Category Archives: आंगनवाड़ी कार्यकर्ता

गांवों में निःशुल्क स्वास्थ शिविर आयोजित


संस्था की प्रमुख सदस्य Cho माधुरी पवार द्वारा आज ग्राम घोघरी के आगनवाडी में निःशुल्क स्वास्थ्य हेल्थ चेकअप शिविर आयोजन किया, जिसमें गर्भवती महिलाओं, बुर्जग महिलाओं को बीपी, सुगर, बुखार आदि चेक कर इलाज किया गया ओर निःशुल्क दवाइयां वितरित की गयी। cho पवार जी का कहना है कि हमारे हमेसा यहि प्रयास रहता है कि अधिक से अधिक ग्रामीणो कों निःशुल्क उपच्चार दिया जा सके, कोई गंभीर रूप से बीमार न सके जल्द से इलाज ओर दवा प्रदान करूंगी।ग्रामीण जनों को गम्भीर अवस्था में तुरन्त सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नंदवादी रेफर किया जाने का प्रयास किया जाएगा ।

पोषण माह -पूरक आहार जागरूकता अभियान सेक्टर खेडीकोट


मुलताई। सेक्टर -खेडीकोर्ट के समस्त आंगनवाड़ी केन्द्रों में शासन के निर्देशानुसार कोविड 19 को ध्यान में रखते हुए पोषण माह की गतिविधियों का आयोजन नियमित रूप से की गई और सभी केंद्रों में 0-5 वर्ष के बच्चों सघन वजन , लंबाई , उंचाई गर्भवती महिला का वजन उंचाई , पोषण परामर्श, स्वच्छता हाथ धुलाई के छः चरण , सुपोषण कुंजी एवं टेक अवे के माध्यम से जीवन चक्र के 1000 दिवस , एनीमिया , एएनसी चेक अप , टीकाकरण , ग्रोथ मानिटरिग , सुक्ष्म पोषक तत्त्व किशोरी शिक्षा सही उम्र में शादी , सेनेटरी पेढ का उपयोग , वृक्षारोपण , एवं नवविवाहित दंपति को भी पोषण माह में सम्मिलित कर पोषण परामर्श , एवं

केन्द्र में पोषण के मटके का उदेश्य क्या हे और उसका उपयोग कौन से हितग्राहियों के लिए किया जायेगा के बारे में श्रीमती प्रमिला माकोडे परियोजना अधिकारी , पर्यवेक्षक सुश्री एस. गलफट द्वारा समस्त केन्द्रो पर पोषण माह कार्यक्रम का आयोजन कर भ्रमण के दौरान दी गई
सेक्टर – खेडीकोर्ट , परियोजना – मुलताई

पोषण महोत्सव अंतर्गत लाड़ली लक्ष्मी योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजनाओं के हितग्राहियों का किया सम्‍मान


मुलतापी समाचार
आज परियोजना घोड़ाडोंगरी के अंतर्गत सेक्टर-जुवाड़ी की ग्राम पंचायतों में ग्राम सरपंच/सचिव की अध्यक्षता में मनाया गया एवं पोषण महोत्सव कार्यक्रम के दौरान लिया पोषण संकल्प l


सेक्टर के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत जुवाड़ी, मेहकार, रतनपुर, छुरी सिताकामथ,महेन्द्रवाड़ी में कार्यक्रम के अंतर्गत स्थानीय ग्रामवासियों, लाड़ली लक्ष्मी योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजनाओं के हितग्राहियों को भी आमंत्रित किया गया, सभी की उपस्थिति में एनीमिया की रोकथाम, टीकाकरण, भोजन विविधता, के बारे में उचित सलाह दी गई l


