Tag Archives: #betul

बैतूल के पूर्व विधायक एवं पूर्व कांग्रेस कोषाध्यक्ष विनोद डागा का दुखद निधन


बैतूल ।। बैतूल विधान सभा के पूर्व विधायक एवं पूर्व कांग्रेस कोषाध्यक्ष विनोद डागा का आज सुबह ह्रदय घात के चलते दुखद निधन हो गया । मिलनसार स्वभाव के धनी , हँसमुख श्री डागा के निधन के समाचार मिलते ही समूची कांग्रेस पार्टी सहित राजनीतिक गलियारों और बैतूल की जनता में शोक की लहर व्याप्त हो गयी । श्री डागा ने पूर्व कांग्रेस विधायक रहते हुए बैतुल के विकास में जहां अमिट छाप छोड़ी तो वहीं उन्होंने प्रदेश कांग्रेस कोषाध्यक्ष के पद पर रहते हुए अपने कर्तव्यों का सफल निर्वहन भी किया था । श्री डागा राजनीतिक क्षेत्र में एक जाना माना नाम था । जिनके अनायास परलोक गमन से हुई क्षति की शायद ही भरपाई हो । आज सुबह वे हमेशा की तरह पूजन करने दादा वाड़ी मंदिर गए हुए थे । जहां अचानक तबियत बिगड़ने के बाद उन्हें उपचार के लिए निजी अस्पताल ले जाया गया था । लेकिन उपचार के दौरान ही उन्होंने अंतिम सांस ली । खबर मिलते ही डागा हाउस एवम् चिकित्सालय में लोगो के आने जाने का सिलसिला शुरू हो गया । श्री डागा के आसामयिक निधन को एक राजनैतिक क्षति के रूप में देखा जा रहा है । क्योंकि अपने सफल राजनैतिक जीवन मे उनका लोगो से हमेशा जीवंत संपर्क रहा । इस व्यक्तित्व में ये खासियत थी कि वे कितने भी व्यस्त हो आम लोगो के सुख दुख में वे सबसे सामने खड़े होकर अपनी जिम्मेदारी निभाते थे । ऐसे सफल , जिम्मेदार , गंभीर , मिलनसार व्यक्तित्व को शत शत नमन है ।

इलेक्ट्रॉनिक की दुकान में लगी आग


बैतूल — बैतूल जिले के गंज क्षेत्र के सबसे व्यस्ततम इलाके में इलेक्ट्रॉनिक की दुकान में अचानक आग लग गई जिससे पूरे क्षेत्र में अफरा-तफरी मच गई। यह आग गुप्ता बर्तन भंडार के सामने दूसरी मंजिल पर अग्निहोत्री इलेक्ट्रॉनिक्स में लगी। सूचना मिलते ही दमकल विभाग द्वारा आग पर काबू पा लिया है। प्रथम दृष्टया में अनुमान लगाया है कि आग सार्ट सर्किट के कारण लगी है और लाखों रुपये के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है।

ब्लड बैंक ने बनाया प्रदेश में रिकार्ड2125 यूनिट लक्ष्य की तुलना में 3471 यूनिट हुआ रक्तदान


बैतूल। रक्तदान को लेकर बैतूल ब्लड बैंक ने प्रदेश में रिकार्ड दर्ज कराया है। इस उपलब्धि पर संचालनालय स्वास्थ्य भोपाल के वरिष्ठ अधिकारियों ने खुशी जताई है और बैतूल ब्लड बैंक को बधाई प्रेषित की है। कोरोना काल में जब लोग घर से बाहर नहीं आ रहे थे तब बैतूल के रक्तदाताओं ने उत्साह के साथ रक्तदान के लिए आगे बढ़कर इतना रक्तदान किया कि आज बैतूल का नाम प्रदेश के ब्लड बैंकों में टॉप पोजिशन पर पहुंच गया है।

