्षीय दो पुरूष मुंबई से वापस आए थे जिन्हें शुरू से ही संस्थागत क्वारंटीन कर दिया गया था। 25 मई को इनके सेम्पल लेकर जांच हेतु भोपाल भेजे गए थे। इन सेम्पल की आज प्राप्त रिपोर्ट पॉजिटिव आने से आसपास के गांवों मे हडकंप मच गया है। जानकारी मिली है कि यह दोनो व्यक्ति क्लिनिकली फिट हैं, इन्हें कोरोना संंबंधी किसी भी प्रकार के लक्षण नहीं है। इनके साथ एक अन्य युवक का सेम्पल भी भेजा गया था जो कि नेगेटिव आया है। आज भीमपुर में पाए गए ताजा मामलों के साथ भीमपुर ब्लॉक में कोरोना संक्रमितों की संख्या 3 और जिले में कुल 23 हो गई है जिसमें से सबसे पहले कोरोना पॉजिटिव पाया गया भैंसदेही का युवक अब ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुका है।

विवाह समारोह के नये नियम जारी 50 लोगों से अधिक व्यक्ति शामिल नहीं हो सकेंगे, पुलिस अधिकारी/कर्मचारी रखेंगे निगरानी, थाने में भी देनी होंंगी प्रति


आदेश का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई

सायं 7 बजे से सुबह 7 बजे तक अत्यावश्यक सेवाओं को छोडक़र, व्यक्तियों का आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित,

रात्रिकालीन रिसेप्शन, सामूहिक रात्रि भोज नहीं होनेे चाहिये

कडे हुए विवाह समारोह के लिए नियम पालन न करनेे पर दण्‍ड का प्रावधन

विवाह समाहोर की अनुमति जरूर लेनी होंगी और प्रति थानेे में भी जमा करना अनिवार्य

कलेक्‍टर का आदेश विवाह समारोह का एक बार निरिक्षण निगरानी रखी जावे, सोसल डिस्‍टेंसिंग पालन करायेे

इंसिडेंट कमाण्डर द्वारा विवाह अनुमति में संबंधित क्षेत्र के पुलिस अधिकारी/कर्मचारी को उनके द्वारा इन समारोहों पर नजर रखने हेतु निर्देश जारी

मुलतापी समाचार

बैतूल । कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने बताया कि कोविड-19 के चलते जिले में सम्पन्न होने वाले समस्त वैवाहिक कार्यक्रम विनियमित किए जाएंगे एवं इसके लिए अनुमति प्राप्त करना आवश्यक होगा। संबंधित क्षेत्र के कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमाण्डर यह अनुमति प्रत्येक प्रकरण में देंगे, परन्तु इसमें भाग लेने वाले कुल व्यक्तियों की संख्या 50 से अधिक नहीं होगी। संख्या का निर्धारण अनुमति देते समय प्रत्येक प्रकरण में स्थान आदि की उपलब्धता को देखते हुए गुण-दोष के आधार पर परीक्षण करके किया जा सकेगा।कलेक्टर ने इस संबंध में जारी आदेश में कहा है कि समस्त अनुविभागीय मजिस्टे्रट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमाण्डर प्रकरण में गुण-दोष देखकर ही विवाह समारोह में शामिल होने वाले व्यक्तियों की संख्या की अनुमति देंगे। पचास व्यक्तियों की संख्या अधिकतम है, परन्तु प्रत्येक विवाह अनुमति के प्रकरण में विवाह समारोह के स्थान की उपलब्धता, समय, भोजन की व्यवस्था आदि पहलुओं का अवलोकन एवं परीक्षण कर लिया जाए।

यह आवश्यक है कि संक्रमण से बचाव हेतु आवेदकों से वचन पत्र भी भरवा लिया जाए, दी जाने वाली अनुमति की एक प्रति अनिवार्यत: संबंधित थाना/पुलिस चौकी में दी जाए।यदि विवाह समारोह नगरीय क्षेत्र में है तो समारोह में एकत्रित होने वाले व्यक्तियों की संख्या व दो गज की दूरी के परिप्रेक्ष्य में नगरीय निकाय के किसी अधिकारी/कर्मचारी द्वारा एक बार निरीक्षण किया जाए। यदि विवाह स्थल ग्रामीण क्षेत्र में हो तो संबंधित पंचायत सचिव/ग्राम रोजगार सहायक/पटवारी अनिवार्य रूप से इसका एक बार निरीक्षण करके संबंधित इंसिडेंट कमाण्डर को रिपोर्ट प्रस्तुत करें। उन्होंने बताया कि जिले में सायं 7 बजे से सुबह 7 बजे तक अत्यावश्यक सेवाओं को छोडक़र, व्यक्तियों का आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित है। कुछ विवाह समारोहों में आमंत्रण पत्रों में सामूहिक भोज आदि का समय रात्रि में दिए जाने की शिकायतें भी प्राप्त हुई है। ऐसे सामूहिक भोज कदापि आयोजित नहीं किए जा सकते हैं। विवाह समारोह के लिए जितने व्यक्तियों हेतु अनुमति है, विवाह समारोह में उस घर में उतनी संख्या में ही व्यक्ति उपस्थित रहकर विभिन्न कार्यक्रम में हिस्सा ले सकते हैं, परन्तु रात्रिकालीन रिसेप्शन जैसे कार्यक्रम कदापि नहीं होना चाहिए। ऐसे कार्यक्रम पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगे। इंसिडेंट कमाण्डर द्वारा विवाह अनुमति में संबंधित क्षेत्र के पुलिस अधिकारी/कर्मचारी को उनके द्वारा इन समारोहों पर नजर रखने हेतु निर्देश जारी किए गए हैं। आदेश का उल्लंघन करने वाले किन्हीं भी व्यक्तियों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