सरपंच महोदय द्वारा भी सुपोषित ग्राम पंचायत-पोषण संकल्प का वाचन कर स्थानीय ग्राम वासियों के साथ संकल्प लिया गया l एवं मेरा गाँव- सुपोषित गाँव के नारे स्थानीय परिजनों द्वारा लगाये गए l
इसी दौरान सेक्टर पर्यवेक्षक कांति गुलबासे ने भी
ग्राम पंचायत-रतनपुर में विजयलाल धुर्वे (सरपंच)
राजकुमार नागवंशी(सचिव) आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं/सहायिकाओं,पंचायत प्रतिनिधियों सहित पोषण महोत्सव आयोजित किया l

विवाह समारोह के नये नियम जारी 50 लोगों से अधिक व्यक्ति शामिल नहीं हो सकेंगे, पुलिस अधिकारी/कर्मचारी रखेंगे निगरानी, थाने में भी देनी होंंगी प्रति


आदेश का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई

सायं 7 बजे से सुबह 7 बजे तक अत्यावश्यक सेवाओं को छोडक़र, व्यक्तियों का आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित,

रात्रिकालीन रिसेप्शन, सामूहिक रात्रि भोज नहीं होनेे चाहिये

कडे हुए विवाह समारोह के लिए नियम पालन न करनेे पर दण्‍ड का प्रावधन

विवाह समाहोर की अनुमति जरूर लेनी होंगी और प्रति थानेे में भी जमा करना अनिवार्य

कलेक्‍टर का आदेश विवाह समारोह का एक बार निरिक्षण निगरानी रखी जावे, सोसल डिस्‍टेंसिंग पालन करायेे

इंसिडेंट कमाण्डर द्वारा विवाह अनुमति में संबंधित क्षेत्र के पुलिस अधिकारी/कर्मचारी को उनके द्वारा इन समारोहों पर नजर रखने हेतु निर्देश जारी

मुलतापी समाचार

बैतूल । कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री राकेश सिंह ने बताया कि कोविड-19 के चलते जिले में सम्पन्न होने वाले समस्त वैवाहिक कार्यक्रम विनियमित किए जाएंगे एवं इसके लिए अनुमति प्राप्त करना आवश्यक होगा। संबंधित क्षेत्र के कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमाण्डर यह अनुमति प्रत्येक प्रकरण में देंगे, परन्तु इसमें भाग लेने वाले कुल व्यक्तियों की संख्या 50 से अधिक नहीं होगी। संख्या का निर्धारण अनुमति देते समय प्रत्येक प्रकरण में स्थान आदि की उपलब्धता को देखते हुए गुण-दोष के आधार पर परीक्षण करके किया जा सकेगा।कलेक्टर ने इस संबंध में जारी आदेश में कहा है कि समस्त अनुविभागीय मजिस्टे्रट/कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सह इंसिडेंट कमाण्डर प्रकरण में गुण-दोष देखकर ही विवाह समारोह में शामिल होने वाले व्यक्तियों की संख्या की अनुमति देंगे। पचास व्यक्तियों की संख्या अधिकतम है, परन्तु प्रत्येक विवाह अनुमति के प्रकरण में विवाह समारोह के स्थान की उपलब्धता, समय, भोजन की व्यवस्था आदि पहलुओं का अवलोकन एवं परीक्षण कर लिया जाए।