संचालनालय स्वास्थ्य भोपाल ने अप्रैल माह से सितंबर माह के बीच में सभी ब्लड बैंक को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए लक्ष्य दिया था। यह लक्ष्य जनसंख्या के आधार पर दिया जाता है। बैतूल ब्लॅड बैंक को 2125 यूनिट रक्तदान का लक्ष्य दिया गया था। इस लक्ष्य की तुलना में बैतूल ब्लॅड बैंक ने 3471 यूनिट रक्तदान कराया, जिसका 163.34 उपलब्धि प्रतिशत रहा। बैतूल कि बाद प्रदेश में शिवपुर दूसरे नंबर और नरसिंहपुर तीसरे नंबर पर रहा। आदिवासी बाहुल्य जिला बैतूल मध्य प्रदेश में लक्ष्य पूर्ति में प्रथम नंबर पर आने पर स्वास्थ्य विभाग के लिए सराहनीय माना जा रहा है।

जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन डॉ.अशोक बारंगा ने खुशी का इजहार करते हुए कहा कि यह उपलब्धि स्वैच्छिक रक्तदाताओं के कारण हमें मिली है। हम रक्तदाताओं का और रक्तदान के लिए प्रेरित करने वाली समितियों, स्वयंसेवियों और ब्लॅड बैंक को श्रेय देते है और इनका आभार व्यक्त करते है कि भविष्य में भी रक्तदान के प्रति हमेशा अग्रसर रहे, जिससे जरूरतमंद मरीजों को नई जिंदगी मिल सके। कोरोना काल में प्रदेश में ब्लॅड बैंक बैतूल के टॉप आने पर ब्लड बैंक की रक्तकोष अधिकारी डॉ.अंकिता सीते ने भी खुशी का इजहार किया और कहा कि यह सब इसलिए संभव हो पाया है कि सिविल सर्जन डॉ.अशोक बारंगा, तत्कालीन सीएमएचओ डॉ.गिरीशचंद्र चौरसिया और वर्तमान सीएमएचओ डॉ.प्रदीप धाकड़, और वरिष्ठ पैथालॉजिस्ट डॉ.डब्लू ए नागले के मार्गदर्शन।

साथ ही लॉकडाउन के दौरान रक्तदाताओं को ब्लॅड बैंक लाने के लिए वाहन की व्यवस्था करवाने में मदद और हमेशा रक्तदाताओं का उत्साहवर्धन करने में जो मदद की गई उसके ही कारण बैतूल ब्लॅड बैंक आज पूरे मध्य प्रदेश में नंबर -1 पर आया है। सबसे खास बात बैतूल जिले के रक्तदाताओं की है जो बहुत ही संवेदनशील है और हमेशा रक्तदान के लिए अग्रसर रहते है इसलिए इस उपलब्धि का श्रेय उनकों जाता है। साथ ही डॉ.अंकिता सीते ने रक्तदाताओं के साथ-साथ उन संगठनों, समितियों, स्वयंसेवियों का भी आभार व्यक्त किया है, जिन्होंने समय-समय पर रक्तदान शिविर आयोजित कराए। डॉ.अंकिता सीते ने बताया कि बैतूल में रक्तदान के लिए समाजसेवी संस्थाओं और रक्तदाताओं के बीच स्वैच्छिक रक्तदान के लिए अच्छा माहौल है। साथ ही यहां पर जन्मदिन, पुण्यतिथि, शादी की सालगिरह जैसे खास मौकों को खास बनाने के लिए रक्तदान किया जाता है। यह बहुत ही सराहनीय पहल है।डॉ.अंकिता सीते ने खासतौर पर ब्लड बैंक स्टॉफ का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि स्टॉफ के सदस्यों का हमेशा सराहनीय योगदान रहता है । इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया कि रक्त की कमी आने पर जिला चिकित्सालय के चिकित्सक और स्टॉफ के सदस्य भी रक्तदान करने के लिए अग्रसर रहते है।