कलेक्टर ने कहा है कि यह आदेश आम जनता को संबोधित है। वर्तमान में ऐसी परिस्थितियां नहीं है और ना ही संभव है कि इस आदेश की पूर्व सूचना प्रत्येक व्यक्ति या समूह को दी जाकर सुनवाई की जा सके। अत: दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 (2) के तहत यह आदेश एकपक्षीय पारित किया गया है। इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 तथा एपिडेमिक एक्ट 1897 के तहत मप्र शासन द्वारा जारी किए गए विनियम दिनांक 23 मार्च 2020 की कंडिका 10 के अंतर्गत भारतीय दण्ड संहिता की धारा 187, 188, 269, 270, 271 के अंतर्गत दण्डनीय है एवं उल्लंघनकर्ता के विरूद्ध इन धाराओं के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। यह आदेश 28 मई 2020 से आगामी आदेश पर्यन्त प्रभावशील रहेगा।

Multapi Samachar

अस्पताल स्टाफ द्वारा किया गया माकडील का अभ्यास।


मुलताई और प्रभात पट्टन के अस्पताल स्टाफ द्वारा कोरोना मरीज को अस्पताल में भर्ती करते समय रखने वाली सतर्कता और सक्रियता पर माकडील का आयोजन किया।

बैतूल – बैतूल जिले में एक साथ दो लोगों के कोरोना पाजिटिव मिलने से एक बार फिर स्वास्थ्य विभाग और प्रसाशन पूर्ण रूप से सक्रिय नजर आ रहा है। वही दूसरी ओर बैतूल जिलें के मुलताई और प्रभातपट्टन क्षेत्र में अस्पताल स्टाफ द्वारा माकडील का अभ्यास किया गया। कि यदि क्षेत्र में कोई कोरोना पाजेटिव मिलता है तो स्वास्थ्य अमला कितनी सतर्कता तथा सक्रियता से उसे भर्ती करता है। जिले में दो कोरोना पाजेटिव मरीज के मिलने से पूरे जिले में हड़कंप मच गया है एैसे में स्वास्थ्य अमला भी अलर्ट मोड पर आ गया है तथा जहां भी कोराना पाजेटिव मरीज मिलता है तो उसे कैसे स्वास्थ्यकर्मी हेंडल करेगे इसके लिए दोनों ही स्थानों पर पूरी तरह अभ्यास किया गया। इस संबन्ध में मुलताई बीएमओ उदयप्रताप सिंह तोमर तथा प्रभात पट्टन प्रभारी बीएमओ पल्लव अमृतफले ने बताया कि कोरोना पाजेटिव मरीज मिलने के अभ्यास के तहत सबसे पहले नकली मरीज बनाकर उसे सेनेटाईज्ड किया गया जिसके बाद ग्लब्ज पहनकर मरीज को एंबूलेंस में रखा गया। अस्पताल स्टाफ द्वारा पीपीई किट पहनकर पूरी सतर्कता के साथ वाहन को भी सेनेटाईज्ड किया गया जिसके बाद आईसुलेट करके मरीज को भर्ती किया गया। इसके बाद मरीज के सेंपल लेकर उसे जांच के लिए भेजे गए हैं। चिकित्सकों ने बताया गया कि वर्तमान में पूरे क्षेत्र में संदिग्ध मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है जिनके लगातार सेंपल लेकर जांच हेतू भेजे जा रहे हैं। उन्होने बताया कि हालांकि प्रभात पट्टन तथा मुलताई क्षेत्र में अभी तक सभी भेजे गए सेंपल की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है लेकिन इसके बावजूद जिले में दो मरीज मिलने से पूरी सतर्कता बरती जा रही है। यदि इस दौरान कोई संदिग्घ मरीज मिलता है तो कैसे स्वास्थ्य अमला पूरी सतर्कता से मरीज को भर्ती करेगा इसके तहत मुलताई और प्रभात पट्टन में माकडील का आयोजन किया गया।

प्रदीप डिगरसे मुलतापी समाचार बैतूल 9584390839