यह आवश्यक है कि संक्रमण से बचाव हेतु आवेदकों से वचन पत्र भी भरवा लिया जाए, दी जाने वाली अनुमति की एक प्रति अनिवार्यत: संबंधित थाना/पुलिस चौकी में दी जाए।यदि विवाह समारोह नगरीय क्षेत्र में है तो समारोह में एकत्रित होने वाले व्यक्तियों की संख्या व दो गज की दूरी के परिप्रेक्ष्य में नगरीय निकाय के किसी अधिकारी/कर्मचारी द्वारा एक बार निरीक्षण किया जाए। यदि विवाह स्थल ग्रामीण क्षेत्र में हो तो संबंधित पंचायत सचिव/ग्राम रोजगार सहायक/पटवारी अनिवार्य रूप से इसका एक बार निरीक्षण करके संबंधित इंसिडेंट कमाण्डर को रिपोर्ट प्रस्तुत करें। उन्होंने बताया कि जिले में सायं 7 बजे से सुबह 7 बजे तक अत्यावश्यक सेवाओं को छोडक़र, व्यक्तियों का आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित है। कुछ विवाह समारोहों में आमंत्रण पत्रों में सामूहिक भोज आदि का समय रात्रि में दिए जाने की शिकायतें भी प्राप्त हुई है। ऐसे सामूहिक भोज कदापि आयोजित नहीं किए जा सकते हैं। विवाह समारोह के लिए जितने व्यक्तियों हेतु अनुमति है, विवाह समारोह में उस घर में उतनी संख्या में ही व्यक्ति उपस्थित रहकर विभिन्न कार्यक्रम में हिस्सा ले सकते हैं, परन्तु रात्रिकालीन रिसेप्शन जैसे कार्यक्रम कदापि नहीं होना चाहिए। ऐसे कार्यक्रम पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगे। इंसिडेंट कमाण्डर द्वारा विवाह अनुमति में संबंधित क्षेत्र के पुलिस अधिकारी/कर्मचारी को उनके द्वारा इन समारोहों पर नजर रखने हेतु निर्देश जारी किए गए हैं। आदेश का उल्लंघन करने वाले किन्हीं भी व्यक्तियों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

कलेक्टर ने कहा है कि यह आदेश आम जनता को संबोधित है। वर्तमान में ऐसी परिस्थितियां नहीं है और ना ही संभव है कि इस आदेश की पूर्व सूचना प्रत्येक व्यक्ति या समूह को दी जाकर सुनवाई की जा सके। अत: दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 (2) के तहत यह आदेश एकपक्षीय पारित किया गया है। इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 तथा एपिडेमिक एक्ट 1897 के तहत मप्र शासन द्वारा जारी किए गए विनियम दिनांक 23 मार्च 2020 की कंडिका 10 के अंतर्गत भारतीय दण्ड संहिता की धारा 187, 188, 269, 270, 271 के अंतर्गत दण्डनीय है एवं उल्लंघनकर्ता के विरूद्ध इन धाराओं के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। यह आदेश 28 मई 2020 से आगामी आदेश पर्यन्त प्रभावशील रहेगा।

Multapi Samachar

महिला एवं बाल विकास विभाग ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 1 लाख 65 हजार 600 रूपए की एक दिन के वेतन राशि दी


डीपीओ बीएल विश्नोई जी और साथी सहयोगी टीम द्वारा बैतुल नगर में नागरिकों को हस्तनिर्मित माक्स वितरण करते हुए

MP Betul Fights Corona covid 19

मुलतापी समाचार

जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग श्री बीएल विश्नोई से प्राप्त जानकारी के अनुसार विभाग के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा कोविड-19 बीमारी में सहायता हेतु मुख्यमंत्री राहत कोष में एक दिन का वेतन 1 लाख 65 हजार 600 रूपए की राशि प्रदान की गई।

साथ ही कोरोना संक्रमण से बचने के लिए महिला एवं बाल विकास कार्यालय बैतूल की ओर से पोषण अभियान अंतर्गत RTE के तहत 3 से 6 वर्ष की आयु वर्गके बच्‍चों को मिलने वाले नाश्‍ता और गर्म पका भोजन व्‍यवस्‍था प्रभावित होने के कारण रेडी-टू-ईट का वितरण घर घर जाकर किया एवं कोविड 19 के बचाव के लिए स्वंय के द्वारा मास्क बनाकर वितरण करनेे की व्‍यवस्‍था की गई है और साथ ही इस तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था की जा रही है।