जननी 108 में कराया महिला का सुरक्षित प्रसव


बैतूल– बैतूल जिले के आमला ब्लॉक के ग्राम नाहिया से एक खुशखबरी भरी खबर सामने आई है जहाँ जननी एक्सप्रेस 108 के ईएमटी रुपेश पवार एवं पायलट मदन पवार के द्वारा एंबुलेंस के अंदर ही नाहिया ग्राम की महिला के सुरक्षित प्रसव को अंजाम दिया है। ग्राम नाहिया आमला की महिला रोशनी 22 वर्ष को प्रसव पीड़ा होने पर जननी एक्सप्रेस 108 को बुलवाया गया था, जिसे 108 के द्वारा महिला को अस्पताल लाया जा रहा था कि ग्राम नाहिया से कुछ दूर चलने के बाद ही महिला को तेज प्रसव पीड़ा होने लगी। जिसमें 108 के ईएमटी और आशाकार्यकर्ता कमला बाई ने एंबुलेंस को रास्ते में रुकवा कर सुरक्षित प्रसव करवाया। जिसमें जच्चा बच्चा दोनों सुरक्षित और स्वस्थ हैं। प्रसव के बाद महिला और बच्चे को आमला के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है। 108 के ईएमटी रूपेश पवार ने बताया थोड़े और समय की देरी होती महिला का प्रसव घर पर ही हो जाता।

विरोध के बाद भी हल नहीं, मक्का के दामों में सुधार नहीं


✍️ राहुल सारोडे

बैतूल मुलताई (मूलतापी सामाचार)। सोयाबीन की जगह मक्का उत्पादन को फायदेमंद मान रहे किसान अब पछताने को मजबूर हैं। एक ओर जहां शासन द्वारा भावांतर या समर्थन मूल्य पर मक्का की खरीदी नहीं की जा रही है वहीं दूसरी ओर मंडी में इसके बेहद कम दाम मिल पा रहे हैं। सोमवार को विरोध जताने के बाद भी स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ। यही कारण है कि अब किसानों को उनका हक दिलाने भारतीय किसान संघ द्वारा मोर्चा संभाला जा रहा है। संघ की इसे लेकर बुधवार को महत्वपूर्ण बैठक रखी गई है।

बीते कई सालों से जिले के किसान सोयाबीन का उत्पादन कर रहे थे। इसके चलते जमीन की उर्वरा क्षमता खत्म होती जा रही थी और उत्पादन में भी कमी आ रही थी। इसे देखते हुए कृषि विज्ञानियों और कृषि विभाग ने किसानों को सोयाबीन की जगह मक्का का उत्पादन करने की सलाह दी थी। उनकी सलाह को सिर आंखों पर रखते हुए किसानों ने पिछले कुछ सालों में मक्का का रकबा काफी बढ़ा लिया है। यही कारण है कि सीजन आते ही मंडी में मक्का का अंबार लग जाता है। पहले शासन ने किसानों को उचित दाम दिलाने के लिए भावांतर भाव योजना के तहत मक्का की खरीदी की, लेकिन इस साल शासन की किसी योजना का अता-पता नहीं है। शासन ने मक्का का समर्थन मूल्य 1850 रुपये प्रति क्विंटल घोषित तो कर दिया पर समर्थन मूल्य किसानों को दिलवाने के लिए कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। यही कारण है कि किसानों को औने-पौने दामों पर मक्का बेचना पड़ रहा है। इसे लेकर सोमवार को किसानों ने जमकर विरोध जताया। हंगामे को देखते हुए एसडीएम सीएल चनाप को भी मंडी पहुंचना पड़ा। इसके बावजूद मंगलवार को स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ। आज भी मक्का के दाम में कोई इजाफा नहीं हो सका।

आज यह रहे मक्का के दाम

मंगलवार को कृषि उपज मंडी में 7166 मक्का की आवक हुई जबकि सभी तरह की जिंसों की 15344 बोरे आवक हुई। मक्का के आज न्यूनतम दाम 1000 रुपये और उच्चतम दाम 1409 रुपये रहे वहीं प्रचलित मूल्य 1320 रुपये रहा। इससे पहले सोमवार को 14011 बोरे मक्का और सभी तरह की जिंसों की 30463 बोरे आवक हुई थी। मक्का का न्यूनतम मूल्य 1002 रुपये और उच्चतम मूल्य 1401 रुपये रहा वहीं प्रचलित मूल्य 1350 रुपये रहा। जाहिर है कि आज भी दाम में कोई सुधार नहीं हुआ और किसानों को समर्थन मूल्य से काफी कम दामों पर अपनी मक्का बेचना पड़ रहा है।

