Tag Archives: पोषण माह

पोषण माह के दौरान जनजागरूकता गतिविधियां- जुवाड़ी



महिला एवं बाल विकास परियोजना-घोड़ाडोंगरी के अंतर्गत सेक्टर-जुवाड़ी की आंगनवाड़ी केन्द्रों में की जा रही
पोषण जागरूकता संबंधित गतिविधियां

मुलतापी समाचार

पोषण और स्वास्थ्य की निगरानी हेतु जिसमें बच्चों की वृद्धि निगरानी की जा रही है,ग्रोथ चार्ट के माध्यम से l
किशोरी बालिकाओं के वज़न, ऊंचाई लेकर BMI लिया जाकर पोषण स्तर की जाँच,
महिलाओं/किशोरियों की पोषण स्थिति में सुधार हेतु पोषण एवं स्वास्थ्य शिक्षा दी जा रही है ।


टीकाकरण कार्यक्रम,
भोजन विविधता की जानकारी,
आयोडीन युक्त नमक के सेवन,
आयरन युक्त भोजन के साथ खट्टे पदार्थों का सेवन करने संबंधी,मौसमी फल सब्जियों का सेवन, दूध या दूध से बने हुये पदार्थों का सेवन,सभी प्रकार की दालें,अनाज, फल्लीदाना, गुड़, नींबू एवं गुड़ का पेय,
बनाने सम्बंधित जनजागरुकता गतिविधियां की जा रही है l

पोषण जागरूकता संबंधित गतिविधियां, सेक्टर जुवाड़ी की आंगनवाड़ी केन्द्र


Multapi Samachar

महिला एवं बाल विकास परियोजना-घोड़ाडोंगरी के अंतर्गत सेक्टर-जुवाड़ी की आंगनवाड़ी केन्द्रों में की जा रही
पोषण जागरूकता संबंधित गतिविधियां

जिसमें बच्चों की वृद्धि निगरानी की जा रही है,
किशोरी बालिकाओं के वज़न, ऊंचाई लेकर BMI लिया जाकर पोषण स्तर की जाँच,महिलाओं/किशोरियों की पोषण स्थिति में सुधार हेतु पोषण एवं स्वास्थ्य शिक्षा दी जा रही है ।

पोषण माह के दौरान जागरूकता, गतिविधियां सेक्टर-जुवाड़ी


Multaip Samachar

घोड़ाडोंगरी ! पोषण माह के दौरान महिला एवं बाल विकास परियोजना- घोड़ाडोंगरी के सेक्टर-जुवाड़ी के आंगनबाडी केन्द्रों में की जा रही पोषण जागरूकता गतिविधियां जिसके अंतर्गत महिलाओं में खून की कमी के लक्षण की जानकारी, इससे बचने के
उपाय आयरन युक्त भोज्य पदार्थों के साथ खट्टे पदार्थों का सेवन,
खून की कमी के कारणों जैसे खाली पेट चाय/कॉफ़ी का सेवन से बचाव, भोज्य पदार्थों के सेवन से 1 घन्टे पूर्व एवं उपरांत चाय/कॉफ़ी के सेवन से बचने की सलाह,

टीकाकरण कार्यक्रम के दौरान,बच्चों का पूर्ण टीकाकरण,गर्भवती होने पर महिलाओं को आंगनबाड़ी केंद्रों में शीघ्र पंजीकरण से समय पर स्वास्थ्य एवं पोषण शिक्षा,
प्रसव पूर्व जाँच, टीकाकरण, पूरक पोषण आहार की सेवाएँ,
प्रथम गर्भवती महिला को प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का लाभ प्राप्त हो सके ऐसी समझाईश दी जा रही है जो गर्भ से ही बच्चों के 1000 दिवस के दौरान विशेष ध्यान दिया जाकर आने वाले बच्चों को कुपोषण से मुक्त रखा जा सकता है l

मनमोहन पंवार

प्रधान संपादक

9753903839