Tag Archives: जिला जेल के कैदियों

उर्मकेद के केदी ने जिला जेल में गला काटकर जान देने की कोशिश की


जिला जेल में आजीवन  सजा काट रहे बंदी ने गिलास से अपना गला काटा

15 दिनों में जेल के भीतर 3 बंदियों ने की आत्महत्या करने की कोशिश 

मुलतापी समाचार

बैतूल – जिला जेल में बंदियों द्वारा आत्महत्या करने जैसे गम्भीर अपराध लगातार किये जा रहे जेल में बंदियों की इस तरह की कोशिशों से यह लगता है कि जेल में कुछ ठीक नही चल रहा है | मंगलवार को एक बंदी ने अपना गला काटकर जान देने की कोसिश की गई घायल अवस्था मे बंदी को जिला अस्पताल लाया गया था उपचार के बाद वापस जेल ले जाया गया है|

307 के मामले में आजीवन कारावास  की सजा काट रहा बंदी दुलारी पिता सोमलाल ने मंगलवार की सुबह खाना खाते समय पानी पीने के गिलास से अपने गले को काटने की कोशिश की थी जिसमे वह घायल हो गया था बंदी ने बीमारी से परेशान होने की वजह से यह कदम उठाया था घायल अवस्था मे जेल से बंदी को अस्पताल लाया गया और इलाज के बाद वापिस जेल लेजाया गया है|

दो बंदियों ने एसिड पीकर आत्महत्या की कोशिश पहले भी कर चुके 

जिला जेल में खाना नही मिलने को लेकर और उनके साथ मारपीट करने से परेशान दो बंदियों ने 21 अक्टूबर टॉयलेट एसिड पीकर जान देने की कोशिश की थी जिसमे से एक बंदी की भोपाल में मौत हो चुकी है बंदियों द्वारा इस तरह के उठाये जा रहे कदम से जेल की व्यवस्थाओं पर और जेल अधीक्षक की कार्यप्रणाली पर सवाल उठने लगे है /

इनका कहना 307 मामले में आजीवन सजा काट रहे बंदी जो कि थोड़ा मानसिक बीमार है खाना खाते समय गिलास से गला काटने की कोशिश थी जिसे जिला अस्पताल ले जाया गया था डॉक्टरों ने उसके गले मे टांके लगा दिए है अभी वह ठीक है जेल वापिस लाया गया/बी के कुडापे जिला जेल अधीक्षक बैतूल

MP जेल में बंद सजा काट रहे केदियों ने पिया एसिड,जेल प्रबंधन की लापरवाही आई सामने, चंदे के लिए बंदियों पर बनाया जा रहा दबाव


Multapi Samachar

 बैतूल जिला जेल में हत्या और दुष्कर्म की सजा काट रहे दो बंदियों ने बाथरूम में उपयोग किया जाने वाला ऐसिड पी लिया दोनों बंदियों मंटू और ब्रजेश की हालत खराब होने के बाद जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया । दोनो बंदियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है । और घटना की जांच की जा रही है । 
प्राप्त जानकारी के मुताबिक इस पूरे मामले में प्रबंधन की लापरवाही खुल कर सामने आई है कि आखिर एसिड बंदियों तक पहुंचा कैसे जबकि एसिड का प्रभार जेल के वरिष्ठ प्रहरी मन्ना लाल के पास  रहता है । दोनो बंदियों की हालत खराब होने के बाद उन्हें बेहोशी की हालत में तत्काल जिला अस्पताल में भर्ती किया गया । जहां डॉक्टरों की देख रेख में उपचार किया जा रहा है । 
जिला अस्पताल के डॉ रंजीत राठौर ने बताया कि सुबह दो बंदियों को लाया गया था दोनो ने कोई ससस्पेक्टेड पॉइज़न के सेवन कर लिया है फिलहाल दोनो की हालत खतरे से बाहर है। जेल के अंदर लगातार घटनाएं घटित हो रही है । कुछ दिन पहले ही जेल के एक कर्मचारी द्वारा शराब पीकर जम कर हंगामा किया गया । लेकिन इस घटना को लेकर बताया जा रहा है कि बंदियों से जबरन चंदा वसूली की जा रही थी । इसी के चलते दोनो बंदियों ने एसिड पी लिया । लेकिन इस तथ्य को जेल अधीक्षक ने बी के कुडापे ने खारिज करते हुए कहा कि  सुबह अचानक बंदियों के एसिड पीने की जानकारी मिलने के बाद बंदियों को तुरंत उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती  कराया गया । फिलहाल जांच की जा रही है कि किस कारण से बंदियों ने एसिड का सेवन किया ।