इन्हे गांवों व शहर में जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाया जा रहा है। उनसे यह अपील भी की जा रही है कि मास्क लगाकर ही रहें। महिला एवं बाल विकास कार्यालय के जिला कार्यक्रम अधिकारी बीएल विश्‍नोई जी ने बताया कि संस्थान की ओर से 10 हजार से अधिक मास्क वितरित किए जा चुंके है। इसके लिए मास्क की सिलाई का काम स्‍वयं आंगनवाडी कार्यकता द्वारा किलया गया है। जैसे जैसे मास्क तैयार होते जा रहे हैं उनका वितरण भी किया जा रहा है। यदि अधिक मास्क की जरूरत रही तो और मास्क भी सिलाकर वितरित किए जाएंगे। जिसमें जिला अधि‍कारी विश्‍नोई जी एवं एकीकृत बाल विकास परियोजना बैतूल की ओर से अधिकारी कल्‍पना जोनथन, एवं ब्लाक की समस्त परियोजनों में आंगनवाडी कार्यकता द्वारा मास्क बनाकर बांटेे गये।

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता घर घर पहुंचा रही पोषण आहार,माक्‍स वितरण एवं पक्षीयों के ली सुध


तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पौनी सोपई गौला डोंगरपुर जामगांव मोहरखेडा मास्क वितरण करतेे हुए

मुलताई। नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए किए गए टोटल लॉकडाउन के दौरान भी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने कर्त्तव्यों का निबार्ध्‍य रूप से पालन कर रही हैं। आंगनवाड़ी केंद्रों के बंद रहने की स्थिति में आंगनवाड़ी सेवा से संबद्ध 6 माह से 6 वर्ष तक के आयु वर्ग के बच्चों एवं गर्भवती व धात्री माताओं को टेक होम राशन और पोषण आहार प्रदाय किया जा रहा है। सेक्टर में आंगनवाड़ी केंद्रों में 3 से 6 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों को मिलने वाले नाश्ता और गर्म पका भोजन व्यवस्था प्रभावित होने के कारण रेडी टू ईट पूरक पोषण आहार की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। ये सामग्री आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने घरों में तैयार कर रही हैं।

महिला बाल विकास विभाग परियोजना मुलताई की सुपरवाइजर सुश्री सकु गलफट ने बताया कि खेेेेेेेेडीकोट सेक्टर में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पौनी, सोपई, गौला, डोंगरपुर, जामगांव, मोहरखेडा, मास्क वितरण करतेे हुए समस्त आंगनवाड़ी केंंद्रों कार्यकर्ताओं द्वारा 3 से 6 वर्ष की आयु वर्गके बच्‍चों को मिलने वाले नाश्‍ता और गर्म पका भोजन व्‍यवस्‍था प्रभावित होने के कारण रेडी-टू-ईट का वितरण घर घर जाकर किया एवं कोविड 19 के बचाव के लिए स्वंय के द्वारा मास्क बनाकर वितरण करनेे की व्‍यवस्‍था की गई है और साथ ही इस तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था की जा रही है।

तपती गर्मी में आंगनवाडी केन्‍द्राेें पर पक्षियों के लिए की दाने पानी की व्यवस्था

रेडी टू इट आंगनवाड़ी केन्द्र पोहर परियोजना मूलताई में 3 से 6 वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों को मिलने वाले नाश्ता और गर्म पका भोजन व्यवस्था प्रभावित होने के कारण रेडी टू ईट पूरक पोषण आहार की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। ये सामग्री आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अपने घरों में तैयार कर रही हैं।

मास्क वितरण सोपई गौला डोंगरपुर जामगांव मोहरखेडा लडडु वितरण रेडी-टू-ईट जामगांव सोपई मोहरखेडा

मुलतापी समाचार सभी महिला एवं बाल विकास अधिकारी पर्यवेक्षक और हमारी आंगनवाडी कार्यकताफ्रन्‍टलाईन वर्कर, कोरोना वारियर्स जो की कोरोना वैश्‍यविक महामारी में जन हित के लिए सजग और सुचारू रूप से जागरूकता, घर घर पोषण आहार वितरण, स्‍वयं माक्‍स बनाकर वितरण कार्य निरंतर करने हेतु धन्‍यवाद करता है