अब किसान संघ उठाएगा किसानों की मांग

मंडी में भी उपज के वाजिब दाम नहीं मिल पाने का देखते हुए अब भारतीय किसान संघ द्वारा इस मुद्दे को उठाया जा रहा है। इस सिलसिले में संघ की महत्वपूर्ण बैठक 4 नवंबर को दोपहर 12.30 बजे से कृषि उपज मंडी बडोरा में रखी गई है। इसमें जिला एवं तहसील के सभी कार्यकर्ताओं को बुलाया गया है। संघ के जिला मंत्री मनोज नावंगे ने बताया कि मक्का के समर्थन मूल्य से कम दामों पर बिकने को लेकर पहले प्रशासन को ज्ञापन सौंपा जाएगा। इसके बावजूद यदि स्थिति नहीं सुधरती है तो फिर बैठक में जो भी निर्णय लिया जाएगा, उसके अनुसार कदम उठाए जाएंगे। यदि जरुरत पड़ी तो आंदोलन भी किया जाएगा।

वे बोले…

मक्का के कम दाम मिलने और किसानों के विरोध को देखते हुए इस संबंध में वरिष्ठ कार्यालय और जिला प्रशासन को पत्र लिखा गया है। व्यापारियों से भी चर्चा की गई है, लेकिन उनका कहना है कि अभी बाजार में मक्का के कम ही रेट चल रहे हैं। इसलिए वे अधिक दाम नहीं दे पा रहे हैं। इस संबंध में शासन स्तर से जो भी निर्देश प्राप्त होंगे, उसके अनुसार कार्यवाही की जाएगी।

एसके भालेकर, सचिव, कृषि उपज मंडी, बडोरा, बैतूल

इस साल बिना मास्क के रावण को भी दशहरा ग्राउंड में एंट्री नहीं मिली।


बैतूल प्रशासन द्वारा स्टेडियम में होने वाले रावण दहन के पुतलो के होने वाले आयोजन की संख्या 2100 कर दी है

इस साल बिना मास्क के रावण को भी दशहरा ग्राउंड में एंट्री नहीं मिली। प्रशासन के नियमों का पालन करना अनिवार्य है। बिना बैज.मास्क के स्टेडियम में एंट्री नही दी जायेगी।10 साल से कम और 65 साल से ज़्यादा उम्र वालों को अनुमति नहीं है ।multapisamchar

प्रतिमाओंं की स्थापना की, मंदिरों में सोशल डिस्टेंस के बैनर लगाए


नवरात्र के पहले दिन शनिवार को शहर के दुर्गा मंदिरों में रौनक रही, वहीं शहर में 100 से अधिक जगहों पर दुर्गा पंडालों में देवी की प्रतिमाएं स्थापित की गईं। एक दिन पहले शुक्रवार रात से ही प्रतिमाएं लाने का सिलसिला चालू हो गया था। मंदिरों में भी भक्तों की भीड़ देखने को मिली हालांकि एहतियात के तौर पर हिदायत वाले बैनर भी लगाए गए थे। सुबह से ही देवी प्रतिमाओं को जल चढ़ाने श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती रही।
गंज के माता-मंदिर मे सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। मंदिर पर जगह-जगह बैनर लगाए गए थे। इनमें कोरोना को लेकर स्पष्ट हिदायतें थी।
कोठी बाजार दुर्गा मंदिर में हुए कीर्तन, परिसर में विराजीं मां दुर्गा
कोठी बाजार के बेहद पुराने दुर्गा मंदिर में दिन भर कीर्तन चलते रहे। महिलाओं ने दिन भर भजन गाए। हालांकि मंदिर प्रबंधन ने बेहद कम संख्या में महिलाओं को एकत्रित होने संबंधी निर्देश दिए थे इस कारण संख्या कम रही। मंदिर परिसर में ही देवी प्रतिमा की स्थापना भी की गई।

मंदिरों में यह लिखे मिलेे निर्देश

  • मंदिर में प्रवेश करने वाले व्यक्ति मास्क लगाकर ही मंदिर में प्रवेश करें।
  • हैंड सैनिटाइजर का उपयोग जरूर करें।
  • सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखें। अन्य लोगों से 6 फीट की दूरी बनाए रखें।
  • कोरोना से संबंधित शासन के दिशा- निर्देशों का ध्यान रखें।

ग्राम पंचायत के विकास कार्यों को ठेके पर लेने नगर पंचायत बनाने पर तुले हुए कुछ लोग?


नगर पंचायत को लेकर गूंजने लगे विरोध के स्वर

बैतूल जाकर किया विरोध प्रदर्शन

बैतूल । बैतूल जिला आदिवासी बहुल जिला होने के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में कई जगह अत्यधिक पिछड़ा हुआ भी है जो शहरी आजीविका एवं नगर पालिका नगर पंचायत आदि के खर्चों को वहन करने में नागरिक असक्षम है वाबजूद इसके कुछ लोग अपना निजी हितो को साधने घोड़ाडोंगरी ग्राम पंचायत को पेसा एक्ट का उल्लंघन कर नगर पंचायत बनाने में लगे हैं वही घोड़ाडोंगरी को नगर पंचायत बनाने को लेकर घोड़ाडोंगरी ग्राम पंचायत क्षेत्र में ही विरोध के स्वर भी गूंजने लगे हैं।

घोड़ाडोंगरी ग्राम पंचायत क्षेत्र के बासन्या, बेहड़ीढाना, बाजारढाना के ग्रामीणों ने घोड़ाडोंगरी को नगर पंचायत बनाने को लेकर बैतूल जाकर विरोध दर्ज कराया है ।

रिटायर्ड फौजी संतोष उइके के नेतृत्व में घोड़ाडोंगरी के लोग बैतूल पहुंचे और उन्होंने कलेक्टर कार्यालय में राज्यपाल के नाम ज्ञापन देकर अपना विरोध दर्ज कराया।

श्री संतोष उइके ने बताया कि ग्राम पंचायत घोड़ाडोंगरी क्षेत्र में अधिकांश आदिवासी वर्ग के लोग रहते हैं और नगर पंचायत बनाने से अनुसूचित क्षेत्रों को और अनुसूचित समाज के लोगों को दिए गए विशेष अधिकारों का हनन होगा ।

शासन द्वारा पेसा एक्ट के तहत अनुसूचित क्षेत्रों के लोगों को कई तरह के अधिकार दिए गए हैं नगर पंचायत बन जाने से यह अधिकार छिन जाएंगे।

उन्होंने बताया कि नगर पंचायत बनाने के लिए 20 हजार की जनसंख्या के प्रावधानों को भी नजरअंदाज किया गया है।

2011 की जनगणना के अनुसार घोड़ाडोंगरी ग्राम पंचायत क्षेत्र की जनसंख्या 8632 है ।

लेकिन 20 हजार मानकर नगर पंचायत बना दी गई है ,जो गलत है हम सभी इसका विरोध करते हैं।

उन्होंने आरोप लगाया है कि घोड़ाडोंगरी को नगर पंचायत बनाने का प्रस्ताव जब ग्राम सभा में लिया गया था तो कोरम पूरा नहीं था और उसके बावजूद प्रस्ताव ले लिया गया।

घोड़ाडोंगरी ग्राम पंचायत को नगर पंचायत बनाने से आदिवासी समाज के हितों पर कुठाराघात होगा।

ग्रामीण मजदूरों को रोजगार देने वाली योजना महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना बंद हो जाएगी ।

ग्राम पंचायत के विकास कार्यों को ठेके पर लेने के लिए कुछ लोग नगर पंचायत बनाने पर तुले हुए हैं ।

लेकिन यह गरीब आदिवासी मजदूरों के साथ अन्याय होगा।

इसलिए हम इसका विरोध करते हैं ।

ग्राम सभा में भी किया था विरोध

महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर आयोजित ग्राम सभा में बासन्या, ओर बाजारढाना के लोगों ने अपने ग्राम सभा क्षेत्र को घोड़ाडोंगरी नगर पंचायत से अलग रखने को लेकर प्रस्ताव भी पारित किया था। बेहड़ीढाना के लोगों ने भी बेहड़ीढाना को घोड़ाडोंगरी नगर पंचायत में शामिल नहीं करने को लेकर ग्राम पंचायत सचिव को आवेदन भी दिया था ।

वही अभी घोड़ाडोंगरी ग्राम पंचायत नगर पंचायत घोषित हो चुकी है शासन द्वारा अपवर्जन की कार्यवाही भी प्रारंभ कर दी गई है।

नगर पंचायत चुनाव के पहले ही घोड़ाडोंगरी में नगर पंचायत को लेकर विरोध के स्वर फूटने से क्षेत्र की राजनीति गरमा गई है।

Betul News पुलिस विभाग में फेर बदल , सुरेश कुमार सोलंकी बने नए मुलताई के टी. आई.


मुलतापी समाचार

मुलताई नवनियुक्त टी आई

सुरेश कुमार सोलंकी बने मुलताई टी.आई.
मुलताई। हाल ही में पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने मुलताई थाने में पदस्थ थाना प्रभारी संतोष पन्द्रे को बैतूल कोतवाली प्रभारी बना दिया है। वहीं बैतूल में पदस्थ सुरेश कुमार सोलंकी को मुलताई थाना प्रभारी बना दिया है। उक्त जानकारी की पुष्टि एसडीओपी सुश्री नम्रता सौंधिया से हुई हैं।

PM MODI के जन्मदिन पर पोषण अभियान कार्यक्रम कर बच्चों को पिलाया दूध


Multapi Samachar

गढ़ाकोटा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के अवसर पर भारत सरकार के महत्वाकांक्षी पोषण अभियान का शुभारंभ किया गया। कार्यक्रम में पीएम मातृ वंदना योजना, लाड़ली लक्ष्‌मी योजना एवं कक्षा 9वीं में प्रवेश लेने वाली बालिकाओं को प्रमाण-पत्र बांटे गए। पोषण अभियान के तहत बच्चों को दूध भी पिलाया गया। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का लाइव संबोधन सुनाया गया।

गढ़ाकोटा में पोषण महोत्सव कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भाजपा नेता अभिषेक भार्गव, तहसीलदार कुलदीप पाराशर, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष भरत चौरसिया ,पूर्व नगरपालिका उपाध्यक्ष मनोज तिवारी एवं रहली जनपद सीईओ पूजा जैन थीं। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अभिषेक भार्गव ने पोषण अभियान के महत्व को समझाया। एनीमिया एवं कुपोषण पर नियंत्रण के उपायों को बताया। गरीबों, किसानों और सभी वर्गों के सशक्तिकरण के लिए पूरे सप्ताह कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी का जीवन प्रारंभ से ही शोषित पीड़ितों की सेवा और राष्ट्र उत्थान के लिए समर्पित रहा है। प्रदेश सरकार इसी भाव को अंगीकार करते हुए निरंतर सभी वर्गों के कल्याण के लिए कार्य कर रही हैं।

कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, लाड़ली लक्ष्‌मी योजना एवं कक्षा 9वीं में प्रवेश लेने वाली बालिकाओं को प्रमाण-पत्रों को वितरण किया। श्री भार्गव एवं अतिथियों ने उपस्थित बच्चों को दूध पिलाया एवं आंगनबाड़ी विभाग द्वारा गढ़ाकोटा अंतर्गत ग्राम मगरधा, दत्तपुरा, बीरपटी, रतनारी, बसारी एवं कजरा वन में भी पोषण महोत्सव के आयोजन हुए। कार्यक्रम में महिला बाल विकास परियोजना अधिकारी शीतल पटेरिया, पर्यवेक्षक स्नेहलता जैन, डॉ. प्रियंका सेन, उर्मिला विश्वकर्मा, नगर पालिका सीएमओ मनीष परते, सीईओ पूजा जैन सहित कार्यालय स्टाफ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता उपस्थित रहे। कार्यक्रम के अंत में उपस्थित अतिथियों का परियोजना अधिकारी ने आभार प्रकट किया। कार्यक्रम का संचालन विक्की जैन ने किया।

सुनीता डहारे, न्यूज एडिटर, बैतूल